Categories
international

इजरायल और इटली का दावा, हमारे वैज्ञानिकों ने बना लिया है कोरोना वैक्सीन

विश्‍वव्‍यापी कोरोना महामारी के बीच इजरायल के रक्षा मंत्री नफ्ताली बेनेट ने दावा किया है कि उनके देश के मुख्य जैविक अनुसंधान संस्थान के वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस के लिए एक एंटीबॉडी विकसित करने में महत्वपूर्ण सफलता हासिल की है। उन्‍होंने कहा कि अब इसके पेटेंट और बड़े पैमाने पर संभावित उत्‍पादन के बारे में काम चल रहा है। इधर इटली ने भी दावा किया है कि उसने दुनिया का पहला कोरोना वायरस वैक्सीन विकसित कर लिया है जो मनुष्यों पर काम करता है। रोम के एक अस्पताल में किए गए परीक्षणों के अनुसार, कोरोना वायरस वैक्सीन में चूहों में उत्पन्न एंटीबॉडी होते हैं जो मानव कोशिकाओं पर काम करते हैं।

चूहों के शरीर में विकसित हुआ एंटीबॉडी

एक रिपोर्ट के मुताबिक, इटली कोविड-19 की वैक्सीन बनाने वाला दुनिया का पहला देश बन गया है जो इंसानों पर भी असरदार है। यह रिपोर्ट रोम के ‘इंफेक्शियस डिसीज स्पैलनज़ानी हॉस्पिटल’ में हुए एक परीक्षण पर आधारित है। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस वैक्सीन ने चूहों के शरीर में एंटीबॉडीज जेनरेट की है जिसका असर इंसान की कोशिकाओं पर भी होता है।

इटली में वैक्सीन का परीक्षण

दवा बनाने वाली एक फर्म ‘ताकीज़’ के सीईओ लिगी ऑरिसिशियो ने इटली की एक न्यूज एजेंसी के हवाले से कहा, यह इटली में वैक्सीन का परीक्षण करने वाले उम्मीदवारों का सबसे एडवांस स्टेज है। वैक्सीन का परीक्षण करने के लिए वैज्ञानिकों ने चूहों का इस्तेमाल किया था। सिंगल वैक्सीनेशन के बाद उन्होंने चूहों के शरीर में एंटीबॉडीज़ को विकसित होते देखा जो मानव कोशिकाओं को प्रभावित करने वाले कोरोनो वायरस को ब्लॉक कर सकता है।
दुनियाभर में 100 से ज्यादा वैक्सीन का ट्रायल प्री-क्लीनिकल ट्रायल पर हैं और उनमें से कुछ का इंसानों पर प्रयोग शुरू किया गया है। इस महामारी के फैलने का सबसे बड़ा कारण यह है कि अब तक इसकी दवा ईजाद नहीं हो सकी है।