Categories
international

शोध से सामने आई असलियत, कोरोना मरीजों को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन देने से बढ़ जाता है मौत का खतरा!

अपने अडियल रुख के लिए प्रसिद्ध अमेरिकी राष्ट्रपति को तब शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा जब उनके देश के ही एक हैल्थ इंस्टीट्यूट में भर्ती मरीजों पर किए गए अध्ययन में साफ हो गया कि जिस हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन को वे रामबाण दवा बता रहे थे, उससे उल्टे मरीजों की मौत होने का जोखिम ज्यादा हो गया। शोध में पता चला है कि कोरोनावायरस के मरीजों के इलाज में यह दवा फायदेमंद साबित नहीं हुआ है। मेडआर्काइव के प्रीप्रिंट रिपोजिटरी में प्रकाशित निष्कर्षों के अनुसार, उन लोगों की मौत होने का जोखिम ज्यादा बढ़ गया,जिनका इलाज हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन से किया गया था। अध्ययन के लिए, शोधकर्ताओं ने 11 अप्रैल तक अमेरिका के ‘वेटरन्स हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन मेडिकल सेंटर कन्फर्म सार्स कोविड-2 संक्रमण के साथ अस्पताल में भर्ती रोगियों के डेटा का विश्लेषण किया।

मरीजों को सिर्फ हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन (एचसी) या एंटीबायोटिक एजिथ्रोमाइसिन (एचसी प्लस एजी) के साथ देने के आधार पर कोविड-19 के लिए मानक सहायक प्रबंधन के अलावा उपचार के रूप में वर्गीकृत किया गया था। कुल 368 मरीजों का मूल्यांकन किया गया। जिन्हें सिर्फ हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दिया गया था उस समूह में मृत्यु की दर 27.8 प्रतिशत थी।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन और एजिथ्रोमाइसिन समूह में मृत्यु की दर 22.1 प्रतिशत थी और हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन नहीं देने पर यह 11.4 प्रतिशत से भी कम था। शोधकर्ताओं ने पाया कि नो एचसी ग्रुप की तुलना में एचसी ग्रुप में और एचसी प्लस एजी समूह में वेंटिलेशन का जोखिम समान था। अध्ययन में कोई सबूत नहीं मिला कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का इस्तेमाल अकेले या तो एजिथ्रोमाइसिन के साथ करने पर अस्पताल में भर्ती कोविड-19 रोगियों में मैकेनिकल वेंटिलेशन का जोखिम कम रहता है।

कोविड-19 के रोगियों के इलाज में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के इस्तेमाल को लेकर सीमित और परस्पर विरोधी आंकड़ों के बावजूद, अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इस दवा के आपातकालीन उपयोग को ऐसी स्थिति के लिए अधिकृत कर दिया है, जब नैदानिक परीक्षण अनुपलब्ध या अव्यवहार्य हो।

Categories
National

ईरान के साथ परमाणु समझौते के संबंध में माकपा ने अमेरिका को बताया गैर जिम्मेदार

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने ईरान के साथ परमाणु समझौते से हटने पर अमेरिका की तीखी आलोचना करते हुए इसे उसका गैर जिम्मेदाराना कदम बताया है । माकपा पोलित ब्यूरो ने यहां एक बयान में कहा कि समझौते से अलग होकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान के खिलाफ अपनी नयी आक्रामक नीति का संकेत दिया है जिससे भविष्य में पश्चिम एशिया में शांति एवं स्थिरता के लिए खतरा पैदा हो सकेता है ।

CPI (M)
CPI (M)

 

पार्टी ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को ईरान पर प्रतिबंध लगाने के अमेरिका के किसी भी प्रयास का कड़ा विरोध करना चाहिए ।माकपा ने केन्द्र सरकार से अमेरिका के इस कदम का विरोध करने और यह स्पष्ट करने का अनुरोध किया है कि वह ईरान के खिलाफ किसी भी तरह के प्रतिबंध का समर्थन नहीं करेगी और उसके साथ आर्थिक और व्यापारिक संबंध पूरी तरह बनाये रखेगी ।

वक्तव्य में कहा गया है कि वर्ष 2015 में ईरान तथा छह देशों – अमेरिका , रुस , चीन ,फ्रांस ,ब्रिटेन तथा जर्मनी के बीच हुआ परमाणु समझौता सही ढंग से चल रहा था । हाल ही में अंतरराष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी ने कहा था कि ईरान समझौते की शर्तो का पालन कर रहा है ।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

 

Categories
international

किम जोंग उन के साथ बैठक करने को सहमत हुए डोनाल्ड ट्रंप

वाशिंगटन, 26 अप्रैल (रायटर) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के साथ होने वाले प्रस्तावित शिखर सम्मेलन से पूर्व दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति से मुलाकात कर सकते हैं। व्हाइट हाउस के एक अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी।दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन किम जोंग उन से मुलाकात करेंगे। उल्लेखनीय है कि ट्रंप ने अपने एक बयान में कहा था कि वह मई अथवा जून में उत्तर कोरिया के नेता से मुलाकात करेंगे।

 US President Donald Trump
US President Donald Trump

 

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने अपने दक्षिण कोरियाई समकक्ष चुंग उई-योंग से फोन पर बात कर दोनों देशों के राष्ट्रपति के बीच मुलाकात को लेकर चर्चा की। इससे पहले ट्रंप ने कल एक बयान में कहा कि उत्तर कोरिया को परमाणु हथियार मुक्त बनाने तथा उसके नेता किम जोंग उन के साथ होने वाली वार्ता के सकारात्मक परिणाम के लिये अमेरिका उस पर दबाव बनाना जारी रखेगा।

मून ने गत सप्ताह अपने एक बयान में कहा था कि उत्तर कोरिया ने कोरियाई प्रायद्वीप को पूरी तरह से परमाणु हथियार मुक्त बनाने को लेकर प्रतिबद्धता व्यक्त की है। गौरतलब है कि उत्तर कोरिया ने शनिवार को तत्काल प्रभाव से अपने परमाणु और मिसाइल परीक्षणों को स्थगित करने की घोषणा की थी।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज