Categories
sports

करोड़ों भारतीयों की उम्मीदों का भार लिये विश्व कप सेमी फाइनल में उतरेगी विराट एंड कंपनी

मैनचेस्टर । करोड़ों भारतीयों की उम्मीदों का भार लिये विराट एंड कंपनी मंगलवार को आईसीसी विश्वकप के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खिताबी मुकाबले का टिकट हासिल करने के लक्ष्य के साथ उतरेगी।

दो बार की चैंपियन भारतीय टीम विश्वकप के इतिहास में पहली बार सेमीफाइनल मुकाबले में न्यूजीलैंड से भिड़ेगी जबकि दूसरे सेमीफाइनल में क्रिकेट इतिहास के दो सबसे प्रबल प्रतिद्वंद्वियों ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच मुकाबला होगा।

भारत विराट की कप्तानी में पहली बार अाईसीसी विश्वकप में उतर रहा है और उसका प्रदर्शन लाजवाब रहा है। ग्रुप चरण में टीम ने केवल एक मैच हारा था और वह आखिरी ग्रुप मैच में श्रीलंका पर सात विकेट की जीत और दक्षिण अफ्रीका की ऑस्ट्रेलिया पर 10 रन की रोमांचक जीत के चलते तालिका में शीर्ष स्थान पर रहा है।

वहीं आईसीसी वनडे रैंकिंग में भी भारतीय टीम शीर्ष पर है और उसकी मौजूदा फार्म को देखते हुये उम्मीद है कि विराट एंड कंपनी विश्वकप-2019 में चैंपियन बनकर लौटेगी। यह 12वां विश्वकप है और यह पहला मौका है जब भारतीय टीम सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से खेलेगी। भारत का इस विश्वकप में लीग दौर में न्यूजीलैंड के साथ मुकाबला बारिश के कारण धुल गया था इस तरह दोनों टीमें मैदान पर पहली बार आमने-सामने होंगी और मुकाबला भी सेमीफाइनल का होगा।

भारत विश्वकप के सेमीफाइनल में सातवीं बार पहुंचा है जबकि न्यूजीलैंड की टीम आठवीं बार सेमीफाइनल में पहुंची है। केन विलियम्सन की कप्तानी में न्यूजीलैंड टीम ने भी विश्वकप अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन एक समय ग्रुप चरण में शीर्ष पर रहने के बाद वह पटरी से उतर लय खो बैठी। अंतत: उसने चौथे नंबर पर रहकर 11 अंकों के साथ उसने अंतिम चार में जगह बनाई। टीम के लिये राहत की बात रही कि पाकिस्तानी टीम उससे रनरेट में पिछड़ गयी जिसके उसी के समान 11 अंक थे।

Categories
sports

युवराज ने क्रिकेट को कहा अलविदा, नहीं खेलना चाहते थे विदाई मैच

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का सोमवार को ऐलान करने वाले धुरंधर ऑलराउंडर युवराज सिंह ने विदाई मैच का प्रस्ताव ठुकरा दिया था।

युवराज ने संन्यास की घोषणा करते हुए कई सवालों के जवाब दिए। यह पूछने पर कि क्या वह कोई विदाई मैच चाहते थे, युवराज ने कहा, “मैंने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड में किसी से नहीं कहा था कि मैं अपना आखिरी मैच खेलना चाहता हूं। यदि मेरे अंदर क्षमता होगी तो मैं उसी के दम पर मैदान में जाऊंगा। मैं इस अंदाज में क्रिकेट नहीं खेल सकता कि मुझे कोई विदाई मैच चाहिए।”

उन्होंने कहा, “मुझसे कहा गया था कि यदि मैं यो-यो टेस्ट पास नहीं कर पाता हूं तो मैं एक विदाई मैच खेल सकता हूं। मैंने तब कहा था कि मैं कोई विदाई मैच नहीं खेलना चाहता। यदि मैं यो-यो टेस्ट पास नहीं कर पाता हूं तो मैं चुपचाप घर निकल जाऊंगा।”

बल्ले और गेंद के इस खेल में यो-यो टेस्ट की जरुरत के बारे में पूछने पर युवराज ने कहा, “मुझे विश्वास है कि मेरे पास जीवन में इतना समय रहेगा कि मैं इन बातों पर चर्चा कर सकूं। मुझे काफी कुछ कहना है लेकिन मैं इस समय कुछ नहीं कहना चाहता हूं क्योंकि भारत विश्वकप में खेल रहा है। मैं खिलाड़ियों को लेकर कोई विवाद नहीं चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि खिलाड़ी अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन में रहे ताकि वे खिताब तक पहुंच सकें।”