Categories
National

प्रवासी मजदूरों पर BJP and Congress कर रही हैं राजनीति :मायावती

नयी दिल्ली । बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने प्रवासी मजदूरों को लेकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुये रविवार को कहा कि मजदूरों को उचित मजदूरी दिलाने के प्रयास नहीं किये गये जिसके उन्हें परेशानी झेलनी पडती है.मायावती ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा के लिए भाजपा की केंद्र सरकार और कांग्रेस दोनों जिम्मेदार हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि मजदूरों के मुद्दे पर दोनों ही पार्टियां घिनौनी राजनीति कर रही हैं।

बसपा नेता ने कहा कि भाजपा सरकार और कांग्रेस ने मजदूरों की लगातार अनदेखी की है जिसके कारण उन्हें रोजगार के लिए अलग-अलग शहरों में जाना पड़ा और अब लॉकडाउन के कारण वे भूखे-प्यासे सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने को मजबूर हैं . उन्होंने कहा कि मजदूरों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया जा रहा है। अभी तक जहां मजदूर काम कर रहे थे उनसे काम ज्यादा लिया जाता था और वेतन कम दिया जाता था। उन्होंने कहा, ” बसपा ने हमेशा ही मजदूरों के भले के लिए काम किया। हम उन्हें बेरोजगारी भत्ता नहीं रोजगार देते थे.”

Categories
National

भाजपा सरकार पिछड़ा वर्ग ओबीसी के लोगों के लिये कर रही इतना बड़ा काम

लातेहार। केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने आज दावा किया कि केंद्र की भाजपा सरकार अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लोगों को और आरक्षण देने की स्कीम पर काम कर रही है।

शाह ने यहां मनिका के उच्च विद्यालय मैदान में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा कि पिछले 70 सालों में कांग्रेस ने कभी भी ओबीसी का सम्मान नहीं किया। यह तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार है, जिसने ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा प्रदान किया है।

भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार ने जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 एवं 35 (ए) को समाप्त कर देश में आतंकवादियों का प्रवेश द्वार को हमेशा के लिए बंद कर दिया है। उन्होंने राम जन्मभूमि का मुद्दा उठाते हुए कहा कि सभी चाहते थे कि भगवान राम का मंदिर अयोध्या में बने। इस संबंध में उच्चतम न्यायालय के हाल ही में आये फैसले ने मंदिर निर्माण का रास्ता खोल दिया है।

Categories
National

प्रियंका गांधी ने आंगनवाडी कार्यकर्ताओ की हालत पर जतायी चिंता

नयी दिल्ली| कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने आंगनवाडी कार्यकर्ताओ की हालत पर चिंता जताते हुए रविवार को कहा कि सरकार उनकी सुध नहीं ले रही है।वाड्रा ने ट्वीट किया,“उत्तर प्रदेश की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएँ राज्य कर्मचारी का दर्जा माँग रही हैं।

भाजपा सरकार ने उनकी पीड़ा सुनने की बजाय उन पर लाठियाँ चलवाईं।मेरी बहनों का संघर्ष, मेरा संघर्ष है।”उन्होंने कहा,“ उत्तर प्रदेश की आशाकर्मी नौ माह के लिए एक गर्भवती महिला के स्वास्थ की जिम्मेदारी उठाती हैं जिसके लिए उन्हें मात्र 600 रुपये मिलते हैं।भाजपा सरकार ने कभी उनकी मानदेय में बढ़ोतरी की सुध नहीं ली।उन्हें जुमले नहीं, जवाब चाहिए।

