Categories
Crime

delhi police getting alert: मिलते रहे अलर्ट फिर भी हाथ बांधे खड़ी रही पुलिस

delhi police getting alert:  खुफिया एजेंसियों ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा शुरू होने से पहले दिल्ली पुलिस को कम से कम छह बार अलर्ट भेजा गया था। भाजपा नेता कपिल मिश्रा के भड़काऊ बयान के दौरान पुलिस को ये अलर्ट भेजे गए थे और इलाके में पुलिस बल की तैनाती बढ़ाने को कहा गया था। लेकिन पुलिस कार्रवाई में नाकाम रही और हिंसा पूरे इलाके में फैल गई।

हिंसा से पहले बढ़ा तनाव

शनिवार रात को जाफराबाद में लगभग 500 महिलाएं नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में सड़क पर धरने पर बैठ गईं थीं। विरोध में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने CAA समर्थकों से रविवार दोपहर तीन बजे मौजपुर चौक पर इकट्ठा होने को आह्वान किया।
मिश्रा तय समय पर चौक पर पहुंचे और समर्थकों की मौजूदगी में पुलिस को चेतावनी दी कि वो तीन दिन के अंदर सड़के खाली कराएं नहीं तो उन्हें खुद सड़कों पर उतरना पड़ेगा।

मिश्रा के जाने के बाद पत्थरबाजी

भाषण देने के बाद कपिल मिश्रा इलाके से चले गए। उनके जाने के बाद CAA समर्थकों और विरोधियों में पत्थरबाजी शुरू हो गई। पहले पत्थरबाजी किसने की, ये अभी तक साफ नहीं है। रविवार को देर शाम तक पत्थरबाजी की खबरें आती रहीं। अगले दिन सोमवार को हिंसा ने बड़ा रूप ले लिया और ये दंगे में बदल गया जो तीन दिन तक चलता रहा। दिल्ली पुलिस के हिंसा रोकने में नाकाम पर गंभीर सवाल उठे हैं।

इस समय भेजा गया पहला अलर्ट

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के अनुसार, स्पेशल ब्रांच और खुफिया इकाई ने वायरलेस रेडियो के जरिए उत्तर-पूर्व जिले के पुलिस अधिकारियों को कई अलर्ट भेजे।
पहला अलर्ट दोपहर 1:22 बजे के बाद भेजा गया जब मिश्रा ने ट्वीट कर लोगों को मौजपुर चौक पर जमा होने को कहा था। दोनों गुटों में टकराव की आशंका को देखते हुए खुफिया इकाई ने स्थानीय पुलिस को इलाके में सतर्कता बढ़ाने को कहा था।

पत्थरबाजी शुरु होने के बाद आए बाकी अलर्ट

जब इलाके में दोनों गुटों के बीच पत्थरबाजी हुई और भीड़ इकट्ठा होने लगी, तब भी स्पेशल पुलिस और खुफिया इकाई की तरफ से पुलिस को कई अलर्ट भेजे गए थे। हालांकि पुलिस ने इन अलर्ट पर किसी भी तरह की लापरवाही बरतने की बात से इनकार किया है।
एक पुलिस अधिकारी ने टाइम्स आॅफ इंडिया से कहा, अलर्ट मिलने के बाद सभी आवश्यक कदम उठाए गए। इसी कारण एक वरिष्ठ अधिकारी मिश्रा के साथ था और उसने ये सुनिश्चित किया कि वो जल्द से जल्द इलाके से बाहर जाएं। इन प्रयासों के बावजूद CAA विरोधियों ने मिश्रा के समूह पर पत्थरबाजी शुरू कर दी।

Categories
Results

दिशा कमेटी की बैठक में सांसद मनोज तिवारी ने कहा लैंडफिल साइट आबादी और नदी से दूर बने

नई दिल्ली, 2 मई। उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद एवं दिशा कमेटी के अध्यक्ष श्री मनोज तिवारी ने केंद्र की योजनाओं के क्रियान्वयन एवं और कार्य प्रगति की समीक्षा के लिए बैठक बुलाई और योजनाओं का ब्यौरा मांगा। बैठक का आयोजन उत्तर पूर्वी दिल्ली के नंदनगरी स्थित जिला अधिकारी कार्यालय में किया गया। बैठक की अध्यक्षता श्री मनोज तिवारी ने और संचालन जिला अधिकारी श्री के. महेश ने किया। बैठक में केंद्र सरकार की योजनाओं के क्रियान्वयन से संबंधित प्रशासनिक अधिकारी एवं कमेटी के सदस्य मौजूद रहे। बैठक में केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के कार्य की प्रगति रिपोर्ट से कमेटी के सदस्यों को अवगत कराया गया एवं भविष्य की योजनाएं तैयार की गई। 

 

 

बैठक में मिड-डे मील, सर्व शिक्षा अभियान, मिशन इंद्रधनुष, आशा वर्कर, स्वच्छ भारत, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ एवं अन्य योजनाओं की प्रगति रिपोर्ट, संबंधित विभाग के अधिकारियों ने पेश की तो शामिल कमेटी के सदस्यों ने और बेहतर तरीके से योजनाओं को प्रभावी रूप से लागू करने के लिए अपने-अपने सुझाव दिए। कमेटी के चेयरमैन और सांसद श्री मनोज तिवारी ने उपस्थित अधिकारियों को निर्देश दिए कि घोंडा गुजरान खादर एवं सोनिया विहार की जमीन पर बनने वाली लैंडफिल को रोकने के लिए उचित कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि लैंडफिल आबादी और नदी से दूर बननी चाहिए। उन्होंने कहा की घोंडा गुजरान खादर एवं सोनिया बिहार की प्रस्तावित लैंडफिल साइट यमुना नदी के अंदर और आबादी के बीच हैं जिससे न सिर्फ पर्यावरण का भारी नुकसान होगा बल्कि एक बड़ी आबादी की सेहत को खतरा उत्पन्न होगा इसलिए किसी भी सूरत में प्रस्तावित स्थानों पर लैंडफिल नहीं बननी चाहिए जिसका उपस्थित सभी सदस्यों ने स्वागत किया।

बैठक में संकल्प लिया गया कि आगामी 1 अगस्त से पूरे जिले में खसरा मुक्ति अभियान चलाया जाएगा जिसके तहत 8 लाख स्कूली बच्चों को इससे जोड़ा जाएगा और उनके मुफ्त टीकाकरण के लिए अभियान चलाया जाएगा। श्री मनोज तिवारी ने अधिकारियों को आदेश दिए कि इस अभियान को जोर-शोर से प्रचारित कर शुरू किया जाए जिससे कि अधिक से अधिक बच्चों को इसका लाभ मिल सके और हमारा क्षेत्र खसरा मुक्त क्षेत्र बन सके। बैठक में विधायक श्री जगदीश प्रधान ने स्वच्छ भारत मिशन को और मजबूत करने पर जोर दिया और डूडा की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाया। कमेटी के सदस्य चैधरी फतेह सिंह ने कहा की समस्याएं बढ़ी है और मैन पावर कम हुई है इसलिए साधनों के साथ-साथ मैन पावर को भी बढ़ाया जाना चाहिए। विधायक कपिल मिश्रा ने स्वच्छ भारत मिशन की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान खड़े किए। सांसद और कमेटी के चेयरमैन श्री मनोज तिवारी ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि कमेटी शीघ्र ही कार्यप्रणाली की जांच करेगी जिसके लिए कार्यक्रम निर्धारित किया जाए। बैठक में कमेटी के सदस्य श्री दत्त शर्मा, डाॅ. यू.के. चैधरी, श्री सुनील राठी, श्रीमती आशा तायल, ए.डी.एम., जिले के सभी एस.डी.एम. और योजनाओं से संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।