Categories
National

प्रधानमंत्री का सपना है कि सन 2022 तक प्रत्येक किसान की आय दोगुनी हो जाये-शिवराज

इंदौर प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश की खेती देश में सर्वश्रेष्ठ हैं और हम सभी के सामूहिक प्रयासों से हमेशा बनी रहेगी। चौहान ने यहां में एक अख़बार द्वारा आयोजित कार्यक्रमों में किसानों को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किये।उन्होंने कहा प्रधानमंत्री का सपना है कि सन 2022 तक प्रत्येक किसान की आय दोगुनी हो जाये। इस दिशा में हम सतत् आगे बढ़ रहे हैं।इस कार्य में मध्यप्रदेश का किसान भी अपना सहयोग प्रदान कर रहा है।

 

Shivraj Singh Chauhanjp
Shivraj Singh Chauhanjp

जिसके कारण आज प्रदेश में हर फसल का भरपूर उत्पादन हो रहा है।उन्होंने कहा कि वे अच्छी तरह से जानते हैं कि मध्यप्रदेश को विकास के रास्ते पर ले जाना है तो सबसे ज्यादा ध्यान खेती पर देना होगा।इस दिशा में उन्होंने पिछले 12 साल में प्रयास करते हुए सिंचित क्षेत्र को 7 लाख हेक्टेयर से बढ़ाकर आज 40 लाख हेक्टेयर तक पहुंचा दिया है।अब आगे इसे बढ़ाकर 80 लाख हेक्टेयर करने की दिशा में कार्य कर रहे हैं। उन्होंने किसानों को बताया कि सरकार उद्यानिकी क्षेत्र में हुई क्रान्ति के मद्देनजर फूड प्रोसेसिंग के लिये भी किसानों को प्रोत्साहित कर रही है।

अब 10 करोड़ रूपये तक के फूड प्रोसेसिंग यूनिट को मेगा प्रोजेक्ट मानकर कई लाभ दिये जायेंगे।कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने खेती किसानी के क्षेत्र में क्रान्तिकारी परिवर्तन करने वाले रतलाम जिले के तीतरी ग्राम के किसानों द्वारा अंगूर से वाइन बनाने, शाजापुर एवं आगर मालवा में संतरा का बेहतर उत्पादन करने वाले किसानों का भी उदाहरण प्रस्तुत कर किसानों को प्रोत्साहित किया।

मुख्यमंत्री ने किसानों को बताया कि प्रदेश की सरकार उनके हितों के संरक्षण के लिये बासमती चावल का पेटेंट प्राप्त करने हेतु अन्य राज्यों के दावों को चुनौती दे रही है। साथ ही प्रदेश में बटाई पद्धति को कानूनी जामा पहनाकर भूस्वामी एवं खेती करने वाले के हितों का संरक्षण कर रही है। प्रदेश में कृषि एवं उद्यानिकी के क्षेत्र में हो रहे बम्पर उत्पादन के मद्देनजर कृषि उत्पाद को निर्यात करने की दिशा में भी कदम बढ़ाने का प्रयास कर रही है।

Categories
National

‘कामदार,ईमानदार,जिम्मेदार’ होगा देश का अगला प्रधानमंत्री

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते कहा कि 2019 में देश का प्रधानमंत्री वही होगा जो ‘कामदार, ईमानदार और जिम्मेदार’ होगा।

Kapil Sibal
Kapil Sibal

 

सिब्बल ने यहां संवाददाताओं से कहा, “ हम 2019 में ऐसा प्रधानमंत्री चाहते हैं , जो न केवल कामदार हो बल्कि ईमानदार और जिम्मेदार भी हो। ” कांग्रेस केंद्र की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन(राजग) सरकार की चौथी वर्षगांठ को ‘विश्वासघात दिवस’ के रूप में मना रही है। उन्होंने कहा कि पिछले चार सालों के दौरान प्रधानमंत्री की ओर से जो नीतियां अपनायी गयी है, वे केवल धनी लोगों और व्यावसायिक घरानों के हित में है न कि किसानों और गरीब लोगों के।

उन्होंने मोदी सरकार के ‘ अच्छे दिन’ के नारे का मखौल उड़ाते हुए कहा , “ना अच्छे दिन, ना सच्चे दिन, मोदीजी हम आगे बढ़ेंगे तेरे बिन। ” उन्होंने कहा कि यह फेसबुक, व्हाट्सएेप, पेटीएम, अमेजॉन और डिजिटल वर्ल्ड की सरकार है। कांग्रेसी नेता ने मोदी पर 2014 में ओडिशा दौरे के मौके पर यहां की जनता से बड़े-बड़े वादे करने और इनमें से एक भी वादा पूरा न कर पाने का आरोप लगाया और कहा कि उन्हें स्पष्ट करना चाहिए कि पिछले चार साल के दौरान उन्होंने राज्य की जनता के लिए क्या किया है।

उन्होंने कहा कि मोदी किसानों की समस्याओं को सुनने के लिए तैयार नहीं और न ही धान के समर्थन मूल्य को लेकर राज्य विधानसभा द्वारा पारित प्रस्ताव को मंजूरी दे रहे है इसलिए यहां से उनके पक्ष में एक भी वोट नहीं जाना चाहिए। सिब्बल ने कहा कि पारादीप में तेल शोधन संयंत्र के उदघाटन के दौरान मोदी ने राज्य के एक लाख युवकों को रोजगार देने का वादा किया था लेकिन एक हजार रोजगार भी नहीं दिये जा गये और न ही राज्य के लिए विशेष पैकेज घोषित किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि 2014 में प्रधानमंत्री ने घोषणा की थी कि पूर्वी भारत, विशेषकर ओडिशा पर उनका विशेष ध्यान रहेगा, लेकिन पिछले चार साल के भीतर एक भी उद्योग नहीं खोला गया और ‘ईस्टर्न कॉरीडोर’ का दावा महज एक नारा साबित हुआ।

