Warning: session_start(): open(/var/cpanel/php/sessions/ea-php56/sess_e84da2c05f96f65aa2d17417e1609fde, O_RDWR) failed: No such file or directory (2) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261

Warning: session_start(): Failed to read session data: files (path: /var/cpanel/php/sessions/ea-php56) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261
मासूम बच्चों के लिए टीचर बन गई 'चोटीकटवा' - Mobile Pe News
Monday , January 20 2020
Home / Off Beat / मासूम बच्चों के लिए टीचर बन गई ‘चोटीकटवा’

मासूम बच्चों के लिए टीचर बन गई ‘चोटीकटवा’

कहते है कि अनुशासन व सम्मान इंसान के अंदर से आता है। इसे डरा-धमकाकर लागू नहीं किया जा सकता है, लेकिन कर्नाटक के बेलगामी में संचालित एक निजी स्कूल में इसका उल्टा किया जा रहा है। वहां अनुशासन के नाम पर बच्चों पर ऐसी सख्ती बरती जा रही है कि बच्चे अब उसे स्कूल नहीं कैद समझने लगे हैं।

innocent children
innocent children

यह भी देखिये-कोच्चि शिपयार्ड में ओएनजीसी के ड्रिल शिप में धमाका, चार की मौत

विद्यालय की एक टीचर अनुशासन के नाम पर बच्चों के बाल कटवाने को लेकर पूरे स्कूल में चोटीकटवा के नाम से प्रसिद्घ हाे गई। उस टीचर ने यह प्रसिद्घ ऐसे ही नहीं पाई। इसके लिए उसने विद्यालय के 20 विद्यार्थियों के बाल कटवा दिए। इन बच्चों को ‘सही तरीके से बाल न कटाने’ पर उनके सामने के बालों को काटकर सजा दी गई है।

यह मामला सैंट जॉन्स इंग्लिश मीडियम स्कूल का है। यहां की हेडमिस्ट्रेस किरन देसाई ने खुद कैंची से कई छात्रों के सामने के बाल काट दिए हैं। स्कूल की हेडमिस्ट्रेस का कहना है कि कई बार कहने के बावजूद इन बच्चों ने दिए गए आदेशों का पालन नहीं किया था। इसके बाद उन्हें यह सख्त कदम उठाने पर मजबूर होना पड़ा।

यह भी देखिये-अगस्ता केस में राहत के बाद बोले सीएम रमन सिंह, शिवरात्रि पर हुई सच्चाई की जीत

इस सजा के हकदार कम से कम 20 छात्र बने हैं। यह घटना सोमवार की है। इन बच्चों के नाराज परिजन अपने बच्चों के साथ स्कूल पहुंचे। उन्हें स्कूल के अधिकारियों की ओर से बताया गया है कि ऐसा बच्चों को अनुशासन में रखने के लिए किया गया है।

इसके बाद नाराज परिजनों ने इस मामले को डिस्ट्रिक्ट डिप्टी डायरेक्शन पब्लिक इंस्ट्रक्शन (DDPI) के सामने उठाया है। इसके अलावा ब्लॉक एजुकेशन ऑफिसर (BEO) से भी इस मामले की शिकायत की गई है। मामले की जानकारी मिलने के बाद BEO ने स्कूल का दौरा किया और स्कूल प्रबंधन को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है।

यह भी देखिये-‘मोहब्बत की मिशाल’ हुई महंगी, अब दीदार के लिए देने होंगे 50 रुपए

About admin

Check Also

रसातल में जाती अर्थव्यवस्था ने जगाई मोदी सरकार, बेरोजगारी भी लाई होश ठिकाने

देश की खस्ताहाल अर्थव्यवस्था के अपने आप ठीक हो जाने की उम्मीद कर रही मोदी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *