Categories
Crime

फेसबुक से फोटो चुराकर यूपी के दबंग अफसर को साइबर ठगों ने लगाया चूना

लॉकडाउन के चलते बैंकिंग लेनदेन कम हो जाने से आम नागरिकों को ठगी का शिकार नहीं बना पा रहे साइबर ठग अब पुलिस अफसरों को शिकार बना रहे हैं। ठगों ने राष्ट्रीय राजधानी से सटे हाईटेक शहर ग्रेटर नोएडा के पुलिस उपायुक्त राजेश कुमार सिंह को फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर मोटी ठगी करने की कोशिश की है।

 

राजेश कुमार सिंह की गिनती यूपी पुलिस के दबंग अफसरों में की जाती है। डीसीपी राजेश कुमार सिंह के नाम से अनजान लोगों ने फर्जी फेसबुक आईडी बना ली। इसकी जानकारी उन्हें अपने कुछ परिचितों से मिली। साइबर ठगों ने उनके असली फेसबुक एकाउंट से फोटो चोरी करके ऐसा किया। सिंह को तब पता चला जब लोगों ने उन्हें फोन करके पूछा कि उन्हें पैसे की क्या जरूरत पड़ गई। अगर पैसे चाहिए तो सीधे मोबाइल पर मैसेज या बात करके ले लेते। फेसबुक के जरिये रुपए क्यों मांग रहे हैं?
साइबर ठगों ने पैसे मांगने के साथ ही फर्जी फेसबुक आईडी से तमाम लोगों को फ्रेंड रिक्वेस्ट भी भेज दी। संभव है कि ठग फर्जी फेसबुक आईडी पर कुछ और अनजान लोगों को जल्दी से जल्दी जोड़कर उन्हें अपने जाल में फंसाना चाह रहे हों, हालांकि अब इसके चांस कम हैं। क्योंकि डीसीपी ने अपने सर्किल में सोशल मीडिया के ही जरिये इस फर्जी फेसबुक आईडी के बारे में बताकर अधिकांश परिचितों को अलर्ट कर दिया है। उल्लेखनीय है कि गौतमबुद्ध नगर जिले में ही कुछ समय पहले तैनात रह चुके एक इंस्पेक्टर के साथ भी इसी तरह की ठगी का मामला सामने आया था। इसी तरह बीते साल दिल्ली के एक संयुक्त पुलिस आयुक्त के साथ तो इस सबसे भी चार कदम आगे साइबर ठग पेश आये थे। ट्रांसपोर्ट विंग में तैनात इन संयुक्त पुलिस आयुक्त के कार्ड से साइबर ठगों ने 28 हजार रुपये निकाल लिये थे। संयुक्त पुलिस आयुक्त को साइबर ठगों द्वारा ठग लिये जाने की जानकारी तब हुई जब वे पुलिस मुख्यालय (आईटीओ) में अपने दफ्तर में बैठे हुए थे, उसी समय उन्हें मोबाइल पर कार्ड से 28 हजार रुपये निकाल लिये जाने का मैसेज मिला।

Categories
Tech

अब आपकी फेसबुक का डाटा नहीं होगा लीक, उपयोग कीजिये फेसबुक का ये फीचर

फेसबुक डाटा लीक मामले के बाद फेसबुक की सीईओ मार्क जुकरबर्ग भी एक बार सदमे में आ गये। सूत्रों के मुताबिक कई लोगों डाटा लीक मामले के बाद फेसबुक से अपना अकाउंट डिलीट कर दिया हैं। जानकारी के अनुसार आपको बता दें की फेसबुक डाटा लीक मामले में कैंब्रिज एनालिटिका को दोषी माना गया, ख़बरों के मुताबिक कैंब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक के डाटा का गत इस्तेमाल किया था।

Facebook questions

यह भी देखिये-बाबाओं को राज्यमंत्री दर्जे पर बोले शिवराज, हर श्रेणी को जोड़ने का प्रयत्न

फेसबुक का इस्तेमाल करने वाले लोगों भरमार हैं। फेसबुक पर लॉग करने से पहले ही थर्ड पार्टी के ऐप्प बहुत सारे मिल जाते हैं इन ऐप्प को ये भी इजाजत मिल जाती हैं की आप इन डाटा का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आपको बता दें की फेसबुक पर ये थर्ड पार्टी के ऐप्प को हटा दिया जाये तो आपका फेसबुक डाटा सुरक्षित रहता हैं। इसके लिए फेसबुक ने के तोड़ निकला हैं। अब इन थर्ड ऐप्प को हटाने के लिए फेसबुक ने एक नये फीचर की शुरुआत की हैं, जानकारी के अनुसार आपको बता दें की फेसबुक ने इन प्रकार के फीचर की पहले भी शुरुआत की थी। अब इस नये फीचर के जरिये इन थर्ड पार्टी के ऐप्प को एक बार हटाते हैं तो इसका ये मतलब होता हैं की आप अपना फेसबुक में जो भी आपके डाटा है उसको आप फेसबुक के अलावा किसी और एप्लिकेशन के साथ शेयर नहीं करना चाहते हैं। ऐसा करने के बाद फेसबुक आपके डाटा किसी और ऐप्प के साथ करना बंद कर देगा।

यह भी देखिये-पत्र से हुआ खुलासा, सजा होते ही फांसी पर झूलने को बेताब हो गए थे भगत सिंह

इस फीचर को इस्तेमाल करने के बारे आपको बताते हैं, थर्ड पार्टी ऐप्प को हटाने के लिए आपको फेसबुक की सेटिंग में एक ऐप्प का ऑप्शन दिखेगा इसको क्लिक करते ही आपको वो सारे ऐप्प दिखेंगे जो फेसबुक के साथ लिंक हैं। इन ऐप्प को सलेक्ट करने के बाद आपसे पूछा जायेगा की अभी तक अपने जो भी पोस्ट की उसे डिलीट करें या नहीं। इनको हटाते समय आपको एक मेसेज दिखेगा, जिसमे ये आपसे पूछेगा की अगर आप ऐप्स को हटाते हैं तो वो खुद के पास से आपका अकाउंट और ऐक्टिविटी डिलीट कर सकते हैं।

यह भी देखिये-अब जियो दे रहा मात्र 251 रुपये में 102 जीबी डेटा, जानिए प्लान

Categories
international Tech

कैम्ब्रिज एनालिटिक मामले में जकरबर्ग ने खुद की गलती मानी, किये बदलाव

फेसबुक के डाटा लीक मामले आये दिन सामने आते हैं। लोगों की चाहती शेयर साइट हैं फेसबुक। पिछले कुछ सालों से डाटा लीक का मामला सामने आ रहा हैं। कैम्ब्रिज एनालिटिक डाटा लीक के मामले को रोकने के लिए मार्क जकरबर्ग खुद ने जिम्मेदरी ली हैं और कहा की फेसबुक से जुड़े मामलों को हमारे को ही सुधारना होता हैं। अगर हम नहीं सुधारते हैं तो इसमें हमारी गलती मानी जाएगी।

Mark Zuckerberg
Mark Zuckerberg

यह भी देखिये-राजनीति में धर्म के उपयोग की वर्जना की है : चौहान

उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट में कहा कि हमसे कई गलतियां हुईं है लेकिन उनको ठीक करने को लेकर काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी और पहले सामने आई समस्याओं के समाधान के लिए फेसबुक की तरफ से कई दम उठाए जाएंगे। जुकरबर्ग ने कहा कि वह उन हजारों एप्लिकेशन की जांच करेगा जिसका इस्तेमाल उस वक्त बड़ी संख्या में किया गया।

यह भी देखिये – मार्क जुकरबर्ग ने फेसबुक डाटा लीक मामले में कंपनी की कमियों को स्वीकार करते हुए माफी मांगी है।

उन्होंने कहा कि फेसबुक अपने यूजर्स को एक नया टूल देगा कि ताकि उन्हें पता चले कि उनके डाटा का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है, साझा किया जा रहा है, और आगे से डेवलपर्स के दुरुपयोग को रोकने के लिए डाटा तक उसके पहुंच को प्रतिबंधित कर देगा। उन्होंने कहा कि भविष्य में एेसी व्यवस्था की जाएगी कि किसी भी तरह का दुरुपयोग रोकने के लिए डिवेलपर्स का डाटा ऐक्सेस सीमित किया जाएगा।

जकरबर्ग ने कहा की हमने फेसबुक में कुछ डाटा लीक मामले के बाद बदलाव भी किये हैं। अब ये डाटा लीक होने की कम सम्भावना होगी, क्युकी डाटा ट्रासंफर होने से पहले डाटा धारक की अनुमति मांगता हैं। इस अनुमति के बिना किसी के डाटा ट्रांफर नहीं हो सकते हैं। हम लगातार कोशिश कर रहे हैं की आने वाले समय में फेसबुक में जो अभी समस्या आ रही हैं उसे कम करेंगे।

यह भी देखिये – सुप्रीम कोर्ट ने आधार पर उठाया सवाल कहा की आधार की जानकारी सरकार को रखने की कोई जरूरत नहीं है