Categories
Business

Corona’s के दबाव में लगातार तीसरे सप्ताह लुढ़का शेयर बाजार

मुंबई । लॉकडाउन के बीच वाणिज्यिक गतिविधियाँ शुरू किये जाने के बावजूद कोविड-19 के बढ़ते मामलों की चिंता में पिछले सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों में एक फीसदी से अधिक की गिरावट रही।बाजार लगातार तीसरे सप्ताह लुढ़का है और जिस प्रकार कोविड-19 के नये मामले बढ़ रहे हैं, आने वाले सप्ताह में भी बाजार दबाव में रह सकता है। कोरोना वायरस के मामले बढ़ते हैं तो बाजार पर इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा। देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या अब एक लाख 32 हजार के करीब पहुँच चुकी है।

पिछले सप्ताह बीएसई का सेंसेक्स 425.14 अंक यानी 1.37 प्रतिशत लुढ़ककर 30,672.59 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 97.60 अंक यानी 1.07 प्रतिशत की साप्ताहिक गिरावट के साथ सप्ताहांत पर 9,39.25 अंक पर आ गया।मझौली और छोटी कंपनियों पर ज्यादा दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप दो प्रतिशत टूटकर सप्ताहांत पर 11,270.02 अंक पर और स्मॉलकैप 1.54 फीसदी गिरकर 10,524.23 अंक पर आ गया।पिछले सप्ताह सोमवार को ही शेयर बाजारों में करीब साढ़े तीन प्रतिशत की भारी गिरावट देखी गयी। सेंसेक्स 1069 अंक और निफ्टी 314 अंक टूट गया। इसके बाद पूरे सप्ताह बाजार वापसी नहीं कर सका। अगले तीन दिन लिवाली का जोर रहा जबकि शुक्रवार को एक बार फिर यह लाल निशान में बंद हुआ।

Categories
National

लगातार दूसरे दिन चढ़ा शेयर बाजार

मुंबई । विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के बीच घरेलू स्तर पर मजबूत निवेश धारणा से घरेलू शेयर बाजारों में आज दो फीसदी से अधिक तेजी रही।यह लगातार दूसरा दिन है जब बाजार बढ़त में बंद हुआ है।

बीएसई का सेंसेक्स 622.44 अंक यानी 2.06 प्रतिशत चढ़कर 30,818.61 अंक पर तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 187.45 अंक अर्थात् 2.11 फीसदी की बढ़त में 9,066.55 अंक पर बंद हुआ।

एशियाई बाजारों से मिले सकारात्मक संकेतों के दम पर घरेलू शेयर बाजारों में आज शुरू से ही तेजी रही।लॉकडाउन के चौथे चरण में लगभग सभी तरह की आर्थिक गतिविधियों की अनुमति देने से निवेशकों का विश्वास अर्थव्यवस्था में बढ़ा है।

इससे मझौली और छोटी कंपनियों में भी उन्होंने लिवाली की। बीएसई का मिडकैप 1.49 प्रतिशत चढ़कर 11,278.22 अंक पर और स्मॉलकैप 1.13 फीसदी की मजबूती के साथ 10,472.37 अंक पर पहुंच गया।

स्वास्थ्य, पूंजीगत वस्तुएं तथा टिकाऊ उपभोक्ता उत्पाद जैसे समूहों में लिवाली का अधिक जोर रहा। दूरसंचार को छोड़कर अन्य समूहों के सूचकांक भी हरे निशान में रहे।

महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर छह फीसदी के करीब, एचडीएफसी के साढ़े पांच प्रतिशत और एलएंडटी के करीब पांच फीसदी चढ़े। टाटा स्टील में भी चार प्रतिशत की बढ़त रही। इंडसइंड बैंक के शेयर तीन फीसदी के करीब टूटे।

Categories
National

आर्थिक पैकेज के ऐलान से शेयर बाजार में तूफानी तेजी

मुंबई । कोरोना वायरस से प्रभावित अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख रुपये के आर्थिक पैकेज के बल पर शेयर बाजार गिरावट से उबरते हुये तूफानी तेजी के साथ खुला।

बीएसई का सेंसेक्स 1470 अंकों की तेजी लेकर 32841.87 अंक पर खुला और शुरूआती कारोबार में ही यह लिवाली के बल पर 32845.48 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। हालांकि अभी सेंसेक्स 723 अंकों की तेजी के साथ 32094 अंक पर कारोबार रहा है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज एनएसई) का निफ्टी 382 अंकों की तेजी लेकर 9584.20 अंक पर खुला और लिवाली के बल पर यह शुरूआती कारोबार में ही 9585.50 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। हालांकि इसके बाद बिकवाली हुयी जिससे अभी यह 213 अंकों की तेजी लेकर 9409 अंक पर कारोबार रहा है।प्रधानमंत्री द्वारा किये गये आर्थिक पैकेज के ऐलान के संबंध में आज शाम चार बजे वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण विस्तृत जानकारी देंगी।

Categories
Off Beat

तेजस में सफर करेंगे लौकी, टमाटर, टिंडे, धनिया, खबर सुनते ही मुंह के बल जा गिरा……

देश में प्राइवेट ट्रेन चलाने का रास्ता साफ हो गया है. रेलवे 150 ट्रेनों को पब्लिक प्राइवेट पाटर्नरशिप के तहत चलाए जाएगा. देश के प्रमुख पर्यटन स्थलों को जोड़ने के लिए तेजस एक्सप्रेस ट्रेने चलाई जाएगी. रेलवे पीपीपी के जारिए किसान रेल चलाएगा. किसान रेल सेवा में रेफ्रिजरेटिड बोगिया भी होंगी, ताकि कृषि उत्पाद को आसानी और समय से बाजार तक पहुंचाया जा सके.

किसान रेल सेवा के अलावा किसानों की आय बढ़ाने और उनके उत्पादों को सही मूल्य दिलाने के लिए ‘किसान उड़ान योजना’ भी शुरु होगी. किसानों की उपज को विशेष विमान सेवा के जरिए एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाया जाएगा. इससे सामान जल्द बाजार में पहुंंच सकेगा. दूध, मांस समेत जल्द खराब होने वाली वस्तुओं को इस योजना के तहत पहुंचाया जाएगा.

किसान रेलगाड़ियां सार्वजनिक-निजी भागीदारी (पीपीपी) के तहत चलाने का प्रस्ताव है. इससे ऐसे उत्पादों की ढुलाई तेजी से हो सकेगी. चुनिंदा मेल एक्सप्रेस और मालगाड़ियों के जरिये जल्द खराब होने वाले सामान की ढुलाई के लिये रेफ्रिजरेटिड पार्सल वैन का भी प्रस्ताव है. जल्द खराब होने वाले फल, सब्जियों, डेयरी उत्पादों, मछली, मांस आदि को लंबी दूरी तक ले जाने के लिये इस तरह की तापमान नियंत्रित वैन की जरूरत है.

मोदी सरकार के दूसरे बजट में नौकरी पेशा करदाताओं को आयकर में राहत देने के साथ ही कंपनियों को लाभांश वितरण कर से मुक्ति देने की घोषणा की गई है. रसोई और भोजन की मेज पर इस्तेमाल होने वाले बर्तनों, बिजली के सामान से लेकर चप्पल जूते, फर्नीचर, स्टेशनरी और खिलौनों पर सीमा शुल्क बढ़ा दिया है. नई आयकर व्यवस्था में ढाई लाख रुपये तक की सालाना आय को पहले की तरह कर मुक्त रखा गया है जबकि ढाई लाख रुपये से लेकर पांच लाख रुपये की आय पर 5 प्रतिशत की दर से आयकर देय होगा. व्यक्तिगत आयकर की मौजूदा व्यवस्था में ढाई लाख रुपये की सालाना आय पूरी तरह से करमुक्त है. कंपनियों को लाभांश कर से निजात देने की भी बजट में घोषणा की गई. अब कंपनियों के बजाय लाभांश प्राप्त करने वाले को कर देना होगा. प्रत्यक्ष कर क्षेत्र में व्यापक सुधार उपायों को आगे बढ़ाते हुये पुराने विवादित कर मामलों का निपटान करने के लिये ‘‘विवाद से विश्वास’’ योजना की घोषणा की गई है. बैंक में जमा राशि पर बीमा सुविधा को मौजूदा एक लाख रुपये से बढ़ाकर पांच लाख रुपये करने की घोषणा की गई है. हालांकि, शेयर बाजार की प्रतिक्रिया काफी तीखी रही है. बंबई शेयर बाजार का सूचकांक बजट के बाद 988 अंक गिर गया.

Categories
Business

कभी ऊपर तो कभी नीचे कूदने से हो गई इसकी हालत खराब, अब विदेशी डाक्टर ही कर सकेंगे इलाज

वैश्विक स्तर से मिले मिश्रित रूझानों के बीच घरेलू स्तर पर आर्थिक विकास में सुस्ती आने की चिंताओं में निवेशकों के सतर्कता बरतने से सोमवार को शेयर बाजार गिरावट लेकर बंद हुआ तो दूसरे दिन मंगलवार को यूरोपीय बाजार से मिले सकारात्मक संकेत और घरेलू स्तर देश की प्रमुख दूरसंचार कंपनियों भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया लिमिटेड द्वारा दिसंबर से टैरिफ में बढोतरी करने की घोषणा से मिले समर्थन के बल पर शेयर बाजार में तेजी का रूख कायम रहा।

विशेषज्ञों का कहना है कि शेयर बाजार के बार—बार ऊपर—नीचे होने से अर्थव्यवस्था की हालत खराब हो रही है और अब इसका इलाज विदेश में बैठे विशेषज्ञ ही सुझा सकते हैं क्योंकि भारत में एक भी विशेषज्ञ ऐसा नहीं बचा जिसकी साख को केन्द्र सरकार अपने ऊटपंटाग तर्कों से धूल में नहीं मिलाया हो।
बीएसई का सेंसेक्स 72.50 अंक उतरकर 40284.19 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 1.20 अंक उतरकर 11894.25 अंक पर रहा। बीएसई में दिग्गज कंपनियों में जहां बिकवाली देखी गयी वहीं छोटी और मझौली कंपनियों में लिवाली का जाेर देखा गया जिससे बीएसई का मिडकैप 0.44 प्रतिशत बढ़कर 14837.53 अंक पर और स्मॉलकैप 0.27 प्रतिशत बढ़कर 13362.61 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 2771 कंपनियों में कारोबार हुआ जिसमें से 1154 बढ़त में और 1404 गिरावट में रहे जबकि 213 में कोई बदलाव नहीं हुआ।
बीएसई का सेंसेक्स 75 अंकों की तेजी के साथ 40431.08 अंक पर खुला और लिवाली के बल पर यह 40542.90 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। इसी दौरान शुरू हुयी बिकवाली के कारण 40221.97 अंक के निचले स्तर तक उतरा। अंत में यह पिछले दिवस के 40356.69 अंक की तुलना में 0.18 प्रतिशत अर्थात 72.50 अंक गिरकर 40284.19 अंक पर रहा।

 

एनएसई का निफ्टी 20 अंकाें की बढ़त लेकर 11915.15 अंक पर खुला और लिवाली के जोर से यह 11946.20 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। इसी दौरान बिकवाली होने से यह 11867.60 अंक के निचले स्तर तक फिसल गया। अंत में यह पिछले दिवस के 11895.45 अंक की तुलना में 1.20 अंक अर्थात 0.01 प्रतिशत गिरकर 11894.25 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल कंपनियों में से 29 बढ़त और 20 गिरावट में रहे जबकि एक में कोई बदलाव नहीं हुआ।
इधर बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 185.51 अंक बढ़कर 40469.70 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 55.60 अंक बढ़कर11940.10 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान मझौली कंपनियों में जहां बिकवाली देखी गयी वहीं छोटी कंपनियों में लिवाली का रूख रहा। बीएसई का मिडकैप 0.05 प्रतिशत उतरकर 14830.49 अंक पर रहा जबकि स्माॅलकैप 0.31 प्रतिशत चढ़कर 13404.51 अंक पर पहुंच गया।
वैश्विक स्तर पर अमेरिकी बाजार मिश्रित खुले। यूरोपीय बाजार में लगभग तेजी रही जबकि एशियाई बाजार मिलेजुले रहे। ब्रिटेन का एफटीएसई 1.22 प्रतिशत, जर्मनी का डैक्स 1.16 प्रतिशत, हांगकांग का हैंगसेंग 1.55 प्रतिशत और चीन का शंघाई कंपोजिट 0.85 प्रतिशत की बढ़त में रहा जबकि जापान का निक्की 0.53 प्रतिशत और दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.34 प्रतिशत की गिरावट में रहा।

बीएसई का सेंसेक्स 172 अंकों की तेजी के साथ 40456.36 अंक पर खुला। एशियाई बाजारों के कमजोर संकेतोे के कारण यह सत्र के मध्य में 40290.21 अंक के निचले स्तर तक फिसला लेकिन इसके बाद शुरू हुयी लिवाली के बल पर यह 40544.13 अंक के उच्चतम स्तर तक पहुंच गया। अंत में यह पिछले दिवस के 40284.19 अंक की तुलना में 0.46 प्रतिशत अर्थात 185.51 अंक बढ़कर 40469.79 अंक पर रहा।
एनएसई का निफ्टी 35 अंकों की बढ़त के साथ 11919.45 अंक पर खुला। बिकवाली के कारण यह 11881.75 अंक के निचले स्तर तक फिसला लेकिन लिवाली के जाेर से यह 11958.85 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। अंत में यह पिछले दिवस के 11884.50 अंक की तुलना में 0.47 प्रतिशत अर्थात 55.60 अंक बढ़कर 11940.10 अंक पर रहा। निफ्टी में शामिल कंपनियों में से 24 हरे निशान में और 26 लाल निशान में रही।

Categories
Business

मरियल रुपए पर फिर डॉलर का हमला, अब रह गई इतनी सी कीमत

पिछले छह साल से बेहद दवाब झेल रहे मरियल रुपए ने फिर एक बार डॉलर के सामने घुटने टेक दिए और गिरावट के साथ उसकी कीमत एक डॉलर के मुकाबले मात्र 69.50 पैसे रह गई।

दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के मुकाबले डॉलर और कच्चे तेल में तेजी तथा घरेलू शेयर बाजारों के लुढ़कने से अंतरबैंकिंग मुद्रा बाजार में रुपया शुक्रवार को 30 पैसे लुढ़ककर दो सप्ताह से अधिक के निचले स्तर 69.80 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया। भारतीय मुद्रा लगातार दूसरे दिन टूटी हैं। गुरुवार को यह 15 पैसे की गिरावट में 69.50 रुपये प्रति डॉलर पर रही थी।

रुपये पर आज आरंभ से ही दबाव रहा। यह पाँच पैसे फिसलकर 69.55 रुपये प्रति डॉलर पर खुला। शुरुआती कारोबार में ही इसने 69.52 रुपये प्रति डॉलर के दिवस के उच्चतम स्तर को छुआ। इसके बाद इसकी गिरावट और बढ़ गयी। कारोबार की समाप्ति से पहले 69.85 रुपये प्रति डॉलर के दिवस के निचले स्तर तक लुढ़कने के बाद गत दिवस की तुलना में 30 पैसे नीचे 69.80 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। यह 23 मई के बाद की सबसे बड़ी गिरावट और 30 मई के बाद का रुपये का निचला स्तर है।

ब्रिटेन का आइस क्रूड कच्चा तेल आज 0.06 डॉलर की मजबूती के साथ 61.37 डॉलर प्रति बैरल पर रहा। दुनिया की अन्य प्रमुख मुद्राओं के बास्केट में डॉलर का सूचकांक 0.10 प्रतिशत से ज्यादा चढ़ा। घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट रही और सेंसेक्स 289 अंक लुढ़ककर बंद हुआ। इन सभी कारकों ने रुपये पर दबाव बनाया।