Categories
National

केन्द्र का ताजा रिपोर्ट कार्ड: ग्राम स्वराज अभियान व फ्लैगशिप योजनाओं के क्रियान्वयन में छत्तीसगढ़ बना नम्बर वन

छत्तीसगढ़ को राष्ट्रव्यापी ग्राम स्वराज अभियान के विभिन्न आयोजनों और प्रधानमंत्री की फ्लैगशिप योजनाओं के क्रियान्वयन में पूरे देश में पहला स्थान मिला है।प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 14 अप्रैल को छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के जांगला से ग्राम स्वराज अभियान का राष्ट्रव्यापी शुभारंभ किया था, जिसका पांच मई को समापन हुआ।

Chhattisgarh
Chhattisgarh

 

प्रधानमंत्री के नेतृत्व में पहली बार देशव्यापी ग्राम स्वराज अभियान चलाया गया।पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री अजय चन्द्राकर ने यह दावा करते हुए यहां बताया कि लगभग 23 दिनों तक चले इस अभियान के तहत छत्तीसगढ़ की 10 हजार से ज्यादा ग्राम पंचायतों में कई गतिविधियां संचालित की गई।अभियान के अंतर्गत चयनित 07 शासकीय योजनाओं में पूर्ण आच्छादन में से 04 योजनाओं में छत्तीसगढ़ ने सौ प्रतिशत से अधिक लक्ष्य पूर्ण किया है।

उन्होंने बताया कि जनधन योजना अंतर्गत लक्ष्य के विरूद्ध पूरे देश में सर्वाधिक खाते खोलकर राज्य ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है।प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना में राज्य द्वितीय स्थान पर है जिसमें कुल लक्षित 35,740 हितग्राहियों के विरूद्ध 42,281 हितग्राहियों का बीमा किया गया।अभियान के तहत अंतर्गत उन्नत ज्योति एल.ई.डी. लाईट के वितरण में भी सैचुरेशन के आधार पर राज्य प्रथम स्थान पर है। चन्द्राकर ने बताया कि प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) अंतर्गत राज्य ने 109.34 प्रतिशत पूर्ण किया है।प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना में देश में दूसरे स्थान पर है।प्रधानमंत्री उज्जवला योजना अंतर्गत चयनित ग्रामों में 26,799 एल.पी.जी गैस कनेक्शन प्रदाय किये गये।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

 

Categories
National

पुरानी सरकार के अच्छे कार्यक्रमाें काे जारी रखेंगे : येद्दियुरप्पा

बेंगलुुरु, भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बी एस येद्दियुरप्पा ने अाश्वासन दिया कि उनकी पार्टी के सत्ता में अाने पर सिद्दारामैया सरकार के कुछ अच्छे कल्याणकारी कार्यक्रमाें काे जारी रखा जाएगा।  येद्दियुरप्पा ने अपनी पार्टी काे 224 में से 150 सीटें मिलने के साथ ही सत्ता वापसी का भराेसा जताते हुए कहा कि प्रधानमंत्री माेदी की चुनावी सभाएं एक मई से शुरू हुईं, इसके बाद भाजपा की उसी तरह राज्य में लहर चल पड़ी जैसी समूचे देश में चुनावी सभाअाें में भारी भीड के रूप में दिखती थी।

Yeddyurappa
Yeddyurappa

 

उन्हाेंने जद-सेक्युलर से किसी भी तालमेल से इंकार करते हुए कहा कि एेसे हालात पैदा ही नहीं हाेंगे। येद्दयुरप्पा ने रेड्डी बंधुअाें के बारे में किसी भी तर्क काे मानने से इंकार कर दिया। उन्हाेंने कहा कि रेड्डी बंधु अपने खिलाफ अाराेपाें से बरी हाे चुके हैं। खान माफिया जनार्दन रेड्डी के बारे में उन्हाेंने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने निर्देश दिया था कि वह चुनाव प्रचार में हिस्सा नहीं ले सकते। इस बारे में रेड्डी कुछ कहना नहीं चाहते। उन्हें विश्वास है कि उनकी पार्टी बेल्लारी सीट जीत लेगी।

बेंगलुरु रिपाेटर्स गिल्ड अाैर बेंगलुरु प्रेस क्लब के ‘प्रेस से मिलिए’ कार्यक्रम में हिस्सा लेते हुए येद्दयुरप्पा ने अाश्वासन दिया कि अतीत में जाे कुछ हाे चुका है, यह अब उनकी सरकार में फिर नहीं हाेने पाएगा। उन्हाेंने कहा कि कांग्रेस किसी भी चुनाव अभियानाें में मंच साझा न करते हुए मुख्यमंत्री सिद्दारामैया, राज्य पार्टी अध्यक्ष जी. परमेश्वर अाैर लाेकसभा में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जन खडगे काे एकजुट हाेकर नहीं लडने दे रही है। उन्हाेंने दावा किया कि इन नेताअाें में विचाराें को लेकर मतभेद है।उन्हाेंने कहा कि श्री सिद्धारामैया चामुंडेश्वरी अाैर बादामी, दाेनाें सीटों से परास्त हाेंगे।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

 

Categories
National

कौशल विकास के क्षेत्र में केन्द्र सरकार पूरा सहयोग करेगी : धर्मेन्द्र

केन्द्रीय कौशल विकास एवं उद्यमिता, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि कौशल विकास के क्षेत्र में काम करने वाली संस्थाओं का केन्द्र सरकार पूरा सहयोग करेगी। यह बात प्रधान ने नव-स्थापित क्रिस्प-जैकवार प्लम्बिंग प्रशिक्षण केन्द्र के उद्घाटन अवसर पर कही।

Dharmendra Pradhan
Dharmendra Pradhan

 

उन्होंने इस मौके पर प्रधानमंत्री के स्किल इण्डिया मिशन में विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की।  केन्द्रीय मंत्री ने विश्व कौशल भारत प्रतियोगिता के प्रतिभागियों से भी मुलाकात की। प्रदेश के तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास राज्य मंत्री दीपक जोशी ने समीक्षा बैठक में क्रिस्प के क्रिया-कलापों की जानकारी दी।

इस अवसर पर मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास और रोजगार निर्माण बोर्ड के अध्यक्ष हेमंत देशमुख, प्रमुख सचिव तकनीकी शिक्षा अशोक वर्णवाल, एनएसडीसी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी मनीष कुमार, मध्यप्रदेश रोजगार बोर्ड के सचिव सुखवीर सिंह, जैकवार कम्पनी के सीएसआर प्रमुख कंवर शमशेर उपस्थित थे।

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

Categories
National

स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर आघात लगा : अशोक गहलोत

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केन्द्र सरकार पर देश की न्यायपािलका को पंगु बनाने का आरोप लगाते हुये कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में पहली बार न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर आघात लगा है। गहलोत ने पत्रकारों से बातचीत करते हुये कहा कि प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति इस मुददे पर पहले ही संवाद कर लेते तो संभवत ऐसी स्थिति पैदा नही होती। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान सहित कुछ देशों में न्यायपालिका को लेकर सदैव संदेह होते रहे है लेकिन यह पहली बार है कि जब भारत में भी न्यायपालिका को लेकर सवाल उठने लगे है।

 Ashok Gehlot
Ashok Gehlot

 

उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की केन्द्र और राज्य सरकार पर घृणा, हिंसा और भय का वातावरण बनाने का आरोप लगाते हुये कहा कि इससे सम्पूर्ण देश के हर समुदाय में असंतोष व्याप्त हो गया है1 भाजपा सरकार की इन नीतियों के कारण देश का लोकतंत्र खतरे में आ गया है और इससे छुटकारा पाना बहुत जरूरी हो गया है।

उन्होंने केन्द्र और राज्य सरकार पर संवैधानिक पदों पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ( आरएसएस) के इशारे पर नियुक्तियां देने का आरोप लगाते हुये कहा कि इससे संवैधानिक पदों की गरिमा कम हुयी है। उन्होंने कहा कि आरएसएस भाजपा सरकारों में सर्वेसर्वा बनकर काम कर रहा है ऐसे में लोकतंत्र की मजबूती पर प्रश्नचिन्ह खडा हो गया है1

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

Categories
National

प्रधानमंत्री आवास योजना में सभी आवासहीनों को मिलेगा मकान : वित्त मंत्री जयंत मलैया

मध्यप्रदेश के वित्त मंत्री जयंत मलैया ने कहा है कि प्रधानमंत्री आवास योजना में प्रदेश के प्रत्येक आवासहीन को वर्ष 2022 तक आवास मिलेगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना

यह भी देखिये- कैटरीना कैफ अम्बानी की इतनी मंहगी ड्रेस पहन कर पहुंची की देखने वालों के उड़े होश

उन्होंने निर्माण एजेंसियों को आवास निर्माण में गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखने के लिये भी कहा।
मलैया कल दमोह जिले के ग्राम खैजरा और तिदौंनी में लगभग 40 लाख रुपये लागत के निर्माण कार्यों के भूमि-पूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे।

यह भी देखिये-लोकसभा में भी लगातार 17वें दिन विपक्षी दलों के सदस्यों ने भारी हंगामा, कार्यवाही साेमवार तक के लिए स्थगित

इस दौरान मलैया ने कहा कि प्रदेश में निर्धन वर्ग के लोगों को एक रुपये प्रति किलो की दर पर गेहूँ और चावल और किसानों को जीरो प्रतिशत पर ऋण उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने दो हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना के आवास सौंपे। वित्त मंत्री ने दमोह में रेलवे ओवर-ब्रिज के निर्माण कार्य का स्थल निरीक्षण किया।   मलैया ने कलेक्ट्रेट में आयोजित बैठक में विकास कार्यों की समीक्षा भी की।

यह भी देखिये- प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्यसभा के सदस्यों को विदाई दी

[divider style=”solid” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी से सीधे प्रकाशित की गई है।)
मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:
mobilepenews@gmail.com
हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:
फेसबुक मोबाइलपेन्यूज
ट्विटर मोबाइलपेन्यूज[divider style=”solid” top=”10″ bottom=”10″]
Categories
National

शॉटगन का प्रधानमंत्री पर हमला, दूसरों पर आरोप मढ़ छात्र हो सकते तनावमुक्त

हाल ही में ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम में छात्रों को तनाव न लेने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद और पूर्व केन्द्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने प्रधानमंत्री पर एक बार फिर परोक्ष हमला करते हुए कहा है कि इन परीक्षाओं में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्र ‘चौकीदार ए वतन’ की तरह अपने पूर्ववर्ती पर आरोप लगाकर तनावमुक्त हो सकते हैं।

Shatrughan Sinha
Shatrughan Sinha

यह भी देखिए- आठवीं बोर्ड परीक्षा ​परिणाम 2018

शॉटगन के नाम मशहूर सेसिन्हा ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के जरिए प्रधानमंत्री पर हमला करते हुए ट्वीट किया,“ प्रिय बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को आपके दो घंटे के संबोधन में, जिसे सुनने को उन्हें विवश किया गया, आपने वही चीजें कहीं जो मैंने पूर्व में राजधानी पटना की मशहूर और प्रतिष्ठित मगध महिला कॉलेज में कही थीं।”

एक अन्य ट्वीट में सिन्हा ने कहा, “ प्रधानमंत्री मोदी ऐसा कहकर मेरी उस बात से लगभग सहमत नजर आये कि छात्रों को सबसे पहली जो योग्यता हासिल करनी चाहिए, वह आत्मविश्वास है जिसका परिणाम प्रतिबद्धता, समर्पण, लगाव और जुनून के रूप में निकलेगा।”

यह भी देखिए- बाहरवीं बोर्ड परीक्षा ​परिणाम तिथि 2018

भाजपा के असंतुष्ट सांसद ने आगे लिखा कि बोर्ड की परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्रों को परेशान और हतोत्साहित होने की जरूरत नहीं क्योंकि आप पूर्ववर्ती पर आरोप लगाकर तनावमुक्त हो सकते हैं, जैसा कि हमारे चौकीदार ए वतन संसद में अपने पूर्ववर्ती सरकारों और उनके साठ साल के कार्यकाल को लेकर लगभग हर मौके पर करते हैं। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री अक्सर खुद को देश का चौकीदार बताते रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा से पूर्व प्रधानमंत्री ने नई दिल्ली में आयोजित ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम के जरिए देश भर के छात्रों से संवाद स्थापित करते हुए उन्हें परीक्षा के दौरान तनावमुक्त रहने की सलाह दी थी।

यह भी देखिए-नेशनल हेराल्ड के संपादक नीलाभ मिश्र अब इस दुनिया में नहीं रहें

Categories
Jobs Results

भाजपा पर बरसे रणदीप सिंह सुरजेवाला जानिए क्या कहा

श्री Randeep Singh Surjewala ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि देश को बदनाम करने वाली और भ्रष्टाचार के झूठे आरोपों को धंधा बना, सत्ता में आने वाली भाजपा के ढोल की पोल आज खुल गई है। झूठ के काले बादल छंट गए और भाजपा द्वारा देश और कांग्रेस को बदनाम करने वाली साजिश का पर्दाफाश आज सीबीआई की स्पेशल अदालत के फैसले से हो। आखिर में सच्चाई की जीत हुई। भाजपा खासतौर से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और सबको ज्ञान बांटने वाले वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी और भाजपा के पीठ्ठू श्री विनोद राय जी, इन तीनों द्वारा और भाजपा के नेताओं द्वारा जो षड़यंत्रकारी चक्रव्यूह बुना गया था, आज उसका सीना चिर कर, महाभारत की तरह सच्चाई अदालत के माध्यम से बाहर आ गई।

Randeep Singh Surjewala
Randeep Singh Surjewala

 

यह सच्चाई देश की सुप्रीम कोर्ट द्वारा मॉनीटर्ड सीबीआई अदालत के 2 जी के निर्णय से आई है, जिसमें पाया गया कि कोई 18 में से एक भी व्यक्ति दोषी नहीं है। क्या अब वो लोग समेत श्री नरेन्द्र मोदी, समेत श्री अरुण जेटली और भाजपा के वो सब लोग जो वर्षों तक झूठे इल्जामों को सत्ता की सीढ़ी बना देश की सत्ता पर काबिज हुए हैं। अब वो देश से माफी मांगेगे? क्या ये सच नहीं कि अब देश के सामने उनकी कलाई खुल गई कि झूठ बोलना, साजिश करना, षड़यंत्र करना भाजपा का असली DNA और चाल,चेहरा और चरित्र है।

