Categories
Crime

फेसबुक के जरिए असम से फंसा कर गंगानगर लाया फिर दोस्तों के साथ कई रात किया सामूहिक बलात्कार

राजस्थान के चूरू में असम की एक युवती को होटल में बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। असम में चंदनपुर में बारापेटा रोड निवासी युवती ने चुरु पुलिस अधीक्षक के सामने आपबीती बताते हुए इसकी रिपोर्ट दी। रिपोर्ट के आधार पर चुरू जिले में राजगढ़ थाना क्षेत्र में गांव सेऊआ निवासी आनंद तथा महेंद्र गोस्वामी पर महिला थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

पुलिस के अनुसार पीड़िता ने बताया है कि फेसबुक पर हुई बातचीत के बाद आनंद ने उसे अपनी बातों में ले लिया। उससे शादी करने की बात करने लगा। आनंद ने उसे बताया कि वह विवाहित है और उसके साथ शादी कर लेगा। आनंद के बुलाने पर वह 22 अक्टूबर को चुरू आ गई। आनंद ने उसे एक होटल में ठहराया। उसके साथ महेंद्र गोस्वामी भी था। पीड़िता का आरोप है कि 22-23 अक्टूबर की रात लगभग एक बजे आनंद ने शादी का वायदा कर उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध बना लिए। इसके बाद 28 अक्टूबर तक आनंद और महेंद्र ने इसी होटल में उसे डरा धमका कर रखा कि यहां पर उसका कोई नहीं है। उसकी कहीं कोई सुनवाई नहीं होगी। यह डर दिखाकर दोनों उसके साथ दुष्कर्म करते रहे। बाद में उसे धमकी देकर छोड़ दिया।

पुलिस ने बताया कि मंगलवार रात को इन दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 376-डी के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया, जिसकी जांच वृत्ताधिकारी सुखविंदरपाल सिंह कर रहे हैं। पीड़िता का मेडिकल चेकअप कराया जा रहा है। पीड़िता विवाहित है और एक बच्चे की मां है। उसकी एक बहन सेऊआ गांव में रहती है।

 

Categories
National Tech

Big News: 60 लाख लोगों के मोबाइल में सेव प्राइवेट फोटोज लीक, फेसबुक से हुई गलती

मोबाइल फोन पर फेसबुक चलाने वालों के लिए ये चौंकाने वाली खबर हो सकती है। जानकारी के अनुसार फेसबुक एप के जरिए करीब 60 लाख 80 हजार लोगों की प्राइवेट फोटोज लीक हो गई है। ये फोटोज अब तक करीब 1500 से ज्यादा थर्ड पार्टी एप तक पहुंच गई है। इस गंभीर चूक पर फेसबुक ने माफी भी मांग ली है।

आपको बता दें कि फेसबुक एप से आप मोबाइल से अपनी फोटोज को शेयर कर सकते हैं। इससे ये सीधे आपके अकाउंट पर दिखने लगती हैं। इसी फीचर के चलते 60 लाख से ज्यादा लोगों के ऐसे फोटोज लीक हो गए हैं जो अपलोड नहीं किए गए थे।

कौन से हैं ये फोटोज
फेसबुक स्टोरी, फेसबुक मार्केटप्लेस साफ्टवेयर पर ये फोटोज यूजर्स ने अपलोड किए। ये वो फोटोज हैं जो आपने केवल अपलोड की हों लेकिन शेयर नहीं की हों। इसे समझने के लिए एक उदाहरण लिया जा सकता है। मान लीजिए आप अपनी कोई फोटो फेसबुक पर शेयर करना चाहते हैं। आप फेसबुक ऐप पर ​गए और पोस्ट में फोटो को अपलोड करने लगे। बीच में ही आपको आपका बॉस बुला लेता है। आप तुरंत जाते हैं। इसके बाद आप मोबाइल पर कोई और काम करने लगते हैं और फोटो अपलोड होकर रह जाती है। आपने इसे शेयर नहीं किया है। ऐसे फोटोज लीक हो गए हैं।

लीक होने से क्या है नुकसान

फेसबुुक से लीक हुए इन फोटोज से किसी को क्या खतरा हो सकता है। खतरा ये हो सकता है कि आपकी फोटो का दुरुपयोग 1500 से भी ज्यादा एप कर सकते हैं। ये फोटोज उन तक पहुंच गए हैं। गंदी साइट्स, प्रलोभन देने वाले विज्ञापनों आदि में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। आपकी फेसबुक आईडी को हैक करने में इन फोटोज की मदद ली जा सकती है। हालांकि आपकी फोटो का इस्तेमाल तभी हो पाएगा जब हैकर्स के किसी मैसेज का गलती से जवाब दे दें या उनके कहे अनुसार फोन में बदलाव कर दें।

फेसबुक ने मांगी माफी
इस गलती पर फेसबुक की नजर तो पड़ी लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी। जब मामला सामने आया तब तक लीक हुए फोटोज सैंकड़ों एप्स तक पहुंच गए। फेसबुक ने इसके लिए माफी मांगी है। फेसबुक उन हैकर्स से बात कर रहा है जिन्होंने इस काम को अंजाम दिया है। उनसे फोटोज वापस लेने या उनका दुरुपयोग नहीं करें, इसकी कोशिश की जा रही है। साथ ही जल्द ही फेसबुक ने इस गलती को सुधारने के लिए नया अपडेट लांच करने की बात कही है।

फेसबुक का दावा है कि ये फोटोज 13 सितंबर से 25 सितंबर 2018 के बीच लीक हुई हैं। कंपनी के लिखे नए ब्लॉग में बताया गया है कि फेसबुक बिना शेयर हुए अपलोड फोटोज को केवल 3 दिन के लिए अपने डाटा में रखता है।

Categories
National

फेसबुक, ट्विटर ने ईरान के दुष्प्रचार वाले पृष्ठों को किया डिलीट

सैन फ्रांसिस्को। फेसबुक और ट्विटर ने लगभग 300 खातों को हटा दिया। इनमें से अधिकांशत ईरान में बनाए गए खातें थे जिस पर ‘अनौपचारिक व्यवहार’ का प्रचलन हो रहा था।

Facebook

सोशल मीडिया कंपनियों ने साइबर सुरक्षा से जुड़ी हुई कंपनी फायर आई की की गुप्त सूचना पर यह कार्रवाई की। फायर आई ने बताया था कि इन खातों से ईरान के दुष्प्रचार को बढ़ावा दिया जा रहा है जिसमें ‘सऊदी विरोधी, इजरायल विरोधी और फिलिस्तीनी समर्थक विषय’ शामिल हैं।

साइबर सुरक्षा नीति के प्रमुख नथनील ग्लेशर ने फेसबुक पर कहा, “हमने अप्रमाणिक व्यवहार संचालित करने को लेकर ईरान में बनाए गए 652 पृष्ठों, समूह और खातों को हटा दिए हैं और जिसके लक्ष्य पर पश्चिम एशिया, लैटिन अमेरिका, ब्रिटेन और अमेरिका के लोग थे।”
ट्विटर ने इसे ‘समेकित चालबाजी ’ प्रयास करार दिया है।

[divider style=”dashed” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज


 

Categories
Crime

63 साल के इस बुजुर्ग की हैं 5 गर्लफ्रेंड, उनको खुश करने के लिए करता था ये काम

उत्तरी दिल्ली में कुछ ऐसा हुआ जिसने हर किसी को हैरान कर दिया. एक शख्स अपनी 5 गर्लफ्रेंड को खुश करने के लिए चोरी किया करता था. आपको जानकर हैरानी होगी. जिस शख्स की 5 गर्लफ्रेंड हैं उसकी उम्र 63 साल है. उत्तरी दिल्ली पुलिस ने 63 साल के एक बुज़ुर्ग को चोरी करने के आरोप में गिरफ्तार किया है,

crime
crime

 

