Categories
Off Beat

परछाई से पीछा छुड़ाना चाहते हैं तो इस शहर में चले जाइए, शरीर से अलग हो जाएगी आपकी परछाई

क्या आप अपनी परछाई को अपने शरीर से अलग होते देखने की चाहत रखते हैं। अगर हां तो आप इस सपने को साकार कर सकते हैं लेकिन इसके लिए आपको मामूली सी मशक्कत करनी होगी। आपको कर्क रेखा के नजदीक बसे शहर में एक दिन के लिए जाना होगा। चिंतित मत होइए, ये शहर भारत में ही है और बहुत मामूली खर्चे में आप वहां पहुंचकर दोपहर ठीक 12 बजकर 28 मिनट पर अपनी परछाई गायब होने का करिश्मा नंगी आंखों से देख सकते हैं।

आपको मध्यप्रदेश के उज्जैन शहर में जाना होगा। उज्जैन में 21 जून को परछाई को गायब होते देखने के लिए भारी भीड़ जुटती है। 21 जून से ही देश में दिन धीरे-धीरे छोटे और रातें बड़ी होने लगेंगी। मध्यप्रदेश के उज्जैन स्थित शासकीय जीवाजी वेधशाला के अधीक्षक डॉ. राजेन्द्र प्रकाश गुप्त के अनुसार 21 जून को सूर्य के अपने अधिकतम उत्तरी बिन्दु कर्क रेखा पर होने के कारण उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे बड़ा तथा रात्रि सबसे छोटी होती है। 21 जून के बाद दिन धीरे-धीरे छोटे होने लगेंगे और 23 सितम्बर को दिन-रात बराबर होंगे।

उन्होंने बताया कि 21-22 जून को उज्जैन में सूर्योदय सुबह पांच बज कर 42 मिनट पर तथा सूर्यास्त शाम सात बज कर 16 मिनट पर होगा। इस प्रकार दिन सबसे बड़ा 13 घंटे 34 मिनिट तथा रात्रि 10 घंटे 26 मिनिट की होगी। 22 जून के बाद सूर्य की दक्षिण की ओर गति प्रारम्भ हो जायेगी। इसे दक्षिणायन प्रारम्भ कहते हैं।

उन्होंने बताया कि वेधशाला में इस खगोलीय घटना को देखने की व्यवस्था की गई है। धूप होने पर दोपहर 12 बजकर 28 मिनिट पर शंकु यंत्र के माध्यम से परछाई को गायब होते प्रत्यक्ष देख सकते हैं। उज्जैन कर्क रेखा के नजदीक स्थित है, इसलिये 21 एवं 22 जून को दोपहर 12 बजकर 28 मिनिट पर सूर्य की किरणों के लम्बवत होने के कारण परछाई शून्य हो जायेगी।