[divider style=”solid” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

Categories
National

मायावती ने भाजपा सरकार पर सादा निशाना कहा सवर्णो को आरक्षण देना चुनावी स्टंट

लखनऊ | बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने केन्द्र सरकार द्वारा आर्थिक आधार पर सवर्ण समाज को दस प्रतिशत आरक्षण दिये जाने को राजनीतिक छलावा बताते हुये कहा कि चलाचली की बेला में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार का यह फैसला चुनावी स्टंट के अलावा कुछ और नहीं है।मायावती ने मंगलवार को यहां जारी बयान में कहा कि देश के ग़रीब सवर्णों को भी आरक्षण की दिये जाने की मांग बसपा ने की थी। उन्होंने कहा भाजपा सरकार की चलाचली की बेला में यह फैसला लिया गया है। यह पूरी तरह से राजनीतिक छलावा तथा चुनावी स्टण्ट है।

केन्द्र सरकार द्वारा आर्थिक आधार पर सवर्ण समाज को दस प्रतिशत आरक्षण दिये जाने के कैबिनेट के फैसले का स्वागत करते हुये उन्होंने कहा कि लोकसभा आमचुनाव से ठीक पहले भाजपा सरकार का यह फैसला वास्तव में सही नीयत से नही लिया गया है। अच्छा होता कि यह फैसला पहले लिया गया होता ताकि भाजपा सरकार को इसे सही ढंग से अमल करके गरीब सवर्णों को इसका लाभ देने के लिये संसद तथा संसद के बाहर न्यायालय में भी मार्ग प्रशस्त करके दिखाती। उन्होंने कहा कि बसपा इस सम्बंध में लाये जाने वाले संविधान संशोधन विधेयक का जरूर समर्थन करेगी।मायावती ने कहा कि बसपा गरीब सवर्णाें के साथ-साथ मुस्लिम एवं अन्य धार्मिक अल्पसंख्यक समाज के गरीबोें को भी इसी तरह से आर्थिक आधार पर आरक्षण दिये जाने की माँग काफी लम्बे समय से करती चली आ रही है। भाजपा ने अन्य गरीबों की उपेक्षा करते हुये उनके साथ न्याय करने का प्रयास नहीं किया है जो अति-दुःखद एवं निन्दनीय है।

वास्तव में देश में एस.सी./एस.टी़ तथा ओबीसी वर्गों को मिल रहे आरक्षण की पुरानी व्यवस्था की अब समीक्षा करके इन वर्गों को इनकी बढ़ी हुई आबादी के हिसाब से समुचित आरक्षण दिये जाने की सख़्त ज़रूरत है।उन्होंने कहा कि संविधान में सामाजिक, शैक्षणिक व अर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर दलितों, आदिवासियों और अन्य पिछडे वर्गों को आरक्षण दिये जाने की जो वर्तमान व्यवस्था है। देश की जनसंख्या के साथ ही इन वर्गों की जनसंख्या भी अब काफी ज्यादा बढ़ बई है। उस पर कोई भी ध्यान नहीं दिया गया है। अब इस बात की भी आवश्यकता है कि एस.सी./एस.टी. तथा ओबीसी वर्गों को मिलने वाले आरक्षण की 50 प्रतिशत की सीमा की सही नीयत के साथ समीक्षा की जाये। उन्हें इनकी बढ़ी हुई आबादी के अनुपात में आरक्षण को भी समुचित तौर पर बढ़ाकर दिये जाने की नई संवैधानिक व्यवस्था की जाये।

Categories
Off Beat

सिद्धू ने भाजपा सरकार पर जमकर बोला हमला, शिवराज को बताया काला धुआं छोड़ने वाली सरकार

बैतूल। पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने मध्यप्रदेश की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार की तुलना पंद्रह वर्ष पुरानी गाड़ी से करते हुए आज कहा कि जिस तरह ऐसा वाहन काला धुआं छोड़ने लगता है, उसी प्रकार शिवराज सरकार भी धुआं छोड रही है, इसलिए अब इसके जाने का समय आ गया है।सिद्धू ने स्थानीय लाल बहादुर शास्त्री स्टेडियम में कांग्रेस प्रत्याशी निलय डागा के पक्ष में आयोजित चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।