खास बात ये है की उसकी 5 गर्लफ्रैंड हैं और उन्हीं गर्लफ्रैंड को खुश करने के लिए वो सालों से चोरी कर रहा है, उसके खिलाफ 20 केस दर्ज हैं उत्तरी दिल्ली की डीसीपी नूपुर प्रसाद के मुताबिक आरोपी 28 जुलाई को सराय रोहिल्ला इंडस्ट्रियल एरिया में एक फैक्ट्री में सेंध लगाते समय सीसीटीवी में कैद हो गया. उसके बाद ही आरोपी को गिरफ्तार किया.

आरोपी का नाम बंधु सिंह है, बंधु आनंद पर्वत का रहने वाला है, उसने पुलिस पूछताछ में बताया है कि वह अपनी प्रेमिकाओं के खर्चे उठाने के लिए चोरी करता रहा है. पूछताछ में उसने बताया कि उसकी 5 प्रेमिकाएं हैं और उनको महंगे गिफ्ट देने के लिए वो चोरियों को अंजाम दे रहा था, उससे 2 लैपटॉप, 1 एलईडी और 5 हजार रुपये रिकवर हुए हैं.

[divider style=”dotted” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

सत्ताहीन कांग्रेस हताश है : वरिष्ठ नेता अरुण जेटली

वित्त मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली ने कभी भाजपा के साथ रह चुके क्षेत्रीय राजनीति दलों के वर्तमान में कांग्रेस के साथ जाने पर सवाल उठाते हुये कहा कि सत्ताहीन कांग्रेस हताश है और भारतीय राजनीति में कभी एकाधिकार रखने वाली यह पार्टी अब हाशिये पर जा रही है। जेटली ने मोदी सरकार के चार वर्ष के कार्यकाल पूरा हाेने पर फेसबुक पर लिखा है

Arun Jaitley
Arun Jaitley

 

कि कांग्रेस की राजनीतिक स्थिति अब मुख्यधारा की राजनीतिक पार्टी वाली नहीं है बल्कि वह हाशिये वाले संगठन की तरह का काम करने लगी है। हाशिये पर रहने वाले संगठन के कभी सत्ता में आने की उम्मीद नहीं होती है। वह सिर्फ क्षेत्रीय दलों के समर्थक बनकर रह जाता है। राज्य स्तरीय क्षेत्रीय दलों ने यह समझ चुके हैं कि हाशिये पर जा रही कांग्रेस उसके कनिष्ठ साझेदार है या आंशिक समर्थक हो सकती है। उन्होंने लिखा है कि इसका उदाहरण कर्नाटक में देखने को मिला है।

एक क्षेत्रीय दल जिसका कुछ जिलों में ही जनाधार है कांग्रेस से मुख्यमंत्री का पद हथिया लिया है और कांग्रेस ने स्वयं का उसके आगे समर्पण कर दिया है। कांग्रेस मोलभाव करने की अपनी क्षमता भी खो चुकी है। इसकी वजह से कर्नाटक में जो हारे हुये थे आज वे जीतने का स्वांग कर रहे हैं। वरिष्ठ भाजपा नेता लिखा है कि पिछले कुछ दिनों में ‘अवास्तविक विकल्प’ पर चर्चा हुयी है।हताश राजनीतिक दलों के एक समूह ने गठबंधन बनाने का वादा कर रहे हैं।

उनमें से कुछ के नेता तुनकमिजाज है तो कुछ अन्य समय समय पर अपनी विचारधारा बदतले रहे हैं। उनमें से अधिकांश जैसे तृणमूल कांग्रेस, द्रमुक, तेलुगु देशम पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, और जनता दल यूनाइटेड है जो कभी भारतीय जनता पार्टी के सत्ता रह चुके हैं।उन्होंने कहा कि ये दल लगातार अपना राजनीति सहयोगी बदलते हैं।ये दल भाजपा का यह कहते हुये समर्थन किया था कि यह राष्ट्रीय हित में है और उसके बाद धर्मनिरपेक्षता के नाम पर विरोध करने लगे।ये विचाराधारा बदलने वाले राजनीतिक दल हैं।

उनके रिकार्ड में स्थिर राजनीति है ही नहीं। उनमें से कुछ का का प्रशासन का रिकार्ड भी संदेहात्मक है। कुछ नेता स्वतंत्र विचारों वाले हैं और कुछ पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं तो कुछ सजायाफ्ता और कुछ पर आरोपी हैं।जेटली ने लिखा कि कुछ क्षेत्रीय दल सिर्फ कुछ जिलाें तक सीमित है या कुछ जाति विशेष तक भारत जैसे विशाल देश पर गठबंधन में सत्ता करना संभव है लेकिन गठबंधन का नेतृत्वकर्ता स्थिर दल होना चाहिए जो बड़ा दल हो , उसकी वैचारिक स्थिति स्पष्ट हो और वह ईमानदार शासन देने वाला हो।एक संघीय माेर्चा का विचार असफल है।

चौधरी चरण सिंह और चंद्रशेखर तथा वर्ष 1996 से 98 के दौरान संयुक्त मोर्चा गठबंधन के कार्यकाल में ऐसा प्रयोग किया जा चुका है। इस तरह के गठबंधन में मतभेद होते ही है और संतुलन बनाये रखना मुश्किल हो जाता है। 1996-98 का कार्यकाल शासन की दृष्टि से सबसे खराब रहा है। वर्तमान का आकांक्षी भारत इस तरह के विचार को कभी भी स्वीकार नहीं करेगा जो एक के बाद एक असफल रहा है।

उन्होंने कहा कि इतिहास सबक सिखाता है। सशक्त लोकतंत्र वाला आकांक्षी समाज अराजकता नहीं आने देगा। एक सशक्त राष्ट्र और सुशासन की चाहत रखने वाले अराजकता से दूर रहते हैं। इस वर्ष राजनीतिक चर्चा का एजेंडा प्रधानमंत्री मोदी बनाम अराजक गठबंधन होगा।वर्ष 2014 के चुनाव से यह स्थापित हो चुका है कि जब देश के भविष्य के संबंध में निर्णय लेना होगा तो न्यू इंडिया की रासायनिकी, गठजोड़ों के अंक गणित पर भारी पड़ेगी।

Categories
Tech

अब आपकी फेसबुक का डाटा नहीं होगा लीक, उपयोग कीजिये फेसबुक का ये फीचर

फेसबुक डाटा लीक मामले के बाद फेसबुक की सीईओ मार्क जुकरबर्ग भी एक बार सदमे में आ गये। सूत्रों के मुताबिक कई लोगों डाटा लीक मामले के बाद फेसबुक से अपना अकाउंट डिलीट कर दिया हैं। जानकारी के अनुसार आपको बता दें की फेसबुक डाटा लीक मामले में कैंब्रिज एनालिटिका को दोषी माना गया, ख़बरों के मुताबिक कैंब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक के डाटा का गत इस्तेमाल किया था।

Facebook questions

यह भी देखिये-बाबाओं को राज्यमंत्री दर्जे पर बोले शिवराज, हर श्रेणी को जोड़ने का प्रयत्न

