Categories
Results

coaching with gap: अच्छी नौकरी पानी हैं तो गैप लेकर करें कोचिंग, हासिल हो जाएगा लक्ष्य

coaching with gap: 12वीं करने के बाद असमंजस के शिकार हैं कि किस कोर्स में एडमिशन लें ताकि बेहतर कॅरियर बन सके और अच्छी नौकरी पा सकें तो हम बताते हैं कि किन प्रोफेशनल कोर्स में प्रवेश लेकर अपने लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है।

कॉलेज में प्रवेश से पहले करें कोचिंग

कई छात्र बोर्ड परीक्षा के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी नहीं कर पाते हैं। ऐसे छात्रों को एक साल का गैप लेकर कोचिंग करनी चाहिए। छात्र को 12वीं के साथ-साथ ही प्रतियोगी परीक्षा देनी चाहिए और विश्लेषण करना चाहिए कि अगर वे एक साल कोचिंग या खुद तैयारी करते हैं तो वे उसमें कितना अच्छा स्कोर कर पाएंगे। अगर उन्हें लगता है कि वे तैयारी करके अच्छी रैंक प्राप्त कर सकते हैं तो उन्हें एक साल का गैप लेना चाहिए।

अगर है दिमाग में ये बात तो गैप लेने के बारे में नहीं सोचें

coaching with gap: 12वीं के साथ-साथ ही प्रतियोगी परीक्षा देने वाले छात्र विश्लेषण करें कि क्या वे एक साल तैयारी करके इससे अच्छा प्रदर्शन कर पाएंगे। अगर उन्हें लगता है कि वे इससे अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाएंगे या परीक्षा से संबंधित सिलेबस को पढ़ने में उन्हें रुचि नहीं आएगी तो उन्हें 12वीं करने के तुरन्त बाद ही किसी कोर्स में प्रवेश ले लेना चाहिए।

coaching with gap:

coaching with gap: छात्रों को किसी भी फैसले पर पहुंचने से पहले अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को देखना चाहिए। क्योंकि कोचिंग करने में काफी खर्चा होता है। इसलिए अगर आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है तो एक साल कोचिंग करने के बारे में नहीं सोचें। आर्थिक स्थिति इतनी खराब है कि आप प्राइवेट कॉलेज की फीस नहीं दे सकते हैं तो गैप लेकर खुद पढ़ें और अच्छी रैंक प्राप्त करके सरकारी कॉलेज में प्रवेश लें।

coaching with gap: कई बार ऐसा होता है कि सीट फुल हो जाने के कारण या प्रतियोगी परीक्षा में कम नंबर आने के कारण आपको अपने पसंद के कॉलेज और कोर्स में एडमिशन नहीं मिलता है। इसलिए गैप लें और अगले साल अपने पसंदीदा कोर्स में प्रवेश लें।

Categories
Results

Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: ये हैं देश के टॉप CBSE स्कूलों की सूची, बच्चों को बना देते हैं जीनियस

Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools:आज के समय में माता-पिता बच्चों को अच्छी से अच्छी शिक्षा दिलाने के लिए लाखों रुपये खर्च करते हैं, लेकिन इसके बाद भी सही और अच्छे स्कूल का चयन नहीं कर पाते हैं। हम यहां देश के टॉप (Central Board of Secondary Education) Top schools(CBSE): सीबीएसई स्कूलों की सूची लेकर आए हैं। अपने बच्चों को यहां एड​मिशन दिलाइए और उन्हें जीनियस बनाने के रास्ते पर भेज ​दीजिए।

 

DAV स्कूल
Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: CBSE से संबद्ध टॉप स्कूलों में पहला नाम DAV ग्रुप ऑफ स्कूल्स का है। इनमें भी DAV सीनियर सेकेंडरी स्कूल, मोगप्पैर अव्वल है। 1989 में DAV ग्रुप ऑफ स्कूल्स के तहत स्थापित इस स्कूल को तमिलनाडु आर्य समाज एजुकेशनल सोसायटी चेन्नई मैनेज करती है। स्कूल में अच्छी क्लास, प्रयोगशालाएं हैं।

