Warning: session_start(): open(/var/cpanel/php/sessions/ea-php56/sess_03a9cb99c8870933a1013991e47148ee, O_RDWR) failed: No such file or directory (2) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261

Warning: session_start(): Failed to read session data: files (path: /var/cpanel/php/sessions/ea-php56) in /home/mobilepenews/public_html/wp-content/plugins/accelerated-mobile-pages/includes/redirect.php on line 261
Kuttu relieve the condition from diabetes: मधुमेह से शर्तिया छुटकारा दिला सकता है कुट्टू, कोलेस्ट्रोल को भी खत्म करता है - Mobile Pe News
Sunday , February 23 2020
Home / Off Beat / Kuttu relieve the condition from diabetes: मधुमेह से शर्तिया छुटकारा दिला सकता है कुट्टू, कोलेस्ट्रोल को भी खत्म करता है

Kuttu relieve the condition from diabetes: मधुमेह से शर्तिया छुटकारा दिला सकता है कुट्टू, कोलेस्ट्रोल को भी खत्म करता है

Kuttu relieve the condition from diabetes

विटामिन बी से भरपूर यह अनाज खून को पतला और कोलेस्ट्रोल कम करने में मददगार है, नवरात्रि में हिंदू नौ दिनों का उपवास रखते हैं और अनाज नहीं खाते। इसलिए कुट्टू, जिसे अनाज की श्रेणी में नहीं रखा जाता, का उपयोग व्रत के दिनों में करते हैं। व्रती कुट्टू के आटे की पूरी और हलवा बनाकर खाते हैं। कुट्टू को अंग्रेजी में बकव्हीट कहते हैं। कुट्टू का वनस्पतिक नाम फागोपाइरम एस्कूलानटम है।

Kuttu relieve the condition from diabetes

कुट्टू के पौधे झाड़ी की तरह होते हैं। कुट्टू को अम्लीय और कम उपजाऊ जमीन में भी उगाया जा सकता है। यह खरपतवार को दूर रखता है और मिट्टी को कटाव से भी बचाता है। एक शोध के अनुसार कुट्टू की खेती सबसे पहले करीब 6,000 ईसापूर्व दक्षिण-पूर्व एशिया के इनलैंड नामक देश में की गई थी। यहीं से यह मध्य एशिया, तिब्बत, मध्य पूर्व और यूरोप पहुंचा। दुनियाभर में कुट्टू के तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं। जापान, चीन और कोरिया में कुट्टू के नूडल और इटली में इससे बना फ्लैट रिबन पास्ता चाव से खाया जाता है। फ्रांस में कुट्टू के पैनकेक बनाए और खाए जाते हैं। कुट्टू का इस्तेमाल ग्लूटन-फ्री बीयर बनाने के लिए भी किया जाता है।

Kuttu relieve the condition from diabetes

जापान में कुट्टू से शोशू नामक पेय बनाया जाता है जिसका स्वाद जौ के समान होता था। कोरिया और जापान में भुने हुए कुट्टू की चाय बनाई जाती है, जिसे मेमिल-चा और सोबा-चा कहा जाता है। कुट्टू के छिलके का इस्तेमाल तकिए में भरने के लिए भी किया जाता है। एक शोध के अनुसार, कुट्टू के छिलके काफी टिकाऊ होते हैं और सिन्थेटिक रुई की तरह ऊष्मा पैदा नहीं करते। इसलिए ऐसे तकिए बेहद आरामदायक होते हैं।

ये हैं इसके औषधीय गुण

कुट्टू के पोषक तत्व इसे एक वैकल्पिक खाद्य के रूप में स्थापित करते हैं। यह कम कैलोरी वाला खाद्य पदार्थ है, इस कारण यह मधुमेह रोगियों के लिए आदर्श भोजन माना जाता है। एक शोध के अनुसार, कुट्टू का नियमित उपभोग खून में सीरम ग्लूकोज की मात्रा को घटाकर टाइप-II मधुमेह को नियंत्रित रखता है। अध्ययन बताता है कि कुट्टू मैंग्नीशियम का प्रमुख स्रोत है जो धमनियों को आराम देने के साथ ही रक्तचाप को नियंत्रित रखता है। कुट्टू में विटामिन बी (खासकर नाइसिन, फोलेट और बी6) प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो खून को पतला रखने और कोलेस्ट्रोल कम करने में मददगार होता है। एक अन्य शोध बताता है कि कुट्टू में फाइबर की अधिकता प्री-मीनोपोजल महिलाओं में स्तन कैंसर के खतरे को कम करता है।

Kuttu relieve the condition from diabetes

कुट्टू केक बनाने की रेसिपी

सामग्री

कुट्टू का आटा: 1-1/2 कप
केला : 2 (पका हुआ)
बेकिंग पाउडर : 2 चम्मच
बेकिंग सोडा : 1 चम्मच
वनीला एसेंस : आधा चम्मच
चीनी : 1 कप
मक्खन : 100 ग्राम
नारियल पाउडर : आधा कप

विधि: एक बड़े कटोरे में कुट्टू का आटा, चीनी, बेकिंग पाउडर, बेकिंग सोडा को अच्छी तरह मिलाएं। मिश्रण में पिघलाया हुआ मक्खन डालकर अच्छी तरह से मिला लें। वनीला एसेंस और अब पके हुए केले को चम्मच की सहायता से मैश करके डालें और इस मिश्रण को एक बड़े चम्मच से अच्छी तरह से मिलाएं। अब माइक्रोवेव को प्री-हीट करें, सांचे में डालकर 180 डिग्री सेंटीग्रेड पर 35 मिनट तक पकाएं। 10 मिनट रुककर केक को माइक्रोवेव से बाहर निकलें। ठंडा करके परोसें।

About Ekta Tiwari

Check Also

मुर्दा खाने वालों को चाव से खाते हैं भारत के ये आदिवासी, डर के कारण 50 किलोमीटर तक घोंसला नहीं बनाते गिद्ध

आंध्र प्रदेश के बपाटला कसबे के बांदा आदिवासियों के लिए गिद्ध वैसे ही खाने लायक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *