Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723
पचास रुपए में करोड़पति बनने का मौका लाया है इस बार का मानसून – Mobile Pe News

पचास रुपए में करोड़पति बनने का मौका लाया है इस बार का मानसून

क्या आप करोड़पति बनने की हसरत रखते हैं और उसके लिए मेहनत करने को भी तैयार हैं तो फिर तैयार हो जाइए, मात्र पचास रुपए खर्च करके आप करोड़पति बनने की राह पर कदम आगे बढ़ा सकते हैं। बस आपको ये उपाय तत्काल करने होंगे क्योंकि ये उपाय करने का सबसे मुफीद समय मानसून का वक्त ही है। अगर ये वक्त निकल गया तो फिर आपको अगले साल तक इंतजार करना होगा।

असल में केन्द्रीय कृषि मंत्रालय किसानों के लिए एक ऐसा पौधा लाया है जिसके उगाकर वे पांच साल में एक करोड़ रुपए से अधिक कमा सकते हैं। मंत्रालय किसानों को मालाबार नीम के पौधे लगाने की सलाह दे रहा है और पौधे मुफ्त दे रहा है। वैसे ये पौधा 50 रुपए प्रति नग खुले बाजार में भी मिलता है।

नीम की एक अलग किस्म है मालाबार नीम। असल में नीम की ये किस्म अपनी तरह की ऐसी अनूठी किस्म है जिसका पौधा पांच साल में इतना बड़ा और मजबूत तने वाला बन जाता है कि किसान उसे इमारती लकड़ी में बदलकर प्रति पेड़ दस से बीच हजार रुपए कमा सकते हैं। कृषि विशेषज्ञों का दावा है कि अगर कोई किसान अपने खेत के छोटे से हिस्से में मालाबार नीम के सौ पौधे लगा दे तो वे पांच साल में दस लाख रुपए की इमारती लकड़ी पैदा कर देते हैं। इसी तरह अगर किसी के पास अधिक जमीन है तो वह एक हजार पौधे रोपकर ठीक पांच साल बाद एक करोड़ रुपए कमा सकता है। वैसे भी मालाबार नीम का ये पौधा बीमारी तथा कीड़ों के हमलों से मुक्त रहता है। इस वजह से एक बार रोपने के बाद इसे सिर्फ पशुओं के खा जाने से बचाना है। शेष कोई व्याधि इस पौधे को नहीं सताती।

इस पौधे की एक और खास बात है कि इसका तना करीब बीस फुट लम्बा होने के बाद ही शाखाओं के रूप में फैलता है। जिससे इमारती लकड़ी के खरीदारों को ये पौधा खूब लुभाता है। क्योंकि बीस फुट लम्बाई वाले खूब मोटे तने को चीरकर कई लाख की लकड़ी निकल जाती है।