झारखण्ड का यह स्कूल भी टॉप
Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: CBSE से संबद्ध टॉप स्कूलों में रामकृष्ण मिशन विद्यापीठ, देवघर झारखंड लड़कों का आवासीय विद्यालय है। इसकी स्थापना 1922 में हुई थी। स्कूल छात्र के व्यक्तित्व विकास पर जोर देता है। इसी के चलते इसे भारत के टॉप CBSE स्कूलों में स्थान मिला है। स्कूल में बड़ा परिसर और प्रयोगशालाएं हैं। एक प्रशिक्षण और प्लेसमेंट सेल भी है।

DPS का जवाब नहीं
Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: दिल्ली पब्लिक स्कूल (DPS) के सभी स्कूल का नाम टॉप स्कूलों की सूची में है, लेकिन नई दिलली के आरके पुरम का दिल्ली पब्लिक स्कूल सबसे टॉप है। 1972 में स्थापित इस स्कूल CBSE में प्रवेश के लिए लिखित परीक्षा और एक साक्षात्कार देना होता है।

इस स्कूल का भी काफी नाम
Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: चिन्मय अंतर्राष्ट्रीय आवासीय विद्यालय (CIRS), कोयंबटूर 1996 में स्थापित किया गया था। स्कूल गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने में विश्वास करता है। बच्चे को शारीरिक, आध्यात्मिक और भावनात्मक स्तर पर ढालने का प्रयास करता है।

(KVS) केवीएस और जेएनवी है बेहतरीन
Central Board of Secondary Education (CBSE) Top schools: सरकारी स्कूलों की बात करें तो केंद्रीय विद्यालय संगठन (KVS) और जवाहर नवोदय विद्यालय (JNV) की गिनती स्वयं CBSE नायाब हीरे के तौर पर करता है। JNV में प्रवेश के लिए जवाहर नवोदय विद्यालय चयन परीक्षा होती है। इसकी वेबसाइट पर जाकर पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

Categories
Jobs

India Post office Recruitment 2020: 10वीं पास बेरोजगारों के लिए पोस्ट आॅफिस में नौकरी पाने का मौका, दो हजार से अधिक पदों पर होगी भर्ती

India Post office Recruitment 2020: भारतीय डाक के पश्चिम बंगाल सर्किल ग्रामीण डाक सेवकों (Gramin Dak Sevaks) के दो हजार से भी अधिक पदों पर भर्ती करेगा। उम्मीदवार आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

भारतीय डाक ग्रामीण डाक सेवक भर्ती की पूरी जानकारी इस प्रकार है।

 

इस तिथि तक कर सकते हैं आवेदन
ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि 18 मार्च, 2020 है। ब्रांच पोस्टमास्टर (BPM), असिसटेंट ब्रांच पोस्टमास्टर (ABPM) और डाक सेवक के 2,021 पदों पर भर्ती की जानी है। सामान्य, अन्य पिछड़ा और EWS वर्ग के उम्मीदवारों को 100 रुपये आवेदन शुल्क देना होगा। अन्य आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को फीस नहीं देनी होगी।

ये हैं आवेदन के पात्र
उम्मीदवार ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से गणित और अंग्रेजी में पासिंग मार्क्स के साथ 10वीं पास किया हो। उम्मीदवार की आयु 18-40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को ऊपरी आयु सीमा में छूट है। अधिक जानकारी अधिसूचना पढ़कर हासिल करें।

आवेदन की ये है प्रक्रिया
आवेदक सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट www.appost.in पर जाएं। उम्मीदवारों को पहले रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके लिए होम पेज पर रजिस्ट्रेशन लिंक Register here पर क्लिक करें। एक नई विंडो खुलेगी। इसमें नाम, पता, पिता का नाम आदि दर्ज करके रजिस्टर करें। उसके बाद आवेदन करें।

