Categories
Entertainment

बॉलीवुड को लगा एक और झटक, Kanika Kapoor, मोरानी फैमिली के बाद इस एक्टर को हुआ corona

मुंबइ । बॉलीवुड के जाने माने चरित्र अभिनेता किरण कुमार कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं।कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक के बाद एक कई कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। लॉकडाउन के बावजूद इस जानलेवा वायरस के बढ़ते मामलों ने सभी को चिंता में डाल दिया है। बताया जा रहा है कि 14 मई को किरण कुमार कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। जिसके बाद उन्होंने खुद को घर में ही क्वारंटाइन कर लिया। उन्होंने अपने परिवार वालों से भी दूरी बना ली और एक फ्लोर पर ही खुद को सीमित कर लिया, वो 10 दिनों से क्वारंटाइन में हैं और उनका उनका अगला कोविड-19 टेस्ट एक-दो दिन में होगा।

बताया जा रहा है कि किरण कुमार मेंं कोरोना के कोई लक्ष्ण नहीं हैं, फिर भी उनके कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर उनके परिवार वाले भी दंग रह गए।गौरतलब है कि किरण कुमार के पूर्व बॉलीवुड सेलेटिब्रीटीज में कनिका कपूर, पूरब कोहली, निर्माता करीम मोरानी और उनकी दो बेटी जोआ मोरानी ,शाजिया मोरानी भी इससे प्रभावित हो चुके हैं और इस जंग में जीत भी चुके हैं।

Categories
Off Beat

रक्तदान के लिए जागरूकता पैदा करने भ्रमण पर निकले है किरण कुमार

महज सात वर्ष की आयु में मां की कैंसर से हुई मौत के बाद संघर्ष से जनसेवा के लिए प्रेरित दिल्ली के किरण कुमार वर्मा लोगो को रक्तदान के लिए जागरूक करने के लिए भ्रमण पर निकले है। एक निजी विश्वविद्यालय की नौकरी छोड़कर रक्तदान के प्रति लोगों मे जागरुकता पैदा करने के लिए श्री वर्मा ने गत 26 जनवरी को श्रीनगर के लाल चौक से अपनी भ्रमण यात्रा शुरू की थी और अब तक जम्मू-कश्मीर, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, दमन, दादरा नगर हवेली, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, मध्यप्रदेश की यात्रा पूरी कर चुके है।

Blood donation
Blood donation

 

इस भ्रमण के दौरान छत्तीसगढ़ पहुंचे किरण कुमार ने यूनीवार्ता को बताया कि वह ओडिशा से पश्चिम बंगाल होते हुए उत्तर पूर्व के राज्यों में जायेंगे और अपनी यात्रा का समापन विश्व रक्तदान दिवस 14 जून को नई दिल्ली में करेंगे।उन्होने बताया कि वह लगभग आठ हजार किलोमीटर की यात्रा कर चुके है।इसमें लगभग तीन हजार किलोमाटर पद यात्रा भी की है।उन्होने बताया कि वह भूटान एवं नेपाल की भी यात्रा करेंगे।

उन्होने बताया कि वह अब तक कॉलेजों, विश्वविद्यालयों, मॉल, रेस्तरां, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड आदि जैसी जगहों पर लोगों से मिलकर उऩ्हे रक्तदान के लिए जागरूक करने का प्रयास कर रहे है।उन्होने कहा कि लोग उनकी बातों को सुन रहे है,और रक्तदान करने का विश्वास भी दिला रहे है।नाको के एक सर्वेक्षण का हवाला देते हुए उन्होने कहा कि रक्त की कमी के कारण हर दिन भारत में 12 हजार से ज्यादा लोगो की मौत हो जाती है।

वर्मा ने कहा कि हमारा लक्ष्य कम से कम 10 लोगों को हर किलोमीटर पर प्रोत्साहित करना है ताकि वे अपने जीवन में कम से कम एक बार तो रक्त दान कर सकें।उन्होने कहा कि सिम्पली ब्लड ऐप बनाया गया है,पिछले एक साल में 11 देशों में इस ऐप ने 2,000 से ज्यादा संभावित जीवन बचाए हैं।