“राज्य सरकार डेढ दशक पुरानी हो चली है और इसके धुएं से लोगों के चेहरे काले पड़ रहे हैं। दिल्ली और पंजाब में ऐसे वाहनों को प्रतिबंधित कर दिया गया है। मध्यप्रदेश से अब भाजपा जा रही है और कांग्रेस आ रही है। जब मैं जवान था तब खूब छक्के लगाता था और अब प्रदेश के युवा भी छक्के मारकर शिवराज सरकार को राज्य से बाहर करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश की सड़कों की तुलना अमेरिका की सड़कों से करते हैं, जबकि यहां की सड़कों की हालत बेहद खराब है।”सभा में सिद्धू ने नरेंद्र मोदी सरकार पर भी जमकर हमला बोला।

Categories
National

अरविंद केजरीवाल पर युवक ने मिर्ची पाउडर फेंका, बाद में गरमाया माहौल

नयी दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर दिल्ली सचिवालय में मंगलवार को एक शख्स के कथित रूप से मिर्ची पाउडर फेंकने को लेकर सियासत शुरू हो गयी है। आम आदमी पार्टी (आप) ने आरोप लगाया है कि हमलावर को केंद्र की भाजपा सरकार का समर्थन है, वहीं राजौरी गार्डन से विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस घटना को ‘केजरीवाल का स्वयं रचित ड्रामा’ करार दिया है।सुरक्षाकर्मियों ने मिर्ची पाउडर फेंकने वाले व्यक्ति को पकड़ लिया। उसका नाम अनिल शर्मा बताया जा रहा है। मुख्यमंत्री की आंख में मिर्ची पाउडर गिरा है और धक्का.मुक्की के दौरान केजरीवाल का चश्मा भी टूट गया। प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री दिल्ली सचिवालय कार्यालय में आये हुए थे और बैठक के लिए अपने चैंबर में जा रहे थे। इसी दौरान चैंबर के बाहर खड़े युवक ने उन पर मिर्ची पाउडर फेंका। युवक इसे एक डिब्बी में लाया था। पुलिस ने युवक को पकड़ लिया है और उसे दिल्ली सचिवालय से कुछ ही दूरी पर स्थित आईपी एक्सटेंशन थाने ले जाया गया है। घटना अपराह्न करीब दो बजे की बताई जा रही है।

आम आदमी पार्टी (आप) ने इसे घातक हमला करार देते हुए कहा है कि दिल्ली पुलिस ने मुख्यमंत्री की सुरक्षा में गंभीर चूक की है। पार्टी ने कहा है कि दिल्ली में मुख्यमंत्री तक सुरक्षित नहीं है।सिरसा ने कहा,“ पहले भी हम केजरीवाल के ऐसे नाटक देख चुके हैं। उनके ऊपर पहले स्याही अथवा जूता फेंका गया, यह भी उनके पैदा किये गये विवाद थे।

अब सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए यह योजना बनाई गयी जिससे कि मीडिया का ध्यान उनकी ओर आकर्षित हो सके।”उन्होंने कहा, “ दिल्ली सचिवालय में उनकी अपनी सुरक्षा व्यवस्था है और कोई भी व्यक्ति बिना पास के अंदर घुस नहीं सकता।”इस घटना के बाद आप पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्ढा और सौरभ भारद्वाज ने आरोप लगाया कि यह कृत्य भाजपा की केंद्र की सरकार के समर्थन से हुआ है। दोनों ने कहा, “ भाजपा की केंद्र सरकार ऐसा माहौल पैदा कर रही है जिससे समाज विरोधी तत्व मुख्यमंत्री केजरीवाल पर हमला करें और इन्हें केंद्र सरकार का संरक्षण मिला हुआ है।”दोनों ने कहा, “ यदि ुख्यमंत्री सुरक्षित नहीं हैं और उनकी हत्या का प्रयास होता है तो आम आदमी कैसे सुरक्षित हो सकता है।”

भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने इस घटना की कड़ी भर्त्सना की है। उन्होंने कहा कि नाराजगी कितनी भी हो ऐसे व्यवहार को कभी उचित नहीं कहा जा सकता है।

Categories
National

मोदी सरकार अमीरो की हैं कठपुतली सरकार :नवजोत सिंह सिध्दू

रायपुर । कांग्रेस के स्टार प्रचारक एवं पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिह सिध्दू ने केन्द्र की मोदी सरकार पर तीखे हमले करते हुए कहा कि यह अमीरों की कठपुतली सरकार है।

Navjot Singh Sidhu

सिध्दू ने आज यहां पत्रकारो से चर्चा करते हुए कहा कि किसी भी सरकार की सबसे बड़ी पूंजी जनता का विश्वास होता है मगर मोदी सरकार के प्रति विश्वास वह मिट्टी के बर्तन की तरह टूट चुकी है,ताश के पत्तों की तरह बिखर गए हैं।उन्होने कहा कि मोदी जी काला धन वापस लाने की बात करते थे,काला धन की लहर में वह प्रधानमंत्री बन गए और गरीबों को काला धन लाकर आज क्यों नहीं दिए।

उन्होने कहा कि भारत में 80 प्रतिशत व्यापार नगदी में चलता है।मोदी जी 36 करोड़ लोग इस देश में काम कमाते है तो क्या वो चोर है।इस सरकार ने किसान गृहिणी गरीब और चायवाले की कमाई लेकर और चोरों को देकर विदेश भगा दिया।उन्होने छत्तीसगढ़ की भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि 15 वर्षों से लगातार सत्ता में रहने के बाद भी संसाधनों से भरे इस राज्य को आगे ले जाने में नाकामायाब रही है।

Categories
Off Beat

भाजपा के दृष्टि पत्र को झूठ का पुलिंदा बताया कांग्रेस के इस उम्मीदवार ने

कटनी। मध्य प्रदेश कांग्रेस इकाई के अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से आज जारी दृष्टि पत्र को झूठ का पुलिंदा और छलावा बताया है।कमलनाथ ने आज यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि भाजपा का दृष्टि पत्र पूरी तरह झूठ का पुलिंदा है। ये धोखे, फरेब और झूठ पर आधारित है। उन्होंने कहा कि पिछले पंद्रह साल से मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा सरकार पूर्व में किये गये वादों को पूरा करने में नाकामयाब रही है और फिर से नये वादे कर रही है। उन्होंने वादों को लेकर भाजपा की नीयत पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि उन्हें भाजपा की नीयत में ही खोट नजर आती है।

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा के लोग अब किसानों की बात कर रहे हैं। भाजपा को यह बताना चाहिए कि पिछले पंद्रह साल में उन्होंने अब तक किसानों के कल्याण के लिए क्या-क्या किया। इस दृष्टिपत्र में कुछ नया नहीं है। पुरानी घोषणाओं को ही दुहराया गया है। पुरानी घोषणाओं को पूरा नहीं किया गया।इसी बीच उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि घोषणा पत्र में महिलाओं की सुरक्षा, किसानों की आत्महत्या रोकने, उनकी क़र्ज़ माफ़ी, युवाओं द्वारा बढ़ती बेरोज़गारी के कारण की जा रही आत्महत्याएं रोकने, कुपोषण, अवैध खनन रोकने अौर नर्मदा संरक्षण को लेकर कुछ नहीं है।उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा को खुद भावांतर योजना पर भरोसा नहीं है और इसलिए नई घोषणाओं के नाम पर किसानों को गुमराह करने की कोशिश की जा रही है।

Categories
National

दिग्विजय अौर सिंधिया ने आपसी टकराव से जुड़ी खबरे खारिज कीं

भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस के दोनों दिग्गज नेताओं, दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में हुई बैठक में टिकटों के वितरण को लेकर आपसी टकराव से जुड़ी खबरों को खारिज कर दिया है।
सिंधिया ने कल देर रात इस बारे में ट्वीट करते हुए कहा कि मीडिया में उनके और सिंह के बीच आ रही बहस की खबरें निराधार और झूठी हैं। कांग्रेस के सभी लोग एक होकर प्रदेश से भारतीय जनता पार्टी सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए प्रतिबद्ध है।