Categories
Business

ये खबर सुनते ही ब्रेक डांस करने लगा शेयर बाजार, रोकने पर भी नहीं रुका

एग्जिट पोल में मोदी सरकार की पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी के संकेतों से उत्साहित निवेशकों की जबरदस्त लिवाली से बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को कारोबार के दौरान 1,341.00 अंक यानी 3.54 प्रतिशत की तेज छलांग लगाकर 39,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर के पार 39,271 .77 अंक पर पहुंच गया।

इस दौरान नेशनल स्टाॅक एक्सचेंज का निफ्टी भी 381.25 अंक यानी 3.34 प्रतिशत उछलकर 11,788.40 अंक पर पहुंच गया। शेयर बाजार में शुरू से ही तेजी का माहौल है। सेंसेक्स 770.41 अंक की भारी बढ़त के साथ 38,701.18 पर और निफ्टी भी 244.75 अंक की छलांग लगाकर 11,651.90 अंक पर खुला। अपराह्न दो बजे तक सेंसेक्स की मात्र दो कंपनियां बजाज ऑटो और इंफोसिस लाल निशान में हैँ जबकि शेष 28 हरे निशान में हैँ। बीएसई के सभी 20 समूहों के सूचकांक में तेजी जारी है।

विश्लेषकों के मुताबिक रविवार शाम जारी विभिन्न एग्जिट पोल में भारतीय जनता पार्टी नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के खाते में 545 में 339 से 354 के बीच सीटें आती दिख रही हैं। चुनाव परिणाम 23 मई को आने हैं।

निवेशक पहले से ही राजग सरकार की सत्ता वापसी के प्रति आश्वस्त हैं जिसे देखते हुए ऐसा माना जा रहा है कि चुनाव परिणाम आने तक बाजार में तेजी का माहौल बना रहेगा।

Categories
Business

मदमस्त हाथी की तरह झूम रहा है शेयर बाजार, अगले सप्ताह भरेगा हिरण की तरह कुलांचें

अच्छे मानसून के पूर्वानुमान और विदेशों से मिले सकारात्मक संकेतों के दम पर पिछले सप्ताह नये रिकॉर्ड को छूने वाले घरेलू शेयर बाजारों में आने वाले सप्ताह में निवेशकों का रुख कंपनियों के तिमाही परिणामों पर निर्भर करेगा। आने वाले सप्ताह में सेंसेक्स की कंपनियों में एक्सिस बैंक, मारुति सुजुकी, टाटा स्टील, हीरो मोटोकॉर्प और यस बैंक के परिणाम आने हैं। इनका असर बाजार पर दिख सकता है।

 

बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक 38,487.45 अंक और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 11,856.15 अंक के रिकॉर्ड स्तर को छूने में कामयाब रहा। सेंसेक्स 373.17 अंक यानी 0296 प्रतिशत की साप्ताहिक बढ़त के साथ सप्ताहांत पर 39,140.28 अंक पर और निफ्टी 109.35 अंक यानी 0.94 प्रतिशत की साप्ताहिक तेजी में 11,752.80 अंक पर बंद हुआ। मझौली और छोटी कंपनियों पर दबाव रहा। बीएसई का मिडकैप 0.28 प्रतिशत और स्मॉलकैप 0.01 प्रतिशत लुढ़क गया।

 

गत सप्ताह बुधवार को महावीर जयंती और शुक्रवार को गुड फ्राइडे के अवकाश के कारण बाजार में तीन ही दिन कारोबार हुआ। मौसम विभाग ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए मानसून का पहला पूर्वानुमान जारी किया जिसमें इस साल मानसून के सामान्य रहने की बात कही गयी है।
इससे सेंसेक्स 138.73 अंक और निफ्टी 46.90 अंक उछल गये। यही क्रम मंगलवार को भी जारी रहा। सेंसेक्स 369.80 अंक की छलाँग लगाकर 39,275.64 अंक के रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। निफ्टी भी 96.80 अंक चढ़कर 11,787.15 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान दोनों सूचकांकों ने बीच कारोबार का नया रिकॉर्ड स्तर भी बनाया।

 

गुरुवार को सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 38,487.45 अंक के रिकॉर्ड उच्चतम स्तर को छूने के बाद गिरावट में चला गया और अंतत: 135.36 अंक नीचे 39,140.28 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी 11,856.15 अंक के अब तक के रिकॉर्ड स्तर पर खुलने के बाद 34.35 अंक टूटकर 11,752.80 अंक पर रहा।

Categories
international

लंदन शेयर बाजार के लिस्टिंग समारोह में शामिल हो सकते है पहले भारतीय मुख्यमंत्री विजयन

तिरुवनंतपुरम| केरल के मुख्यमंत्री पिनारई विजयन आगामी 17 मई को लंदन शेयर बाजार में आयोजित केआईआईएफबी मसाला बांड के लिस्टिंग समारोह में शामिल ले सकते हैं।आधिकारिक सूत्रों के मुताबिक लंदन शेयर बाजार की ओर से विजयन को आमंत्रण भेजा गया है तथा मुख्यमंत्री कार्यालय केंद्र सरकार से विजयन के ब्रिटेन दौरे के लिए जल्द ही अनुमति मांगेगा। अगर केंद्र सरकार से अनुमति मिल जाती है तो यह पहला मौका होगा जब कोई भारतीय मुख्यमंत्री लंदन शेयर बाजार के लिस्टिंग समारोह में हिस्सा लेंगे।

उल्लेखनीय है कि केरल सरकार द्वारा नियंत्रित केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (केआईआईएफबी) के 2150 करोड़ रुपये के मसाला बांड अंतर्राष्ट्रीय सिक्योरिटीज मार्केट में सूचीबद्ध की जाएगी।इस बीच विपक्षी दल के नेता रमेश चेन्नीतला ने केआईआईएफबी के माध्यम से धन जुटाने की तीखी आलोचना की और आरोप लगाया कि इससे कनाडाई पेंशन फंड (सीडीपीक्यू) और घोटालेबाज एसएनसी लवलीन के बीच सीधा संबंध साबित करने के पर्याप्त संकेत हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि एसएनसी लवलीन केरल में वर्ष 1995 के हाईड्रोइलेक्ट्रिक घोटाले में शामिल था और उस समय विजयन ईके नायनार सरकार में बिजली मंत्री थे।

Categories
Business

आठवें दिन भी शेयर बाजार में गिरावट रही जारी

मुम्बई| एशियाई बाजारों से मिले मजबूत संकेतों के बावजूद टीसीएस, यस बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईटीसी जैसी दिग्गज कंपनियों में हुई बिकवाली के दबाव में घरेलू शेयर बाजार सोमवार को लगातार आठवें दिन लाल निशान में बंद हुए, बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 310.51 अंक लुढ़ककर 35,498.44 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 83.45 अंक की गिरावट में 10,640.95 अंक पर बंद हुआ।

विदेशी बाजारों से मिली सकारात्मक खबरों के दम पर सेंसेक्स सुबह बढ़त के साथ 35,831.18 अंक पर खुला और शुरुआती पहर में 35,912.44 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर तक पहुँचा। हालाँकि, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के तीन माह के उच्चतम स्तर पर पहुँचने से निवेशकों में जल्द उदासीनता हावी हो गयी और सेंसेक्स लुढ़कता हुआ 35,470.76 अंक के दिवस के निचले स्तर पर आ गया। वेनेजुएला और ईरान के निर्यात पर लगे अमेरिकी प्रतिबंध के कारण लंदन का ब्रेंट क्रूड वायदा 0.6 प्रतिशत की तेजी के साथ 66.65 डॉलर प्रति बैरल पर पहुँच गया।

निवेशक पुलवामा हमले के कारण बदले राजनीतिक परिदृश्य पर भी नजर बनाये हुए हैं। आगामी लोकसभा चुनाव की आहट भी निवेश धारणा पर दिखने लगी है। अंत में सेंसेक्स गत दिवस की तुलना में 0.87 प्रतिशत की गिरावट में 35,498.44 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 23 कंपनियाँ लाल निशान में और सात हरे निशान में रहीं।

निफ्टी भी सेंसेक्स की तरह तेजी के साथ 10,738.65 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 10,759.90 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर और 10,628.40 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.78 प्रतिशत फिसलकर 10,640.95 अंक पर बंद हुआ।