Categories
Off Beat

कांग्रेस के इस नेता ने कब्रिस्तान में जाकर पूर्वजो से पूछा, बताओ नागरिकता के सबूत​ किस दीवार में चुनवा रखे हैं

पूरे देश में जिस नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आंदोलन चल रहा है, उसके विरोध में कांग्रेस के एक नेता ने कब्रिस्तान में जाकर अपने मुर्दा पूर्वजों से नागरिकता के सबूत मांगकर सभी को चौंका दिया।

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी की खिलाफत कर रही कांग्रेस के एक स्थानीय नेता ने यहां विरोध का अनूठा तरीका इजाद किया जब उन्होने कब्रिस्तान जाकर पूर्वजों से अपनी नागरिकता का सबूत देने की दुआ की।

कांग्रेस नेता हसीब अहमद ने बताया कि वह और कुछ मुस्लिम युवा भी दो दिन पहले सीएए के विरोध में कब्रिस्तान गए और अपने पूर्वजों से अपनी नागरिकता का सबूत देने के लिए रोते हुए दुआ की। अहमद ने कहा “ हमारे पास दस्तावेज नहीं हैं और हम पीढियों से भारत में रह रहे हैं। हम अपने पूर्वजों से गवाही देने के लिए कह रहे हैं कि हम इस देश के नागरिक हैं।

हम सरकार से आग्रह करते हैं कि अगर हमें डिटेंशन सेंटर भेजा जाता है तो हमारे पूर्वजों के अवशेष को भी वहां रखा जाए। हमारे लोगों ने देश के लिए अपनी कुर्बानियां दी हैं। उसे कैसे नकारा जा सकता है। कांग्रेसी नेता ने कहा कि जिस तरह सीएए-एनआरसी को लेकर विवाद हो रहा है उससे उन्हें डर है कि उन्हें डिटेंशन कैंप में न भेज दिया जाए। उनके पास दस्तावेज भी नहीं हैं।

हसीब ने कहा कि एनआरसी और सीएए को लेकर देश के अंदर विभाजन की राजनीति चल रही है। हमारे पास सरकार को दिखाने के लिए कोई कागजात नहीं है।

Categories
National

सात सौ वर्ष पहले लिए गए मुहम्मद बिन तुगलक के इस निर्णय की याद आते ही आज भी कांप उठती है भारत की रूह

सुल्तान मुहम्मद बिन तुग़लक़ का नाम तो आप सबने इतिहास की पुस्तकों में अवश्य पढ़ा होगा। उसके वर्ष 1330 में लिए गए एक निर्णय को याद करके आज भी भारत की रूह कांप उठती है। उसने रातों—रात अचानक अपनी प्रजा को कंगाल कर दिया था क्योंकि उसने अपनी मुद्रा को बेकार घोषित कर दिया था। 21वीं शताब्दी में तीन साल पहले लिए एक ऐसे ही निर्णय की वजह से कांग्रेस प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को तुगलक साबित करने की कोशिश कर रही है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नोटबन्दी की तीसरी सालगिरह पर कहा है की देश पर नोटबंदी का आतंकी हमला करने वाले गुनाहगारों को अभी कटघरे में खड़ा नहीं किया गया और देश की जनता को इस अन्याय से अभी न्याय नहीं मिला है।
गांधी ने शुक्रवार को ट्वीट किया “तीन साल पहले आज ही के दिन नोटबंदी की गयी थी जिसके कारण भारतीय अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो गई, कई लोगों की जानें गई, लाखों छोटे-मोटे कारोबारी बर्बाद हो गये लाखों भारतीय बेरोजगार हुए। जिन लोगों ने देश पर यह घातक हमला किया उन गुनाहगारों को अभी कटघरे में खड़ा नहीं किया गया और देश की जनता को इस अन्याय से अभी न्याय नहीं मिला है।।”
इस बीच, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा, “नोटबंदी को तीन साल हो गए। सरकार और इसके नीम हक़ीमों द्वारा किये गये ‘नोटबंदी- सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज’ के सारे दावे एक-एक करके धराशायी हो गए।”
उन्होंने नोटबंदी को एक आपदा बताया और कहा “नोटबंदी एक आपदा थी जिसने हमारी अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी। इस ‘तुग़लकी’ कदम की जिम्मेदारी अब कौन लेगा।”

कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि तीन साल पहले लिए गए इस फैसले की सजा देश आज भी भगुत रहा है। उन्होंने कहा “सुल्तान मुहम्मद बिन तुग़लक़ ने वर्ष 1330 में देश की मुद्रा को बेकार कर दिया था। आठ नवंबर, 2016 को आज के समय के तुग़लक़ ने भी यही किया। तीन साल बीत गए पर देश अभी भी इसकी भुगत रहा है क्योंकि-अर्थव्यवस्था चौपट हो गई, रोजगार खत्म हो गया और न आतंकवाद रुका, न जाली नोटो का कारोबार, फिर कौन है इसका जिम्मेदार?”

कांग्रेस ने नोटबन्दी के तीन साल पूरे होने पर शुक्रवार को मोदी सरकार की नीतियों के विरोध में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के सामने जमकर प्रदर्शन किया। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने राजधानी के संसद मार्ग स्थित रिजर्व बैंक कार्यालय के सामने सुबह में प्रदर्शन किया। ये कार्यकर्ता हाथों में तख्तियां और बैनर लिए मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों में महिलाएं और नोटबन्दी से प्रभवित आम आदमी भी शामिल थे। प्रदर्शनकारी देश की खराब अर्थव्यस्था के लिए मोदी सरकार को जिम्मेदार ठहरा रहे थे। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि वे आठ नवंबर को अपने जीवन मे भूल नही सकते है क्योंकि उन्हें नोटेबन्दी का दंश झेलना पड़ा था। नोटेबन्दी से लाखों नौकरियां चली गयी और आर्थिक विकास प्रभावित हुआ। असंगठित क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुए और कई छोटी कम्पनियां बर्बाद हो गई।

Categories
Off Beat

केबीसी के अगले एपिसोड में पूछा जा सकता है ये सवाल, किस पार्टी को मिला है भारतीय जासूसी पार्टी का खिताब

केबीसी में ​अमिताभ बच्चन आजकल राजनीति से जुड़े सवाल अधिक पूछ हैं और अक्सर ऐसे सवालों का जवाब देने में प्रतिभागी नाकाम रहते हैं। ऐसे ही सवालों की लिस्ट में एक नया सवाल जुड़ने वाला है जिसे केबीसी के अगले एपिसोड में कभी भी पूछा जा सकता है क्योंकि ये सवाल ऐसा ही है जिसका जवाब बहुत कम लोग याद रखेंगे। सवाल ये हो सकता है कि भारत में हाल ही किस पार्टी को भारतीय जासूसी पार्टी का खिताब मिला है।

क्योंकि एक दिन पहले ही कांग्रेस ने केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाली सरकार पर आरोप लगाया कि उसे इस साल अप्रैल-मई में बीते लाेकसभा चुनावों के समय इजरायली साॅफ्टवेयर पिगैसस के माध्यम से नेताओं, पत्रकारोंं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं की जासूसी कराये जाने की पूरी जानकारी थी और वह इस मामले में रहस्यमयी एवं षड़यंत्रकारी चुप्पी साधे हुए है।
कांग्रेस के संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने संवाददाता सम्मेलन में अपने आरोपों के समर्थन में कुछ दस्तावेज पेश करते हुए कहा, “अबकी बार जासूस सरकार।” उन्होंने कहा कि फेसबुक एवं व्हाट्सएप के मालिक ने 17 मई को अपनी रिपोर्ट में केन्द्र सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी विभाग को इस बारे में जानकारी दे दी थी। उन्होंने कहा कि जासूसी के लिए इजरायल निर्मित जिस पिगैसस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया, उसे निर्माता कंपनी केवल एवं केवल सरकार एवं उसकी सुरक्षा एजेंसियों को ही बेचती है।

सुरजेवाला ने रिपोर्ट के आधार पर यह दावा भी किया कि पिगैसस की जासूसी निगाह से नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर (एनआईसी) और विदेश संचार निगम लिमिटेड भी प्रभावित रहे हैं। इसका मतलब यह है कि कोई भी जासूसी के दायरे से अछूता नहीं था। उन्होंने कहा कि सरकार यह सब जानने के बावजूद एक रहस्यमयी एवं षड़यंत्रकारी चुप्पी साधे रही। अमेरिका में मामला 30 अक्टूबर को सामने आने के बाद संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीटर पर अगले दिन कहा कि उन्होंने कंपनी से जानकारी मांगी है ।

उन्होंने कहा कि आज तक सरकार ने इस बारे में कुछ भी स्पष्ट जवाब नहीं दिया है और पत्रकारों एवं संपादकों पर दबाव डाल कर सूत्रों के हवाले के झूठी बातें छपवा रही है। उन्होंने सरकार से पूछा कि वह बताये कि क्या चुनाव के लिए उसने राजनेताओं एवं पत्रकारों की जासूसी करवायी। क्या यह टेलीग्राफ अधिनियम और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम का उल्लंघन नहीं है। केन्द्र सरकार ने किसके कहने पर पिगैसस की खरीद एवं उसके गैरकानूनी इस्तेमाल की इजाजत दी। क्या यह काम प्रधानमंत्री, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार या गृहमंत्री ने किया था। केन्द्र सरकार ने इस पर रहस्यमयी चुप्पी क्यों साधे रखी। क्या सरकार इसके जिम्मेदार मंत्रियों या अधिकारियों पर कोई कार्रवाई करेगी। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार से इस मामले में भाजपा की संलिप्तता उजागर हुई है उसके बाद पार्टी के नाम का अर्थ अब भारतीय जासूस पार्टी हो गया है।

Categories
National

राहुल गांधी ने त्यागपत्र देकर एक से एक दिग्गज नेताओं से त्यागपत्र दिलाने का सिलसिला शुरू किया है- राजनाथ

नयी दिल्ली । कर्नाटक एवं मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ कांग्रेस के विधायकों को तोड़ने एवं इस्तीफा दिलाने के आरोपों से इन्कार करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आज संसद में कटाक्ष किया कि कांग्रेस में त्यागपत्र देने का सिलसिला राहुल गांधी ने शुरू किया है जिसका भाजपा से कोई लेना देना नहीं है।

लोकसभा में शून्यकाल आरंभ होते ही सदन में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने यह मामला उठाते हुए कहा कि लोकतंत्र साजिश का शिकार हो गया है।ध्यप्रदेश एवं कर्नाटक की सरकार में दलबदल कराया जा रहा है। केन्द्र सरकार गुप्त तरीके से साजिश कर रही है। भाजपा को पसंद नहीं है कि विपक्षी दलों की सरकार किसी राज्य में चले। ये बहुत चिंता की बात है।

चौधरी ने कहा कि कांग्रेस के विधायकों को राज्यपाल के कार्यालय से सुनियोजित ढंग से कारों के जरिये हवाईअड्डे ले जाया गया और फिर वहां से भाजपा के एक सांसद के चार्टर्ड विमान से मुंबई ले जाकर एक पांच सितारा होटल में रखा गया है। यह सब कुछ पूर्वनियोजित ढंग से कराया गया है। केन्द्र सरकार कहती है कि ये लोकतंत्र में विश्वास करती है लेकिन ये तो लोकतंत्र की धज्जियां उड़ा रही है। उन्होंने कहा, “आपके 303 सांसद जीत गये लेकिन आपका पेट नहीं भरा। आपका पेट कश्मीरी गेट हो गया है।”चौधरी के बाद संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि सदन के उपनेता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस विषय पर बोलेंगे। इस पर विपक्ष के सदस्यों ने मांग की कि गृह मंत्री अमित शाह सदन में माैजूद हैं, तो उन्हीं को जवाब देना चाहिए। पर जोशी ने कहा कि सिंह सदन के उपनेता हैं।

राजनाथ सिंह ने कहा कि कर्नाटक में जो कुछ भी हो रहा है। उससे उनकी पार्टी का कुछ भी लेना देना नहीं है। उनकी पार्टी का ऐसा कोई इतिहास नहीं है कि किसी दूसरी पार्टी के विधायकों/ सांसदों पर दबाव डाल कर इस्तीफा दिलवाया हो। भाजपा संसदीय गरिमा को बनाये रखने को लेकर हमेशा से प्रतिबद्ध रही है। उन्होंने कहा, “कांग्रेस में त्यागपत्र दिलाने का सिलसिला हमने नहीं शुरू किया। राहुल गांधी ने त्यागपत्र देकर एक से एक दिग्गज नेताओं से त्यागपत्र दिलाने का सिलसिला शुरू किया है। भाजपा का इससे कोई लेना देना नहीं है।

सिंह के जवाब से कांग्रेस के सदस्य उत्तेजित हो गये। उन्होंने अपनी अपनी सीटों पर खड़े हाे कर ‘लोकतंत्र बचाओ’ के प्लेकार्ड उठाकर सरकार के विरुद्ध नारे भी लगाये। इसी शोरशराबे के बीच अध्यक्ष आेम बिरला ने द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) के टी आर बालू का नाम पुकारा। बालू ने राष्ट्रीय पात्रता एवं प्रवेश परीक्षा (नीट) के पाठ्यक्रम की एकरूपता को लेकर सवाल उठाये और कहा कि तमिलनाडु में कुछ लड़कियों ने आत्महत्या भी की है। शोर शराबे में उनकी बात साफ नहीं सुनायी दी। उन्होंने सरकार ने जवाब चाहा लेकिन अध्यक्ष ने इसकी अनुमति नहीं तो द्रमुक के सारे सदस्य सदन के बहिर्गमन कर गये। अध्यक्ष ने इसके साथ ही भोजनावकाश के लिए सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी।

Categories
National

कांग्रेस के 21 मंत्रियों ने दिया इस्तीफा

बेंगलुरु,। कर्नाटक में मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन सरकार को बचाने के प्रयास के तहत सोमवार को कांग्रेस के सभी 21 मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया।

कांग्रेस नेताओं ने ऐसा करके पार्टी हाईकमान को मंत्रिमंडल को परिवर्तन करने की खुली छूट दे दी है। गठबंधन साथियों के बीच गंभीर मतभेदों के कारण गत सप्ताह कांग्रेस के 10 और जनता दल (सेक्युलर) के तीन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष के आर रमेश कुमार को अपना त्यागपत्र सौंप दिया था।

इस्तीफा देने वाले अधिकतर विधायक मुंबई के एक होटल में रह रहे हैं। इन विधायकों के इस्तीफे से  कुमारस्वामी की सरकार पर संकट के बादल गहरा गये हैं।

Categories
National

भाजपा ने सरकारी खजाना खाली करने के साथ तंत्र का राजनीतिकरण कर उसे कमजोर बनाया : कमलनाथ

भोपाल । मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विधायकों और मंत्रियों से कहा कि वे विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी के हर आरोप दृढ़ता से जवाब दें और सरकार काे बदनाम करने की हर कोशिश काे बेनकाब करें।

आज से मध्यप्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र शुरु होने के पहले कल कांग्रेस विधायक दल की बैठक में कमलनाथ ने कहा कि विधायक अपनी सरकार के 120 दिन के काम का हिसाब दें और विपक्ष से 15 साल में किए गए घोटालों और वादाखिलाफी का हिसाब मांगें। उन्होंने कहा कि सरकार को बदनाम करने की हर कोशिश को बेनकाब करें।

कमलनाथ ने आरोप लगाया कि भाजपा ने सरकारी खजाना खाली करने के साथ तंत्र का राजनीतिकरण करके उसे कमजोर बनाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सत्ता से हटने का गम भाजपा भुला नहीं पा रही, यही कारण है कि अनर्गल प्रलाप से झूठ और भ्रम के जरिए सरकार को बदनाम करने की कोशिश में लगी हुई है। सबको मिलकर इस कोशिश का जवाब देना है।

इस अवसर पर मौजूद कांग्रेस महासचिव गुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि सिद्धांतों की राजनीति करने से सम्मान मिलता है। जिस निष्ठा, संघर्ष और संकल्प के साथ प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है उसके लिए सभी लोग बधाई के पात्र हैं। अगले पाँच साल सब जनहित से जुड़े मुद्दों पर काम करने और लोगों की अपेक्षाओं को पूरा करने का संकल्प लें।बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुरेश पचौरी भी उपस्थित थे।

Categories
National

लोकसभा चुनावों में बुरी तरह हार गई कांग्रेस अब संसद में गाएगी राग भैरवी, देश को बताएगी सच्चाई

लोकसभा चुनावों में भाजपा के हाथों करारी पराजय झेल चुकी कांग्रेस एक माह बीतने के साथ ही फिर से उठ खड़ी होकर संसद में ताल ठोक रही है कि वह राफेल लड़ाकू विमान सौदे में घोटाले की सच्चाई जनता के सामने लाकर ही दम लेगी। कांग्रेस के ऐलान को राजनीतिक क्षेत्रों में बेहद आश्चर्य के साथ देखा जा रहा है क्योंकि चुनाव अभियान में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल विमान सौदे को मुख्य मुद्दा बनाया था और जनता ने उसे नकार दिया था।

चुनावों में बेहद शर्मनाक ढंग से पराजित होने के बाद राजनीतिक जानकार मान रहे थे कि कांग्रेस अब कभी राफेल विमान सौदे का नाम भी नहीं लेगी, लेकिन वह एक माह बाद ही फिर से राफेल राग गाने पर तुल गई है। पार्टी ने राफेल को लेकर अपने रुख पर कायम रहते हुए गुरुवार को कहा कि इस सौदे में घोटाला हुआ है और पार्टी संसद के भीतर तथा बाहर इसकी सच्चाई सामने लाने के लिए संघर्ष करेगी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के संसद के दोनों सदनों को संयुक्त रूप से संबोधित करने के बाद कांग्रेस नेता गौरव गोगोई ने संसद भवन परिसर में कहा कि राफेल में चोरी हुई है और सरकार इसको छिपा नहीं सकती है। कांग्रेस इसकी सच्चाई जनता के सामने लाएगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस राफेल की वास्तविकता का आइना देश को दिखाएगी। इसमें हुए भ्रष्टाचार की सच्चाई सामने लाने की अपनी लड़ाई पार्टी जारी रखेगी और संसद के भीतर तथा बाहर इसकी असलियत सबके सामने रखने के लिए सरकार पर दबाव बनाएगी।

कांग्रेस नेता ने कहा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण में मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत की बात नहीं है। देश का किसान मजदूर और गरीब परेशान है, जिसके बारे में सरकार को चिंता ही नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति के भाषण के शब्द अच्छे हैं लेकिन उसमें जो बातें कही गई हैं वह सच्चाई के विपरीत है।

Categories
Off Beat

कांग्रेस ने खोज निकाले पाटी को चुनाव हरवाने वाले गद्दार, अब नपेगी इन वरिष्ठ नेताओं की गर्दन

राजनीतिक संवाददाता
नई दिल्ली. इतिहास की सबसे करारी पराजय के बाद उपजी परिस्थितियों से जूझ रही कांग्रेस ने उन गद्दारों को खोज निकाला है जिन्होंने पार्टी को हराने के लिए अंदरखाने काम किया था। कार्यसमिति की पिछले दिनों हुई बैठक में पार्टी के खिलाफ काम करने वाले इन वरिष्ठ नेताओं को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यह कहकर चौंका दिया था कि वे जानती हैं कि कांग्रेस के हत्यारे इसी कमरे में बैठे हैं।

कांग्रेस सूत्रों के अनुसार शनिवार को यहां हुई कार्य समिति की बैठक में प्रियंका ने कठोर शब्दों का इस्तेमाल किया और बैठक में मौजूद पार्टी के कुछ शीर्ष नेताओं पर उनका लिए बरसते हुए कहा,“कांग्रेस के हत्यारे इसी कमरे में बैठे हैं।”
सूत्रों ने बताया कि प्रियंका ही नहीं पूरा गांधी परिवार इन नेताओं की काम करने की शैली से नाराज है। करीब चार घंटे चली बैठक में इसी नाराजगी का इजहार करते हुए सोनिया गांधी ने एक शब्द नहीं बोला। उनकी चुप्पी भी इशारा कर रही थी कि पार्टी को कमजोर करने में उनके ही कुछ नजदीकी लोग शामिल है।

सूत्रों ने बताया कि प्रियंका का गुस्सा तब फूटा जब राहुल गांधी ने बैठक में मौजूद कुछ वरिष्ठ नेताओं के नाम लिए और कहा कि उन्होंने अपने बेटों को टिकट देने के लिए दबाव बनाया था लेकिन चुनाव के समय जो संकट सामने था पार्टी को उससे बाहर निकालने के लिए कोई ठोस प्रयास नहीं किया।

सूत्रों ने यह भी कहा कि गांधी को एक महीने तक उनके इस्तीफे के कदम के बारे में विचार करने की राय भी प्रियंका ने ही दी थी। यहां तक कहा जा रहा है कि पिछले दो दिन से वह गांधी के संपर्क में हैं और उन्होंने कुछ काग्रेस नेताओं की कार्यशैली पर अपनी नाराजगी दर्ज की है। पिछले दो दिन से सोनिया गांधी, राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी समिति की बैठक के बाद पैदा हुई राजनीतिक स्थिति पर लगातार परस्पर विचार विमर्श कर रहे हैं। राहुल गांधी ने आवास पर मिलने आए पार्टी के कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की। इन नेताओं में श्रीमती सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी के अलावा राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट तथा पार्टी महासचिव के सी वेणुगोपाल शामिल थे।

Categories
National

चालाक केजरीवाल ने खेला मोदी कार्ड, ​बिलबिलाई कांग्रेस ने ली इस अधिकारी की शरण

कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी के नेता तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ समुदाय विशेष के लोगों से पार्टी को वोट नहीं देने संबंधी बयान को समाज को बांटने वाला करार देते हुए चुनाव आयोग से केजरीवाल पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

कांग्रेस के हरियाणा के अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रमुख औरंगजेब अली खान ने शनिवार को आयोग को इस संबंध में एक ज्ञापन दिया और कहा कि केजरीवाल का बयान समाज को जाति तथा समुदाय के आधार पर बांटने वाला है और उनके खिलाफ चुनाव प्रचार करने पर तत्काल रोक लगायी जानी चाहिए। केजरीवाल ने कहा था कि “दिल्ली में कोई हिंदू कांग्रेस को वोट नहीं देगा और मुसलमान भ्रमित हैं।”

खान ने कहा कि ऐसा बयान देकर केजरीवाल एक समुदाय विशेष को धमकाने का प्रयास कर रहे हैं। उनका कहना है कि हिंदू कांग्रेस को वोट नहीं देगा इसलिए दूसरे समुदाय के लोगों को भी इस पार्टी को वोट नहीं देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मुसलमानों को धमकाने का प्रयास है।

ज्ञापन में कहा गया है कि इस तरह के बयानों से समाज में दरार आती है। इस तरह का बयान देने वाले लोगों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जाती है तो इससे उनका उत्साह बढेगा इसलिए केजरीवाल के खिलाफ दिल्ली में चुनाव पूरा होने तक प्रचार पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

Categories
National

कांग्रेस के शासन में आतंकवाद कैंसर की तरह बढा, अब इसका इलाज होगा पक्का : मोदी

सोनगढ़| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद की तुलना कैंसर से करते हुए आज कहा कि कांग्रेस के शासन के दौरान पैदा हुए और पले-बढ़े आतंकवाद का उनकी सरकार की ओर से शुरू किया गया कड़ा इलाज आगे भी इसलिए जारी रहना चाहिए क्योंकि उपचार के बीच रूकने पर कैंसर की तरह ही यह दोबारा तेजी से फैल जायेगा।मोदी ने कहा कि यह उपचार लगातार जारी रखने के लिए भी उन्हेें दोबारा मौका दिया जाना चाहिए।उन्होंने भ्रष्टाचार काे एक और कैंसर बताते हुए कांग्रेस को ही इसके लिए जिम्मेदार ठहराया।प्रधानमंत्री ने अपने गृह राज्य गुजरात के तापी व्यारा जिले और बारडोली लोकसभा क्षेत्र के सोनगढ़ मे एक चुनावी सभा में यह बातें कहीं।

मोदी ने कहा, ‘एक जमाना था जब देश में आतंकी हमले होते थे तो सरकार हाथ पर हाथ रख कर बैठी रहती थी। मैने गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर अपने शासन के दौरान राज्य में आतंकियों के सभी स्लीपर सेल का सफाया करवा दिया। अब गुजरात में सभी चैन, सद्भावना और भाईचारे के साथ रहते हैं। ऐसे ही पूरे देश में ऐसे माहौल के लिए आतंकवाद का सफाया होना चाहिए और येन केन प्रकारेण (जिस तरह से भी संभव हो) इसे जड़ से उखाड़ा जाना चाहिए। इसे खाद पानी पड़ोस से मिलता है इसलिए मैने जो जरूरी था वह (एयरियल स्ट्राइक) कराया। अब कांग्रेसियों और विपक्ष को इसमें भी आपत्ति है और वे सबूत मांग रहे हैं। अरे भाई पाकिस्तान रो रहा है आवाज सुनो तो समझ आये पर इन्हें भारत के सपूतों पर विश्वास नहीं, पाकिस्तान के लोगों पर भरोसा है। ऐसे लोगों को क्या देश सौंपा जा सकता है।’

उन्होंने कहा कि आतंकवाद कैंसर जैसा है जो जन्मा, पला-बढ़ा कांग्रेस के जमाने में है। अगर इसके खिलाफ कार्रवाई बीच में बंद कर दो तो जैसे कैंसर की दवा बीच में बंद होने से बीमारी नहीं जाती वैसे ही कार्रवाई बीच में नहीं छोड़ी जा सकती है। और इसे उनके अलावा करेगा कौन। मोदी ने कहा, ‘देश में एक नाम बताओ जो अपना सिर लेकर आतंकवाद से मुकाबले के लिए निकलने को तैयार हो। एक बार यह आतंकवाद जाये तो सुख चैन की जिंदगी होगी। अभी तो मंदिर में जाओ तो भी पुलिस है और आतंकवाद के चलते प्रसाद की थैली तक की जांच करनी पड़ती है। आतंकवाद के कारण देश को सुरक्षा पर बड़ी रकम खर्च करनी पड़ती है। इस परिस्थित को बदलने की जरूरत है।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस देश का दूसरा कैंसर भ्रष्टाचार का है जिसे खत्म किया जाना चाहिए। गुजरात मेें उनके शासन काल में किसी ने उन पर एक ऊंगली नहीं उठायी। पूर्व मुख्यमंत्री तथा वरिष्ठ कांग्रेस नेता अमरसिंह चौधरी विधानसभा में कहते थे कि मोदी जादूगर है। पर अब कांग्रेस कहते है कि चौकीदार चोर है। पर तुगलक रोड चंदा घोटाले में पैसा कहां से निकल रहा है। यह कैसी जादूगरी है। अब मुझे पता चल रहा है कि क्यों कांग्रेसी नेता अपने भाषण में नोटबंदी पर बार-बार प्रहार क्यों करते थे। हाल में छापेमारी के दौरान पहले ही घंटे में 280 करोड़ रूपये बरामद हुए हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस गरीब बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए केंद्र सरकार की ओर से दिये गये पैसे से घोटाला करती है। ऐसे लोगों को जनता रूपी ईश्वर माफ नहीं करेगी। 15 साल तक मप्र में सत्ता से बाहर रहने के बाद वहां पैर रखने का मौका मिलते ही घोटाला करने वाली कांग्रेस को अगर पांच साल बाद केंद्र मेें सत्तावापसी का मौका मिला तो यह पांच मिनट भी नहीं लगायेगी। ऐसी लूट करने वालों को कभी भी दिल्ली की सत्ता में वापसी का मौका नहीं दिया जाना चाहिए।

उन्होंने यह भी दावा किया कि उनको हराने के लिए एक दूसरे के साथ हाथ मिला कर फोटो खिंचाने वाले विपक्षी दल अब आपस में ही लड़ रहे हैं। ऐसे लोगों जिनको न जनता की और न भविष्य की पड़ी है उन्हें देश देना नहीं चाहिए।मोदी ने कांग्रेस की घोषणा पत्र को ढकोलसा पत्र बताते हुए इस पर अपने आरोप दोहराये। उन्होंने पार्टी पर गुजरात विरोधी मानसिकता का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि देश को एक करने वाले सरदार पटेल आज अगर जीवित होते तो कश्मीर से सेना हटाने और देश को टुकड़े करने की बात कहने वालों के खिलाफ राजद्रोह की धारा नहीं लगाने की वकालत करने वाले इस घोषणा पत्र को एक मिनट के लिए स्वीकार नहीं करते।मोदी ने विश्वास जताया कि 23 मई को मतगणना के बाद दोबारा केंद्र मेें भाजपा की ही सरकार बनेगी।