फेसबुक का इस्तेमाल करने वाले लोगों भरमार हैं। फेसबुक पर लॉग करने से पहले ही थर्ड पार्टी के ऐप्प बहुत सारे मिल जाते हैं इन ऐप्प को ये भी इजाजत मिल जाती हैं की आप इन डाटा का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें की फेसबुक पर ये थर्ड पार्टी के ऐप्प को हटा दिया जाये तो आपका फेसबुक डाटा सुरक्षित रहता हैं। इसके लिए फेसबुक ने के तोड़ निकला हैं। अब इन थर्ड ऐप्प को हटाने के लिए फेसबुक ने एक नये फीचर की शुरुआत की हैं, जानकारी के अनुसार आपको बता दें की फेसबुक ने इन प्रकार के फीचर की पहले भी शुरुआत की थी। अब इस नये फीचर के जरिये इन थर्ड पार्टी के ऐप्प को एक बार हटाते हैं तो इसका ये मतलब होता हैं की आप अपना फेसबुक में जो भी आपके डाटा है उसको आप फेसबुक के अलावा किसी और एप्लिकेशन के साथ शेयर नहीं करना चाहते हैं। ऐसा करने के बाद फेसबुक आपके डाटा किसी और ऐप्प के साथ करना बंद कर देगा।

यह भी देखिये-पत्र से हुआ खुलासा, सजा होते ही फांसी पर झूलने को बेताब हो गए थे भगत सिंह

इस फीचर को इस्तेमाल करने के बारे आपको बताते हैं, थर्ड पार्टी ऐप्प को हटाने के लिए आपको फेसबुक की सेटिंग में एक ऐप्प का ऑप्शन दिखेगा इसको क्लिक करते ही आपको वो सारे ऐप्प दिखेंगे जो फेसबुक के साथ लिंक हैं। इन ऐप्प को सलेक्ट करने के बाद आपसे पूछा जायेगा की अभी तक अपने जो भी पोस्ट की उसे डिलीट करें या नहीं। इनको हटाते समय आपको एक मेसेज दिखेगा, जिसमे ये आपसे पूछेगा की अगर आप ऐप्स को हटाते हैं तो वो खुद के पास से आपका अकाउंट और ऐक्टिविटी डिलीट कर सकते हैं।

यह भी देखिये-अब जियो दे रहा मात्र 251 रुपये में 102 जीबी डेटा, जानिए प्लान

Categories
Tech

कैंब्रिज एनालिटिका ने 8.7 करोड़ लोगों के डाटा का किया दुरुपयोग: फेसबुक

सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक ने स्वीकार किया कि ब्रिटिश राजनीतिक कंसल्टेंसी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने आठ करोड़ 70 लाख से अधिक फेसबुक उपयोगकर्ताओं के निजी डाटा का गलत इस्तेमाल किया।

Facebook logo
Facebook logohttp://www.uniindia.com/cms/gall_content/2018/4/2018_4$largeimg05_Apr_2018_090635470.jpg

 

फेसबुक के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी माइक स्क्रोफर ने विभिन्न मीडिया समूहों की ओर से किये जा रहे दावे से अधिक इस संख्या की जानकारी अपने कॉर्पाेरेट ब्लॉग पोस्ट पर देते हुए माना कि आठ करोड़ 70 लाख लोगों की जानकारियाँ कैम्ब्रिज एनालिटिका के साथ ग़लत तरीके से साझा की गयी।

उन्होंने बताया कि कंपनी उपयोगकर्ताओं के निजी डाटा पर अधिक नियंत्रण के लिए कड़े कदम उठा रही है। कंपनी तीसरे पक्ष के एप डेवलपर्स के लिए उपलब्ध व्यक्तिगत डाटा को भी प्रतिबंधित कर रही है। उन्होंने बताया कि उक्त आठ करोड़ 70 लाख उपयोगकर्ताओं में से अधिकांश अमेरिका के हैं।

गौरतलब है कि अमेरिकी और ब्रिटिश मीडिया ने गत माह दावा किया था कि ब्रिटिश कंसल्टेंसी कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने पांच करोड़ फेसबुक उपयोगकर्ताओं के डाटा का अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में गलत इस्तेमाल किया था। अमेरिका में 2016 के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रंप ने इस कंपनी की सेवाएं ली थी।

फेसबुक ने करोड़ों उपयोगकर्ताओं के डाटा लीक होने के खुलासे के बाद उनके निजी डाटा पर अधिक नियंत्रण देने के लिए मार्च के आखिरी में बड़े बदलावों की घोषणा की थी। गत 17 मार्च को फेसबुक का डाटा लीक होने की खुफिया रिपोर्ट के बाद कंपनी को शेयर बाजार में 100 अरब डॉलर से अधिक का नुकसान हुआ है। डाटा लीक के खुलासे के बाद में फेसबुक के शेयरों में लगभग 18 प्रतिशत की गिरावट आयी है।

कंपनी के चीफ प्राइवेसी ऑफिसर एरिन एगन ने कहा, “फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग की पिछले सप्ताह की घोषणा के मुताबिक हम आने वाले सप्ताहों में कुछ ऐसे बदलाव करेंगे जिनसे उपयोगकर्ताओं को अपनी निजी जानकारी पर ज्यादा नियंत्रण हासिल हो सकेगा। इसके अलावा फेसबुक पर प्राइवेसी सेटिंग्स और मेन्यू को भी आसान बनाया जा रहा है ताकि उपयोगकर्ता उनमें आसानी से बदलाव कर सकें।”

फेसबुक में नये प्राइवेसी शॉर्टकट मेन्यू भी बनाए जा रहे हैं जिनसे उपयोगकर्ताओं को अपने अकाउंट और निजी जानकारियों पर पहले से ज्यादा नियंत्रण रहेगा। इसके तहत उपयोगकर्ता इसकी समीक्षा कर सकेंगे कि उन्होंने क्या शेयर किया है और उसे डिलीट कर सकेंगे। इसके अलावा वे सभी पोस्ट जिन पर उपयोगकर्ता ने रिएक्ट किया है, जो फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी है और फेसबुक पर जिसके बारे में सर्च किया है, सभी की समीक्षा की जा सकेगी।

उपयोगकर्ता फेसबुक के साथ शेयर किए डाटा को डाउनलोड भी कर सकेंगे। इसमें अपलोड किए गए फोटो, कांटेक्ट्स और टाइमलाइन पर मौजूद पोस्ट को डाउनलोड किया जा सकेगा तथा किसी दूसरी जगह शेयर किये जाने की भी सुविधा होगी। आने वाले हफ्तों में कंपनी अपनी टर्म ऑफ सर्विस और डाटा पॉलिसी को अच्छी तरह से उपयोगकर्ता के सामने रखेगी और ये बताएगी कि उनसे किस तरह की जानकारी ली जा रही है और उसका क्या उपयोग किया जा रहा है।

सीईओ जुकरबर्ग ने इस पर माफी मांगते हुए फेसबुक पर लिखा था कि उपयोगकर्ताओं के डाटा को गोपनीय रखने को लेकर उनकी कंपनी ने गलती की है। किसी के निजी डाटा का गलत इस्तेमाल रोकने के लिए कदम उठाए जाएंगे।

Categories
international Tech

कैम्ब्रिज एनालिटिक मामले में जकरबर्ग ने खुद की गलती मानी, किये बदलाव

फेसबुक के डाटा लीक मामले आये दिन सामने आते हैं। लोगों की चाहती शेयर साइट हैं फेसबुक। पिछले कुछ सालों से डाटा लीक का मामला सामने आ रहा हैं। कैम्ब्रिज एनालिटिक डाटा लीक के मामले को रोकने के लिए मार्क जकरबर्ग खुद ने जिम्मेदरी ली हैं और कहा की फेसबुक से जुड़े मामलों को हमारे को ही सुधारना होता हैं। अगर हम नहीं सुधारते हैं तो इसमें हमारी गलती मानी जाएगी।

Mark Zuckerberg
Mark Zuckerberg

यह भी देखिये-राजनीति में धर्म के उपयोग की वर्जना की है : चौहान

उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट में कहा कि हमसे कई गलतियां हुईं है लेकिन उनको ठीक करने को लेकर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी और पहले सामने आई समस्याओं के समाधान के लिए फेसबुक की तरफ से कई दम उठाए जाएंगे। जुकरबर्ग ने कहा कि वह उन हजारों एप्लिकेशन की जांच करेगा जिसका इस्तेमाल उस वक्त बड़ी संख्या में किया गया।