वहीं इसके पहले सिंह ने भी कल देर शाम ट्वीट के जरिए अपना स्पष्टीकरण दिया। उन्होंने कहा कि मीडिया में इस बात की गलत खबर चलायी जा रही है कि उनके और सिंधिया के बीच बहस हुयी और गांधी को इसमें हस्तक्षेप करना पड़ा। वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस में हम सभी एक हैं और राज्य की भ्रष्ट भाजपा सरकार को पराजित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।
दरअसल सोशल मीडिया और राजनैतिक गलियारों में कल दिन भर यह खबर चलती रही कि दिल्ली में दो दिन पहले कांग्रेस अध्यक्ष गांधी के निवास पर आयोजित केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में टिकट वितरण को लेकर इन दोनों नेताओं के बीच तीखी बहस हुई थी। मामला शांत करने के लिए गांधी को हस्तक्षेप करना पड़ा। खबरों में यह भी कहा गया कि इसी विवाद के बाद गांधी ने टिकट वितरण से जुड़े कार्यों को अंतिम रूप देने के लिए तीन सदस्यीय एक समिति बनाई।

विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस प्रत्याशियों की कल पहली सूची जारी होने की संभावना थी, लेकिन इसे टाल दिया गया। उम्मीद है कि एक दो दिन में पहली सूची जारी हो जाएगी।

Categories
National

क्या पीएम मोदी की रैली के कारण चुनाव आयोग ने बदला प्रेस वार्ता का समय, जानें सच

नयी दिल्ली। चुनाव आयोग ने इन आरोपों को गलत बताया कि उसने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की राजस्थान में रैली को देखते हुए पांच राज्यों की विधानसभा के चुनाव की तारीखों की घोषणा के लिए शनिवार को बुलाई गयी प्रेस कान्फ्रेंस के समय को बदल दिया।

मुख्य चुनाव आयुक्त ओ पी रावत ने शनिवार को यहाँ इन राज्यों के चुनाव की तारीखों की घोषणा करने से पहले ही सफाई देते हुए कहा कि अटकलबाजियों और राजनीतिक बयानबाजी के बारे में उन्हें इतना ही कहना है कि राजनेता और राजनीतिज्ञ दल हर चीज़ में राजनीति देख लेते हैं, यह उनके स्वभाव में है, इस पर उन्हें कोई टिप्पणी नहीं करनी है।

गौरतलब है कि आयोग ने आज साढ़े 12 बजे संवाददाता सम्मेलन आयोजित किया था लेकिन कुछ देर के बाद अचानक सूचना दी कि अब प्रेस कांफ्रेंस तीन बजे होगी। इस बीच कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके इस पर आपत्ति की और मीडिया में यह अटकलबाजी शुरू हो गयी कि आयोग ने मोदी की एक बजे राजस्थान में होने वाली रैली को देखते हुए प्रेस कांफ्रेंस का समय बदल दिया।

यह कहे जाने पर कि राजस्थान में भाजपा सरकार ने किसानों के लिए कुछ घोषणा की है, तब आयोग ने चुनाव की तारीखों का एलान किया, इस पर आप की क्या प्रतिक्रिया है, रावत ने कहा कि चुनाव आयोग पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है, वह दो घंटे के लिए क्यों समय बदलेगा। वह किसी दिन भी चुनाव के तारीखों की घोषणा कर सकता है। अगर किसी को कोई शिकायत हो तो वह आयोग के सामने अपनी शिकायत कर सकता है, आयोग सबको संतुष्ट करता है। आयोग कानून के अनुसार पारदर्शी निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव के लिए प्रतिबद्ध है। यह अायोग की सर्वोच्च प्राथमिकता है।