Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723

Deprecated: WPSEO_Frontend::get_title is deprecated since version WPSEO 14.0 with no alternative available. in /home/mobilepenews/public_html/wp-includes/functions.php on line 4723
लोकतंत्र का गला घोंट रही है मोदी सरकार : कांग्रेस – Mobile Pe News

लोकतंत्र का गला घोंट रही है मोदी सरकार : कांग्रेस

कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी पर संसदीय परंपरा को तहस नहस करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि मोदी सरकार ने आज वित्त विधेयक को चर्चा कराए बिना और शोर शराबे के बीच पारित कर लोकतंत्र का गला घोंटा है।

यह भी देखिये-नरेंद्र मोदी की ‘स्मार्ट सिटी मिशन’ पूरे जाेरों पर

लोकसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक ज्योतिरादित्य सिंधिया ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा कि सरकार संसद के भीतर विपक्ष को बाेलने नहीं दे रही है और संसद में चर्चा कराने से भाग रही है। वह संसदीय कार्यवाही को खंडित कर रही है और बिना चर्चा के महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित करा रही है। संसद में लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है।

यह भी देखिये -आज के दिन ही प्रदर्शित हुयी थी पहली बोलती फिल्म आलम आरा

उन्होंने मोदी सरकार को अहंकारी करार दिया और कहा कि संसदीय कार्यमंत्री विपक्षी दलों के नेताओं के साथ बातचीत करने को तैयार नहीं है। संसद में लगातार हंगामा हो रहा है लेकिन सरकार ने एक बार भी इस बारे में विपक्षी दलों से बातचीत करने की कोशिश नहीं की। संसद विचारों के आदान प्रदान का मंच है और लोकतंत्र इसी से चलता है लेकिन भाजपा देश का गला घोंट रही है।

यह भी देखिये-शराब पीकर वाहन चलाने से हुई दुर्घटना में मौत होगी गैर जमानती अपराध

कांग्रेस नेता ने कहा कि उनकी पार्टी नियम 193 के तहत भी अपने काम रोको प्रस्ताव पर चर्चा कराने को तैयार है लेकिन सरकार इस पर भी राजी नहीं है। संसद में कामकाज हो और महत्वपूर्ण विधेयक चर्चा कराने के बाद ही पारित किए जाए ,इसके लिए उन्होंने मंगलवार को लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन से भी चर्चा की लेकिन सरकार किसी भी स्तर पर विपक्ष की बात सुनने को तैयार नहीं है और संसदीय परंपरा को तहस नहस करने पर उतारू है। उन्होंने कहा कि संसद में विपक्ष को भी संसद में बोलने का मौका दिया जाना चाहिए।