Categories
National

विपक्षी दलों के ‘भारत बंद’ का रहा मिला-जुला असर

नयी दिल्ली । पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों और रुपये के मूल्य में गिरावट के विरोध में कांग्रेस की अगुवाई में विपक्षी दलों के ‘भारत बंद’ का सोमवार को मिला-जुला असर रहा और कुछ स्थानाें पर तोड़-फोड़ की घटनाओं को छोड़कर यह शांतिपूर्ण रहा।

'Bharat Bandh

कांग्रेस नेतृत्व में 21 दलों के इस भारत बंद के दौरान बिहार और महाराष्ट्र में कुछ स्थानों पर रेलगाड़ियों को रोके जाने तथा बसों और अन्य वाहनों में तोड़ फोड़ करने एवं जबरन बाजार बंद कराने की घटनाएं सामने आयी। कांग्रेस ने सुबह नौ बजे से अपराह्न तीन बजे तक आयोजित बंद के सफल हाेने का दावा किया है।राष्ट्रीय राजधान दिल्ली में अध्यक्ष राहुल गांधी तथा कुछ अन्य विपक्षी नेताओं ने बंद की शुरूआत पर सुबह राजघाट जाकर महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्प चढ़ाकर श्रद्धांजलि अर्पित की और वहां से रामलीला मैदान तक रैली निकाली। विपक्षी नेताओं ने रामलीला मैदान में कुछ देर धरना भी दिया जिसमें गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद एवं अशोक गहलोत, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार, लोकतांत्रिक जनता दल के शरद यादव, राष्ट्रीय जनता दल के जयप्रकाश नारायण यादव, राष्ट्रीय लोकदल के जयंत चौधरी, आम आदमी पार्टी के संजय सिंह और आरएसडी के एन के प्रेमचंद्रन समेत विभिन्न दलों नेता मौजूद थे। इन नेताओं ने आरोप लगाया कि आम आदमी पेट्रोल और डीजल की कीमतों और महंगाई से त्रस्त है लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस पर चुप्पी साधे हुए हैं।

 

पटना में बंद समर्थकों ने प्रमुख डाक बंगला चौराहे पर प्रदर्शन करके यातायात बाधित कर दिया। इस दौरान बंद समर्थकों ने कई वाहनों के शीशे तोड़ दिये। बंद के दौरान दानापुर, बेलीरोड और मनेर में सड़क पर टायर जलाकर यातायात को बाधित किया गया। राज्य के सभी जिलों में बंद का व्यापक असर देखा गया।बिहार में भारत बंद के समर्थन में कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), जन अधिकार पार्टी (जाप), समाजवादी पार्टी (सपा) और लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के नेता और कार्यकर्ता सुबह से ही सड़कों पर उतर आये और जगह-जगह सड़क तथा रेल यातायात रोकने तथा दुकानों को बंद कराने की कोशिश की। इसी दौरान जाप के कार्यकर्ताओं ने पटना में राजेन्द्र नगर टर्मिनल पर पूर्व मध्य रेलवे के कर्मचारियों को हाजीपुर ले जाने वाली बस के शीशे तोड़ दिये। नालंदा मेडिकल कॉलेज जा रहे एक डाक्टर के साथ बंद समर्थकों ने दुर्व्यवहार किया।देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई में पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती कीमतों के विरोध में भारत बंद के दौरान उपनगर अंधेरी में कांग्रेस नेताओं ने ट्रेन रोकने का प्रयास किया और पुणे में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के कार्यकर्ताओं ने एक बस में तोड़फोड़ की। शिवसेना ने हालांकि इस बंद का विरोध किया।

 

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष अशोक चव्हाण, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष संजय निरुपम, वरिष्ठ नेता माणिकराव ठाकरे और अन्य नेताआें को अंधेरी रेलवे स्टेशन पर ‘ट्रेन रोको’ अभियान के दौरान हिरासत में लिया गया। मनसे के कार्यकर्ताओं ने घाटकोपर-अंधेरी मेट्रो रेल लाइन को डी एन नगर स्टेशन पर अवरूद्ध कर दिया। चेंबूर स्टेशन पर भी ट्रेन रोकी गयी। प्रतीक्षानगर डिपो और वाशी नाका में सरकारी बेस्ट की बसों पर पथराव की रिपोर्ट भी मिली है।पंजाब में कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद भारत बंद का असर मिला-जुला ही रहा। राज्य के कई जिलों में बाजार बंद रहे। कांग्रेस कार्यकर्ता जगह-जगह दुकानदारों से बंद को सफल बनाने में सहयोग की अपील करते और बाजार और दुकानें बंद कराते देखे गए। पंजाब में गुरू ग्रंथ का पहला प्रकाश पर्व होने के कारण सरकारी कार्यालयों तथा सभी स्कूल और कॉलेजों में अवकाश रहा। सड़कों पर बसें दाैड़ती नजर आयीं। समूचे राज्य में बंद का मिला-जुला असर दिखाई दिया।हिमाचल प्रदेश में भारत बंद का मिला-जुला असर रहा। शिमला सहित बड़े शहरों में व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे तथा निजी बसें नहीं चलीं जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सरकारी संस्थानों को छोड़कर, स्कूल, कार्यालय, बैंक और राज्य ट्रांसपोर्ट बंद रहे। दुकानें तथा व्यापारिक प्रतिष्ठान और होटल भी बंद रहे।

Categories
National

शिव ही ब्रह्माण्ड हैं : राहुल

नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कैलास मानसरोवर यात्रा के आठवें दिन शुक्रवार को अपनी पहली तस्वीर भेजने के साथ ही हिमाच्छादित कैलास के आसपास की पर्वत श्रृंखलाओं का वीडियो भी भेजा और कहा कि ‘शिव ही ब्रह्माण्ड हैं।’

rahul gandhi
rahul gandhi

 

गांधी ने इस यात्रा का पहला वीडियो भी भेजा है, जिसमें हिमाच्छादित हिमालय का विहंगम दृश्य है। इसके साथ उन्होंने एक वाक्य में ट्वीट किया, ‘शिव ही ब्रह्माण्ड हैं।

बाद में पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पेज पर उनकी इस यात्रा का चित्र पोस्ट किया है, जिसमें गांधी कैलास पर्वत के सामने खड़े हैं। पार्टी ने इस चित्र के साथ लिखा, “नफरत करने वाले सभी लोगों को पीछे छोड़कर कांग्रेस अध्यक्ष आगे की राह दिखा रहे हैं। क्या आप भी ऐसा कर सकते हैं।”

पिछले दो दिन से कांग्रेस अध्यक्ष कैलास और मानसरोवर की तस्वीरें साझा कर रहे हैं। गुरुवार को उन्होंने लिखा कि वहां का माहौल निर्मल, निर्द्वंद्व, सुखद और सकूनभरा है। कांग्रेस अध्यक्ष 31 अगस्त से कैलास मानसरोवर यात्रा पर है और उन्होंने पहली बार बुधवार को वहां की कुछ तस्वीरें साझा की थी।

[divider style=”dashed” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

राहुल गांधी का विमान ऐसे हुआ अनकंट्रोल, एक बार तो नीचे गिरने लगा, पढ़ें पूरी रिपोर्ट

नयी दिल्ली। कर्नाटक चुनाव प्रचार के लिए गत 26 अप्रैल को दिल्ली से हुबली जाते समय कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के विमान में तकनीकी खराबी आने से वह अचानक 735 फुट नीचे चला गया था और पायलट ने विमान को बचाने के लिए हरकत में आने में देरी की थी। यह बात नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) की रिपोर्ट में कही गयी है।

Rahul Gandhi

 

कांग्रेस ने उस समय इस घटना में साजिश का आरोप लगाया था जिसके बाद नागरिक उड्डयन मंत्री ने जाँच का आश्वासन दिया था। लिगेयर एविएशन के उस विशेष विमान में दो पायलट, एक केबिन क्रू और एक इंजीनियर के अलावा गाँधी समेत पाँच यात्री सवार थे।

