Off Beat

गणपति बप्पा ने भी लड़ी थी आजादी की लड़ाई, अंग्रेजों के छुड़ा दिए थे छक्के

पुणे में 1893 में मनाया गया था पहला गणेशोत्सव

नई दिल्ली. ग​णपति बप्पा की दयालुता और भक्तवत्सल होने की खूबी से पूरी दुनिया परिचित है लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि भारत को विदेशी शासकों के चंगुल से आजादी दिलाने में भी उनका बड़ा योगदान है। दूसरे शब्दों में कहें तो गणपति बप्पा ने अंग्रेजों के खिलाफ सीधी लड़ाई ही नहीं लड़ी बल्कि उनके छक्के छुड़ा दिए।

 

देश ब्रितानी हुकूमत की यातनाओं से कराह रहा था। अंग्रेजों की क्रूरता के खिलाफ भारतीयों को एक स्थान पर एकजुट होकर विचार-विमर्श करने के लिए एक पर्व की आवश्यकता थी। किसी हिन्दू सांस्कृतिक कार्यक्रम को एक साथ मिलकर मनाने की इजाजत नहीं थी। तब ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा’ का नारा देने वाले, लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने गणेशोत्सव काे फिरंगियों के खिलाफ हथियार बनाया था।

बाल गंगाधर तिलक ने सबसे पहले ब्रिटिश राज के दौरान पूर्ण स्वराज की मांग उठाई। उनके लाख बंदिशों के बावजूद लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने लोगों में जनजागृति का कार्यक्रम पूरा करने के लिए महाराष्ट्र के पुणे में 1893 गणेश उत्सव का आयोजन किया। त्योहारों के माध्यम से जनता में देशप्रेम और अंग्रेजों के अन्यायों के विरुद्ध संघर्ष का साहस भरा गया।

गणेशोत्सव पूजा को सार्वजनिक महोत्सव का रूप देते समय उसे केवल धार्मिक कर्मकांड तक ही सीमित नहीं रखा गया, बल्कि आजादी की लड़ाई, छुआछूत दूर करने और समाज को संगठित करने तथा आम आदमी का ज्ञानवर्धन करने का जरिया भी बनाने के साथ ही आंदोलन का स्वरूप भी दिया गया। इस आंदोलन ने ब्रिटिश साम्राज्य की नींव हिलाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

गणेशोत्सव सार्वजनिक होने के बाद फिरंगियों के खिलाफ आजादी की लड़ाई में पूरे महाराष्ट्र में फैलाया गया। उसके बाद नागपुर, वर्धा, अमरावती आदि शहरों में भी गणेशोत्सव ने आजादी का नया ही आंदोलन छेड़ दिया था। अंग्रेज इससे घबरा गये थे। इस बारे में रोलेट समिति की रिपोर्ट में भी चिंता जतायी गयी थी।

रिपोर्ट में कहा गया था कि गणेशोत्सव के दौरान युवकों की टोलियां सड़कों पर घूम-घूम कर अंग्रेजी शासन विरोधी गीत गाती हैं, स्कूली बच्चे पर्चे बांटते हैं। पर्चे में अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ हथियार उठाने और मराठों से शिवाजी की तरह विद्रोह करने का आह्वान होता है। साथ ही अंग्रेजी सत्ता को उखाड़ फेंकने के लिए धार्मिक संघर्ष को जरूरी बताया जा रहा है।

इतिहास की गहराइयों में झांके तो महाराष्ट्र में सात वाहन, राष्ट्रकूट, चालुक्य जैसे राजाओं ने गणेशोत्सव की प्रथा चलाई। महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी ने गणेशोत्सव को राष्ट्रीयता एवं संस्कृति से जोड़कर एक नई शुरुआत की। पेशवाओं ने गणेशोत्सव को बढ़ावा दिया। पेशवाओं के बाद 1818 से 1892 तक हिन्दू घरों के दायरे में ही सिमटा हुआ था।

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक ने 1893 में गणेशोत्सव का जो सार्वजनिक पौधरोपण किया वह विराट वट वृक्ष का रूप ले चुका है। ऋद्धि-सिद्धि के देव विघ्नहर्ता गजानन न केवल भारत में अपितु तिब्बत, चीन, वर्मा, जापान, जावा एवं बाली, थाईलैंड, श्रीलंका, म्यांमार एवं बोर्नियो इत्यादि तमाम देशों में भी विभिन्न रूप में पूजे जाते हैं। इन देशों में गणेशजी की प्रतिमाएं भी चप्पे-चप्पे पर देखने को मिलती हैं।

उस समय गणेशोत्सव ने सामाजिक चेतना और राष्ट्र के प्रति एकता जागृत करने का काम किया। लोगों को देश भावना और उसकी एकता और अखण्ड़ता के प्रति ओत-प्रोत किया। नया संचार लिए आगे चलकर वरदायिनी साबित हुआ। किसी भी देश में उसकी सबसे बड़ी सांस्कृतिक क्रांति होती है। इसकी परिणति आज भारत में, नया भारत और श्रेष्ठ भारत के रूप में परिलक्षित हो रहा है।

भारतीय पुराणों में गणेश की अनेक कथाएं समाहित हैं। ‘गणेश पुराण’ की महिमा सीमाओं की संकीर्णता से परे है, इसलिए पश्चिमी देशों की प्राचीन संस्कृतियों में भी गणेश की अवधारणा विद्यमान है।

भारत से बाहर विदेशों में बसने वाले प्रवासी भारतीयों ने भारतीय संस्कृति की जड़ों को गहराई तक फैलाने का प्रयास किया और इन पर भारतीय देवताओं की पूजा-उपासना का स्पष्ट प्रभाव था जो आज परिलक्षित है। विदेशों में प्रकाशित पुस्तक ‘‘गणेश-ए-मोनोग्राफ आफ द एलीफेन्ट फेल्ड गॉड’’ में जो तथ्य उजागर किये गये हैं, उससे इस बात का स्पष्ट प्रमाण मिलता है कि विश्व के कई देशों में गणेश प्रतिमाएं बहुत पहले से पहुंच चुकी थी और विदेशियों में भी गणेश के प्रति श्रद्धा और अटूट विश्वास रहा है।

गणेश चतुर्थी वैसे तो पूरे देश में बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है लेकिन महाराष्ट्र में इस त्यौहार काे लेकर लोगों में एक अलग प्रकार का उत्साह देखने को मिलता है। वहां इसे सबसे बड़ा और प्रमुख त्यौहार के रूप में मनाया जाता होता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Notifications    Ok No thanks