Categories
Results

Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 : माध्यमिक शिक्षा बोर्ड राजस्थान ने जारी किए 12वीं परीक्षा के एडमिट कार्ड यहां से करें डाउनलोड

Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 :
RBSE 12th एडमिट कार्ड 2020: राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने ऑफिशियल वेबसाइट पर 12वीं कक्षा के लिए प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं। सीनियर सेकेंडरी परीक्षा यानी बारहवीं की परीक्षा पांच मार्च से प्रारम्भ होने वाली है। जो छात्र-छात्राएं इस साल परीक्षा में बैठेंगे वे प्रधानाचार्य के माध्यम से प्रवेश पत्र बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट rajeduboard.rajasthan.gov.in पर जाकर देख सकते हैं और डाउनलोड कर सकते हैं। वे नीचे दिए लिंक से भी अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

 

Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 :

Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 : बोर्ड सचिव मेघना चौधरी ने बताया कि इस वर्ष सीनियर सेकेंडरी परीक्षा में लगभग 8,65,895 परीक्षार्थी रजिस्टर्ड किए गए हैं। इनमें 8,53,995 परीक्षार्थी नियमित और 11,959 परीक्षार्थी स्वयंपाठी परीक्षार्थी के रूप में परीक्षा में प्रविष्ट होगें। इस वर्ष सीनियर सेकेंडरी कला वर्ग में 5,92,605, वाणिज्य वर्ग में 36,557 विज्ञान वर्ग में 2,04,681 और कृषि वर्ग में 32,052 परीक्षार्थी रजिस्टर्ड किए गए हैं।

Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 :10वीं कक्षा 12 मार्च से शुरू होगी लेकिन उसके प्रवेश पत्र जारी नहीं हुए हैं। 12वीं कक्षा की परीक्षाएं 5 मार्च 2020 से शुरू हो रही हैं। 12वीं कक्षा का पहला पेपर अंग्रेजी विषय का है। जो छात्र-छात्राएं परीक्षाएं में बैठेंगे वे कैलकुलेटर, फोन समेत अन्य कोई इलेक्ट्रॉनिक उपकरण साथ नहीं ले जा सकते। Rajasthan Board of Secondary Education (RBSE) Admit card 2020 :

 

Categories
Results

CBSE Answer Key 2020: सीबीएसई (CBSE) परीक्षा की आंसर की जारी

CBSE Answer Key 2020: सीबीएसई (CBSE) ने असिस्टेंट और अन्य पदों पर हुई भर्ती परीक्षा की आंसर-की (CBSE Answer Key 2020) जारी कर दी है। सीबीएसई भर्ती परीक्षा में जो उम्मीदवार शामिल हुए थे वे आंसर-की सीबीएसई (CBSE Board) की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं।

 

उम्मीदवार आंसर-की में दिए गए किसी सवाल के जवाब पर आपत्ति भी दर्ज कर सकते हैं। उम्मीदवार 7 फरवरी की रात 11:55 तक आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। इस समय के बाद ऑब्जेक्शन का लिंक उपलब्ध नहीं होगा।

ऐसे करें आंसर की डाउनलोड

स्टेप 1: उम्मीदवार सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट cbse.nic.in पर जाएं।
स्टेप 2: वेबसाइट पर दिए गए OBJECTION LINK LIVE – FOR CBSE RECRUITMENT EXAM के लिंक पर क्लिक करें।
स्टेप 3: नया पेज खुलेगा, यहां अपनी यूजर आईडी और पासवर्ड सबमिट कर लॉग इन करें.
स्टेप 4: आंसर-की आपकी स्क्रीन पर आ जाएगी।
स्टेप 5: अब इसे डाउनलोड कर लें।
CBSE में असिस्टेंट सेक्रेटरी, असिस्टेंट सेक्रेटरी IT, एनालिस्ट IT, ग्रुप बी- जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर, ग्रुप सी- सीनियर असिस्टेंट, स्टेनोग्राफर, अकाउंटेंट, जूनियर असिस्टेंट और जूनियर अकाउंटेंट के पदों पर भर्तियां होनी हैं। इन पदों पर भर्ती के लिए परीक्षा 28 जनवरी से 31 जनवरी तक आयोजित की गई थी। भर्ती कुल 357 पदों पर होनी है।