यहां पढ़ें अधिसूचना

भर्ती की अधिक जानकारी के लिए आधिकारिक अधिसूचना पढ़ सकते हैं।

रजिस्ट्रेशन के लिए यहां क्लिक करें।

https://indiapostgdsonline.in/phase5/fee.aspx

Categories
Results

Download sample paper CBSE board : सीबीएसई बोर्ड परीक्षा तैयारी के लिए यहां से डाउनलोड करें सैंपल पेपर

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षाएं 15 फरवरी से चल रही हैं। परीक्षा में अच्छा स्कोर करने के लिए सैंपल पेपर हल कर सकते हैं। इससे प्रश्नों के प्रकार आदि का पता चलेगा। सैंपल पेपर इन वेबसाइट्स से प्राप्त कर सकते हैं।

 

10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के आयोजन से कुछ महीने पहले सैंपल पेपर जारी किए जाते हैं। BYJU’S परीक्षा की तैयारी के लिए ऑनलाइन प्लेटफॉर्म है। वेबसाइट के साथ-साथ इसका एप भी उपलब्ध है। छात्र यहां से बोर्ड परीक्षाओं के लिए सैंपल पेपर डाउनलोड कर सकते हैं। सैंपल पेपर के साथ-साथ मार्किंग स्कीम भी डाउनलोड कर सकते हैं।

mycbseguide.com
बोर्ड परीक्षा की तैयारी और सैंपल पेपर के लिए mycbseguide.com भी लोकप्रिय वेबसाइट है। यह सभी विषयों के लिए फ्री में स्टडी मैटेरियल और सैंपल पेपर ऑफर करती है। 10वीं बोर्ड परीक्षाओं के लिए फ्री में और पेड दोनों तरह से सैंपल पेपर मिलते हैं। वेबसाइट पर पिछले कई सालों के सैंपल पेपर सॉल्यूशन के साथ उपलब्ध हैं।

Vedantu
Vedantu ऑनलाइन ट्यूटरिंग प्लेटफॉर्म है। छात्रों को स्टडी मैटेरियल के साथ-साथ सैंपल पेपर ऑफर करती है। CBSE 10वीं और 12वीं के लिए सैंपल पेपर पर उपलब्ध हैं, जिन्हें फ्री डाउनलोड किया जा सकता है। यहां पिछले साल के प्रश्न पत्र आदि भी उपलब्ध हैं। साथ ही यहां से NCERT सॉल्यूशन भी प्राप्त कर सकते हैं।

डाउनलोड करें सैंपल पेपर
बोर्ड परीक्षा की और भी अच्छी तैयारी करने के लिए tiwariacademy.com से सभी विषयों के सैंपल पेपर डाउनलोड कर सकते हैं। यहां पिछले कई साल के सैंपल पेपर उपलब्ध हैं। इसके साथ ही मार्किंग स्कीम, पिछ्ले साल के प्रश्न पत्र और सॉल्यूशन भी प्राप्त कर सकते हैं। NCERT Textbooks सॉल्यूशन भी हैं।

बोर्ड सैंपल पेपर
cbse बोर्ड भी अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर cbseacademic.nic.in पर सैंपल पेपर जारी करता है। छात्र आधिकारिक वेबसाइट से फ्री में सैंपल पेपर डाउनलोड कर सकते हैं।

Categories
Results

सीबीएसई 12वीं कक्षा के छात्र: ऐसे बनाएं सवालों का जवाब लिखने की योजना तो एक भी सवाल नहीं छूटेगा