Rahul Gandhi,

 

डीजीसीए की शुक्रवार को सार्वजनिक की गयी रिपोर्ट में कहा गया है कि विमान ने भारतीय समयानुसार सुबह 9.23 बजे दिल्ली से उड़ान भरी थी और एक घंटे 39 मिनट बाद हैदराबाद के पास ऑटो पायलट फेल हो गया। उस समय विमान 41 हजार फुट की ऊँचाई पर उड़ान भर रहा था। दोनों पायलट ऑटो पायलट को ‘डिसइंगेज’ करने में लग गये थे जबकि इसी दौरान विमान दाहिनी ओर झुकने लगा। पंद्रह सेकेंड में विमान 65 डिग्री तक झुक गया था। तब पालयट ने मैनुअल कंट्रोल की कोशिश की, लेकिन उन्होंने यह ध्यान नहीं दिया कि विमान नीचे की ओर जा रहा है। पंद्रह सेकेंड में विमान 125 फुट नीचे चला गया था।

Rahul Gandhi
Rahul Gandhi

 

अगले नौ सेकेंड में जब तक पायलटों ने विमान के झुकने पर नियंत्रण पाया तब तक विमान 610 फुट और नीचे चला गया था। इस प्रकार 24 सेकेंड में विमान 735 फुट नीचे चला गया।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पायलटों ने हरकत में आने में थोड़ी देरी कर दी लेकिन फिर उन्होंने नियंत्रण कर लिया। उड़ान भरने के दो घंटे 10 मिनट बाद विमान हुबली में सुरक्षित उतरा।

Categories
National

केरल में बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करे सरकार: कांग्रेस

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने केंद्र सरकार से बाढ़ग्रस्त केरल की प्राथमिकता से मदद करने की अपील करते हुए आज कहा कि राज्य में बाढ़ से भारी तबाही और जान माल के नुकसान को देखते इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाना चाहिए।

 

 Kerala

कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने  यहां पत्रकारों से कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की अध्यक्षता में पार्टी के महासचिवों, प्रभारियों, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों, विधायक दल के नेताओं की बैठक हुई जिसमें देश के हालात पर चर्चा की गयी और महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए।उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने केंद्र सरकार से केरल में बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने और राज्य की प्राथमिकता से मदद करने की मांग की है। बैठक में कहा गया कि राज्य में तीन हजार करोड़ रुपये के नुकसान के मुकाबले में बहुत ही कम राहत दी गयी है। पार्टी का मानना है कि यह मदद नाकाफी है आैर इसमें इजाफा किया जाना चाहिए।

 

congress,,,

बैठक में गाँधी ने कहा कि बाढ़ राहत में राजनीति नहीं हो सकती और भाजपा तथा गैर भाजपा सरकारों में भेदभाव नहीं हो सकता। बैठक में निर्णय लिया गया कि पार्टी के सभी सांसद, लोकसभा और राज्यसभा सांसद, पूरे देश के विधायक एक महीने का वेतन केरल में बाढ़ राहत के लिए देंगे।सुरजेवाला ने बताया कि गाँधी के दिशा-निर्देश पर केरल वासियों की मदद के लिए कांग्रेस की राज्य सरकारों ने मदद दी है। पंजाब सरकार ने 10 करोड़, कर्नाटक सरकार ने 10 करोड़ और पुडुचेरी सरकार ने केरल सरकार को एक करोड़ रुपए की राशि बाढ़ राहत सहायता के रुप में भेजी है। इसके अलावा पुडुचेरी, तमिलनाडु और कर्नाटक में राहत समितियों का गठन किया गया है जो भोजन सामग्री, दवाई, कपड़े इत्यादि बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में भेजेंगी।

 

Congress President Rahul

इससे पहले गांधी ने ट्वीट कर कहा, “ प्रिय प्रधानमंत्री, कृपया बिना देरी किये केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करें। हमारे करोड़ों लोगों का जीवन, आजीविका और भविष्य दांव पर है।” उन्होंने एक ट्वीट कर मोदीसे बाढ़ प्रभावित केरल को विशेष मदद देने का अनुरोध भी किया

Categories
National

केरल में बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करें नरेन्द्र मोदी: राहुल गांधी

।नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल में बाढ के कारण हुई तबाही को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से इसे राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है।

Rahul Gandhi

गांधी ने ट्वीट कर कहा, “ प्रिय प्रधानमंत्री, कृपया बिना देरी किये केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करें। हमारे करोड़ों लोगों का जीवन, आजविका और भविष्य दांव पर है।

Rahul Gandhi Narendra Modi

इससे पहले गांधी ने एक ट्वीट कर मोदी से बाढ़ प्रभावित केरल को विशेष मदद देने का अनुरोध किया था।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “ केरल बहुत दुख में हैं। मैनें प्रधानमंत्री से बात की है और उनसे सेना तथा नौसेना के जवानों की तैनाती बढ़ाने का अनुरोध किया है। मैंने उनसे कहा है कि यह संकटपूर्ण स्थिति है। राज्य के इतिहास में यह सबसे भयानक बाढ़ है इसलिए राज्य को विशेष मदद देनी चाहिए।”

Narendra Modi

इस बीच मोदी ने बाढ़ की आपदा से जूझ रहे केरल को 500 करोड़ रूपये की अंतरिम राहत देने की घोषणा की है। उन्होंने राज्य में केरल में कुछ बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा किया। उन्होंने बाढ़ के कारण हुई असामयिक मौतों और संपत्तियों के नुकसान पर गहरा दुख जताया। राज्य में बाढ़ के हालात का जायजा लेने पहुंचे मोदी ने एक समीक्षा बैठक की। मौसम में सुधार के बाद उन्होंने बाढ़्र से प्रभावित कुछ इलाकों का हवाई सर्वे किया।

[divider style=”dashed” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

 

Categories
National

लोकसभा चुनाव के बाद मोदी सरकार की सत्ता में वापसी नहीं: राहुल गांधी

हैदराबाद। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि 2019 के आम चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार की सत्ता में वापसी का सवाल ही नहीं उठता।

 Rahul Gandhi

गांधी यहां यहां प्रिंट और इलेक्ट्रानिक मीडिया के संपादकों के साथ बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनावों के बाद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के बहुमत के आंकड़े 230 सीटों तक पहुंचना असंभव है। उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा विश्वास है कि कांग्रेस केन्द्र और तेलंगाना में सत्ता हासिल करेगी। इसी के साथ ही आंध्र प्रदेश में भी कांग्रेस की स्थिति सुधर रही है।

Narendra Modi Rahul Gandhi

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश में असमानता और बेरोजगारी बढ़ रही है। राेजगार सृजित किये जाने की तत्काल आवश्यकता है। चीन में 24 घंटे में 50 हजार नयी नौकरियां सृजित की जाती हैं जबकि भारत में मात्र 458 नौकरियां ही सृजित हो पाती हैं। लघु एवं मध्यम उद्योगों को बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी से देश की अर्थव्यवस्था को बहुत नुकसान पहुंचा है।
कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश में अल्पसंख्यक भय के साये में जी रहे हैं।

Rahul Gandhi

गांधी ने अपनी शादी के सवाल पर बचते हुए कहा कि उनका कांग्रेस पार्टी के साथ पहले ही ‘विवाह’ हो चुका है।

[divider style=”dashed” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

रामनाथ कोविंद नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी ने सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक जताया

नयी दिल्ली । राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी समेत विभिन्न मंत्रियों एवं राजनीतिक हस्तियों ने पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

 Ramnath Kovind

 

कोविंद ने अपने शोक संदेश में कहा है कि सदन में अपनी सशक्त छाप छोड़ने वाले चटर्जी का निधन न केवल पश्चिम बंगाल, बल्कि पूरे देश के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उन्होंने ट्वीट किया , “ दिवंगत नेता के परिजनों एवं उनके अनगिनत प्रशंसकों के प्रति मैं गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं।’मोदी ने चटर्जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए अपने संदेश में कहा , “ पूर्व सांसद एवं पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी भारतीय राजनीति के एक कद्दावर नेता थे। उन्होंने हमारे संसदीय लोकतंत्र को मजबूत किया। वह गरीबों और कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए हमेशा आवाज उठाते थे। मोदी ने उनके परिवार तथा समर्थकों के प्रति संवेदना व्यक्त की।

 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। गांधी ने अपने शोक संदेश में कहा, चटर्जी 10 बार सांसद रहे। वह अपने आप में एक संस्थान थे। सभी सांसद पार्टी लाइन से परे उनका सम्मान करते थे। उनके शोकाकुल परिवार के प्रति मेरी संवदेनायें।तृणमूल कांग्रेस प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उनके निधन को सबके लिए एक बड़ी क्षति बताया। बनर्जी ने ट्विटर पर लिखा , “ पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी के निधन पर मैं स्तब्ध हूं। उनके परिजनों और शुभचिंतकों के प्रति मेरी गहन संवेदनायें। यह सबके लिए एक बड़ी क्षति है।”

 

Rahul Gandhi Narendra Modi

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त और कहा, “ पूर्व लोकसभा सोमनाथ चटर्जी जी के निधन पर मैं शोक व्यक्त करता हूं। भारतीय राजनीति को समृद्ध किये जाने के परिप्रेक्ष्य में उनका योगदान स्मरणीय रहेगा। वह एवं अनुभवी सांसद रहे। ‘केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी चटर्जी के निधन पर शोक व्यक्त किया। नकवी ने अपने शोक संदेश में कहा, ‘ मैं लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी जी के निधन से बहुत दुखी हूं। वह एक प्रतिष्ठित सांसद और अनुभवी राजनेता थे। उनका निधन देश के लिए एक अपूरणीय क्षति है। उनके परिवार के सदस्यों और शुभचिंतकों के प्रति मेरी संवेदना। ‘दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल चटर्जी के निधन पर अपने शोक संदेश में कहा सोमनाथ चटर्जी के बारे में यह अत्यंत दुखदायी समाचार है। वह समकालीन सांसदों में सर्वश्रेष्ठ थे और देश को हमेशा उनकी कमी खलेगी। वह देश के अब तक के सर्वश्रेष्ठ लोकसभा अध्यक्ष के रूप में याद किये जाएंगे।

Categories
National

संसद में आंख मारने के बाद फिर राहुल ने आंख मारी, राष्ट्रगान के दौरान हंसी से हुए लोटपोट

जयपुर। लगता है राहुल गांधी अपनी छवि को और चार चांद लगाने के चक्कर में उलटा पुलटा कर रहे हैं। पहले राहुल ने संसद में पीएम मोदी को गले लगाने के बाद आंख मारी जो पूरे देश ने कैमरे पर देखा। अब जयपुर दौरे के दौरान भी राहुल अजीब हावभाव करते दिखे।

 

जयपुर दौरे पर जब राहुल मंच पर सचिन पायलट, अशोक गहलोत व अन्य नेताओं के साथ खड़े थे। इस दौरान तीनों नेता किसी बात को लेकर हंस—हंसकर लौटपोट हो रहे थे। ना जाने ऐसी क्या बात थी जिस पर तीनों की हंसी रूकने का नाम नहीं ले रही थी। इसी बीच मंच से राष्ट्रगान गाना शुरू हो गया। तब भी इनकी कॉमेडी चालू रही। हालांकि थोड़ी देर बाद ही उन्हें अचानक लगा कि राष्ट्रगान चल रहा है तो तीनों नेता सावधान की मुद्रा में आ गए।

 

