Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723
ये तो ऐसे ही चलेगी फिर इस्तीफा क्यों किया जाए स्वीकार? – Mobile Pe News

ये तो ऐसे ही चलेगी फिर इस्तीफा क्यों किया जाए स्वीकार?

कांग्रेस की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई कांग्रेस कार्य समिति ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को संगठन में आमूलचूल परिवर्तन करने के लिए अधिकृत किया है और उनके नेतृत्व पर विश्वास जताते हुए उनकी इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया।

लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन की समीक्षा को लेकर कार्य समिति की बैठक के बाद आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटनी, गुलाम नबी आजाद, केसी वेणुगोपाल तथा रणदीपसिंह सुरजेवाला ने यह जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि बैठक में लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर गहन विचार विमर्श किया गया जिसमें कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया सहित लगभग सभी प्रदेशों के प्रभारी महासचिवों ने अपने विचार व्यक्त किए। बैठक में 30 से ज्यादा नेताओं ने अपने विचार रखे और संगठन को मजबूत करने के लिए गांधी के नेतृत्व में नए सिरे से काम करने का सुझाव दिया गया।

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि बैठक में लोकसभा चुनाव में पार्टी के प्रदर्शन पर चर्चा के बीच श्री गांधी ने अपने विचार रखने शुरू कर दिए। उन्होंने चुनाव में पार्टी के लिए काम करने वाले कार्यकर्ताओं तथा उम्मीदवारों और कांग्रेस को समर्थन देने वाले देशवासियों का धन्यवाद किया और कहा कि इस चुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन के लिए वह नैतिक रूप से जिम्मेदार हैं इसलिए पद से इस्तीफा दे रहे हैं।

कांग्रेस नेताओं ने कहा कि जैसे ही गांधी ने इस्तीफा देने की पेशकश की, कार्यसमिति के सभी सदस्यों ने एक स्वर में इस पर अपनी असहमति व्यक्त की और कहा कि गांधी ने पांच साल तक लगातार पार्टी को मजबूत बनाने के लिए काम किया है इसलिए पार्टी को उनकी जरूरत है और उन्हें पद से इस्तीफा नहीं देना चाहिए। कार्यसमिति के सभी सदस्यों ने एकजुट होकर गांधी की पेशकश को अस्वीकार कर दिया।