यह भी देखिये – मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक डाटा लीक मामले में कंपनी की कमियों को स्वीकार करते हुए माफी मांगी है।

उन्होंने कहा कि फेसबुक अपने यूजर्स को एक नया टूल देगा कि ताकि उन्हें पता चले कि उनके डाटा का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, साझा किया जा रहा है, और आगे से डेवलपर्स के दुरुपयोग को रोकने के लिए डाटा तक उसके पहुंच को प्रतिबंधित कर देगा। उन्होंने कहा कि भविष्य में एेसी व्यवस्था की जाएगी कि किसी भी तरह का दुरुपयोग रोकने के लिए डिवेलपर्स का डाटा ऐक्सेस सीमित किया जाएगा।

जकरबर्ग ने कहा की हमने फेसबुक में कुछ डाटा लीक मामले के बाद बदलाव भी किये हैं। अब ये डाटा लीक होने की कम सम्भावना होगी, क्युकी डाटा ट्रासंफर होने से पहले डाटा धारक की अनुमति मांगता हैं। इस अनुमति के बिना किसी के डाटा ट्रांफर नहीं हो सकते हैं। हम लगातार कोशिश कर रहे हैं की आने वाले समय में फेसबुक में जो अभी समस्या आ रही हैं उसे कम करेंगे।

यह भी देखिये – सुप्रीम कोर्ट ने आधार पर उठाया सवाल कहा की आधार की जानकारी सरकार को रखने की कोई जरूरत नहीं है

Categories
National Tech

फेसबुक डाटा लीक मामले में मार्क जुकरबर्ग ने मांगी माफी, जानिए क्या कहा

फेसबुक के मालिक मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक डाटा लीक मामले में कंपनी की कमियों को स्वीकार करते हुए माफी मांगी है। जुकरबर्ग ने सीएनएन से साक्षात्कार में कहा ‘यह बड़ा विश्वासघात था। इसके लिए मुझे खेद है। लोगों के डाटा को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है।

Mark Zuckerberg

यह भी देखिये- 10 करोड़ से ज्यादा गरीब परिवारों को पाँच लाख रुपये सालाना के इलाज पर खर्च वाली ‘आयुष्मान भारत योजना लागु

उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट में कहा कि हमसे कई गलतियां हुईं है लेकिन उनको ठीक करने को लेकर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी और पहले सामने आई समस्याओं के समाधान के लिए फेसबुक की तरफ से कई दम उठाए जाएंगे। जुकरबर्ग ने कहा कि वह उन हजारों एप्लिकेशन की जांच करेगा जिसका इस्तेमाल उस वक्त बड़ी संख्या में किया गया।

यह भी देखिये- सोशल मीडिया पर आदित्यनाथ योगी का अश्लील फोटो अपलोड करने वाला बिहार से किया गया गिरफ्तार

उन्होंने कहा कि फेसबुक अपने यूजर्स को एक नया टूल देगा कि ताकि उन्हें पता चले कि उनके डाटा का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, साझा किया जा रहा है, और आगे से डेवलपर्स के दुरुपयोग को रोकने के लिए डाटा तक उसके पहुंच को प्रतिबंधित कर देगा। उन्होंने कहा कि भविष्य में एेसी व्यवस्था की जाएगी कि किसी भी तरह का दुरुपयोग रोकने के लिए डिवेलपर्स का डाटा ऐक्सेस सीमित किया जाएगा।

यह भी देखिये- टेक्सास धमाकों को अंजाम से पहले बनाया गया ‘कबूलनामे’ का वीडियो

[divider style=”solid” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी से सीधे प्रकाशित की गई है।)
मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:
mobilepenews@gmail.com
हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:
फेसबुक मोबाइलपेन्यूज
ट्विटर मोबाइलपेन्यूज