सीबीएसई के 12वीं कक्षा के छात्रों को का पेपर देते समय निम्न बातों पर ध्यान देना चाहिए। 15 मिनट में प्रश्नपत्र को अच्छी तरह से पढ़ लें, प्रत्येक सवाल के लिए आबंटित अंक और शब्द सीमा देख लें। पहले उन प्रश्नों का उत्तर लिखना शुरू करें जिसे अच्छी तरह जानते हैं। लेकिन, इसके लिए सीरियल ऑर्डर पर अमल करना होगा जैसे पहले बहुत ही छोटे सवालों को हल करें, उसके बाद छोटे, फिर बड़े और अंत में निबंध जैसे सवालों को हल करें। बहुत ही छोटे, छोटे, लंबे और निबंध जैसे सवालों के लिए समय की सही बंटवारा करें ताकि आखिरी के कुछ सवालों को हल करते-करते समय निकल न जाए और कुछ सवालों को छोड़ना न पड़ जाए।

 

सावधानीपूर्वक सवालों को पढ़ें

जितने शब्दों में जवाब मांगा गया है, उतने ही शब्दों में लिखें। लम्बे-लम्बे जवाब लिखने से ज्यादा नंबर नहीं मिलने वाला है लेकिन कीमती समय जरूर बर्बाद हो जाता है। जवाब लिखने में जल्दबाजी न करें बल्कि जवाब लिखने से पहले सावधानीपूर्वक सवालों को पढ़ें। कई बार ऐसा होता है कि छात्र सवाल को गलत पढ़ लेते हैं और गलत जवाब लिख देते हैं। जैसे सवाल पूछा गया कि फॉर्मल और इनफॉर्मल कम्यूनिकेशन के बीच अंतर लिखें लेकिन छात्र ध्यान नहीं देते हैं तो कई बार वे पढ़ लेते हैं कि फॉर्मल आर्गनाइजेशन और इनफॉर्मल ऑर्गनाइजेशन के बीच क्या अंतर है। इस तरह से वे गलत आंसर लिख बैठते हैं। हर सवाल का जवाब देने से पहले सावधानी से उसका विश्लेषण करें। सवालों की जरूरत के मुताबिक आंसर का डिजाइन करें। आंसर लिखने की योजना बनाने में जो समय लगाते हैं, वह सही होता है। उन सवालों में उचित क्रम का पालन करें जहां कोई प्रक्रिया या स्टेप्स पूछे जाते हैं। ध्यान में रखें कि अगर आप 95 फीसदी से ज्यादा मार्क्स लाना चाहते हैं तो आंसर का परजेंटेशन भी काफी अहम होता है। इसलिए हेडिंग और अहम पॉइंट्स को अंडरलाइन करें। दो पॉइंट्स और दो जवाबों के बीच हमेशा जगह खाली छोड़ें।

मेन हेडिंग कैपिटल लेटर्स में लिखना चाहिए

मेन हेडिंग कैपिटल लेटर्स में लिखना चाहिए जैसे इंपॉर्टेंस ऑफ मैनेजमेंट। जवाबों को आकर्षक बनाने के लिए डायग्राम और कार्टूनों का भी इस्तेमाल करना चाहिए। हमेशा जवाब के समर्थन में जहां संभव हो उचित उदाहरण दें। जिन सवालों में ओपिनियन की जरूरत हो वहां दोनों पक्षों के विचार लिखें और उसके बाद जजमेंट दें। सभी प्रश्नों के लिए हमेशा उचित ओपनिंग और क्लोजिंग लाइन लिखें।

जिन सवालों में तुलना लिखना हो वहां आंसर के अंतर के आधार का उल्लेख करें। ऐसे सवालों का जवाब टेब्युलर फॉर्म में होना चाहिए। सवाल संख्या को सही लिखें। जिन सवालों में हर पॉइंट्स के लिए मार्क्स का उल्लेख किया गया हो वहां उसी हिसाब से पॉइंट्स लिखें। ज्यादा पॉइंट्स लिखने से ज्यादा नंबर तो नहीं मिलेंगे लेकिन उसमें से एक भी गलत हुआ तो नंबर जरूर कट जाएगा। उदाहरण के लिए चार अंकों वाले सवाल में, किसी चार अहम पॉइंट्स को लिकें। अगर पांच यह छह पॉइंट्स लिखते हैं और तीसरा पॉइंट्स गलत हो जाता है तो एक नंबर कट जाएगा। इससे कोई मतलब नहीं कि पांचवा और छठा पॉइंट्स जरूरी है। उत्तरपुस्तिका जमा करने से पहले रोल नंबर और अन्य जरूरी विवरण चेक कर लें।

Categories
Results

CBSE Board Exam 2020: CBSE) 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा में चाहते हैं अच्छा स्कोर तो ऐसे करें पढ़ाई

15 फरवरी, 2020 से केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा शुरू हो जाएंगी। परीक्षा में एक सप्ताह से भी कम समय रह गया है। ये समय बहुत महत्वपूर्ण है।
परीक्षा में अच्छा स्कोर जरुरी है। इसके लिए समय का सही उपयोग करना होगा।

 

पूरी नींद जरूर ले, शेष समय में रिवीजन करें

परीक्षा में प्रदर्शन के लिए फ्रेश रहना जरुरी है, फ्रेश रहने के लिए पूरी नींद लेनी चाहिए। छात्रों को सात से आठ घंटे की नींद लेनी चाहिए। डेटशीट को देखकर विषय का रिवीजन करना चाहिए। उस विषय का पहले रिवीजन करें जिसका पेपर पहले हो। रोजाना कम से कम एक विषय का रिवीजन करना चाहिए।

ब्रेक है बहुत जरूरी

ब्रेक ले-लेकर पढ़ाई करनी चाहिए। लम्बे समय तक एक साथ पढ़ाई नहीं करनी चाहिए। पढ़ाई के बीच में 40-45 मिनट का ब्रेक लेना चाहिए, जिससे कि फ्रेश रहें और पढ़ी हुई चीजें याद रहें।

पेपर हल करें

छात्रों को हर विषय के सैंपल पेपर हल करने चाहिए। ये समय सैंपल पेपर हल के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। सैंपल पेपर हल करने से परीक्षा पैटर्न और प्रश्नों के प्रकार का पता चलता है। परीक्षा के दौरान अपनी कमजोरियों और ताकतों का पता रहता है। आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर सैंपल पेपर हल करें और मॉक टेस्ट दें।

नोट्स भी हैं

छात्रों को तैयारी के दौरान अपने द्वारा बनाएं गए नोट्स को जरुर देखना चाहिए। रोजाना सिलेबस और कॉन्सेप्ट में उपयोग होने वाले सूत्रों को पढ़ना चाहिए। सूत्रों के बिना किसी भी कॉन्सेप्ट को हल करना और समझना बहुत मुश्किल होता है। इसलिए परीक्षा में अच्छा स्कोर करने के लिए सूत्रों ध्यान देना चाहिए और रोजाना रिवीजन करते रहना चाहिए।

एडमिट कार्ड ले जाना न भूलें

परीक्षा में शामिल होने के लिए एडमिट कार्ड बहुत जरुरी दस्तावेज है। इसके बिना छात्रों को परीक्षा में शामिल होने की अनुमति नहीं दी जाएगी। छात्रों को एडमिट कार्ड में दी गई सभी जानकारी को जांच लेना चाहिए। एडमिट कार्ड का प्रिंट आउट संभालकर रखें।

Categories
Off Beat

भगवान को भी कोरोना वायरस से लगा डर, मंदिर पर लगाया ताला

बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटकों की मौजूदगी वाले बौद्ध तीर्थ श्रावस्ती में कोरोना वाइरस संक्रमण की दहशत से डेन महामंकोल मंदिर पर ताला लगा दिया गया है। मंदिर प्रशासन ने मुख्य द्वार पर नोटिस बोर्ड लगाते हुए गेट पर ताला लगाकर देशी विदेशी पर्यटकों का प्रवेश अनिश्चित काल के लिए रोक दिया है। नोटिस बोर्ड पर लिखा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए मंदिर को अनिश्चित समय के लिए बंद कर दिया गया है। हालात में सुधार के बाद मंदिर को फिर खोल दिया जाएगा।