Categories
Results

UP TET Result 2020: आ गया रिजल्ट, पास होने के लिए चाहिए इतने अंक

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा का रिजल्ट 7 फरवरी 2020 को जारी कर दिया जाएगा। आप अपना रिजल्ट ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। परीक्षा का आयोजन 8 जनवरी 2020 को किया गया था। UPTET Result 2020 Kab Aayega:
UPTET Result 2020: यूपीटेट रिजल्ट 2020 की घोषणा 7 फरवरी 2020 यानी शुक्रवार को होगी। इस परीक्षा के लिए 16 लाख से ज्यादा आवेदकों ने आवेदन किया था। परीक्षा का आयोजन 8 जनवरी 2020 को किया गया था। परीक्षा की आंसर की 14 जनवरी को जारी कर दी गई थी जबकि फाइनल आंसर की 31 जनवरी को जारी हुई थी।

अगर आपने यह परीक्षा दी है तो आप अपना रिजल्ट यूपी डीएलएड की ऑफिशियल वेबसाइट updeled.gov.in पर जाकर देख पाएंगे। यह किसी नौकरी की परीक्षा नहीं है बल्कि यह परीक्षा पास करने वाले अभ्यर्थियों को शिक्षक की नौकरी के योग्य बनाती है। इस परीक्षा को पास करने वाले अभ्यर्थी राज्य में शिक्षक के पदों के लिए निकली नौकरी के आवेदन के योग्य होंगे।

क्वालिफाइंग नेचर की है ये परीक्षा

यह केवल क्वालिफाइंग नेचर की परीक्षा है जिसमें सफल होने के लिए सामान्य वर्ग के आवदकों को 60 फीसदी अंक हासिल करने होंगे। यानी आवेदकों को 150 में से 90 अंक क्वलिफाई करने के लिए हासिल करने होंगे। वहीं उत्तर प्रदेश के SC/ST/OBC वर्ग के आवेदकों को परीक्षा में 55 फीसदी अंक हासिल करने होंगे। इन्हें 150 में से 82 अंक पेपर क्वालिफाई करने के लिए हासिल करने होंगे। रिजल्ट फाइनल आंसर की के आधार पर जारी किया जाएगा। पहले इस परीक्षा का आयोजन 22 दिसंबर 2019 को किया जाना था। लेकिन बाद में इसे 5 जनवरी के लिए रीशेड्यूल कर दिया गया था।

इस परीक्षा के तहत दो पेपर्स का आयोजन किया गया था। पेपर 1 उन आवेदकों के लिए था जो कक्षा 1 से कक्षा 5 तक पढ़ाना चाहते हैं वहीं पेपर 2 उन आवेदको के लिए था जो कक्षा 6 से कक्षा 8 तक को पढ़ाना चाहते हैं।

Categories
Results

5वीं बोर्ड परीक्षा से डरे नहीं, योद्धा की तरह करें सामना

राजस्थान में 5वीं बोर्ड परीक्षाओं का टाइम टेबल घोषित होते ही हर घर में मम्मी—पापा बच्चों के पीछे लग गए हैं कि परीक्षा की तैयारी दिन—रात करेंगे तो ही पास हो पाएंगे लेकिन सच्चाई ये नहीं है। चूंकि इन कक्षाओं के विद्यार्थियों की आयु कम होती है, इसलिए उन्हें डराएं नहीं बल्कि भरोसा दिलाएं कि अच्छे नम्बरों से वे अवश्य पास होंगे। परीक्षा की तैयारी वैज्ञानिक आधार पर कराने के इन फार्मूलों को आजमाएं तो वे अपने जिले की मेरिट सूची में भी स्थान बनाने में सफल हो जाएंगे।

 

 

ये हैं वे फार्मूले जिनके दम पर आएगी मेरिट

​विशेषज्ञों का कहना है कि जो विद्यार्थी पूरे साल पढ़ाई करते हैं, उनके मन में भी परीक्षाओं का वक्त नजदीक आते—आते भय उत्पन्न होना शुरू हो जाता है। इसके लिए घर—परिवार का माहौल भी जिम्मेदार है। उनका कहना है कि परिवार के सदस्यों खासकर मम्मी, दादी, बुआ, बड़ी बहनों को चाहिए कि वे हर समय विद्यार्थियों को किताब खोलकर पढ़ने के लिए इस डायलाग के साथ नहीं कहें कि अगर पढ़ाई नहीं की तो फेल हो जाओगे। इससे बच्चों के मन में डर बैठता चला जाता है। बेहतर होगा कि वे बच्चों को उत्साहित करें कि उनकी पढ़ाई पर्याप्त है लेकिन और पढ़ने से उनके अंक अच्छे आएंगे। वे मेरिट में स्थान बना पाएंगे।
विशेषज्ञों का कहना है कि छोटे बच्चों की पड़ोस, रिश्तेदारों के बच्चों से तुलना नहीं करें, इससे बच्चों के मन में एक चिढ़ उत्पन्न होती है जो समय पाकर बढ़ जाती है और वे ढीठ होना शुरू हो जाते हैं।
विशेषज्ञों का कहना है कि इसके स्थान पर बच्चों को परीक्षा की तैयारियों के समय दुलारें, उन्हें विश्वास दिलाएं कि उन्हें परीक्षा में पास होने से कोई नहीं रोक सकता क्योंकि वे पास होने के लिए ही बने हैं।

मासिक टेस्ट के पेपरों में आए प्रश्नों का उत्तर कंठस्थ कर लें

5वीं बोर्ड के पेपर सेटरों का कहना है कि इन क्लासों में पढ़ने वाले बच्चों के कोमल मन को देखते हुए वे पाठ्यपुस्तकों से बाहर जाकर किसी तरह की सामग्री का चयन नहीं करते। वे सिर्फ उन्हीं प्रश्नों को पेपर में स्थान देते हैं जिन्हें बच्चे पूरे साल पढ़ाई के दौरान चाव से याद करते हैं और स्कूलों में होने वाले टेस्टों में भी उन प्रश्नों के उत्तर अच्छे तरीके से लिखते हैं। पेपर सेटरों का कहना है कि 5चीं और 8वीं के पेपरों में स्कूलों में होने वाले मासिक टेस्टों के प्रश्नों का अधिकांश हिस्सा शामिल किया जाता है, सिर्फ उनके शब्द थोड़े से बदल दिए जाते हैं। इसलिए परीक्षार्थियों को चाहिए कि वे अपने मासिक टेस्टों के पेपरों को सुरक्षित रखें और बोर्ड परीक्षा के दौरान उनके उत्तर कंठस्थ कर लें। इसके बाद उन्हें पास होने से भगवान भी नहीं रोक सकते। तो फिर आज के लिए इतना ही, शेष अगली खबर में: पढ़ते रहिए मोबाइलपेन्यूजडॉट काम

Categories
Results

8वीं बोर्ड परीक्षा की ऐसे करें तैयारी, भगवान भी पास होने से नहीं रोक सकेगा

राजस्थान में 8वीं और 5वीं बोर्ड परीक्षाओं का टाइम टेबल घोषित हो गया है। अधिकतर विद्या​र्थी परीक्षा की तैयारी में जुटे हुए हैं, लेकिन फिर भी उनके मन में परीक्षाओं को लेकर एक अज्ञात भय बना रहता है। जबकि उनकी तैयारी उत्कृष्ट स्तर की होती है और उसके बल पर वे परीक्षा को आसानी से पास भी कर जाएंगे। चूंकि इन कक्षाओं के विद्यार्थियों की आयु कम होती है, इसलिए वे अपनी पूरी तैयारी के बावजूद निश्चिंत नहीं हो पाते हैं कि वे अच्छे अंकों से पास हो जाएंगे।

हम उनके इसी भय को समाप्त करने के लिए परीक्षा की तैयारी वैज्ञानिक आधार पर कराने के वे फार्मूले लाएं हैं जिनके बल पर हर साल हजारों परीक्षार्थी न सिर्फ अच्छे नम्बरों से पास होते हैं बल्कि कई तो अपने जिले की मेरिट सूची में भी स्थान बनाने में सफल हो जाते हैं।
हमारे ये फार्मूले उन अध्यापकों ने बनाए हैं जो पिछले तीस साल से विद्यार्थियों को पढ़ाने के साथ ही उनकी परीक्षाएं लेते रहे हैं। इनमें जिलों की डाइट के विशेषज्ञों के साथ ही स्कूलों के वे पेपर सेटर भी हैं जो परीक्षा का पेपर सेट करते हैं।

तो विशेषज्ञों के उन फार्मूलों को

अधिकतर ​विशेषज्ञों का कहना है कि जो विद्यार्थी पूरे साल पढ़ाई करते हैं, उनके मन में भी परीक्षाओं का वक्त नजदीक आते—आते भय उत्पन्न होना शुरू हो जाता है। इसके लिए घर—परिवार का माहौल भी जिम्मेदार है। उनका कहना है कि परिवार के सदस्यों खासकर मम्मी, दादी, बुआ, बड़ी बहनों को चाहिए कि वे हर समय विद्यार्थियों को किताब खोलकर पढ़ने के लिए इस डायलाग के साथ नहीं कहें कि अगर पढ़ाई नहीं की तो फेल हो जाओगे। इससे बच्चों के मन में डर बैठता चला जाता है। बेहतर होगा कि वे बच्चों को उत्साहित करें कि उनकी पढ़ाई पर्याप्त है लेकिन और पढ़ने से उनके अंक अच्छे आएंगे। वे मेरिट में स्थान बना पाएंगे।
विशेषज्ञों का कहना है कि छोटे बच्चों की पड़ोस, रिश्तेदारों के बच्चों से तुलना नहीं करें, इससे बच्चों के मन में एक चिढ़ उत्पन्न होती है जो समय पाकर बढ़ जाती है और वे ढीठ होना शुरू हो जाते हैं।
विशेषज्ञों का कहना है कि इसके स्थान पर बच्चों को परीक्षा की तैयारियों के समय दुलारें, उन्हें विश्वास दिलाएं कि उन्हें परीक्षा में पास होने से कोई नहीं रोक सकता क्योंकि वे पास होने के लिए ही बने हैं।

पेपर सेटरों का ये है फार्मूला

5वीं और 8वीं बोर्ड के पेपर सेटरों का कहना है कि इन क्लासों में पढ़ने वाले बच्चों के कोमल मन को देखते हुए वे पाठ्यपुस्तकों से बाहर जाकर किसी तरह की सामग्री का चयन नहीं करते। वे सिर्फ उन्हीं प्रश्नों को पेपर में स्थान देते हैं जिन्हें बच्चे पूरे साल पढ़ाई के दौरान चाव से याद करते हैं और स्कूलों में होने वाले टेस्टों में भी उन प्रश्नों के उत्तर अच्छे तरीके से लिखते हैं। पेपर सेटरों का कहना है कि 5चीं और 8वीं के पेपरों में स्कूलों में होने वाले मासिक टेस्टों के प्रश्नों का अधिकांश हिस्सा शामिल किया जाता है, सिर्फ उनके शब्द थोड़े से बदल दिए जाते हैं। इसलिए परीक्षार्थियों को चाहिए कि वे अपने मासिक टेस्टों के पेपरों को सुरक्षित रखें और बोर्ड परीक्षा के दौरान उनके उत्तर कंठस्थ कर लें। इसके बाद उन्हें पास होने से भगवान भी नहीं रोक सकते। तो फिर आज के लिए इतना ही, शेष अगली खबर में: पढ़ते रहिए मोबाइलपेन्यूजडॉट काम

Categories
National Tech

Rajasthan Board Result 2018 : आठवीं बोर्ड परीक्षा रिजल्ट 2018

जयपुर। आठवीं बोर्ड का परीक्षा रिजल्ट घोषित होने को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई हैै। आरबीएसई बोर्ड 8वीं कक्षा का परीक्षा परिणाम को लेकर बोर्ड की चौतरफा आलोचना हो रही थी। कारण था कि देश के अन्य उत्तर भारत के अन्य राज्यों के बोर्ड रिजल्ट पहले ही घोषित हो चुके थे। अब जा कर राजस्थान बोर्ड जागा है।

