National

अब प्रियंका, दीपिका और करीना कपूर को कंगाल होने से कोई नहीं रोक सकता!

बिल्कुल सही समझा, संसद ने गुरुवार को उपभोक्ता संरक्षण कानून में जिन संशोधनों को मंजूरी दी है, उनके अमल में आते ही इन चारों हीरोइनों की कंगाली का दौर शुरू हो जाएगा, क्योंकि नए कानून के तहत अब वे उन उत्पादों का झूठा प्रचार नहीं कर पाएंगी जो करोड़ों की फीस लेकर वे करती हैं। ये हीरोइनें झूठे विज्ञापनों के जरिए सालाना इतना कमाती हैं, जितना वे एक साल में बीस फिल्मों में काम करके भी नहीं कमा सकती।


हुआ ये है कि संसद ने उपभोक्ता संरक्षण कानून के तहत अब झूठा विज्ञापन करने अर्थात झूठ को सच बताकर परोसने वाले सितारों के लिए दस लाख रुपए प्रति विज्ञापन जुर्माना लगाने का नियम बना दिया है। फिल्मी सितारे ही झूठे विज्ञापनों के जरिए पब्लिक को उत्पाद खरीदने के लिए बरगलाते हैं। ये हीरोइनें कभी एक सप्ताह में गोरा होने की गारंटी वाली क्रीम बेचती हैं तो कभी बच्चों को पहलवान बनाने का दावा करने वाले सप्लीमेंट की सिफारिश करती हैं। गहने पहन कर किसी ज्वैलर के गहने खालिस सोने के बताकर महिलाओं को लुभाती हैं। अंडर गारमेंट में बेडरूम में ज्यादा आकर्षक दिखने का दावा करती हैं। इतना ही नहीं, वे सेनेटरी नेपकिन जैसी अति आवश्यक चीज को भी नहीं छोड़ती और उसे लेकर भी झूठे दावे करती हैं।


महिलाओं को पति की सेहत का झांसा देकर ऐसे उत्पाद बेचती हैं जिनमें केमिकल की भरमार है तो ये कहते हुए कि इसे दांतों पर रगड़ने से वे मोती जैसे चमकते हैं, खास टूथपेस्ट करने का सुझाव देती हैं। बालों को लहराते हुए कई तरह के शैम्पू, कंडीशनर को बालों के हर मर्ज की दवा बताती हैं। नहाते हुए नाना प्रकार के साबुन, बॉडी लोशन जैसी अनेकानेक रसायनों से बनी हुई सामग्री को त्वचा को ग्लोइंग बनाए रखने का परोक्ष दबाव बनाती हैं।


जहां तक सनी लियोनी का सवाल है तो जिस दुनिया से वह आई है, वहां रहने के अनुभव को देखते हुए वह अन्य हीरोइनों से आगे बढ़ गई है। ऐसे उत्पाद बेचती है जिन्हें बेचने से आम हीरोइनें कतराती हैं। हालांकि गुजरे जमाने की अभिनेत्री रेखा इस वर्जना को दरकिनार कर चुकी हैं।
उपभोक्ता संरक्षण कानून में किए गए ताजा संशोधनों के मुतबिक भ्रामक विज्ञापन करने वाले सितारों पर अब दस लाख रुपए तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। चूंकि मायावी संसार रचाकर ही उत्पादों की बिक्री बढ़ाई जा सकती है, इसलिए विज्ञापनों में झूठे दावे करना मजबूरी होती है और नए कानून में इन मजबूरियों को अपराध मान लिया गया है। इसलिए अब सितारों को भ्रामक विज्ञापनों से किनारा करना पड़ेगा जिससे उन्हें सालाना करोड़ों का नुकसान होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Notifications    Ok No thanks