Wednesday , November 13 2019
Home / Off Beat / सरयू में डुबकी के बाद गर्म जलेबियों और पकौड़ों का लुत्फ उठा रहे हैं अयोध्या आए रामभक्त

सरयू में डुबकी के बाद गर्म जलेबियों और पकौड़ों का लुत्फ उठा रहे हैं अयोध्या आए रामभक्त

विवादित रामजन्मभूमि पर उच्चतम न्यायालय के फैसले से पहले अवाम कितना भी बेचैन हो लेकिन अयोध्या में शनिवार की सुबह आम दिनों की तरह सामान्य है।
उच्चतम न्यायालय आज सुबह 1030 बजे रामजन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद का फैसला सुनायेगी। हालांकि स्थानीय लोगों में इस ऐतिहासिक फैसले को लेकर कतई हड़बड़ाहट नहीं लगती। कई लोगों को देर सुबह तक पता भी नहीं था कि फैसला आज आने वाला है। यहां के लोग शहर में अमन और शांति चाहते है और देश के लोगों से न्यायालय के फैसले को एक सुर में मानने की अपील करते हैं।

राम भक्तों को फैसला सुनने से ज्यादा पवित्र सरयू नदी में आस्था की डुबकी लगाने की जल्दी है। हाथों में कपड़ों की पोटली थामे श्रद्धालुओं की टाेलियां सरयू के घाटों की तरफ हर दिन की तरह बढ़ी चली जा रही हैं। बाजारों में रौनक आम दिनो की तरह ही है। बुधवार को चौदह कोसी परिक्रमा समाप्त होने के बाद शुक्रवार को श्रद्धालुओं ने पंचकोसी परिक्रमा भी पूरे विधिविधान से पूरी की।
परिक्रमा का सिलसिला समाप्त होने के बाद भी हजारों की तादाद में बाहर जिलों से आये श्रद्धालु विभिन्न आश्रमों पर ठहरे हैं। यहां बाजार आम दिनो की तरह खुली हैं। स्नान ध्यान के बाद लोगबाग मिष्ठान भंडारों पर लजीज जलेबियों का लुत्फ ले रहे है। गर्मागर्म पकौडियों का चटखारा ले रहे हैं। पूजन सामग्री समेत अन्य जरूरत की चीजों की दुकाने सजी हुयी हैं।

शहर में भीड़भाड़ है और दो पहिया वाहनों के लिये कोई रोकटोक नहीं है हालांकि ऐहतियात के तौर पर जिला प्रशासन ने बाहर से आने वाले चार पहिया वाहनो के प्रवेश में प्रतिबंध लगा दिया है। पुलिस के वाहन सड़कों पर गश्त कर रहे है हालांकि इससे यहां विचरण करने वाले तीर्थयात्रियों को कोई परेशानी नही है। नया घाट से हनुमान गढी तक पैदल यात्रियों और दोपहिया वाहनों के आवागमन में कोई प्रतिबंध नहीं है हालांकि विवादित स्थल को बैरीकेडिंग लगाकर सील कर दिया गया है।

न्यायालय के फैसले के मद्देनजर धर्मशालाओं और आश्रमों में ठहरे यात्रियों से घरों को लौटने की सलाह दी गयी है। इसके लिये नयाघाट में अस्थायी बस अड्डा बनाया गया है जहां विभिन्न बस डिपो की बसें यात्रियों को ले जाने के लिये तैयार खडी हैं।

About admin

Check Also

उभारों का कहर……. बड़ी भूख की बहुत बड़ी कहानी

तभी आकाश का पोस्टमार्टम करने वाले सिविल सर्जन डा. कमलकांत आ गए और रहस्यमय अंदाज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *