Categories
international

इन मुस्लिम सुंदरियों ने कहा, जो उखाड़ना है, उखाड़ ले अमेरिका, हम तो खरीदेंगी ये वस्तु

तुर्की ने रूस की हवाई सुरक्षा प्रणाली एस 400 को सक्रिय करने के संकेत देने के बाद कहा है कि यदि अमेरिका एफ 35 लड़ाकू विमान को सौपने के अपने रुख के बारे में जल्द बदलाव नहीं करेगा तो वह एस 400 प्रणाली को सक्रिय करने से पीछे नहीं हटेगा।

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैय्यप एर्दाेगन ने हालांकि इस मामले पर उम्मीद जताई है कि अमेरिका के साथ यह मसला बातचीत के जरिए हल कर लिया जाएगा। एर्दाेगन ने जस्टिस और डेवलपमेंट पार्टी के संसदीय समूह से कहा, “ द्विपक्षीय बातचीत में एस 400 को लेकर जारी विवाद को खत्म करने का प्रयास किया जायेगा। हम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से एस 400 सुरक्षा प्रणाली को लेकर जारी विवाद को अधिकारीयों के जरिये खत्म करने की पूरी कोशिश करेंगे। उन्होंने कहा,“ एस 400 सुरक्षा प्रणाली को छोड़ देना या सक्रिय नहीं करने का कोई सवाल ही नहीं है और इस मामले का निवारण सच्चाई के माध्यम से किया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि तुर्की रुसी निर्मित एस 400 सुरक्षा प्रणाली को सक्रिय करने पर विचार कर रहा है। सैन्य-तकनीकी सहयोग के लिए रूस की संघीय सेवा के प्रमुख दिमित्री शुगाव ने इसे लेकर कहा है कि एस-400 सुरक्षा के प्रणाली के संचालन प्रकिया को लेकर हम वर्ष के अंत तक तुर्की विशेषज्ञों को पूरी तरह से प्रशिक्षित कर दिया जाएगा। यह प्रणाली अगले वर्ष वसंत ऋतु से पहले युद्ध के लिए पूरी तरह तैयार हो जाएगी।
अमेरिका तुर्की की एस-400 सुरक्षा प्रणाली खरीदने के खिलाफ था। अमेरिका का कहना था कि नाटो सुरक्षा मापदंडो के आधार पर यह हथियार प्रणाली ‘अयोग्य’ है और इससे पांच जनेरेशन वाले एफ-35 लड़ाकू विमान के संचालन पर भी असर पड़ सकता है।

तुर्की द्वारा रुसी एस-400 सुरक्षा प्रणाली खरीदने पर अमेरिका खासा नाराज़ हो गया था जिसके बाद उसने इस वर्ष जुलाई में एफ-35 कार्यक्रम में तुर्की की सहभागिता को स्थगित करते हुए कहा था कि वह मार्च 2020 तक इस परियोजना से तुर्की को पूरी तरह बाहर कर देगा। वहीं रूस ने तुर्की को अपने लड़ाकू विमान एसयू35 और एसयू 37 बेचने की इच्छा जताई है।

Categories
National

सीरिया के अाफ्रिन में 13 लोग मरे

तुर्की की ओर से किए गए गोलाबारी और हवाई हमलाें में सीरिया के आफ्रिन इलाके में स्थित जान्दिरिस शहर के 13 लोगों की मौत हो गई। युद्ध पर निगरानी रखने वाले एक समूह ने मरने वालों की संख्या 22 होने का दावा किया है।

Syria

 

यह भी पढ़िए-किम जोंग उन का काेरियाई देशों के संबंधों को मजबूत करने पर बल 

कुर्दिश मिलिशिया ने यह जानकारी देते हुए बताया कि तुर्की की ओर से कल यह हमला किया गया। वाईपीजी को आतंकवादी संगठन और कुर्दिश आतंकवाद का विस्तार मानने वाले तुर्की ने जनवरी से आफ्रिन इलाके में इस संगठन को बाहर निकालने के लिए अभियान शुरु किया है। सीरियाई कुर्दिश वाईपीजी मिलिशिया के प्रवक्ता रोजहाट रोज ने बताया,“हमलों में तीन बच्चों समेत 13 लोग मारे गये।

यह भी पढ़िए- एक नए अवतार में नजर आएंगे भारतीय पूर्व कप्तान माही

उसने बताया कि राजो गांव और इलाके के मुख्य शहर आफ्रिन के बीच की गई तुर्की की बमबारी में 22 नागरिक घायल हो गये। ब्रिटेन स्थित निगरानी समूह सीरियाई आब्जर्वेट्री फॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा कि तुर्की के भारी हवाई हमले में 17 लोग मारे गए और 92 अन्य घायल हो गए थे। कई लोग मलबे के नीचे दबे हैं जिससे  ड़ितों की संख्या बढ़ने की संभावना है

यह भी पढ़िए- हैदराबाद में भाजपा नेताओं को किया नजरबंद

तुर्की ने उत्तर-पश्चिमी सीरिया के अाफ्रिन इलाके में अपने अभियान के दौरान आम नागरिकों को मारने से साफ इनकार करता रहा है। अंकारा में तुर्की के उप प्रधानमंत्री और सरकार के मुख्य प्रवक्ता बकीर बोजदाग ने एक संवाददाता सम्मेलन से कहा कि तुर्की सीरिया में नागरिकों को नुकसान नहीं पहुंचा रहा है। उन्होंने इस संबंध में लगाए गए तमाम आरोपों को साफ खारिज करते हुए कहा कि तुर्की सेना नागरिकों और आतंकवादियों के बीच अंतर करने में सक्षम है।

यह भी पढ़िए- ट्रम्प अमेरिकी दूतावास खाेलने जायेंगें इजरायल