Warning: session_start(): open(/var/cpanel/php/sessions/ea-php56/sess_70e678ffc1078bc109d3edc54c4bffc2, O_RDWR) failed: No such file or directory (2) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261

Warning: session_start(): Failed to read session data: files (path: /var/cpanel/php/sessions/ea-php56) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261
उर्दू के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगा उर्दू डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन - Mobile Pe News
Sunday , February 23 2020
Home / Results / उर्दू के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगा उर्दू डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन

उर्दू के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगा उर्दू डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन

उर्दू डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन सुप्रीम कोर्ट के 4 सितंबर 2014 के फैसले पर राज्य सरकारों के जरिए अमल दरामद नहीं किए जाने के खिलाफ हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर रहा है। यह जानकारी एक बैठक में उर्दू भाषा को उसका जायज हक दिलाने के लिए कानूनी लड़ाई लड़ने वाले डॉ लाल बहादुर ने दी है। डॉ लाल बहादुर का कहना है कि उम्मीद थी कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर राज्य सरकारें कदम उठाएंगी लेकिन 5 वर्ष बीत जाने के बाद भी इस फैसले पर अभी भी अमल दरामद शुरू नहीं हुआ है। बैठक शहीद अशफाक उल्ला खान पार्क स्थित संगठन के मुख्य कार्यालय में हुई जिसकी अध्यक्षता डॉ सैयद अहमद खान ने की की है।

डॉ लाल बहादुर ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में साफ साफ कहा था कि हिंदी के साथ-साथ उर्दू का भी विकास होना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट के फैसले में यह कहा गया था कि राज्य सरकारों के जरिए जारी किए जाने वाले विज्ञापन हिंदी के साथ-साथ उर्दू में भी जारी किए जाने चाहिए। इसके अलावा अस्पतालों, शिक्षण संस्थानों, अदालतों और तमाम सरकारी दफ्तरों, सार्वजनिक स्थानों आदि पर सरकारी दिशानिर्देशों व संकेतकों आदि को हिंदी के साथ-साथ उर्दू में भी लिखा जाना चाहिए। फैसला आने के 5 साल बाद भी राज्य सरकारों के जरिए इस पर काम शुरू नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट के आदर्शों की खुली अवहेलना है। उन्होंने बताया कि इसके लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी की जा रही है और जल्द ही याचिका दायर की जाएगी। बैठक में डॉ सैयद अहमद खान ने बताया कि दिल्ली जैसे राज्य में भी उर्दू के साथ भेदभाव किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान केजरीवाल सरकार उर्दू भाषा को पूरी तरह से नजरअंदाज कर रही है। सरकारी दफ्तरों, शिक्षण संस्थानों, न्यायालय आदि में उर्दू भाषा में लिखे हुए संकेतक व दिशानिर्देश कहीं पर भी देखने को नहीं मिल रहे हैं। जबकि दिल्ली में उर्दू को राज्य की दसरी भाषा का दर्जा प्राप्त है। पूर्व की कांग्रेस पार्टी की सरकार ने उर्दू भाषा को जिंदा कर रखा था। लेकिन मौजूदा सरकार के कार्यकाल में उर्दू भाषा बिलकुल दफन होती जा रही है। उर्दू को जायज हक दिलाने के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी की जा रही है। बैठक में डॉ अब्दुल्लाह खान राऊफ, नदीम आरिफ, डॉ एजाज अहमद कादरी, लियाकत अली मसूदी, मोहम्मद जाहिद, इमरान कन्नौजी आदि ने भाग लिया है।

About admin

Check Also

Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: ये हैं देश के टॉप CBSE स्कूलों की सूची, बच्चों को बना देते हैं जीनियस

Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools:आज के समय में माता-पिता बच्चों को अच्छी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *