Categories
Entertainment

Eid के गीत बेहद पसंद आते हैं दर्शको को Eid Mubarak

मुम्बई । रूपहले पर्दे पर ईद जैसे पवित्र त्योहार से जुड़े फिल्मों के गीत श्रोताओं को बेहद पसंद आते हैं । ये गीत कभी फिल्म के मुख्य आकर्षण हुआ करते थे लेकिन अब तो इस त्योहार की खूशबू फिल्मों में कम ही देखने को मिलती है।

राजा नवाथे की वर्ष 1958 में प्रदर्शित फिल्म ..सोहनी महिवाल ..एक ऐसी ही फिल्म थी जिसमें मशहूर गीत ..ईद का दिन तेरे बिन फीका ..फिल्माया गया था। मोहम्मद रफी और लता मंगेशकर की सुमधुर आवाज में रचे..बसे ईद के यह गीत आज भी लोकप्रिय है।सत्तर के दशक में कई फिल्मों में ईद पर आधारित गीत और दृश्य रखे गये। इनमें अमिताभ बच्चन और प्राण पर फिल्माया गीत ..यारी है इमान मेरा यार मेरी जिंदगी.. आज भी शिद्दत के साथ सुना जाता है। इसी तरह वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ..कुर्बानी ..में भी इस पर्व से जुडा ..तुझपे कुर्बां मेरी जान..गीत दर्शकों को बहुत पसंद आया था।

वर्ष 1982 में प्रदर्शित पिल्म ..तीसरी आंख ..में लक्ष्मीकांत प्यारे लाल के संगीत निर्देशन में मोहम्मद रफी की दिलकश आवाज में रचा बसा गीत ..ईद के दिन गले मिल ले राजा.. विशेष रूप से इस अवसर पर सुनने को मिलता है। वैसे भी अन्य दिनों भी जब यह गीत फिजाओं में गूंजता है तो यह श्रोताओं को अभिभूत कर देता है। निर्माता..निर्देशक सावन कुमार अक्सर अपनी फिल्मों में ईद से जुड़े दृश्य और गीत रखते आये हैं। इनमें वर्ष 1992 में सलमान खान अभिनीत फिल्म ‘सनम बेवफा’ खास तौर पर उल्लेखनीय है। फिल्म का यह गीत ..बिना ईद के ही चांद का दीदार हो गया.. श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुआ था। सावन कुमार ने …सलमा पे दिल आ गया .सनम हरजाई .जैसी फिल्मों में भी ईद पर आधारित गीत और दृश्य पेश किये।

वर्ष 1988 में प्रदर्शित फिल्म ..हीरो हिंदुस्तानी ..में भी ईद पर आधारित एक गीत फिल्माया गया था। अरशद वारसी अभिनीत इस फिल्म में सोनू निगम और अलका याज्ञनिक की दिलकश आवाज में गाया हुआ यह गीत ..चांद नजर आ गया.. ईद गीतों में अपना विशिष्ट मुकाम रखता है। इसी तरह वर्ष 2002 में प्रदर्शित फिल्म .तुमको ना भूल पायेगें ..में भी ईद का गीत फिल्माया गया था। सोनू निगम की दिलकश आवाज में प्रस्तुत यह गीत ..मुबारक ईद मुबारक ..श्रोताओं में काफी लोकप्रिय हुआ थे। इस गीत के बिना ईद के गीतों की कल्पना ही नही की जा सकती है।

इसी तरह समय समय पर ईद पर आधारित गीत फिल्मों में पेश किये गये। इन गीतों में …जिसे तू ना मिला उसे कुछ ना मिला.ईद का दिन है. नूरे खुदा .और अल्लाह के बंदे हंस दे .प्रमुख है। …कैसी खुशी लेकर आया चांद ईद का मुझे मिल गया बहाना तेरी दीद का ..जैसे गीत सत्तर..अस्सी के दशक तक सुनाई पड़ते थे लेकिन ऐसे गीत अब गीतकारों की कलम से नहीं निकल पा रहे है।

Categories
Entertainment

इस अभिनय से पहचान बनाई सलमान खान ने

हिरण शिकार मामले में दोषी करार दिये गये बॉलीवुड कलाकार सलमान खान का नाम उन गिने- चुने अभिनेताओं में शुमार किया जाता है जिन्होंने करीब तीन दशक से अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के दिल में एक ख़ास मुकाम बना रखा है।

salman khan

यह भी देखिये-घोटालों पर पर्दा डालने के लिए राजग सांसदों का भत्ता नहीं लेने का फैसला : कांग्रेस

सत्ताइस दिसंबर 1965 में मुंबई में जन्मे सलमान खान का मूल नाम अब्दुल राशिद सलीम सलमान खान है और उनके पिता सलीम खान फिल्म इंडस्ट्री के जाने-माने पटकथा और संवाद लेखक हैं। घर में फिल्मी माहौल रहने के कारण सलमान खान की रूचि भी फिल्मों की ओर हो गयी और वह अभिनेता बनने का ख्वाब देखने लगे। सलमान खान ने अपने करियर की शुरुआत 1988 में प्रदर्शित फिल्म बीबी हो तो ऐसी से की। इस फिल्म में सलमान खान की छोटी सी भूमिका निभायी थी। वर्ष 1989 में सलमान खान को राजश्री प्रोडक्शन के बैनर तले बनी फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ में काम करने का अवसर मिला। प्रेम कथा पर आधारित इस फिल्म में सलमान खान और भाग्यश्री की जोड़ी को दर्शकों ने बेहद पसंद किया।

यह भी देखिये- सलमान खान के लिए जेल में खतरा बन सकते है गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के गुर्गे इसी जेल में

सूरज बड़जात्या के निर्देशन में बनी फिल्म ‘मैंने प्यार किया’ सुपरहिट साबित हुई। इस फिल्म के लिये सलमान खान को फिल्म फेयर का सर्वश्रेष्ठ मेल डेब्यू अभिनेता का भी पुरस्कार मिला। ‘मैंने प्यार किया’ की सफलता के बाद सलमान खान दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में कुछ हद तक सफल हो गये। वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म सनम बेवफा सलमान खान के करियर की अहम फिल्मों में शुमार की जाती है। इसी वर्ष सलमान खान की फिल्म साजन प्रदर्शित हुयी। इस फिल्म में सलमान की जोड़ी माधुरी दीक्षित के साथ काफी पसंद की गयी। इस फिल्म में सलमान खान ने रोमांटिक अभिनय करने के साथ ही भावपूर्ण अभिनय कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।

यह भी देखिये-भाजपा सांसद ने योगी आदित्यनाथ सरकार पर बेइज्जत करने का लगाया आरोप

वर्ष 1994 में राजकुमार संतोषी निर्देशित फिल्म ..अंदाज अपना-अपना ..में सलमान खान के अभिनय का नया रंग देखने को मिला। इस फिल्म के पहले उनके बारे में यह बात की जाती थी कि वह केवल रूमानी भूमिका ही निभा सकते हैं लेकिन सलमान खान ने आमिर खान के साथ मिलकर अपने हास्य अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। सलमान खान को राजस्थान में जोधपुर की एक विशेष अदालत ने आज हिरण शिकार मामले में दोषी करार देते हुए पांच वर्ष के कारावास और 10 हजार रुपये का जुर्माना सुनाया है।