इससे पहले राहुल और सचिन पायलट में एक और बात हुई। राहुल ने सचिन को अशोक गहलोत से गले मिलने को कहा। राहुल के कहने पर सचिन गले मिले। इस दौरान एक बार ​फिर से राहुल की आंख पर कंट्रोल नहीं रहा। चूंकि ये सारा कार्यक्रम कांग्रेस के सोशल मीडिया पेज से लाइव था, हर पल कैमरे में लोगों ने लाइव देखा।

 

 

देखते ही देखते राहुल के ये नए वीडिया सोशल मीडिया पर वायरल हो गए। लोगों ने राष्ट्रगान का अपमान बताकर राहुल और कांग्रेस को खरी—खोटी सुनाई। साथ ही कुछ लोगों ने वो वीडियो जवाब में शेयर किए जिसमें बीजेपी नेता भी ऐसे मौकों पर कैमरे में कैद हुए थे।

 

Categories
National

राजस्थान मेें पेट्रोल—डीजल सस्ता करने का वादा कर गए राहुल गांधी

जयपुर। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि केन्द्र में कांग्रेस सत्ता में आयी तो पेट्रोल और डीजल को भी वस्तु सेवा कर (जीएसटी) में शामिल कर इसकी दरों में एकरूपता लायी जायगी।

 

Rahul Gandhi,

गांधी ने आज यहां कांग्रेस प्रतिनिधि सममेलन में पार्टी के चुनाव प्रचार अभियान का शंखनाद करते हुये कहा कि केन्द्र द्वारा पांच स्तरों पर लागू किया गया जीएसटी से देश के प्रत्येक वर्ग को भारी नुकसान हुआ है और इसका मुख्य फायदा कुबेरपतियों और बडे उद्योगपतियों को पहुंचा हैं।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस देश में जीएसटी एक समान कर पद्धति लागू करने की पक्षधर रही है और इसीलिये वह सरकार के जीएसटी विधेयक की पक्षधर नहीं थी। केन्द्र की मोदी सरकार ने जीएसटी के लिये पांच अलग अलग दरें लागू की और इसमें पेट्रोल और डीजल को शामिल नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनावों परिणामों में कांग्रेस सरकार बनाती है तो जीएसटी की दरों में एकरूपता लायेगी और पेट्रोल तथा डीजल को भी इसमें शामिल कर लेगी जिससे महंगाई पर रोक लगेगी।

[divider style=”dashed” top=”10″ bottom=”10″]

 

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

कांग्रेस क्यों नहीं चाहती कि मुस्लिम महिलाओं को उनका हक मिले, जाने पूरा माजरा

नयी दिल्ली। सरकार ने संसद के मानसून सत्र को सामाजिक न्याय के लिए समर्पित बताया है और कांग्रेस की दलितों, पिछड़ों और मुस्लिम महिलाओं के हक के लिए आगे नहीं आने के लिए आलोचना करते हुए देश में उसके विरुद्ध राजनीतिक आंदोलन छेड़ने का आह्वान किया है।

 

संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार, संसदीय कार्य राज्य मंत्री विजय गोयल एवं अर्जुनराम मेघवाल ने आज यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बीता मानसून सत्र विगत बीस वर्षों में सर्वाधिक सार्थक सत्र रहा है। लोकसभा ने 118 प्रतिशत और राज्यसभा ने 74 प्रतिशत काम किया है।

 

उन्होंने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह रही कि सरकार ने लोकसभा में विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव को पराजित कर दिया जिससे संदेश गया है कि भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) और राजग के बाहरी सहयोगी एकजुट हैं तथा राज्यसभा के उपसभापति के चुनाव में भी यही बात दोबारा साबित हुई है। उन्होंने कहा, ‘हमने दिखा दिया कि हमारी सहयोगी पार्टियां हमारे साथ हैं और हमें राजग के बाहर के दलों का भी समर्थन हासिल है। पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार टकराव की मुद्रा में हैं।’

Congress
Congress

 

कुमार ने कहा कि मानसून का सत्र सामाजिक न्याय के पर्व के सत्र के रूप में बदल गया। संविधान सभा में उठी मांग और 1955 में काका कालेलकर की रिपोर्ट में की गयी सिफारिश को दशकों बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने लागू किया अौर राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा दिया। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही अनुसूचित जाति/जनजाति अत्याचार निवारण विधेयक को पारित करके उच्चतम न्यायालय के फैसले से इस कानून में आयी ढिलाई को दुरुस्त किया है।

उन्होंने कहा कि तीसरा महत्वपूर्ण विधेयक मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक से निजात दिलाने वाला विधेयक था जिसे उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर लाया गया था और इसे लोकसभा से आम सहमति से पारित किया जा चुका है लेकिन राज्यसभा में कांग्रेस के विरोध के कारण पेश नहीं किया जा सका।

उन्होंने कहा कि ऐसा करके पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल में आये शाहबानो मामले जैसा इतिहास कांग्रेस ने इस बार पुन: दोहराया है। शाहबानो मामले में कांग्रेस ने तलाकशुदा महिला को गुजाराभत्ते से महरूम करके मुस्लिम महिलाओं का हक मारा था और इस बार विवाहित मुस्लिम महिलाओं पर सवार रहने वाले तीन तलाक के भय को दूर करने के प्रयास को बाधित किया है।

कुमार ने कहा कि कांग्रेस ने मुस्लिम महिलाओं के साथ दोबारा बहुत बड़ा विश्वासघात किया है। यह मामला कोई राजनीतिक लड़ाई नहीं है बल्कि सामाजिक संघर्ष है। लैंगिक समानता एवं सामाजिक न्याय के लिए कांग्रेस के दोहरे रवैये को जनता के बीच उजागर करने के लिए देशभर में अहिंसात्मक शांतिपूर्ण राजनीतिक आंदोलन छेड़ा जाना चाहिए ताकि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और सोनिया गांधी पर तीन तलाक वाले विधेयक को जल्द से जल्द पारित कराने का दबाव बन सके। उन्होंने कहा कि सरकार ने लोकसभा से पारित विधेयक में विपक्ष की दलीलों के अनुरूप तीन संशोधन भी कर दिए हैं। इसके बावजूद राज्यसभा में इसका समर्थन नहीं करने का क्या कारण है, यह कांग्रेस को बताना चाहिए।

राज्यसभा के कामकाज के बारे में गोयल ने बताया कि सरकार द्वारा विपक्षी नेताअों से सत्र के पहले से ही व्यक्तिगत संपर्क करने और जनता के हितों से जुड़े विधेयकों पर उनकी आपत्तियों का समाधान किये जाने के कारण राज्यसभा की उत्पादकता अधिक रही। उन्होंने राज्यसभा में भाजपा के अध्यक्ष एवं नवनिर्वाचित सांसद अमित शाह को दो बार बोलने से रोके जाने पर कड़ा ऐतराज जाहिर किया और कहा कि विपक्ष भ्रमित था। उसके पास राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर और किसानों को उनकी फसल के न्यूनतम समर्थन मूल्य को लागत का डेढ़ गुना किये जाने के मुद्दे पर बोलने के लिए कुछ नहीं था। इसलिए शोर शराबा करके भाजपा अध्यक्ष को बोलने नहीं दिया। इससे पहले भी प्रधानमंत्री को भी बोलने से रोकने का प्रयास किया गया था।

महिला आरक्षण को लेकर सत्तापक्ष का रुख पूछे जाने पर कुमार ने कहा कि राजग इसके पक्ष में है लेकिन जो लोग मुस्लिम महिलाओं को उनके वाजिब हक एवं न्याय देने को तैयार नहीं है, वे घड़ियाली आंसू क्यों बहा रहे हैं। कांग्रेस की यह दोहरी नीति क्यों है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की मंशा महिलाओं के सशक्तीकरण की नहीं है। सरकार चाहती है कि महिला आरक्षण एवं ऐसे विषय आमसहमति से पारित हों।