Categories
sports

IPLके आयोजन पर सरकार लेगी निर्णय : किरेन रिजिजू

मुंबई । कोरोना वायरस के कारण अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हुए आईपीएल के 13वें सत्र को आयोजित कराने को लेकर केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने रविवार को कहा कि इस बाबत फैसला भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) नहीं बल्कि केंद्र सरकार करेगी।

कोरोना वायरस के कारण देशभर में लागू लॉकडाउन और यात्रा प्रतिबंध के कारण बीसीसीआई ने आईपीएल को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया था। रिजिजू ने कहा कि आईपीएल आयोजित कराने पर फैसला लोगों की सुरक्षा को देखते हुए लिया जाएगा।

खेल मंत्री ने कहा, “भारत में आईपीएल को लेकर फैसला सरकार देश में महामारी की स्थिति को देखते हुए लेगी।उन्होंने इंडिया टूडे से कहा, “केवल खेल प्रतियोगिता आयोजित करने के लिये हम अपने देशवासियों का स्वास्थ खतरे में नहीं डाल सकते। हमारा मुख्य उद्देश्य कोविड-19 से लड़ना है।”ऐसा माना जा रहा है कि दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड बीसीसीआई ऑस्ट्रेलिया में अक्टूबर-नवंबर में होने वाले टी-20 विश्वकप का आयोजन नहीं होने की स्थिति में आईपीएल के आयोजन पर विचार कर सकती है।

Categories
National

कश्मीर की समस्या को राहुल गांधी ओर जवाहरलाल नेहरू को ठहराया जिम्मेदार: किरेन रिजिजू

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने कश्मीर समस्या पर भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) की नीति को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सवाल का करारा जवाब देते हुए इसके लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जिम्मेदार ठहराया है।

Kiren Rijiju
Kiren Rijiju

रिजिजू ने बुधवार को एक टवीट् करते हुए कहा“ सरदार पटेलजी ने सभी क्षेत्रों की समस्याओं को हल कर लिया था लेेकिन नेहरू जी ने कश्मीर का जिम्मा संभाला और इसकी वजह से अधिक दिक्कतें पैदा हुई।”उन्होंने कहा कि आतंकवाद की आग में जल रहे जम्मू कश्मीर में हजारों लाेग मारे गए हैं और कश्मीर पंडितों की भी हत्या की गई है तथा राज्य से 1,60,000 से अधिक लोगों को बाहर जाना पड़ा है।

यह भी देखिये – सरकारी बैंकों में लोगों के पैसों को लेकर वित्त मंत्री ने कही जबरदस्त बात

रिजिजू ने कहा“ आपके परिवार और आपकी पार्टी ने कश्मीर को तबाह करके रख दिया है और आप इसका आरोप भाजपा पर लगा रहे हैं।”गौरतलब है कि मंगलवार को जम्मू कश्मीर में गठबंधन सरकार में शामिल भारतीय जनता पार्टी ने अपनी सहयाेगी पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी से समर्थन वापिस ले लिया था जिसके बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस्तीफा दे दिया था।राष्ट्रपति राम नाथ काेविंद की तरफ से मंजूरी मिलने के बाद बुधवार से ही राज्य में राज्यपाल शासन लग गया है।

यह भी देखिये –पत्रकार शुजात बुखारी के आतंकी हमले में मारे जाने से निकाला कैंडिल मार्च

इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया करते हुए गांधी ने कहा था“ अवसरवादी भाजपा-पीडीपी गठबंधन ने जम्मू -कश्मीर को आग के हवाले कर दिया,इसकी वजह से हमारे बहादुर सैनिकों समेत अनेक निर्दोष नागरिक मारे जा रहे हैं। भारत को इसका भारी मूल्य चुकाना पड़ रहा है और इसने संप्रग की कईं वर्षों की कड़ी मेहनत पर पानी फेर दिया है तथा राज्यपाल शासन में और अधिक नुकसान उठाना पडेगा। अयोग्यता, हठी रवैया और नफरत हमेशा असफल रहती हैं।”

यह भी देखिये – किसानो को मिली नई सौगात :नरेन्द्र मोदी

Categories
National

हिंदी के विकास को अधिक से अधिक कार्य हिंदी में -किरेन रिजीजू

केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजीजू ने आज कहा कि संविधान ने हिंदी के विकास की जिम्मेदारी सौंपी है इसलिए जरूरी है कि अधिक से अधिक कार्य इस भाषा में किये जायें।

Kiran Rijiju

यह भी देखिये -जॉनी बेयरस्टो के लगातार दूसरे शतक से इंग्लैंड ने जीती वनडे सीरीज

रीजीजू ने यहां संयुक्‍त क्षेत्रीय राजभाषा सम्‍मेलन एवं पुरस्‍कार वितरण समारोह को संबोधित करते हुये कहा, “संविधान ने हम सब पर राजभाषा हिंदी के विकास और प्रयोग-प्रसार का दायित्‍व सौंपा है। राजभाषा होने के कारण हमारा कर्तव्‍य है कि हम ज्‍यादा से ज्‍यादा कार्य हिंदी में करें।”

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भाषा किसी भी समाज और देश की आत्‍मा होती है तथा भाषा में बहुत ताकत होती है। उन्‍होंने कहा कि दूसरी भाषाएं सीखनी चाहिए लेकिन ऐसा करते समय अपनी मातृभाषा और राजभाषा को भूल जाना तर्कसंगत नहीं होगा। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के आंदोलन में हिंदी भाषा की अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण भूमिका रही है, जिसे आगे बढाते हुए विभिन्‍नता में एकता के लिए कार्य करना होगा।

यह भी देखिये – जमात-उद-दावा को आतंकवादी संगठन घोषित करने को दी चुनौती : हाफिज

रीजीजू ने कहा कि लोगों को यह संदेश देना होगा कि राजभाषा हिंदी सर्वश्रेष्‍ठ है और यह कार्य सामूहिक सहयोग तथा नैतिक उत्तरदायित्व की भावना से ही संभव है। उन्होंने कहा कि स्वैच्छिक प्रयोग से भाषा की व्यापकता में वृद्धि होती है, भाषा समृद्ध होती है और उसका स्‍वरूप निखरता है। यह समझना जरूरी है कि देश के लोगों की सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्‍कृतिक सभी प्रकार की अपेक्षाओं को पूरा करने वाली योजनाओं एवं कार्यक्रमों को आखिरी व्यक्ति तक पहुंचाना सरकारी तंत्र का अति महत्‍वपूर्ण कर्तव्‍य है और उसकी सफलता की कसौटी भी।

जीएसटी : रिटर्न, रिवर्स चार्ज और टीडीएस पर तीन महीने और राहत

आपको बता दे कि जब से केंद्र में भाजपा सरकार आयी है तब से हिंदी के उपयोग को बढ़ावा दिया जा रहा है ,साथ ही इसका प्रचार -प्रसार
भी किया जा रहा है।