Keep hackers away from WhatsApp chatting: व्हाट्सएप चैटिंग से इस तरह दूर रखें हैकरों को, प्राइवेसी सुरक्षित रहेगी

व्हाट्सएप अब उतना सुरक्षित नहीं रहा, जितना दावा किया जा सकता है। अब आपकी चैट को हैकरों के साथ सरकारी एजेंसियां भी देख सकती है। इसलिए आपको व्हाट्सएप चैटिंग करते समय ये सावधानियां रखना जरूरी है। लोग अपने घर, ऑफिस, दोस्तों आदि का ग्रुप बनाकर उसमें मैसेज भेजते हैं। ग्रुप में किसी यूजर को सीधे ऐड किया जा सकता है और लिंक भेजकर भी व्हाट्सऐप ग्रुप में शामिल होने के लिए इन्वाइट किया जा सकता है।

लिंक भेजकर ग्रुप में इन्वाइट करने से बचे

अगर किसी यूजर को ग्रुप में शामिल करने के लिए लिंक भेजा जाता है तो वह लिंक गूगल पर इंडेक्स हो जाता है। इसका मतलब है कि यह लिंक गूगल सर्च में दिखेगा। कोई भी व्यक्ति सही कीवर्ड डालकर ग्रुप की चैट तक एक्सेस पा सकता है। अगर वह ऐसा करने में कामयाब होता है तो उसे ग्रुप में मौजूद लोगों के फोन नंबर और उनकी बाकी जानकारी के साथ-साथ उनके मैसेज भी दिखेंगे।

व्हाट्सएप की ये है प्रतिक्रिया

व्हाट्सएप प्रवक्ता के अनुसार किसी भी ग्रुप के एडमिन लिंक शेयर कर दूसरे यूजर्स को इन्वाइट कर सकते हैं। इंटरनेट पर पब्लिक चैनल में शेयर किए सर्च करने योग्य लिंक को कोई भी यूजर सर्च कर सकता है। लोगों को ऐसे लिंक केवल उन्ही यूजर्स के साथ शेयर करने चाहिए, जिन्हें वो जानते हैं। ऐसे लिंक को किसी वेबसाइट पर शेयर नहीं करना चाहिए। इससे प्राइवेसी प्रभावित हो सकती है।

ये है इससे बचना का तरीका

अगर आप किसी ग्रुप के एडमिन हैं और दूसरे लोगों को इसमें ऐड करना चाहते हैं तो लिंक के जरिए उन्हें इन्वाइट न करें। एक बार लिंक क्रिएट होने के बाद यह गूगल पर जा सकता है और लोग इसे सर्च कर सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो आपके साथ-साथ ग्रुप के सभी मेंबर्स की प्राइवेसी खतरे में पड़ सकती है। इसके बजाय लोगों को सीधा ग्रुप में एड करें।

ये है इसका दूसरा तरीका

अगर आपके पास ग्रुप में लोगों को इन्वाइट करने के लिए कोई दूसरा विकल्प नहीं बचा हो तो बेहतर यह होगा कि एक बार ग्रुप में सभी लोगों के एड होने के बाद लिंक को रीसेट कर दें। ग्रुप ऐडमिन के पास यह राइट होता है। लिंक को रीसेट करने के बाद पुराना लिंक काम नहीं करेगा और नया लिंक सुरक्षित रहेगा। यह किसी से शेयर नहीं किया होगा तो गूगल पर भी नहीं जाएगा।

व्हाट्सएप की प्राइवेसी पर इसलिए उठे सवाल

पिछले कुछ समय से व्हाट्सएप की प्राइवेसी को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। पिछले साल व्हाट्सएप के जरिए जासूसी का मामला सामने आया था, जिसके बाद दुनियाभर ने चिंता जताई थी।