Categories
Business

आर्थिक धरातल पर लगातार लुढ़कते हुए रसातल में जा रहा है देश का ये क्षेत्र

कोरोना वायरस ‘कोविड-19 के मद्देनजर जारी लॉकडाउन के कारण देश के सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में अप्रैल में जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई। विदेशी तथा घरेलू माँग में तेज गिरावट के कारण आईएचएस मार्किट द्वारा बुधवार को जारी सेवा कारोबार गतिविधि सूचकांक घटकर 5.4 रह गया जबकि मार्च में यह 49.3 दर्ज किया गया। सूचकांक का 50 से नीचे रहना गतिविधियों में कमी और इससे ऊपर रहना वृद्धि को दर्शाता है।

अप्रैल की गिरावट एजेंसी के सर्वेक्षण के 14 साल के इतिहास में सबसे तेज गिरावट है। इस रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये आईएचएस मार्किट के अर्थशास्त्री जो हेज ने कहा ”अप्रैल में देश की सेवा क्षेत्र की अर्थव्यवस्था में माह दर माह आधार पर अब तक की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गयी है। चालीस अंकों से अधिक की यह गिरावट दिखाती है कि लॉकडाउन के कड़े प्रतिबंधों के कारण इस क्षेत्र में लगभग ठहराव आ गया है।

सर्वे में हिस्सा लेने वाले 97 प्रतिशत कंपनियों ने बताया कि उनके कारोबार में कमी आयी है। अंतर्राष्ट्रीय बिक्री का सूचकांक घटकर शून्य पर आ गया। कई क्लाइंटों ने पुराने ऑर्डर भी रद्द किये जिसने उत्पादन में गिरावट में और योगदान दिया। इससे पहले 04 मई को विनिर्माण क्षेत्र के आँकड़े जारी हुये थे जिसमें खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) लुढ़ककर 27.4 अंक पर रह गया था।