Subscribe for notification
Categories: National

चलेंगी 160 की रफ्तार से ट्रेन लेकिन गरीब नहीं बैठ पाएंगे

नई दिल्ली. रेल मंत्रालय जल्द ही ऐसी ट्रेन चलाएगा जिनकी रफ्तार 160 किलोमीटर प्रतिघंटे होगी लेकिन ये आम आदमी के लिए नहीं होंगी क्योंकि इनमें लगने वाले डिब्बों में स्लीपर और जनरल कोच नहीं होंगे।

मंत्रालय के अनुसार मेल और एक्सप्रेस ट्रेन के 130 किमी प्रति घंटे या उससे अधिक रफ्तार से चलने पर नॉन-एसी कोच तकनीकी समस्याएं पैदा करती हैं। लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में फिलहाल 83 एसी कोच लगाने का प्रस्ताव है।

110 रहेगी नान एसी कोच वाली गाडियों की रफ्तार

जिन गाडियों में नान एसी कोच होंगे उनकी रफ्तार 110 किलोमीटर प्रति घंटे होगी। इस तरह की रेलगाड़ियों में टिकट की कीमत ‘सस्ती’ होगी। वर्तमान में अधिकतर मार्गों पर मेल, एक्सप्रेस रेलगाड़ियां की गति 110 किलोमीटर प्रति घंटा या कम है। राजधानी, शताब्दी और दूरंतो जैसी प्रीमियम रेलगाड़ियां 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलती हैं।

कपूरथला के रेल कोच फैक्टरी में तैयार

इस तरह के एक एसी कोच का प्रोटोटाइप कपूरथला के रेल कोच फैक्टरी में तैयार किया जा रहा है। वर्तमान में 83 बर्थ वाले कोच को डिजाइन किया जा रहा है। इस तरह के 100 कोच बनाने की योजना है और अगले वर्ष 200 कोच बनाए जाएंगे। इन कोचों का मूल्यांकन किया जाएगा और इन कोचों के संचालन से मिलने अनुभव के आधार पर आगे की प्रगति होगी। नये एसी कोच सस्ते होंगे और उनकी टिकट दर एसी थ्री और स्लीपर कोच के बीच की होगी।