Rajasthan Board results
Rajasthan Board results

 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो आठवीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम मई माह में ही जारी किया जा सकता है। इससे पहले खबर थी कि राजस्थान बोर्ड बाहरवीं परीक्षा का परिणाम 12 मई को घोषित किया जाएगा। इसे देखते हुए यह संभावना और प्रबल हो गई है कि आठवीं का बोर्ड रिजल्ट मई में ही जारी किया जा सकता है।

दूसरी ओर खबर है कि राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की दसवीं परीक्षा का परिणाम भी 20 मई तक घोषित किया जा सकता है। कुल मिलाकर तीनों परीक्षाओं के रिजल्ट मई माह में ही जारी हो सकते हैं।

ऐसे चैक करें राजस्थान बोर्ड के परीक्षा परिणाम:

1. सबसे पहले राजस्थान बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
2. rajeduboard.rajasthan.gov.in
3. इसके बाद वेबसाइट के होम पेज पर जाएं।
4. यहां आपको आठवीं, दसवीं और बाहरवीं के परीक्षा परिणाम के लिंक दिखाई देंगे।
5. जिस भी परीक्षा का रिजल्ट देखना हो उसे क्लिक करें।
6. इसके बाद पेज खुलेगा उसमें अपनी डिटेल भरें।
7. रोल नंबर या पूरा नाम लिखने पर आपको अपनी मार्कशीट दिखाई देगी।
8. इसका आप प्रिंट आउट ले लें।
9. अमूमन राजस्थान बोर्ड की साइट पर ट्राफिक रिजल्ट के दौरान ज्यादा होता है, हो सकता है इस​ दिन ये साइट लोड होने में समस्या पैदा करे।
10. ऐसे में आप रिजल्ट की अन्य साइट्स पर जा सकते हैं। इनमें इंडिया रिजल्ट डॉट कॉम को देख सकते हैं। अन्य साइट्स भी मौजूद है जहां रिजल्ट​ दिखाए जाएंगे।

1.यहां देखिये परिणाम 

2.यहां देखिये परिणाम
Categories
National Tech

आठवीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम 2018 देखिये परिणाम

जयपुर। आठवीं बोर्ड रिजल्ट का इंतजार अब खत्म होने वाला है। राजस्थान शिक्षा विभाग ने कक्षा 5वीं के बोर्ड के परिणामों की घोषणा कर दी है। इससे यह संभावना प्रबल हो गई है कि आठवीें का परीक्षा परिणाम जल्द आने वाला है।

8 class board results
8 class board results

 

हालांकि आमतौर पर आठवीं बोर्ड एक्जाम का रिजल्ट जून माह में आता है। इस बार भी कोई जल्दबाजी दिखाई नहीं दे रही है। इस बार के रिजल्ट ग्रेडिंग सिस्टम से घोषित किए जाएंगे। इसमें ए प्लस, ए, बी, सी और डी ग्रेड दी जाएंगी। ए प्लस शानदार परिणाम का परिचायक होगा जबकि डी ग्रेड को सबसे निम्न स्तर का माना जााएगा। इस तरह किसी भी परिक्षार्थी को फेल नहीं किया जाएगा।

दूसरी ओर कक्षा 8 की परीक्षा दे चुके परीक्षार्थियों ने कक्षा 9 की पढ़ाई शुरू कर दी हैै। ऐसे बच्चों को आगे का कोर्स करवाया जा रहा है क्योंकि उन बच्चों को पास तो करना ही है। स्कूलों मेंं भी दूसरी स्कूलों से आ रहे बच्चों को अस्थाई तौर पर एडमिशन दिया जा रहा है। आधिकारिक रूप से इनका एडिमशन फार्म जुलाई में ही भरा जाएगा।

शिक्षा विभाग के अफसरों ने बताया कि पहली से आठवीं तक में फेल का सिस्टम नहीं है। विद्यार्थियों को ए, बी, सी व डी ग्रेड मिलता है। ए ग्रेड यानी टॉप। बी ग्रेड यानी अच्छा। 46 से लेकर 70 फीसदी तक अंक इस ग्रेड में आते हैं। इसी तरह सी ग्रेड में 33 से 45 फीसदी तक अंक रहते हैं। इससे कम अंक आने पर विद्यार्थियों को डी ग्रेड मिलता है। इस ग्रेड में आने वाले विद्यार्थियों के लिए फिर स्पेशल क्लास लगती है।

