Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723
बेटी का मान रखकर पुत्र की उपाधी जीते जी किया अपना मृत्यु भोज – Mobile Pe News

बेटी का मान रखकर पुत्र की उपाधी जीते जी किया अपना मृत्यु भोज

एक तरफ देश में लड़कियों पर अत्याचार की घटनाएं सामने आ रही है वहीं कई लोग ऐसे भी है जो बेटे से ज्यादा बेटियों का मान रखते हैं और उन्हें बेटे के समान दर्जा देते हैंएक ऐसा ही मामला राजस्थान के अलवर जिले के थानागाजी में सामने आया है जहाँ अशिक्षित समझे जाने वाले समाज की एक निसंतान दम्पत्ति ने एक मिसाल कायम की है।

यह भी देखिये –जोधपुर के कारागार में लगेगी तीसरी अदालत

इस दंपति ने एक लड़की को गोद लेकर अपने जीते जी अपना मृत्यु भोज कर गोद ली बेटी के पगड़ी बांधी।ये सभी कार्यक्रम समाज के लोगो के सामने किये गए।थानागाजी कस्बे में रहने वाले समाज सेवी बलधारी रेबारी व सायर रैबारी ने आज जीवित मृत्युभोज करके बेटी को गोद लिया व सर्व समाज के सामने पगड़ी बाँध कर अपने पुत्र की उपाधि दी।दम्पति ने बताया कि उनके सन्तान नही है।

यह भी देखिये – शीना बोरा मर्डर केस, मुझे जेल में मारने की साजिश रची जा रही है-इंद्राणी

इसलिए सोमवार को जीवित मृत्युभोज का आयोजन किया व समाज के सामने बेटी को गोद लेकर पगड़ी रस्म करवाई, जिसमें में बालिका सरिता के नाम पांच लाख रुपए की एफडी व चल अचल संम्पति नाम की।बेटी गोद लेने के बारे में बलदारी ने बताया कि बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं होता है।बेटे से ज्यादा बेटी ज्यादा फर्ज अदा करती है।उनका मानना है अगर बेटी नहीं होंगी तो बेटे कहाँ से होंगे।जिस तरह बेटो के भविष्य की चिंता की जाती है उसी तरह बेटियों के भविष्य की भी चिंता माँ बाप को करनी चाहिए।

यह भी देखिये – मानव दिवस का लेबर बजट स्वीकृत किया गया