Randeep Singh Surjewala

क्या इन षडयंत्रकारों के वो सब सरदार समेत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी, श्री अरुण जेटली और उनके पिछलग्गू पिठ्ठू श्री विनोद राय उनकी जवाबदेही और जिम्मेदारी निश्चित नहीं की जानी चाहिए? क्या इस देश के 125 करोड़ लोगों से श्री नरेन्द्र मोदी जी, श्री अरुण जेटली जी और भारतीय जनता पार्टी को सार्वजनिक तौर से माफी नहीं मांगनी चाहिए? सच्चाई ये है कि आदरणीय दोस्तों ये पूरा देश आज सुप्रीम कोर्ट मॉनीटर्ड सीबीआई कोर्ट ने निर्णय के बाद उन सब लोगों से, जिन्होंने 2-G को घोटाले का नाम दे, सत्ता की सीढियाँ चढ़ी और देश के उच्चतम पदों पर काबिज हुए। आज उनसे जवाबदेही और जिम्मेवारी मांगने का दिन है। हमें उम्मीद है कि मीडिया के भी वो सब साथी, जो कई बार इस दुष्प्रचार से, इस षड़यंत्र और साजिश से प्रभावित हुए थे, आज वो भी उनसे जवाब मांगने का साहस दिखाएँगे। इसके साथ-साथ जहाँ हम 2-G के फैसले पर जो अदालत का निर्णय आया है, उस पर तसल्ली जाहिर करते हैं। उम्मीद करते हैं कि बजाए ‘खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे’ की तरह भारतीय जनता पार्टी अपना reaction दे और आज भी अपने झूठ, असत्य, साजिश और षड़यंत्र पर अड़ी रहे। समय आ गया है कि वो इस देश को जवाब दें कि 3 साल तक इस देश की बढ़ोतरी, इस देश की कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार के खिलाफ साजिश और इस देश को बदनाम करने का घिनौना षड़यंत्र, क्या केवल उन्होंने सत्ता पाने के लिए किया? क्योंकि अब ये बात जग-जाहिर है, प्रधानमंत्री जी ने पूर्व प्रधानमंत्री जी पर, पूर्व सेना के प्रमुख पर, पूर्व उप-राष्ट्रपति पर इसी प्रकार के उन्होंने पाकिस्तान से मिली भगत के झूठे आरोप लगाए और अब संसद में जवाब देने की बजाए कन्नी काटते घूम रहे हैं। तो चाहे वो 2014 से पहले और चाहे 2014 के बाद, भाजपा का चाल, चेहरा और चरित्र साजिशकारी, षड़यंत्रकारी है और 2-G के सुप्रीम कोर्ट मॉनीटर्ड सीबीआई की अदालत के फैसले से अब ये साबित हो गया है। देश उम्मीद करता है कि कम से कम आज प्रधानमंत्री मोदी जी, वित्त मंत्री अरुण जेटली जी, भारतीय जनता पार्टी के नेता सच्चाई का सामना करेंगे, क्योंकि उनके षड़यंत्रकारी काले बादलों से छंटकर जो सच्चाई निकली है, वो देश के सामने जग-जाहिर है और वो देश से माफी मांगेगे।

एक प्रश्न पर कि इसके बाद आप क्या करेंगे, जनता के पास जाएंगे या कोर्ट जाएंगे, श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि जनता की अदालत में ये पूरा मामला है और कांग्रेस भी, DMK भी और सब राजनीतिक दल अब देश के 125 करोड़ लोगों से ये जरुर कहेंगे और देश के 125 करोड़ लोग नरेन्द्र मोदी जी, अमित शाह जी से, अरुण जेटली जी से, सुषमा स्वराज जी से और पूरी भाजपा से जिन्होंने 3 साल तक, इस देश की संसद को नहीं चलने दिया, इस देश में बदनामी का एक माहौल पैदा किया, पूरे देश की व्यवस्था को बदनाम किया, देश की संस्थाओं को बदनाम करने का षड़यंत्र किया। विनोद राय के साथ मिलकर जिस प्रकार से भाजपा ने षड़यंत्रकारी खेल, जिससे इस देश की अर्थव्यवस्था को और देश को नुकसान हुआ, उसके लिए मोदी जी और भाजपा को देश को जवाब तो देना ही पड़ेगा।

अरुण जेटली जी द्वारा दिए बयान पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि एक पुरानी कहावत है – खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे। वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली जी, जो झूठों के सरदार हैं। आज उनकी यही हालत है। क्योंकि झूठों की सरदारी और सरकार की जिम्मेवारी में यही अंतर है, जो सच का आईना आज उनको अदालत ने दिखाया है। हम श्री अरुण जेटली जी से पूछते हैं, कि उनके कार्यकाल में तीन घोटाले CAG सामने लेकर आया। एक 46 हजार करोड़ का घोटाला, जो कांग्रेस ने ऊजागर किया। एक 23 हजार 821 करोड़ रुपए का घोटाला, जो कांग्रेस ने उजागर किया, CAG की रिपोर्ट के आधार पर। और एक जो 4 दिन पहले CAG की रिपोर्ट आई है, जो ढाई हजार करोड़ रुपए का घोटाला CAG ने बताया है स्पेक्ट्रम की recovery में। क्या इसके लिए अरुण जेटली जी जिम्मेवारी लेंगे, क्या जांच करवाएंगे? क्या उन्होंने 43 महीने में इन टेलिफोन स्पेक्ट्रम घोटाले की जांच करवाई, वो पैसा जनता का पैसा recover करवाया?

आज फिर मैं Randeep Singh Surjewala दोहराता हूं कि जब श्री अरुण जेटली जी और श्री नरेन्द्र मोदी जी ने झूठे इल्जामात घड़े, श्री विनोद राय के साथ लकर, तो कांग्रेस ने फिर भी प्रजातंत्र की जवाबदेही को सुनिश्चित करते हुए कार्यवाही की थी। हमने ना केवल मुकदमा दर्ज किया, ना केवल जांच करवाई और उस जांच का आज पटाक्षेप हो गया। पर क्या अरुण जेटली जी और श्री नरेन्द्र मोदी GSPC घोटाला, 20 हजार करोड़ का जो घोटाला, CAG ने बताया है, जो मोदी जी की नाक के नीचे हुआ, उसकी जांच करवाएँगे और मोदी जी की जिम्मेवारी और जवाबदेही सुनिश्चित करेंगे? क्या श्री नरेन्द्र मोदी और श्री अरुण जेटली व्यापम घोटाले में श्री शिवराज सिंह चौहान से इस्तीफा लेंगे? क्या माईनिंग घोटाले और छोटा मोदी घोटाले के अंदर वो वसुंधरा राजे जी से इस्तीफा लेंगे? क्या छत्तीसगढ़ के छत्तीस हजार करोड़ के PDS घोटाले में डॉ. रमन सिंह से इस्तीफा लेंगे? क्या अपने उन सारे मंत्रियों और संत्रियों से इस्तीफा लेंगे, जिनके घोटाले की परतें आए दिन खुल रही हैं? आज जब भारतीय जनता पार्टी भ्रष्टाचार के अंदर ऊपर से नीचे तक लिप्त नजर आती है, तो उनको ‘सावन के अंधे को सबकुछ हरा-हरा नजर आता है’। आज वो सुप्रीम कोर्ट की वित्त मंत्री अवमानना कर रहे हैं। वो स्पेशल कोर्ट सीबीआई के ऊपर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर रहे हैं। देश के वित्त मंत्री को ये शोभा नहीं देता। न्यायपालिका, जिसका पूरा का पूरा कैरियर न्यायपालिका के अंदर से देश के वित्त मंत्री तक आया हो, ऐसे सम्मानित व्यक्ति से हम विनम्रता से अनुरोध करेंगे कि देश की सुप्रीम कोर्ट जो हर महीने इस स्पेशल सीबीआई कोर्ट की proceeding को सील कवर में मंगवाती थी और स्पेशल सीबीआई कोर्ट पर इस प्रकार के इल्जामात लगाना बंद करे। अपने षडयंत्र के प्रतिशोध में अब अदालत की प्रक्रिया को इसके अंदर ना संलिप्त करें और सर झुका कर देश से माफी मांगे कि हाँ उन्होंने षड़यंत्र किया था। हाँ मोदी जी और जेटली जी, सुषमा जी और पूरी भाजपाई ताकतों ने मिलकर, इस देश को बदनाम करने की साजिश की थी।

एक अन्य प्रश्न पर कि आप इस मामले को संसद में किस तरह से उठाएंगे, श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि इस मामले को संसद से सड़क तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और इस देश का हर जागरुक नागरिक लेकर जाएगा। सवाल ये है कि क्या आप तीन साल तक देश की संसद को रोक सकते हैं, केवल क्योंकि आप सत्ता की सीढिय़ों पर चढ़ना चाहते हैं। क्या आप एक साजिश के तहत पूरे देश को बदनाम कर सकते हैं, क्या आप एक साजिश के तहत देश की सारी संस्थाओं पर कीचड़ फेंक सकते हैं? श्री नरेन्द्र मोदी जी और श्री अरुण जेटली जी ने यही किया। उन्होंने एक बड़े ढोल में, झूठ के ढोल में कीचड़ रख लिया और वो कीचड़ फेंकते गए, फेंकते गए, जब तक मीडिया औऱ देश के कुछ लोगों ने उस कीचड़ की बातों पर विश्वास करना शुरु नहीं कर दिया। पर इस प्रकार के ओच्छे और षड़यंत्रकारी इल्जामों का जवाब हमने नहीं दिया। देश की जनता के सामने न्यायपालिका ने स्पष्ट तौर और सच्ची बात सामने रख दी है। इसलिए कम से कम आज जब उनके कीचड़ के ढोल, पोल फट गया है, इसलिए आज तो माफी मांगे और देश से क्षमा मांगे।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि एक हकीकत ये भी है कि 700 Mhtz का स्पेक्ट्रम जिसकी ऑक्शन सरकार ने लगाई, वो दो बार लगा चुके, एक आदमी भी खरीददार नहीं आया। जब आदरणीय साथी आप स्पेक्ट्रम की बात करेंगे तो उस स्पेक्ट्रम के साथ 5 या 6 महत्वपूर्ण बातें लगातार जुड़ी रहेंगी कि, उस स्पेक्ट्रम की ऑक्शन के बाद जो आम जनमानस है, उसको उसकी क्या लागत आएगी? दूसरी बात उस स्पेक्ट्रम की recovery आप कितने साल में करेंगे? तीसरी बात, उस स्पेक्ट्रम में upfront पैसा आएगा और कितने साल के बाद बाकी की पेमेंट आएगी? जो देश की सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, वो ये कहा था कि सारी रिसोर्सिस को जहाँ तक हो सके पब्लिक ऑक्शन कीजिए। हम उससे असहमत नहीं। परंतु भाजपा ने एक धंधा बना कर, भ्रष्टाचार के इल्जामों से सत्ता की सीढ़ी पाई है। इसी 2G की झूठी भ्रष्टाचार की सीढ़ी पर आज नरेन्द्र मोदी जी, प्रधानमंत्री और अरुण जेटली जी, वित्त मंत्री बनकर बैठे हैं। आज वो सीढ़ी नीचे से खिसक गई है। क्योंकि सच्चाई का आईना न्यायपालिका ने सुप्रीम कोर्ट मॉनीटर्ड कोर्ट ट्रायल में उनको दिखाया है। तो क्या आज उनके ढोल की पोल देश के सामने नहीं, तिल का ताड़ और राई का पहाड़ बनाने वाले, झूठे लोगों का षड़यंत्र का आज पर्दाफाश नहीं हो गया? और अगर हो गया तो क्यों वो सामने आकर अपनी जिम्मेवारी से बचकर भाग रहे हैं, बहाने बनाकर?

