Categories
international

India will become super power: ये हथियार मिलते ही एशिया में खत्म हो जाएगी चीन की दादागिरी, भारत बनेगा सुपर पॉवर

India will become super power: हिंद महासागर में चीन के बढ़ते दखल से निजात पाने के लिए भारत को जल्द ही वे हेलीकॉप्टर मिलने वाले हैं जो जमीन के साथ ही समुद्र में छोटी सी नाव से भी उड़ान भर सकते हैं। ये हेलीकॉप्टर पानी के नीचे छुपी पनडुब्बियों के लिए यमराज माने जाते हैं। इनके मिलते ही हिंद महासागर में घूम रही चीनी पनडुब्बियां दुम दबाकर भाग निकलेंगी। इन हेलीकॉप्टरों को प्राप्त करने के लिए भारत और अमेरिका के बीच तीन अरब डॉलर का रक्षा समझौता हुआ है। द्विपक्षीय बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए।

 

रोमियो और अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदेगा भारत

India will become super power:  जिस रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं, उसके तहत भारत 2.6 अरब डॉलर में 24 MH60 रोमियो हेलीकॉप्टर खरीदेगा। इसके अलावा 80 करोड़ डॉलर में छह AH 64E अपाचे हेलिकॉप्टर भी खरीदे जाएंगे। भारत आए ट्रंप ने कहा कि तीन अरब डॉलर से ज्यादा के इस रक्षा समझौते से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे।

आतंकवाद के खिलाफ कदम उठाए पाकिस्तान

India will become super power: बैठक में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझेदारी को लेकर दोनों देशों में सहमति बनी। ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान अपनी धरती पर पनप रहे आतंकवाद को खत्म करने के लिए उपाय करे। प्रधानमंत्री मोदी और मैं अपने नागरिकों को कट्टर इस्लामी आतंकवाद से बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमेरिका पाकिस्तान की धरती से चल रहे आतंकवाद को रोकने के लिए कदम उठा रहा है।

India will become super power: ट्रंप ने अपने शानदार स्वागत के लिए भारत का शुक्रिया अदा किया। मेलानिया और मैं भारत की महिमा और भारतीय लोगों की असाधारण उदारता और आदर से विस्मित हैं। हम आपके (मोदी) गृह राज्य के नागरिकों द्वारा किए गए शानदार स्वागत को हमेशा याद रखेंगे। हम यहां से सुखद अनुभव साथ लेकर जाएंगे। अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में ट्रंप का स्वागत करने के लिए एक लाख से अधिक लोग आए थे।

India will become super power: इधर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका के संबंध 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारियों में से एक है। भारत और अमेरिका के बीच बीच ड्रग तस्करी, आतंकवाद और संगठित अपराध जैसे गंभीर अपराधों के बारे में एक नया तंत्र बनाने पर सहमति बनी है।

Categories
international

फिर से अमरीका के राष्ट्रपति बनना चाहते हैं ट्रम्प, कहा— ऐसा कोई नहीं जो मुझे हरा सके

लंदन। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प वर्ष 2020 में होने वाला राष्ट्रपति का चुनाव लड़ना चाहते हैं। ब्रिटेन के संडे अखबार को मेल के जरिये दिए गए साक्षात्कार में ट्रम्प ने कहा है कि वह वर्ष 2020 में होने वाला चुनाव लड़ना चाहते हैं क्योंकि ‘हर कोई मुझे चाहता है’ और डेमोक्रेटिक पार्टी का कोई भी उम्मीदवार उन्हें हरा नहीं सकता है।

donald trump
donald trump

 

ब्रिटिश पत्रकार पियर्स मॉर्गन द्वारा पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए ट्रम्प ने कहा, “हां मैं पूरी इरादा रखता हूं। ऐसा लगता है जैसे हर कोई मुझे ही चाहता है।” उन्होंने कहा, “उन्हें कोई डेमोक्रेटिक उम्मीदवार दिखाई नहीं दे रहा है जो उन्हें हरा सकता हो। मुझे कोई दिखाई नहीं देता। मैं उन सभी को जानता हूं और मुझे कोई दिखाई नहीं देता।” उल्लेखनीय है कि ट्रम्प वर्ष 2016 में अमेरिका के राष्ट्रपति निर्वाचित हुए थे और वर्ष 2020 में उनका कार्यकाल पूरा हो रहा है।

हैलमेट पहनने से विरोध कर रहे सिख अकाली दल

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप स्कॉटलैंड पहुंचे। इस बीच उनकी यात्रा के विरोध में हजारों लोगों ने प्रदर्शन किया। बीबीसी के अनुसार, ट्रंप और प्रथम महिला मेलानिया शुक्रवार को रात 10.10 बजे प्रेस्टविक हवाईअड्डे पर पहुंचे। वह ब्रिटेन का दो दिवसीय दौरा समाप्त करने के बाद स्कॉटलैंड पहुंचे।

इस्लामी शरीयत अदालतें खुलेंगी देश के हर जिले में, खर्चा करने वालों …

ट्रंप के स्कॉटलैंड पहुंचने से पहले ग्लासगो में हजारों प्रदर्शनकारी जॉर्ज स्क्वायर पर इकट्ठा हो गए। हवाईअड्डे पर स्कॉटलैंड के सचिव डेविड मुंडेल ने उनका स्वागत करते हुए कहा कि वह ब्रिटेन सरकार की ओर से ट्रंप की अगुवाई कर खुश हैं। ट्रंप यह सप्ताहांत आयरशायर में अपने टर्नबेरी गोल्फ रिसॉर्ट में गुजारेंगे। ट्रंप की मां स्कॉटिश थीं।

माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या, जेलर सहित चार निलंबित

ट्रंप के टर्नबेरी पहुंचने के तुरंत बाद एक पावर पैराग्लाइडर को ट्रंप के रिसॉर्ट के पास उड़ते देखा गया। ट्रंप के विरोध में शनिवार को एडिनबर्ग में स्कॉटिश संसदके बाहर राष्ट्रीय विरोध प्रदर्शन के तहत लोग इकट्ठा होंगे। ट्रंप रविवार को स्कॉटलैंड से रवाना होंगे, जहां से वह फिनलैंड जाएंगे। ट्रंप फिनलैंड में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करेंगे।

Categories
international

ईरान परमाणु समझौते से अलग हुआ अमेरिका

चीन के पश्चिम एशिया में विशेष दूत गोंग शिओशेंग ने कहा है कि ईरान परमाणु समझौते में शामिल सभी पक्षों को इससे जुड़े रहना और विवाद को खत्म करने के लिए संवाद तथा बातचीत का सहारा लिया जाना चाहिए। चीन की समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने यह जानकारी दी।ईरान से आ रही मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शिओशेंग ने ईरान के अधिकारियों से मुलाकात के बाद पत्रकारों से कहा कि चीन ईरान परमाणु समझौते में शामिल सभी पक्षों के साथ सहयोग बढ़ाने का इच्छुक है।

 Donald Trump
Donald Trump

 

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने वर्ष 2015 के ईरान परमाणु समझौते से अमेरिका को अलग कर लिया है।अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा और विश्व के पांच बड़े देशों ने ईरान के साथ वर्ष 2015 में परमाणु समझौता किया था। इसका समझौते का लक्ष्य ईरान को परमाणु बम बनाने से रोकना था।

[divider style=”dotted” top=”” bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज