Categories
Crime

क्रिसमस समारोह के दौरान 13 लोगों की मौत

तेगुसिगाल्पा। (शिन्हुआ) मध्य अमेरिकी देश होंडुरास में क्रिसमस समारोह के दौरान कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई। स्थानीय प्रशासन के मुताबिक अधिकतर मौतें सड़क दुर्घटनाओं के कारण हुईं।

होंडुरास के सड़क एवं परिवहन निदेशालय के उप निरीक्षक जोस कार्लोस लागोस ने बताया कि यह मौतें मंगलवार से बुधवार तक क्रिसमस समारोह के दौरान हुईं। आठ लोगों की मौत सड़क दुर्घटना के कारण हुई। यह सड़क दुर्घटनाएं कोमायागुआ, खाड़ी द्वीप और सांता बारबरा क्षेत्र में हुईं। प्रशासन के मुताबिक 24 दिसंबर की रात को आतिशबाजी के कारण आठ लोग घायल भी हुए।पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक इस अवधि के दौरान, कुल 275 लोगों को कथित रूप से विभिन्न अपराधों के लिए हिरासत में लिया गया और 40 वाहनों को जब्त किया गया।

Categories
Crime

गहरी खाई में बस पलटने से 45 लोग घायल पांच यात्रियों की मौत

गढ़वा। झारखंड में गढ़वा जिले के गढ़वा नगर थाना क्षेत्र में गढ़वा-अंबिकापुर मार्ग पर आज तड़के एक बस के गहरी खाई में पलटने से पांच यात्रियों की मौत हो गई तथा 45 लोग घायल हो गए।

पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि गढ़वा जिला मुख्यालय से करीब 14 किलोमीटर दूर अन्नराज-नावाडीह घाटी में छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर से गढ़वा की ओर आ रही तेज रफ्तार बस आज तड़के करीब 30 फीट गहरी खाई में पलट गई। इस दुर्घटना में दो महिला और एक बच्चा समेत पांच यात्रियों की मौके पर ही मौत हो गयी वहीं 45 अन्य यात्री घायल हो गए।

सूत्रों ने बताया कि मृतकों में पलामू जिले के विश्रामपुर थाना क्षेत्र की सुनीता पाठक (45) और छतरपुर थाना क्षेत्र निवासी राजेश जायसवाल (10) के अलावा छत्तीसगढ़ के अम्बिकापुर जिले के सरगुजा थाना क्षेत्र निवासी पति-पत्नी प्रमोद गुप्ता (45) एवं लवली गुप्ता (38) तथा लक्ष्मण जायसवाल (36) शामिल हैं।

घायलों में से सात की स्थिति गंभीर बनी हुयी है जिन्हें इलाज के लिए रांची के राजेन्द्र इंस्टीच्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) भेजा गया है जबकि अन्य का इलाज गढ़वा सदर अस्पताल में चल रहा है। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने स्थानीय लोगों की मदद से बस में फंसे घायल यात्रियों को शीशा तोड़कर बाहर निकाला।

Categories
Off Beat

पोस्टमार्टम के साथ शव का ये परीक्षण और कराने से बहुत जल्दी मिल जाता है दुर्घटना का मुआवजा

देश में बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं की वजह से आए दिन हंसते खेलते परिवारों पर दुख का पहाड़ टूट पड़ता है। घर के कमाने वाले सदस्य की मौत होने पर तो हालात नारकीय हो जाते हैं। हालांकि इंसान की पूर्ति पैसे से नहीं हो सकती, लेकिन पैसे के जरिए गुजर बसर की जा सकती है।

अक्सर सड़क, रेल दुर्घटनाओं मारे जाने वालों के परिवार को यह पता ही नहीं होता कि वे आखिर करें तो क्या करें। कई बार वे लालची वकीलों के चंगुल में फंस जाते हैं जो उनको लूटने की फिराक में रहते हैं। इन सबसे बचने और शेष बचे परिवार के पालन पोषण के लिए आश्रितों को मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण में जाने की सलाह सब देते हैं लेकिन तब तक दुर्घटना के सबूत नष्ट हो चुके होते हैं अथवा नष्ट कर दिए जाते हैं।

लेकिन अगर आप पोस्टमार्टम के वक्त ये काम कर लेते हैं तो फिर भौतिक सबूत भले ही मिटा दिए जाएं लेकिन यह सबूत नहीं मिटाया जा सकता है। इसलिए जब भी आप अपने अड़ोस—पड़ोस में ऐसी दुर्घटनाओं में जान गंवाने वालों के परिवार को यह सलाह अवश्य दें कि वे शव की आटोप्सी {गहन चीरफाड} जरूर करा लें। आटोप्सी समय खाने वाला परीक्षण है लेकिन डाक्टर जब इसकी रिपोर्ट बनाकर देते हैं तो दुनिया की कोई भी ताकत उसकी रिपोर्ट को झुठला नहीं सकती। आटोप्सी की यही रिपोर्ट दुर्घटना दावा अधिकरण में मुआवजा दावा पेश करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण दस्तावेज होती है। यह रिपोर्ट बताती है कि दुर्घटना में जान गंवाने वाले के साथ क्या हुआ। अर्थात उसकी मौत टक्कर के आघात से हुई, कुचलने से हुई अथवा अन्य कोई कारण रहा।

ये जरूर है कि अक्सर डाक्टर आटोप्सी करने में आनाकानी करते हैं क्योंकि यह समय खाने वाली प्रक्रिया है जब​कि पोस्टमार्टम बहुत कम समय में हो जाता है। लेकिन अगर शव के साथ आए परिजन अड़ जाते हैं तो उन्हें आटोप्सी करनी ही होती है। इसकी रिपोर्ट दस दिन के अंदर अंदर मिल जाती है। इस रिपोर्ट को दावा दस्तावेज के साथ जरूर लगाएं। फिर देखिए कैसे आपके दावे की फाइल तेजी से दौड़ लगाने लगती है।

Categories
National

नेपाल के श्रद्धालुओं की बस पलटी, 42 घायल कुछ की हालत गंभीर बनी हुई है

उत्तर प्रदेश में वाराणसी के कैंट क्षेत्र में नेपाल के श्रद्धालुओं से भरी एक बस सड़क डिवाइडर से टकराकर पलट गई जिससे उसमें सवार 40 यात्रियों समेत 42 लोग घायल हो गए। हादसे के शिकार लोगों में दो स्थानीय निवासी एवं तीन नेपाली श्रद्धालुओं की हालत गंभीर बनी हुई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि देर रात जिला कारागार के पास यह हादसा हुआ। हादसे के बाद चीखपुकार मच गई। इसकी सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस एवं एनडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंच गई।

accidents
accidents

 

बस की खिड़कियों के शीशे तोड़कर यात्रियों को बाहर निकाला गया तथा पास के पंडित दीन दयाल उपाध्याय जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उन्होंने बताया कि हादसे में गंभीर रूप से घायल नेपाल के तीन श्रद्धालुओं मीणा , वारिस और देवनारायण को काशी हिंदू विश्व विद्यालय के ट्रॉमा सेंटर में भर्ती करवाया गया है जबकि वाराणसी के खजुरी क्षेत्र के निवासी शहनवाज और राशीद का इलाज जिला अस्पताल में किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बाकी मरीजों को मामूली चोटें आयीं हैं तथा उन्हें जल्दी ही अस्पताल से छुट्टी दी जा सकती है।

उन्होंने बताया कि हादसे के बाद बस चालक मौके से फरार हो गया। बताया जाता है कि मोटरसाइकिल सवार शहनवाज एवं राशीद को बचाने के दौरान तेज रफ्तार बस अनियंत्रिक होकर डिवाइडर से टकराकर सड़क पर पलट गई। पुलिस अधिकारी ने बताया कि 12 अगस्त को 46 श्रद्धालुओं से भरी बस नेपाल के सुनसरी जिले से भारत भ्रमण के लिए रवाना हुई थी। श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में बाबा के दर्शन-पूजन के बाद अगले दिन इलाहाबाद और आगरा के लिए जाना था।

दुर्घटना की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी सुरेंद्र कुमार ने अस्पताल में भर्ती मरीजों से मुलाकात कर उनका हालचाल जाना तथा अस्पताल प्रशासन से घायलों के इलाज एवं खानपान के समुचित इंतजाम करने का निर्देश दिया।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

 

 

 

 

Categories
Crime

सड़क पार करने पर हुवा हादसा

हाजीपुर से मिली सूचना के अनुसार वैशाली जिले में आज अलग- अलग स्थानों पर हुयी सड़क दुर्घटना में दो महिला समेत तीन लोगों की मौत हो गयी।पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि जिले के लालगंज थाना क्षेत्र के युसूफपुर गांव में सड़क पार करने के दौरान एक युवक ट्रक की चपेट में आ गया जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गयी।

roadact

यह भी देखिये –सिंगाजी ताप विद्युत गृह की दोनों इकाई से इस साल शुरू होगा उत्पादन

मृतक की पहचान जयप्रकाश साह (18) के रूप में की गयी है जो इसी गांव का निवासी था।दुर्घटना के बाद चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया।सूत्रों ने बताया कि एक अन्य घटना में कटहरा पुलिस आउट पोस्ट क्षेत्र के मथना माल गांव के निकट महुआ- मुजफ्फरपुर मार्ग पर आटो से उतर रही एक महिला को स्कार्पियों ने कुचल दिया जिससे उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गयी।

यह भी देखिये – जलसंकट विकराल रूप धारण

दुर्घटना के बाद चालक वाहन लेकर फरार हो गया।मृतक की पहचान सरीता देवी (24) के रूप में की गयी है।वहीं, भगवानपुर थाना क्षेत्र के बिठौली गांव के निकट हाजीपुर-मुजफ्फरपुर मार्ग पर सड़क पार करने के दौरान अज्ञात वाहन की चपेट में आने से निर्मला कुमारी (40) की मौके पर ही मौत हो गयी।

यह भी देखिये –माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के तृतीय दीक्षांत समारोह के मुख्य अतिथि होंगे : एम वेंकैया नायडू

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

रन फाॅर सेफ्टी के शुभारम्भ पर योगी ने की यातायात नियमों का पालन करने की अपील

सड़क सुरक्षा सप्ताह के दौरान उत्तर प्रदेश में तीन दिनों में दो भीषण सड़क हादसों से चिंतित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से यातायात नियमों का पालन करने की अपील की है।मुख्यमंत्री ने ‘परिवहन सुरक्षा रैली’ (रन फाॅर सेफ्टी) के शुभारम्भ के मौके पर कहा कि सड़क सुरक्षा नियमों का पालन कर हम स्वयं एवं दूसरों की रक्षा कर सकते हैं।

follow traffic rules
follow traffic rules

 

सड़क पर चलते समय लापरवाही बरतने से अनेक लोग दुर्घटनाओं का शिकार होते हैं।ऐसे में जरूरत इस बात की है कि ट्रैफिक नियमों का पालन किया जाए और वाहनों को सम्भाल कर चलाया जाए। नियमों के उल्लंघन से अराजकता का माहौल बनता है और सभी को कठिनाई होती है।उन्होने कहा कि सड़क पर सुरक्षित यात्रा मौजूदा समय में एक गम्भीर चुनौती है।

सुरक्षित सड़क यात्रा के लिए यह आवश्यक है कि प्रत्येक मोटर वाहन चालक सड़क का इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों की सुरक्षा के प्रति संवेदनशील रहे।उत्तर प्रदेश में सड़क पर वाहन चलाने वालों की संख्या निरन्तर बढ़ रही है।इसलिये सड़क यात्रा को सुरक्षित बनाने के लिए यातायात नियमों के प्रति जागरूकता आवश्यक है।इसके लिए समाज के सभी वर्गों की सक्रिय सहभागिता जरूरी है।योगी ने कहा कि प्रदेश सरकार मार्ग दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों को लेकर अत्यन्त चिन्तित और गम्भीर है।

इसे रोकने के लिए गम्भीर प्रयास करने होंगे।सड़क हादसों का सबसे बड़ा कारण अक्सर वाहन चालकों की लापरवाही, ओवर स्पीडिंग और शराब पीकर वाहन चलाना है।इन पर हर हाल में लगाम लगानी होगी।मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं को रोकने और सड़क सुरक्षा को लेकर राज्य सरकार द्वारा अनेक प्रयास किए जा रहे हैं। रोड इंजीनियरिंग में सुधार करने के साथ-साथ ब्लैक स्पाॅट्स के सुधार की कार्यवाही की जा रही है।छात्रों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक बनाने के लिए बेसिक एवं माध्यमिक शिक्षा के पाठ्यक्रम में सड़क सुरक्षा सम्बन्धी अध्याय को सम्मिलित किया गया है।सड़क सुरक्षा आॅडिट को सड़कों के निर्माण में अनिवार्य बनाया गया है।चालकों के स्वास्थ्य, विशेषकर आंखों के परीक्षण के लिये निर्देश दिए गए हैं।