Categories
National

प्रवासी मजदूरों पर BJP and Congress कर रही हैं राजनीति :मायावती

नयी दिल्ली । बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने प्रवासी मजदूरों को लेकर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी पर राजनीति करने का आरोप लगाते हुये रविवार को कहा कि मजदूरों को उचित मजदूरी दिलाने के प्रयास नहीं किये गये जिसके उन्हें परेशानी झेलनी पडती है.मायावती ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि प्रवासी मजदूरों की दुर्दशा के लिए भाजपा की केंद्र सरकार और कांग्रेस दोनों जिम्मेदार हैं. उन्होंने आरोप लगाया कि मजदूरों के मुद्दे पर दोनों ही पार्टियां घिनौनी राजनीति कर रही हैं।

बसपा नेता ने कहा कि भाजपा सरकार और कांग्रेस ने मजदूरों की लगातार अनदेखी की है जिसके कारण उन्हें रोजगार के लिए अलग-अलग शहरों में जाना पड़ा और अब लॉकडाउन के कारण वे भूखे-प्यासे सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने को मजबूर हैं . उन्होंने कहा कि मजदूरों के साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया जा रहा है। अभी तक जहां मजदूर काम कर रहे थे उनसे काम ज्यादा लिया जाता था और वेतन कम दिया जाता था। उन्होंने कहा, ” बसपा ने हमेशा ही मजदूरों के भले के लिए काम किया। हम उन्हें बेरोजगारी भत्ता नहीं रोजगार देते थे.”

Categories
National

विपक्षी दलों की बैठक कल

नयी दिल्ली। कांगेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की पहल पर प्रवासी श्रमिकों की स्थिति तथा आर्थिक हालात से निपटने के लिए सरकार के कदमों पर विचार-विमर्श के वास्ते विपक्षी दलों की शुक्रवार को अहम बैठक बुलाई है।

सूत्रों के अनुसार गांधी इस बैठक की अध्यक्षता करेंगी जिसमें विपक्ष के करीब 24 दलों के नेता शामिल होंगे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आयोजित यह बैठक दोपहर बाद तीन बजे से शुरू होगी।

उन्होंने कहा कि बैठक में प्रवासी मज़दूरों की दुर्दशा, कोरोना एवम् लॉकडाउन, सरकार के 20 लाख रुपये के आर्थिक पैकेज किसानों, गरीबों जैसे मुद्दे पर चर्चा होने की उम्मीद है।

बैठक में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, तृणमूल कांग्रेस, द्रविड मुनेत्र कषगम, राष्ट्रीय जनता दल, वामदल, नेशनल कांफ्रेंस, झारखण्ड मुक्ति मोर्चा, जनता दल-एस, बहुजन समाज पार्टी, शिव सेना, लोकतांत्रिक जनता दल, तेलुगू देशम पार्टी,आरएलडीएल आदि दलों के नेताओं के भाग लेने की संभावना है।

Categories
National

वेंकैया नायडु ने सदन के सदस्याें के व्यवहार पर कही ऐसी बात

नयी दिल्ली । राज्यसभा के सभापति एम . वेंकैया नायडु ने सदन के सदस्याें के व्यवहार पर टिप्पणी करते हुुए बुधवार को कहा कि इससे बेहतर तो स्कूल होता है।

नायडु ने सुबह सदन की कार्यवाही शुरू करते हुए जरुरी दस्तावेज पटल पर रखवायें और सदस्यों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें अपना वक्तव्य देते वक्त यसीमा का ध्यान रखना चाहिए। वक्तव्य के समय अन्य सदस्यों को धीरे बोलना चाहिए और कार्यवाही में व्यवधान पैदा नहीं करना चाहिए। सदन में व्यवस्था बनाने के लिए यह जरुरी है कि सभी सदस्य सदन के नियमों का पालन करें।

सभापति ने कहा, “किसी सदस्य ने कहा है कि यह कोई स्कूल है? …. अरे भाई, स्कूल तो इससे बेहतर होता है। वहां एक्शन तो ले सकते हैं।” गौरतलब है कि सभापति सदन का कामकाज सुचारु रुप से चलाने के लिए व्यवस्था बनायें रखने पर जोर देते हैं अौर सदस्यों से सदन की नियमों और परंपराओं का पालन करने का अनुरोध करते हैं।