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि आदरणीय साथी इसलिए मैंने कहा, अब जब भाजपा का षड़यंत्र से अदालत ने पर्दाफाश कर दिया है, पर्दा उजागर कर दिया, जब झूठ के बादल छंट गए, जब साजिश बेनकाब हो गई, तो फिर अरुण जेटली जी और भाजपा का एक ही नारा है, ‘खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे’। किसी तरह से भी आप पूरे मामले को भटकाओ और उलझाओ, परंतु मामला साफ है। ना अदालत पर इल्जाम लगाईए, ना सुप्रीम कोर्ट पर, क्योंकि अगर भ्रष्टाचार हुआ होता तो भ्रष्टाचार आज उजागर हो गया होता। जिसको लेकर आज आप बाछें बिछाए बैठे थे। परंतु आज जब आपका झूठ पकड़ा गया, आज जब आप सरेराह पकड़े गए हैं, कि आपने झूठ और झूठे और षड़यंत्रकारी इल्जामों पर सत्ता की सीढ़ियाँ चढ़ी हैं, तो आज आप झूठ के पीछे उस आवरण में नहीं छुप सकते।

इसी संदर्भ में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि श्री अरुण जेटली आज भी अदालत का फैसला मानने से इंकार करते हैं। क्या वो एक बहुत अच्छे वकील नहीं, क्या उन्हें कानून की परिपाटी की जानकारी नहीं, क्या आज वो आपके सामने आकर जिस प्रकार की मनघढंत और झूठी बाते कर अपनी साजिश पर पर्दा ड़ालने की कोशिश कर रहे हैं, वो निंदनीय नहीं, क्या वो खँडन योग्य नहीं? क्या अरुण जेटली जी को अदालत के निर्णय के आगे सर झुका कर और खासतौर से उस सीबीआई अदालत के आगे, जिसको सुप्रीम कोर्ट ने डे-टू-डे ट्रायल को मॉनीटर किया है, आज जब वो उस पर भी प्रश्नचिन्ह खड़े कर रहे हैं, तो ये खिसियानी बिल्ली नोचे तो है ही, परंतु ये भी है कि ‘नाच ना जाने आंगन टेढ़ा’। आज जब उऩके झूठ पकड़े गए तो वो सब पर इल्जाम लगा रहे हैं। इल्जामों के सरदार भाजपा को ये समझना पड़ेगा कि वास्तविकता सच्चाई थोडी देर छुप सकती है, जब काले बादल झूठ के सामने आते हैं, पर जब सच्चाई का सूर्य, जब उनके षड़यंत्रकारी चक्रव्यहू को तोड़कर निकलता है, तो फिर उसे कोई रोक नहीं सकता। ये महाभारत से लेकर अनंतकाल से लेकर और 2017 तक का शास्वत सत्य है।

एक अन्य प्रश्न के उत्तर में श्री Randeep Singh Surjewala ने कहा कि ना केवल सदन अब मोदी जी अपनी जवाबदेही से बच नहीं सकते। माननीय नरेन्द्र मोदी जी को और उनके सारे मित्र मंडल को समेत श्री अरुण जेटली के अपने झूठे इल्जामों, साजिशों औऱ षड़यंत्र के लिए देश और संसद दोनों को जवाबदेही देनी पडेगी। देश का तीन साल तक एक सोची-समझी पूर्व नियोजित साजिश और षड़यंत्र के तहत भाजपा ने जो नुकसान किया, उसका जवाब उनको देना पड़ेगा। 125 करोड़ लोग, देश की संस्थाएँ और संसद आज मोदी जी से और अरुण जेटली जी से जवाब मांगते हैं।

Categories
National Results

कर्नाटक के नवनिर्माण की परिवर्तन यात्रा को जोरदार तरीके से सम्बोधित किया

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिला स्थित होललकेरे में 79 दिनों तक चलने वाली कर्नाटक के नवनिर्माण की परिवर्तन यात्रा को संबोधित किया और कर्नाटक की बदहाली के लिये कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार पर जमकर प्रहार किया। ज्ञात हो कि कर्नाटक में परिवर्तन यात्रा भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं भाजपा के मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी बी। एस। येदुरप्पा के नेतृत्व में पिछले वर्ष 02 नवंबर को शुरू हुआ था जो राज्य के 224 विधान सभाओं की गाँव-गलियों से गुजरते हुए 28 जनवरी, 2018 को पूर्ण होगी और इसका समापन Prime Minister नरेन्द्र मोदी जी करेंगे। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने 02 नवंबर, 2017 को बेंगलुरु में परिवर्तन यात्रा का शुभारंभ किया था। अभी तक परिवर्तन यात्रा 69 दिनों में 174 विधान सभाओं तक पहुँची है और इसने 8,000 किलोमीटर की दूरी तय की है।

Prime Minister
Prime Minister

 

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि कर्नाटक परिवर्तन यात्रा के दौरान हमने प्रदेश के युवाओं में जो जोश देखा है, राज्य की जनता में प्रदेश की कांग्रेस सरकार के प्रति जो गुस्सा और आक्रोश देखा है, इससे यह स्पष्ट है कि कर्नाटक में कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार की उलटी गिनती शुरू हो गई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के भ्रष्टाचार ने जनता के विकास से सिद्धारमैया सरकार का कनेक्शन काट दिया है। उन्होंने कहा कि सरकारें आम जनता की भलाई के लिये होती है लेकिन कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार केवल कांग्रेसियों के भले के लिए ही चल रही है।

यह भी देखिये-हॉस्टल में रहने वाले (स्टूडेंट्स आैर कर्मचारी) सब पर भरी पड़ा GST

शाह ने कहा कि Prime Minister नरेन्द्र मोदी ने इन साढ़े तीन सालों में कर्नाटक के विकास के लिए कई योजनाओं की शुरुआत की लेकिन कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार इन योजनाओं को जनता तक पहुँचने ही नहीं देती। उन्होंने कहा कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री आरोप लगाते हैं कि मोदी सरकार कर्नाटक की मदद नहीं कर रही, आज मैं इसका जवाब देने आया हूँ। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की यूपीए सरकार ने 13वें वित्त आयोग में सेन्ट्रल शेयर के रूप में कर्नाटक को केवल 88,583 करोड़ रुपये दिये थे जबकि 14वें वित्त आयोग में मोदी सरकार ने कर्नाटक को 2,19,506 करोड़ रुपये  की राशि आवंटित की है जो कांग्रेस की यूपीए सरकार की तुलना में ढाई गुना अधिक है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त मुद्रा योजना में 39 हजार करोड़, स्मार्ट सिटी में 960 करोड़, अमृत मिशन के लिए 4900 करोड़, बेंगलुरु मेट्रो के लिए 2617 करोड़, स्वच्छ भारत अभियान के तहत 204 करोड़ रुपये, बसों की खरीद के लिए 239 करोड़ रुपये, स्वायल हेल्थ कार्ड के लिए 31 करोड़ रुपये, Prime Minister कृषि सिंचाई योजना के लिए 600 करोड़ रुपये, रेलवे के विकास के लिए 2197 करोड़ रुपये और सड़कों के निर्माण के लिए लिए लगभग 27,000 करोड़ रुपये उपलब्ध कराये गये हैं लेकिन ये पैसा कर्नाटक की जनता तक नहीं पहुँच रहा क्योंकि भ्रष्टाचारी सिद्धारमैया सरकार केवल राजनीति करना चाहती है, विकास नहीं। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कर्नाटक को इन क्षेत्रों में लगभग 79 हजार करोड़ रुपये दिए हैं, इस तरह Prime Minister मोदी सरकार ने कर्नाटक को विकास के लिए लगभग तीन लाख करोड़ रुपये की राशि दी है। उन्होंने कर्नाटक के मुख्यमंत्री को चुनौती देते हुए कहा कि आप मेरा क्या हिसाब मांगते हैं, कर्नाटक की जनता दो लाख करोड़ रुपये का हिसाब आपसे मांग रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत कर्नाटक में 3.33 लाख करोड़ गरीब माताओं को गैस कनेक्शन दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी द्वारा कर्नाटक के विकास के लिए दिया गया पैसा कर्नाटक के कांग्रेसी नेताओं के भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की अनुदान राशि के साथ-साथ कर्नाटक की सिद्धारमैया सरकार राज्य की जनता का भी अरबों-खरबों रुपये खा गई है।

यह भी देखिये- four wheeler खरीदना हुआ मंहगा, लेने वाले भी सोच रहे है

राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस की सिद्धारमैया सरकार ने कर्नाटक में भ्रष्टाचार के सारे रिकॉर्ड को तोड़ कर रख दिया है। उन्होंने कहा कि क्या किसी आम जनता को कभी 70 लाख रुपये की घड़ी भेंट में मिली है लेकिन इस तरह की भेंट कर्नाटक के मुख्यमंत्री को क्यों मिलती है, ऐसा इसलिए है कि यहाँ के मुख्यमंत्री जनता के पैसे को उद्योगपतियों पर लुटाते हैं। उन्होंने कहा कि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने अर्कावती लेआउट की 50 एकड़ जमीन के लैंड यूजेज को बदल दिया, तीन साल से इसकी रिपोर्ट नहीं आई है, आखिर इसका जिम्मेदार कौन है? उन्होंने कहा कि कांग्रेसी गरीबों की दाल-चावल भी खा जाते हैं, मंत्री के पत्नी लाखों रुपये लेते हुए स्टिंग में पकड़ी जाती हैं, अवैध खनन के कारण कर्नाटक की कांग्रेस सरकार के एक मंत्री को 6 महीने में ही इस्तीफा देना पड़ता है, लाइब्रेरी में सेलरी बढ़ाने के लिए तीन करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी जाती है, सिटी स्कैन/एमआरआई के लगाने का कॉन्ट्रैक्ट सरकार में बैठे नेताओं के रिश्तेदारों को दिया जाता है, अपने परिवार वालों को 150 करोड़ रुपये की पीडीए की जमीन अवैध तरीके से हस्तांतरित कर दिया जाता है, इसके आधुनिकीकरण में 900 करोड़ रुपये का घोटाला होता है, इस तरह से कांग्रेस ने कर्नाटक को बदहाल करके रख दिया है। उन्होंने कहा कि सिद्धारमैया सरकार के मंत्री डीके शिवकुमार के घर रेड पड़ती है, करोड़ों रुपये का कच्चा चिठ्ठा पकड़ा जाता है लेकिन आज भी वे मंत्रिमंडल में बने हुये हैं; मैं पूछना चाहता हूँ कि आखिर क्यों ये लोग अब तक मंत्रिमंडल में बने हुए हैं? उन्होंने कहा कि कर्नाटक में स्टील ब्रिज की मंजूरी के लिए 100 करोड़ रुपये की किस्मत मांगी जाती है, 300 मेगावाट सोलर पावर में भी रिश्वत मांगी जाती है और गोविंदराज की डायरी खोलें तो भ्रष्टाचार का काला चिट्ठा ही सामने आ जाता है। उन्होंने कहा कि सिद्धारमैया सरकार ने राज्य के मछुआरों-किसानों की चिंता किये बगैर ही कर्नाटक के लगभग 1800 से अधिक तालाबों को डिमोडिफाइड कर दिया, आखिर इसकी जवाबदेही किसकी है?

यह भी देखिये- अब आपको बैंकों में मिलेगी फ्री सुविधा, जानिए अब-तक क्या चलता रहा है