इस बार पूरे बच्चों का कंप्यूटराइज्ड डाटा तैयार किया जा रहा है। इसका फायदा यह होगा कि बाद में यदि कोई पांचवीं-आठवीं की डुप्लीकेट अंकसूची के लिए आवेदन करेगा तो उसे जल्द ही उपलब्ध करा दिया जाएगा। गौरतलब है कि रिजल्ट के बाद विद्यार्थियों को एक सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा। इसके तहत आठवीं के बच्चों को प्रारंभिक शिक्षा पूर्णता और पांचवीं के बच्चों को प्राथमिक शिक्षा पूर्णता से संबंधित सर्टिफिकेट मिलेगा।

1.यहां देखिये परिणाम 

2.यहां देखिये परिणाम
Categories
Off Beat

आठवीं बोर्ड परीक्षा ​परिणाम रोल नंबर से 2018

आठवीं कक्षा का परिणाम, बोर्ड के एग्जाम होने के तुरंत बाद में जारी किया जायेगा हालाँकि अभी तक परिणाम को लेकर प्रारम्भिक शिक्षा बोर्ड बीकानेर ने किसी भी प्रकार का सुझाव या निर्णंय नहीं दिया है। अभी तक बोर्ड ने केवल परीक्षा का शेड्यूल जारी किया हैं। परीक्षा के प्रवेश पत्र भी जारी कर दिए हैं। इस सत्र में आठवीं में लगभग 20 हजार छात्र पंजीकृत हुए हैं।

8th board

यह भी देखिये- मुंबई को दिल्ली से रहना होगा सावधान, जानिए कारण

आठवीं बोर्ड का परिणाम जिला स्तर पर जारी किया जायेगा। सभी जिलों के केंद्र अलग-अलग होंगे। छात्र रिजल्ट नाम या रोल नंबर से देख सकते हैं तथा रिजल्ट की नेट मार्कशीट भी निकल सकते हैं।

यह भी देखिये- किस्तानी गोलाबारी से हुए नुकसान की भरपाई करेगा केंद्र

अंग्रेजी और हिंदी- उत्तर पुस्तिका में स्पष्ट लिखावट,छोटे वाक्यों का प्रयोग,प्रश्नपत्र के अनुसार निर्देशों का पालन करते हुए शब्द सीमा में उत्तर लेखन, वर्तनी (स्पेलिंग) की अशुद्धियाँ नहीं होना आदि से एग्जामिनर पर अच्छा इम्प्रेशन पड़ता है और नम्बर देने में वह कंजूसी नहीं करता। काम्प्रिहेंशन(अनुच्छेद) से सम्बंधित प्रश्न करने से पहले दिए गए पैराग्राफ को अच्छी तरह से पढ़ लेना चाहिए और साथ-साथ प्रश्नों के अनुसार संभावित उत्तर को रेखांकित करते रहना चाहिए। इससे उत्तर लेखन में समय की बचत होती है। फार्मेट को ध्यान में रखकर उत्तर लिखें।

यह भी देखिये-स्किल डवलपमेंट ट्रेनिंग सेंटर्स की पर्याप्त मॉनिटरिंग की जाए-मुख्यमंत्री

विद्यार्थी परिणाम के समय बहुत परेशान होते हैं। अक्सर परिणाम के समय परिणाम की साइट व्यस्त होती हैं। इसलिए आप अगर अपना रिजल्ट रोल नंबर से ओपन नहीं हो रहा हैं तो आप अपने नाम से भी परिणाम देख सकते हैं। इसलिए सरकार ने नाम और रोल नंबर दोनों की सुविधा विद्यार्थियों को दी जा रही हैं।इस साल बोर्ड परीक्षा जल्दी आने की सम्भावना बताई जा रही हैं।

यह भी देखिये- महिला कांग्रेस ने ‘मैं साहस हूं’ कार्यक्रम आयोजित किया