इसके बाद सभापति ने राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा कराने के लिए शून्यकाल और प्रश्नकाल नहीं कराने की घोषणा की और बोलने के लिए सदस्य का नाम पुकारा। बहुजन समाज पार्टी के वीर सिंह के बोलने के लिए 10 मिनट का समय मांगने पर नायडु ने कहा, “ मैं क्या करूं? जनता ने (अापको) समय दिया ही नहीं।” सिंह को अपना वक्तव्य देने के लिए तीन मिनट का समय आवंटित हुआ था।

Categories
Crime

पहले राजनीति में ऊंचे मुकाम का लालच देकर फंसाया फिर एक साल तक लगातार बलात्कार

राजनीति में ऊंचे मुकाम का लालच देकर पहले युवती को जाल में फंसाया और फिर ब्लैकमेल कर उसका शारीरिक शोषण मतलब बलात्कार करने के फरार आरोपी बसपा सांसद अतुल कुमार सिंह की सम्पत्ति की जब्त की जाएगी। इसके लिए उनके आवास पर कुर्की नोटिस चस्पा कर दिए गए हैं।

बलात्कार के आरोपी अतुल कुमार सिंह उर्फ अतुल राय हाल ही उत्तर प्रदेश में घोसी लोकसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सांसद चुने गए हैं। उत्तरप्रदेश पुलिस ने उनके वाराणसी एवं गाजीपुर स्थित आवासों पर पुलिस ने कुर्की के नोटिस चस्पा किये हैं।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि एक युवती की शिकायत पर गत माह एक मई को वाराणसी के लंका थाने में अतुल राय पर दुष्कर्म का मामला दर्ज किया गया था और वह तभी से फरार हैं। आरोपी सांसद की पुलिस तलाश कर रही है।

अदालती आदेश पर पुलिस ने पड़ोसी जिले गाजीपुर के भांवरकोल क्षेत्र के बीरमपुर एवं वाराणसी के मंडुवाडीह क्षेत्र के कंचनपुर स्थित नवनिर्वाचित सांसद के आवासों पर कुर्की के नोटिस चस्पा किये हैं। आरोप है कि राजनीति के क्षेत्र में मदद करने का प्रलोभन देकर अतुल राय ने युवती को अपने जाल में फंसाया और फिर कई माह तक ‘ब्लैकमेल’ कर यौन शोषण किया। युवती का आरोप है कि वर्ष 2018 में मार्च से नवंबर के दौरान उनके साथ कई बार दुष्कर्म किया गया। विरोध करने पर ‘बुरा अंजाम भुगतने’ की धमकी दी गईं।

गौरतलब है कि अतुल राय ने जब बसपा से लोकसभा चुनाव में अपना नामांकन पत्र दाखिल किया था। इसके बाद उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई। अंतिम चरण में 19 मई को मतदान से पहले वह सार्वजनिक तौर पर अपना चुनाव प्रचार करते भी नहीं देखे गए, लेकिन 23 मई को जब परिणाम घोषित किया गया तो वह 1,22,568 मतों के भारी अंतर से विजयी घोषित किये गए। उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी एवं तत्कालीन सांसद हरि नारायण राजभर को पराजित किया था।

Categories
Entertainment

मायावती का किरदार निभायेगी यह मशहूर अभिनेत्री

मुंबई| बॉलीवुड में अपने संजीदा अभिनय के लिये मशहूर विद्या बालन सिल्वर स्क्रीन पर बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती का किरदार निभाती नजर आ सकती है।विद्या बालन को बायोपिक का क्वीन कहा जाता है।उन्होंने अब तक जितनी फिल्मों में काम किया है उससे अधिक तो उनकी बायोपिक फिल्मों को लेकर चर्चा होती रही है, जिसमें इंदिरा गांधी तक का नाम शामिल है।

चर्चा है कि विद्या, बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के जीवन पर बनने वाली फिल्म में लीड रोल में नज़र आ सकती हैं।कहा जा रहा है कि फिल्म निर्देशक सुभाष कपूर मायावती की जीवनी पर एक फिल्म बनाने का विचार कर रहे हैं।जिसमें वह बतौर अभिनेत्री विद्या बालन को बतौर अभिनेत्री लेने की सोच रहे हैं।

निर्देशक सुभाष कपूर इसके पहले टी सीरीज के संस्थापक गुलशन कुमार की जीवनी पर बन रही फिल्म मुग़ल का निर्देशन करने वाले थे लेकिन मी टू अभियान में उनका नाम आने के बाद वह फिल्म उनसे छीन ली गई।

Categories
National

अन्तरिम बजट जमीनी हकीकत और वास्तविकता से दूर जुमलेबाजी वाला : मायावती

लखनऊ | बहुजन समाज पार्टी(बसपा)अध्यक्ष मायावती ने केन्द्र की भारतीय जनता पाटी(भाजपा) सरकार द्वारा शुक्रवार को लोकसभा में पेश अन्तरिम बजट को जमीनी हकीकत एवं वास्तविकता दूर जुमलेबाजी वाला बताये हुये कहा कि देश का धन केवल कुछ मुट्ठीभर धन्नासेठों के हाथों में सिमट गया है।मायावती ने शुक्रवार को यहां जारी बयान में कहा कि भाजपा के पिछले पाँच वर्षों के कार्यकाल में देश में आर्थिक समानता की खाई बढ़ गयी है।

देश में धन और विकास केवल कुछ मुट्ठीभर धन्नासेठों के हाथों में सिमट गया है।यह बजट हकीकत से दूर सिर्फ जुमलेबाजी वाला है।उन्होंने कहा कि भाजपा लम्बे-चौड़े बयानों और जुमलेबाजी से देश की तकदीर नहीं बदल सकती है।इस बजट से देश में लम्बे समय से जारी जर्बदस्त मंहगाई, गरीबी, अशिक्षा एवं बेरोजगारी गम्भीर समस्या समाप्त नही हो सकती है।इसके लिये सही नियत एवं समर्पित दृढ़ इच्छाशक्ति की जरुरत होती है।
केन्द्र में आसीन सरकारों में अब तक अभाव रहा है।

Categories
Off Beat

प्रियंका के राजनीति में आने से गरमायेगा, यह राज्य

नयी दिल्ली | केंद्र में सत्ता के लिए अहम उत्तर प्रदेश में हाशिये पर पहुंच चुकी कांग्रेस ने नेहरु गांधी परिवार के एक और सदस्य प्रियंका गांधी वाड्रा के रुप में तुरुप का इक्का चल दिया है जिससे प्रदेश के राजनीतिक माहौल में निश्चित रुप से बड़ा बदलाव आयेगा लेकिन पार्टी को इससे कितना फायदा मिलता है, इसका पता आने वाले आम चुनाव के बाद ही लग सकेगा।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को प्रियंका को पार्टी महासचिव नियुक्त कर उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से का प्रभारी बनाया है। वह फरवरी के पहले सप्ताह में अपना कार्यभार संभालेंगी। कांग्रेस अध्यक्ष ने यह फैसला ऐसे समय लिया है जब प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने अप्रैल-मई में होने वाले लोकसभा चुनाव साथ लड़ने का निर्णय लिया है। दोनों दलों ने कांग्रेस को अकेला छोड़ दिया है जबकि कांग्रेस सहित अधिकतर विपक्षी दल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिये महागठबंधन की बात कर रहे हैं।

 

राजनीतिक प्रेक्षकों का कहना है कि प्रियंका गांधी को सक्रिय भूमिका देने की लंबे समय से मांग कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गांधी के इस फैसले से निश्चित रुप से उत्साह और जोश बढ़ेगा और उनकी सक्रियता बढ़ेगी लेकिन पार्टी से छिटक गये मतदाताओं को अपने साथ जोड़ने के लिये उन्हें और पार्टी को कड़ी मशक्कत करनी हाेगी।

उन्हें पूरे उत्तर प्रदेश का भार सौंपने की बजाय सिर्फ पूवीं उत्तर प्रदेश का प्रभार सौंपा गया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश का प्रभार सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को दिया गया है। पूर्वी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस का प्रदर्शन काफी कमजाेर रहा है और नरेंद्र मोदी तथा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ का चुनाव क्षेत्र इसी हिस्से में हैं। इस तरह प्रियंका गांधी काे उन दोनों की चुनौतियों के साथ साथ सपा बसपा का सामना भी करना होगा। कांग्रेस ने राज्य में पिछला विधानसभा चुनाव समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर लड़ा था लेकिन इस गठबंधन को भारी पराजय का सामना करना पड़ा था।

लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के प्रदर्शन की बात की जाये तो 1984 के बाद से उसका ग्राफ लगातार नीचे गिरता रहा है। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में हुए आम चुनाव में कांग्रेस ने राज्य की 85 में से 83 सीटें जीती थीं तथा उसे 51 प्रतिशत से अधिक मत मिले थे। उसके बाद से उसकी स्थिति लगातार खराब होती रही है। न केवल उसकी सीटें घटती गयी बल्कि उसे मिलने वाले मतों में भी भारी गिरावट आयी। पांच चुनावों में तो उसकी सीटों की संख्या दो अंकों तक में नहीं पहुंच सकी। पार्टी 1998 के आम चुनाव में राज्य में एक भी सीट नहीं जीत पायी थी।

पिछले लोकसभा चुनाव में सोनिया गांधी और राहुल गांधी अपनी सीटें बचा पाने में सफल हुये थे। पिछले तीन दशक में पार्टी को सबसे अधिक 21 सीटें 2009 के लोकसभा चुनाव में मिली थीं जब कांग्रेस केंद्र में लगातार दूसरी बार गठबंधन सरकार बनाने में सफल रही।

प्रियंका को भले ही पहली बार पार्टी में कोई पद मिला है लेकिन वह अपनी मां तथा कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्र रायबरेली और अपने भाई राहुल गांधी के चुनाव क्षेत्र अमेठी में चुनाव प्रचार में सक्रिय भूमिका निभाती रही हैं। वह राज्य के पार्टी नेताओं तथा कार्यकर्ताओं के लगातार संपर्क में रहती हैं।

Categories
National

भाजपा शासन में कानून के रखवाले ही हो रहे हैं अराजकता का शिकार: मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी(बसपा) अध्यक्ष मायावती ने कानून व्यवस्था को लेकर उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुये कहा कि भाजपा शासन में कानून के रखवाले ही अब अराजकता का शिकार हो रहे हैं।

BSP

मायावती ने मंगलवार को यहां जारी बयान में कहा कि देश की राजधानी दिल्ली के नजदीक पश्चिमी उत्तर प्रदेशके बुलन्दशहर ज़िले में हुई हिंसा के लिये भाजपा सरकार की गलत नीतियां जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि हर प्रकार की अराजकता को संरक्षण देने का ही परिणाम है कि विकास के लिये तरस रहे देश के सबसे बड़े राज्य में भाजपा का जंगलराज कायम है। क़ानून के रखवाले भी बलि चढ़ रहे हैं। यह बड़ी चिन्ता की बात है।

बुलंदशहर में हिंसक घटना का शिकार हुये पुलिस अधिकारी तथा एक निर्दोष युवक की मौत पर गहरा दुःख व्यक्त करते हुये मायावती ने कहा कि अब अराजगता के राज को खत्म करने को समय आ गया है। देश में कानून का राज स्थापित करने के लिये पूरी ईमानदारी से प्रयास करना चाहिये ताकि संविधान तथा लोकतंत्र काे भीड़तंत्र की बलि चढ़ने से रोका जा सके।

राजधानी लखनऊ में भाजपा के एक और युवा नेता प्रत्युष मणि त्रिपाठी की हत्या का जिक्र करते हुये मायावती ने कहा कि भाजपा की बढ़ती हुई भींड़ तंत्र की उग्र एवं हिंसक स्थिति का शिकार अब स्वयं इनके लोग ही हाेने लगे है। पहले दलितों, पिछड़ाें, मुस्लिम तथा अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों काे अपनी हिंसा व उग्रता का शिकार बनाने वाले ये अराजक लोग अब अपनी आदतों से मजबूर लगते हैं। ऐसी स्थिति में भी भाजपा की सरकारें सख्त कदम उठाने का अपना कर्तव्य निभाने में पूरी तरह से विफल साबित हाे रही हैं।

