Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723
एक माह का मौन व्रत रखकर चुनावी हार से मिले घावों का उपचार कराएगी ये राजनीतिक पार्टी – Mobile Pe News

एक माह का मौन व्रत रखकर चुनावी हार से मिले घावों का उपचार कराएगी ये राजनीतिक पार्टी

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव में कांग्रेस की करारी पराजय को लेकर खलबली मची हुई है। पार्टी ने तय किया है कि वह एक माह का मौन व्रत रखकर चुनावी हार से मिले घावों का उपचार कराएगी, उसके बाद वह नए सिरे से मैदान में जाकर मोदी सरकार के खिलाफ अभियान चलाएगी।

इसके लिए पार्टी ने अपने सभी प्रवक्ताओं को मुंह पर उंगली रखने का फरमान सुना दिया है। पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और कई अन्य नेताओं के इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने अपने सभी प्रवक्ताओं से कहा है कि वह टेलीविजन की बहस से एक महीने तक दूर रहें। कांग्रेस का यह फरमान पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट के जरिए जारी किया। सुरजेवाला ने ट्वीट में लिखा “कांग्रेस ने एक माह तक टेलीविजन पर होने वाली चर्चाओं में प्रवक्ताओं को नहीं भेजने का निर्णय लिया है। सभी मीडिया चैनलों, संपादकों से अनुरोध है कि वह अपने कार्यक्रमों में कांग्रेस के प्रतिनिधियों को नहीं रखें।

इधर कांग्रेस पार्टी के लोकसभा में संसदीय दल का नया नेता चुनने को लेकर एक जून को पार्टी के संसदीय दल की बैठक बुलायी गयी है। सूत्रों के अनुसार संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में लोकसभा के केंद्रीय कक्ष में संसदीय दल की बैठक होगी जिसमें पार्टी के नव निर्वाचित सांसद और राज्य सभा सांसद उपस्थित होेंगे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बैठक को संबोधित करने कयास लगाये जा रहे हैं।

यह भी आशा की जा रही है कि वह लोकसभा में संसदीय दल के नये नेता का चुनाव करेंगे। लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद कांग्रेस संसदीय दल की यह पहली बैठक होगी। इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 543 सदस्यीय सदन में 303 सीटें हासिल कर ऐतिहासिक जीत दर्ज की जबकि कांग्रेस ने केवल 52 सीटें जीतीं हैं। राहुल गांधी के चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन को लेकर अध्यक्ष के पद से इस्तीफा देने की पेशकश के एक हफ्ते बाद यह बैठक होगी।