“बौद्ध स्थली श्रावस्ती में डेन महामंकोल एक विदेशी संस्था द्वारा बनवाया हुआ मंदिर है। एहतियातन उन्होंने मंदिर को बंद किया है क्योंकि श्रावस्ती में बहुत बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक आते हैं।” जिले में अभी कोरोना वायरस का एक भी मामला सामने नहीं आया है फिर भी एहतियातन मंदिर को बंद किया गया है।

घरों में बंद है चीन से लौटे डाक्टर

उधर, बहराइच में नेपाल के रास्ते चीन से लौटे एमबीबीएस छात्रों को होम आइसोलेशन में रखने के निर्देश जिला प्रशासन ने दिये हैं। हाल ही में चीन से लौटे दो छात्रों को उनके घर में ही रहने को कहा गया है। स्वास्थ्य महकमे के लोग 12-12 घंटे पर दोनों छात्रों का परीक्षण करके उच्चाधिकारियों को रिपोर्ट दे रहे हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए मठ मंदिरों और होटलों की निगरानी भी की जा रही है और एहतियात के तौर पर लोगों को मास्क लगाने की भी सलाह दी जा रही है।

सर्दियों में आते हैं लाखों भिक्षु

पर्यटन कारोबारियों के मुताबिक इन दिनों यहां विदेशी पर्यटकों की मौजूदगी सबसे अधिक होती है, लेकिन इस बार उनकी संख्या घटकर आधे से भी कम रह गयी है। श्रावस्ती में बारिश के मौसम के बाद हर साल चीन, जापान, थाईलैंड, श्रीलंका, कोरिया, म्यामांर सहित कई देशों के करीब दो लाख से अधिक बौद्ध भिक्षु व धर्मावलम्बी आते हैं। सर्दियों में अनेक मंदिरों में विशेष ध्यान सत्र चलाए जाते हैं। मंदिरों में बौद्ध भिक्षु और विदेशी धर्मावलंबी मौन व्रत रखकर विशेष पूजा करते हैं।

Categories
Results

परीक्षा के प्रवेश पत्र नहीं मिले, घबराए छात्रों ने निकाला जुलूस

क्रांतिकारी युवा संगठन (केवाईएस) के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली विश्वविद्यालय के एसओएल छात्रों के साथ मिलकर आर्ट्स फैकल्टी पर एसओएल प्रशासन के खिलाफ परीक्षा के 3 दिन पहले तक प्रवेश पत्र नहीं जारी करने को लेकर प्रदर्शन किया| ज्ञात हो कि स्नातकोत्तर एम.ए. राजनीति विज्ञान छात्रों में परीक्षा के तीन दिन पहले तक प्रवेश पत्र न जारी किये जाने से भारी अफरातफरी है| 

 

ज्ञात हो कि एसओएल के स्नातकोत्तर छात्रों की परीक्षा 3 दिन बाद 26 नवम्बर से शुरू होने वाली है, और एसओएल प्रशासन ने ज्यादातर छात्रों के प्रवेश पत्र अभी तक जारी नहीं किये हैं| ज्ञात हो कि एसओएल ऐसा हर साल करता रहा है| पिछले साल भी  स्नातकोत्तर छात्रों की परीक्षा की तिथियों को परीक्षा शुरू होने से 3 दिन पहले ही बताया गया था| 2016 में भी स्नातक छात्रों को उनका प्रवेश पत्र परीक्षा के 3 दिन पहले ही जारी किया गया था| 

 

 

जहाँ एक ओर दिल्ली विश्वविद्यालय के रेगुलर कोर्सों में प्रवेश पत्र परीक्षा से करीब एक महीने पहले ही जारी कर दिया जाता है, वहीं एसओएल में छात्रों को परीक्षा की तैयारी का भी समय नहीं दिया जाता| ज्ञात हो प्रवेश पत्र पहले नहीं जारी होने के कारण छात्रों में भारी घबराहट थी कि कहीं उनका एक साल इम्तेहान नहीं दिए जाने की वजह से बर्बाद न हो जाए| पेपर लीक और नक़ल रोकने का कारण जो एसओएल बता रहा है, वो भी इसलिए होता है क्योंकि छात्रों को पढ़ाई के नाम पर सिर्फ 13 दिन की आधी-अधूरी कक्षाएं ही मुहैया कराई जाती हैं| इन कक्षाओं में भी छात्रों को भीड़ और टीचर की गैरमौजूदगी झेलनी पड़ती है| 

 

इसके साथ-साथ एसओएल प्रशासन ने सिलेबस से सम्बंधित उलझनों के बारे में भी स्थिति स्पष्ट नहीं की है| छात्रों को जो स्टडी मटेरियल मुहय्या करवाया जाता है उसमे बस 30 प्रतिशत सिलेबस ही ख़त्म हो पाता है| जाहिर है इसके कारण छात्रों के परीक्षा परिणाम पर दुष्प्रभाव पड़ेगा| केवाईएस एसओएल प्रशासन की कड़ी भर्त्सना करता है और छात्रों का कीमती समय बर्बाद करने के लिए माफ़ी मांगने की मांग करता है| साथ ही, आने वाले दिनों में केवाईएस एसओएल के छात्र-विरोधी रवैये के खिलाफ छात्रों को आंदोलनरत करेगा|

Categories
Off Beat

दो छात्र समूहों के बीच झड़पों के बाद गैर स्थानीय छात्रों ने कैंपस में प्रदर्शन किया

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में श्रीनगर के राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान(एनआईटी) में दो छात्र समूहों के बीच झड़पों के बाद गैर स्थानीय छात्रों ने कैंपस में प्रदर्शन किया।अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दो गैर स्थानीय एवं कुछ स्थानीय छात्रों के बीच गुरुवार रात को किसी मुद्दे को लेकर उग्र बहस हो गई। बहस इतनी बढ़ गई दोनों समूह के बीच झड़पें शुरू हो गई।

उन्होंने बताया कि झड़पाें के बाद गैर-स्थानीय छात्रों ने शुक्रवार को कक्षाओं का वहिष्कार किया और कैंपस में प्रदर्शन किया।उन्होंने कहा,“ श्रीनगर के उपायुक्त डॉ. सईद आबिद रशीद शाह के कैंपस में आने और झड़पों के लिए जिम्मेदार लोगों को उचित सजा देने के आश्वासन के बाद छात्रों ने प्रदर्शन खत्म किया।एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

[divider style=”solid” top=”10″ bottom=”10″]

(इस खबर को मोबाइल पे न्यूज संपादकीय टीम ने संपादित नहीं किया है। यह एजेंसी फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

मोबाइल पे न्यूज पर प्रकाशित किसी भी खबर पर आपत्ति हो या सुझाव हों तो हमें नीचे दिए गए इस ईमेल पर सम्पर्क कर सकते हैं:

mobilepenews@gmail.com

हिन्दी में राष्ट्रीय, राज्यवार, मनोरंजन, खेल, व्यापार, अजब—गजब, विदेश, हैल्थ, क्राइम, फैशन, फोटो—वीडियो, तकनीक इत्यादि समाचार पढ़ने के लिए जुड़ें हमारे फेसबुक, ट्विटर पेज को लाइक करें:

फेसबुक मोबाइलपेन्यूज

ट्विटर मोबाइलपेन्यूज

——————————

<p style=”text-align: justify;”>