उन्होंने कहा कि बुलन्दशहर की घटना में मृतकाें के परिवाराें काे केवल समुचित अनुग्रह राशि देना ही उत्तर प्रदेश भाजपा सरकार के लिये काफी नहीं होना चाहिये बल्कि इस हिंसा के लिये सभी दोषियों को सख्त से सख्त सजा दिलाना भी सुनिश्चित किया जाना चाहिये ताकि देश को एेसा महसूस हाे कि प्रदेश में कोई सरकार भी है।

Categories
Business

भाजपा अपनी विफलता छिपाने के लिये उठा रही है राममंदिर का मुद्दा : मायावती

नयी दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने शनिवार को आरोप लगाया कि केंद्र और राज्यों में भारतीय जनता पार्टी की सरकारें अपने वादे पूरे करने में विफल रही हैं और इसे छिपाने के लिए राम मंदिर का मुद्दा उठाया जा रहा है।

 Mayawati

मायावती ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि भाजपा की सरकार केंद्र में पांच साल पूरे करने वाली है लेकिन उसने पचास प्रतिशत वादे भी पूरे नहीं किये हैं इसलिए आम जनता का ध्यान भटकाने के लिए भाजपा और उसके सहयोगी संगठन राम मंदिर का मुद्दा उठा रहे हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा और मोदी वर्ष 2014 में किए वादों को पूरा करने में विफल रहे हैं। मोदी जानते यह हैं और उन्हें लग रहा है कि वह सत्ता में वापस नहीं आएंगे।

एक सवाल के जवाब में मायावती ने कहा कि शिवसेना और विश्व हिंदू परिषद द्वारा अयोध्या में किया जा रहा आयोजन एक साजिश का हिस्सा है। असफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए राम मंदिर मुद्दा उठाया जा रहा है। अगर उनकी मंशा अच्छी होती तो वे पांच साल तक इंतजार नहीं करते।

Categories
National

बसपा ने व्यापमं के सूत्रधार डॉ जगदीश को बनाया प्रत्याशी

भोपाल,। बहुजन समाज पार्टी ने मध्यप्रदेश में व्यापमं घोटाले के सूत्रधार रहे डॉ जगदीश सागर को भिंड जिले के गोहद से अपना प्रत्याशी बनाया है।

Bahujan Samaj Party

डॉ सागर के पास जिले भर में सभी दलों के प्रत्याशियों में सर्वाधिक संपत्ति भी है। डॉ सागर ने अपने हलफनामे में सवा सात करोड़ रुपए की संपत्ति दर्शाई है।हलफनामे के अनुसार बसपा प्रत्याशी डॉ सागर के पास चार लग्जरी गाड़ियां, साढ़े तीन किलो सोना, दो लाइसेंसी रायफल, एक रिवॉल्वर है। डॉ सागर की पत्नी के पास भी एक रायफल दर्शाई गई है।

निर्वाचन आयोग द्वारा घोषित चुनाव कार्यक्रम के तहत नामांकन फार्म वापसी के अंतिम दिन कल भिंड जिले की पांचों विधानसभाओं में उम्मीदवारों की स्थिति स्पष्ट हो गई है। गोहद विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 15 और मेहगांव में सबसे ज्यादा 34 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। भिण्ड में 18, अटेर में 33 और लहार में 22 प्रत्याशी शेष रह गए हैं।

जिले में चुनावी दंगल में कुल 122 उम्मीदवार मैदान में बचे हैं, जिसमें से सबसे अधिक उम्र 76 वर्ष के लहार में रसाल सिंह मैदान में है। सबसे कम उम्र 32 वर्ष के हेमंत कटारे अटेर से चुनाव मैदान में है। इसके अलावा सभी उम्मीदवार लगभग 40 से 65 वर्ष के बीच की आयु के हैं।इस बार जिले की पांचों सीटों पर 49 प्रत्याशी विभिन्न दलों से और 73 निर्दलीय हैं। इस साल वर्ष 2013 की तुलना चुनावी दंगल में कूदने वाले उम्मीदवारों की संख्या भी कम है। इस साल 122 उम्मीदवार चुनाव मैदान में है। जबकि वर्ष 2013 के चुनाव में 127 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे।