Categories
Crime

दो लाख रुपए महीेने मिलता था वेतन फिर भी देश को धोखा दिया केन्द्र सरकार के इस पूर्व अफसर ने

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने 1973 बैच के भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) के अधिकारी एवं केंद्रीय उत्पाद के पूर्व आयुक्त सुरेंद्र पाल सिंह उर्फ ​​एस पी सिंह को दो वर्षाें के कठाेर कारावास की सजा सुनायी है तथा उन पर 20,000 रुपये का जुर्माना लगाया है। सीबीआई के अपर विशेष न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई के बाद विशाखापत्तनम के पोर्ट एरिया के तत्कालीन केंद्रीय उत्पाद आयुक्त को दोषी ठहराते हुए उन्हें यह सजा सुनाई।

सीबीआई प्रवक्ता ने बयान में कहा कि भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत सिंह, हैदराबाद स्थित निजी कंपनी के एक व्यक्ति, नयी दिल्ली के एक व्यापारी और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ नौ मार्च 2001 को मामला दर्ज किया गया था। बयान में कहा गया कि वर्ष 2001 के दौरान सिंह ने व्यवसायी सहित तीन निजी व्यक्तियों के साथ एक आपराधिक साजिश की और आंध्र प्रदेश स्थित निजी कंपनियों (सभी अनुसांगिक इकाईयां) द्वारा 4.88 करोड़ रुपये का उत्पाद कर की चोरी मामले में अपनी आधिकारिक स्थिति का दुरुपयोग किया था।
प्रारंभ में, सिंह ने दिल्ली के एक व्यवसायी को नौ मार्च 2001 को हैदराबाद के निजी व्यक्ति से हैदराबाद में 25 लाख रुपये की राशि एकत्र करने को कहा। इसके बाद, पूर्व केंद्रीय उत्पाद शुल्क आयुक्त ने राशि को घटाकर 15 लाख रुपये कर दिया। उक्त आपराधिक साजिश के तहत नयी दिल्ली के व्यवसायी ने बदले में दो अन्य निजी लोगों को हैदराबाद आने और हैदराबाद स्थित कंपनी के व्यक्ति से सिंह के लिए 15 लाख रुपये की अवैध राशि हासिल करने का निर्देश दिया। दोनों व्यक्तियों ने नौ मार्च 2001 को हैदराबाद का दौरा किया और कथित तौर पर सिंह के लिए निजी व्यक्ति से 15 लाख रुपये का रिश्वत स्वीकार किया।
प्रवक्ता ने कहा कि इसके बाद सीबीआई ने एक जाल बिछाया और आरोपी व्यक्तियों को पकड़ लिया। सीबीआई ने आरोपी व्यक्तियों के परिसरों और विभिन्न ठिकानों की तलाशी ली और छापेमारी की जिसमें शेयरों से संबंधित दस्तावेजों की बरामदगी, एक लॉकर की चाबी, एक लाख 40 हजार की नकदी, 1019 अमेरिकी डॉलर, 95 सिंगापुर डॉलर, अचल और चल संपत्ति के दस्तावेज और अन्य आपराधिक दस्तावेज बरामद किये गये।
सीबीआई प्रवक्ता ने कहा कि गहन जाँच के बाद जांच एजेंसी ने 29 जुलाई 2004 को अपर विशेष न्यायाधीश की अदालत में सिंह और एक व्यवसायी सहित तीन निजी व्यक्तियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया। प्रवक्ता ने कहा कि अदालत ने सिंह को दोषी पाया और उसे कठाेर कारावास की सजा सुनाई जबकि अन्य तीनों लोगों को बरी कर दिया।

Categories
Crime

इस स्कूल के संचालकों ने अमेरिका के कई मिलियन डालर उड़ाए

गुजरात में अहमदाबाद शहर के पालडी क्षेत्र में एक स्कूल में चल रहे अवैध कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए बुधवार को छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर साइबर अपराध शाखा ने अंकुर स्कूल पर सुबह छापा मारा। इस दौरान स्कूल के एक कमरे में चल रहे कॉल सेंटर से अमेरिकी नागरिकों को फोन करके वित्तीय लेन-देन के नाम पर ठगी करने वाले छह लोगों को पकड़ लिया गया। वहां से लेपटॉप, मोबाइल फोन तथा कम्प्यूटर सहित अन्य सामान जब्त कर लिया गया। पुलिस ने मामला दर्ज करके विस्तृत जांच शुरू कर दी है।

उधर झारखंड के गिरिडीह जिले में अहिल्यापुर थाना क्षेत्र के चिकसोरिया गांव से पुलिस ने चार साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि चिकसोरिया गांव में साइबर अपराधियों के देखे जाने की मिली सूचना के आधार पर कार्रवाई करने के लिए गठित पुलिस टीम ने छापेमारी की। पुलिस को देखते ही जंगल के नजदीक मोबाइल फोन पर बात कर रहे कुछ युवक भागने लगे। पुलिस ने खदेड़ कर चार युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

सूत्रों ने बताया कि पूछताछ में गिरफ्तार चारों की पहचान विश्वनाथ कुमार मंडल, राजेंद्र मंडल, कैलाश मंडल और संतोष कुमार मंडल के रूप में हुई है। गिरफ्तार युवकों के पास से कई मोबाइल फोन, सिम कार्ड, एटीएम कार्ड, दो मोटरसाइकिल और 25 हजार रुपये नकद बरामद किए गए हैं। पूछताछ में युवकों ने स्वीकार किया कि वे फोन कर लोगों को खुद की पहचान बैंक अधिकारी बताते हैं और उनसे ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) पूछकर उनके बैंक खाते से रुपये उड़ा लेते हैं।

इस  ने  के कई मिलियन

Categories
Crime

खेत में उगाता और वहीं पिलाता था गांजा, पुलिस की मार से हुआ अधमरा

गुजरात में भावनगर जिले के बगदाणा क्षेत्र में एक खेत से गांजे के पौधे जब्त करके एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि मोणपर गांव के कादवाडी इलाके में एक खेत पर सोमवार मध्य रात्रि छापा मारा गया। इस दौरान खेत में उगा रखे गांजे के पौधे जब्त कर लिए गए। जब्त गांजे का वजन 377 किलोग्राम 140 ग्राम बताया जा रहा है और गांजे की कीमत करीब 15 लाख 85 हजार रुपये आंकी गयी है। पुलिस ने मामला दर्ज करके इस सिलसिले में इसी गांव निवासी खेत के मालिक संजय डी. पांडव (28) को पकड कर उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

गुजरात में ही वडोदरा शहर के हरणी क्षेत्र में सोमवार को गांजे के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर अकोटा इलाके की विनायक सोसायटी में संजय जी. टांक (58) के घर पर आज तड़के छापा मारा गया। इस दौरान उसके घर से 1100 ग्राम गांजा जब्त कर लिया गया। जब्त गांजे की कीमत 11 हजार रुपये आंकी जा रही है। पुलिस ने मामला दर्ज करके विस्तृत जांच शुरू कर दी है।

गुजरात में सूरत जिले के ही कामरेज क्षेत्र में एक खेत से 96 लाख रुपये से अधिक मूल्य के गांजे के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर कटोदरा गांव के निकट एसओजी और पुलिस की टीम ने एक खेत पर छापा मारा। इस दौरान आज तड़के इस खेत से 967 किलोग्राम गांजा बरामद किया गया।

जब्त गांजे की कीमत करीब 96 लाख 70 हजार रुपये आंकी जा रही है। इस सिलसिले में खेत में काम करने वाले पांच मजदूरों का पकड़ लिया गया और खेत मालिक की तलाश जारी है। पुलिस ने मामला दर्ज करके आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है।

Categories
Crime

झूठी शादी रचाकर प्रेमिका को बेचने के लिए मुंबई ले गया प्रेमी लेकिन बच निकल भागी ये युवती!

राजस्थान के बीकानेर में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक युवती ने आरोप लगाया है कि खजोडा निवासी राजाराम ने उसे एक होटल में बुलाकर पहले जबरन बीयर पिलाई और फिर बलात्कार किया। बाद वह उसे देश के विभिन्न शहरों में ले जाकर बलात्कार करता रहा। करीब एक महीने से ज्यादा अवधि तक राजाराम के चंगुल में रही युवती ने पुलिस से कहा है कि राजाराम उसे गोवा से सीधे जोधपुर ले आया और कमला नेहरू आर्य समाज में जबरन शादी रचा ली।

पुलिस के अनुसार युवती के साथ बलात्कार और जान से मारने की धमकी देकर जोधपुर के आर्य समाज में शादी कर लेने का मामला दर्ज कराया गया है। बीकानेर लौटने पर युवती ने आरोपी के खिलाफ नयाशहर पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज कराया। युवती की ओर से पुलिस को दी गई रिपोर्ट में बताया गया कि गत सोलह सितंबर को वह अपनी सहेली के साथ एमएस कॉलेज गई थी। वहां खजोडा निवासी राजाराम ने सहेली के मोबाइल पर फोन किया और शार्दुलसिंह सर्किल के पास स्थित होटल में बुलाया। होटल के कमरे में उसने जबरन बीयर पिलाई और उसे धमकाकर राजीव गांधी मार्ग ले गया जहां से अहमदाबाद वाली बस में बैठाया। बस के डबल स्लिपर में दुष्कर्म किया।

बाद में राजाराम उसे मुंबई, पूना, गोवा, लखनऊ, उदयपुर, चित्तौडगढ़़, बेंगलुरू, नेपाल, जयपुर ले गया और होटलों के कमरों में दुष्कर्म करता रहा। गोवा से जोधपुर लेकर आया और 26 सितंबर को न्यायालय में कागजों पर साइन कराए और फिर जबरन कमला नेहरू आर्य समाज में शादी कर ली। उसके बाद फिर से अलग-अलग शहरों और नेपाल ले जाकर दुष्कर्म किया।

चार नवंबर को वह फतेहपुर में अपनी बहिन के घर ले गया और पांच नंवबर को वह मौका पाकर बीकानेर आकर पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश हुई। थानाधिकारी ईश्वर प्रसाद जांगिड़ ने बताया कि आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, जिसकी जांच सीओ सिटी सुभाष शर्मा करेंगे। युवती की मेडिकल जांच कराई गई है।

Categories
Crime

भौचक्के रह गए सीमा शुल्क अधिकारी, दो महिला यात्रियों को संडास पर बिठाया तो दोनों के पेट से निकला एक किलो सोना

चेन्नई.पूरे फिल्मी अंदाज में हवाई अड्डे पर तैनात सीमा शुल्क अधिकारी जब दो महिला विमान यात्रियों के पेट में छुपाये गये सोने को बरामद करने के लिए यहां एक अस्पताल में लाये तो उनका अपहरण कर लिया गया तथा उनसे सारा सोना बरामद करने के बाद अपहर्ता गिरोह ने उन्हें शहर में छोड़ दिया। दोनों महिला यात्री यहां अन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर अपना पासपोर्ट लेने आयीं तो सीमा शुल्क अधिकारियों ने दोनों से पूछताछ की तथा बाद में दाेनों को पल्लावरम थाने के हवाले कर दिया। सीमा शुल्क अधिकारियों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

हवाई अड्डा सूत्रों ने बताया कि सीमा शुल्क अधिकारियों ने संदेह होने पर दोनों महिला यात्रियों फातिमा और टेरेसा से पूछताछ की। दोनों महिला कल शाम कोलंबो से यहां पहुंची थी। पूछताछ के दौरान दोनों ने स्वीकार किया कि उन्होंने सोने से भरे टैबलेट खाये हुए हैं। इसके बाद सीमा शुल्क के दो अधिकारी अमृत त्रिपाठी और रेणु कुमारी दोनों महिला यात्री को निजी कार के जरिये निजी अस्पताल ले जाने लगे ताकि उन्हें एनिमा देकर उनके पेट से सभी सोना निकाल सकें।

उनकी कार जब अस्पताल के पास पहुंची तो उसी समय दूसरी कार से आये अज्ञात गिरोह ने उन पर हमला कर दिया। बदमाशों ने अमृत को घायल कर दिया तथा दोनों महिला यात्रियों का अपहरण कर लिया।

अपहर्ता गिरोह ने चेन्नई में ही एनिमा के जरिये दोनों महिलाओं के पेट से सोना निकालने के बाद बुधवार तड़के उन्हें छोड़ दिया। इसके बाद दोनोंं महिलायें अपना पासपोर्ट लेने सीमा शुल्क अधिकारियों के पास आयीं। पुलिस ने दोनों महिला यात्रियों के अपहरण के मामलों की जांच शुरू कर दी है और अपहर्ता गिरोह का पता लगाने के लिए व्यापक तलाश अभियान छेड़ दिया है।
इस बीच सीमा शुल्क विभाग ने भी सोना निकालने के लिए दोनों महिला यात्रियों को सरकारी अस्पताल ले जाने के बजाय निजी अस्पताल ले जाने पर दोनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी है।

Categories
Crime

सास, ससुर और पति के साथ पांच को सायनाइड देकर हत्या करने वाली जॉली की शक्ल देखने एकत्र हो जाता है पूरा केरल

पहले सास फिर ससुर, उसके बाद पति समेत परिवार के पांच जनों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार सीरियल सायनाइड किलर जॉली अम्मा जोसफ केरल में इतनी प्रसिद्ध हो गई हैं कि जब उन्हें अदालत में पेश करने लाया जाता है तो कोझिकोड में भारी भीड़ एकत्र हो जाती है। तमाशबीन भीड़ देखना चाहती है कि पति समेत सास—ससुर की हत्या करने वाली औरत आखिर इतनी संगदिल कैसे हो गई। केरल के कूदाताई में कई हत्याओं की प्रमुख आरोपी और कथित सीरियल सायनाइड किलर जॉली अम्मा जोसफ की एक झलक पाने के लिए थामरास्सेरी के मजिस्ट्रेट कोर्ट में लोगों का हुजूम इकट्ठा हो गया।

अन्य दोनों आरोपियों ने उसे सायनाइड मुहैया कराया था। तीनों को जॉली के पहले पति रॉय थॉमस की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने फिलहाल जॉली के खिलाफ सिर्फ यही मामला दर्ज किया है। हालांकि पुलिस ने कोर्ट को बताया कि वह तीनों आरोपियों की 11 दिनों की हिरासत चाहती है क्योंकि वे जॉली के साथ पांच अन्य हत्याओं में भी संदिग्ध हैं क्योंकि जॉली का संबंध सभी हत्याओं से है। पुलिस ने कहा कि सभी मौतें विषाक्त पदार्थ के सेवन के कारण हुईं थीं और विस्तृत पूछताछ करने और कुछ स्थानों से सबूत इकट्ठे करने की जरूरत है। कोर्ट ने हालांकि सिर्फ छह दिन की हिरासत दी। कोर्ट परिसर में भारी भीड़ होने के कारण जॉली को कोर्ट लाने और वहां से ले जाने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। उसे भारी सुरक्षा के बीच कोर्ट ले जाया गया। जॉली अभी भी इसी बात पर कायम है कि वह एनआईटी कोझिकोड में एक प्रवक्ता थी और पुलिस ने भी अपने हलफनामें में इसका उल्लेख किया है।

परिवार में पहली मौत 2002 में थॉमस की मां और जॉली की सास सेवा निवृत्त शिक्षिका अन्नम्मा के रूप में हुई। उनके बाद जॉली के ससुर टॉम थॉमस की 2008 में मौत हुई। 2011 में जॉली के पति रॉय थॉमस की भी हत्या हो गई, जिसके बाद रॉय के मामा मैथ्यू की 2014 में हत्या हुई। इसके अगले साल एक रिश्तेदार सिली का दो वर्षीय बेटा मारा गया, वहीं सिली की मौत 2016 में हो गई। रॉय थॉमस के भाई रोजो द्वारा पुलिस अधीक्षक को लगातार हुईं संदिग्ध मौतों के संदर्भ में संदेह व्यक्त करने के बाद पुलिस हरकत में आई। रोजो अब अमेरिका में रहते हैं। केरल पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहरा ने तिरुवनंतपुरम में मीडिया को बताया कि उन्होंने देश और विदेश के वर्तमान और सेवानिवृत्त सबसे वरिष्ठ फॉरेंसिक विशेषज्ञों से बात की है।

बेहरा ने कहा, ‘फिलहाल मैंने इन विशेषज्ञों से राय मांगी है, एक बार हम कोर्ट में सैंपल सौंप देंगे, तो वे हमें दोबारा नहीं मिलेंगे। इस मामले में हम पूरी कोशिश कर रहे हैं। बेहरा ने जांच टीम में कर्मियों की संख्या भी बढ़ाकर 35 कर दी है, जिनमें फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स भी हैं। जांच के लिए छह टीमों का गठन किया गया है, प्रत्येक मौत के लिए एक टीम। इसी संबंध में लापता चल रहा इडुक्की जिला में कट्टापना का एक स्थानीय ज्योतिषी लौट आया है। जॉली यहीं की रहने वाली है। मीडिया से उसने कहा कि वह कहीं छिपा नहीं था और उसे याद नहीं कि वह जॉली और उसके पति से कब मिला था। पुलिस ने रोजो को जांच में सहायता करने के लिए भारत लौटने के लिए कहा है।

Categories
Crime

फेसबुक के जरिए असम से फंसा कर गंगानगर लाया फिर दोस्तों के साथ कई रात किया सामूहिक बलात्कार

राजस्थान के चूरू में असम की एक युवती को होटल में बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। असम में चंदनपुर में बारापेटा रोड निवासी युवती ने चुरु पुलिस अधीक्षक के सामने आपबीती बताते हुए इसकी रिपोर्ट दी। रिपोर्ट के आधार पर चुरू जिले में राजगढ़ थाना क्षेत्र में गांव सेऊआ निवासी आनंद तथा महेंद्र गोस्वामी पर महिला थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

पुलिस के अनुसार पीड़िता ने बताया है कि फेसबुक पर हुई बातचीत के बाद आनंद ने उसे अपनी बातों में ले लिया। उससे शादी करने की बात करने लगा। आनंद ने उसे बताया कि वह विवाहित है और उसके साथ शादी कर लेगा। आनंद के बुलाने पर वह 22 अक्टूबर को चुरू आ गई। आनंद ने उसे एक होटल में ठहराया। उसके साथ महेंद्र गोस्वामी भी था। पीड़िता का आरोप है कि 22-23 अक्टूबर की रात लगभग एक बजे आनंद ने शादी का वायदा कर उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध बना लिए। इसके बाद 28 अक्टूबर तक आनंद और महेंद्र ने इसी होटल में उसे डरा धमका कर रखा कि यहां पर उसका कोई नहीं है। उसकी कहीं कोई सुनवाई नहीं होगी। यह डर दिखाकर दोनों उसके साथ दुष्कर्म करते रहे। बाद में उसे धमकी देकर छोड़ दिया।

पुलिस ने बताया कि मंगलवार रात को इन दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 376-डी के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया, जिसकी जांच वृत्ताधिकारी सुखविंदरपाल सिंह कर रहे हैं। पीड़िता का मेडिकल चेकअप कराया जा रहा है। पीड़िता विवाहित है और एक बच्चे की मां है। उसकी एक बहन सेऊआ गांव में रहती है।

 

Categories
Crime

लतखोर पिता ने शराब के नशे में मामूली बात पर घोंट दिया जवान बेटी का गला

उत्तर प्रदेश के एक लतखोर पिता ने शराब के नशे में मामूली बात के लिए अपनी ही जवान बेटी की हत्या कर दी। पिता उसकी शादी अपनी मर्जी से करना चाहता था लेकिन बेटी घर की हालत को देखते हुए अभी शादी करने को तैयार नहीं था। उत्तर प्रदेश की बाराबंकी पुलिस ने जवान बेटी की हत्या के आरोप में उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस सूत्रों ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि रामसनेहीघाट कोतवाली क्षेत्र के सुखीपुर गांव में 13 अक्टूबर रविवार को शिल्पी नामक युवती का शव संदिग्ध परिस्थितियों में घर से बरामद किया गया था। उन्होंने बताया कि शनिवार के दिन सब कुछ सामान्य था। सुबह शिल्पी का भाई पत्नी को लेकर ससुराल चला गया था। घर में उसका पिता विजय और मन्द बुद्धिभाई अमरेश ही था। पिता का घर से कोई मतलब नहीं रहता था क्योंकि वह हर समय शराब के नशे में धुत रहता था।

उन्होंने बताया कि शिल्पी बीएससी करने के बाद एक निजी स्कूल में पढ़ाती थी। घटना की रात वह घर के बरामदे में सो गयी। सुबह जब नहीं उठी, तो पड़ोस में रहने वाले भतीजे ने ससुराल गए उसके भाई क़ो सूचना दी। इस मामले में 19 अक्टूबर को रामसनेहीघाट थाने पर लिखित तहरीर दी गई। इस मामले की जांच में चौकाने वाले तथ्य प्रकाश में आये और जानकारी हुई कि शिल्पी की हत्या किसी और ने नहीं की बल्कि उसके पिता विजय ने शराब के नशे में उसकी गला दबाकर हत्या की। उन्होंने बताया कि शिल्पी की शादी तय कर दी थी, लेकिन दोनों के बीच तनाव तब हो गया जब शिल्पी ने शादी के लिए मना कर दिया। पिता शराब का लती था इसी नशे में उसने 13 अक्टूबर को गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने हत्यारोपी विजय को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

 

 

Categories
Crime

आनलाइन ठगों के गिरोह का खुलासा, विदेश में बैठे आका लेते हैं मोटा कमीशन, उनके हिस्से आती है चिल्लर और पुलिस की पिटाई

हाल ही पकड़े गए झांसा देकर करोड़ों की आनलाइन ठगी करने वाले गिरोह ने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। गिरोह का दावा है कि वह केवल बिचौलिए हैं और तमाम पैसा विदेश में बैठे स्किमर लेते हैं। वे अपना मोटा कमीशन काटकर शेष राशि भारत के ठगों को आनलाइन ही देते हैं।
पुलिस के अनुसार लखनऊ से अन्तर्राष्ट्रीय ‘आनलाइन फ्राड’ एवं ‘क्रिप्टो करेन्सी’ के जरिये विदेश पैसा भेजने वाले गिरोह के तीन सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 16 एटीएम बरामद किए गये। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने बताया कि अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर ‘आनलाइन साइबर फ्राड’ करने वाले एवं बिटक्वाइन के जरिये विदेशों में पैसा भेजने वाले गिरोह के तीन सदस्यों पटना बिहार निवासी राकेश कुमार सिंह उर्फ पिन्टू ठाकुर , गोपालगंज निवासी बिट्टू यादव और प्रदीप देव को गिरफ्तार किया। पकड़े गये आरोपियों के पास से विभिन्न बैको के 16 एटीएम कार्ड, 21300 रूपये की नकदी एवं अन्य कार्ड बरामद किए।

उन्होंने बताया कि पिछले कुछ माह से एसटीएफ को विभिन्न सूत्रों से सूचना प्राप्त हो रही थी कि ‘फेसबुक’ एवं अन्य ‘सोशल साइट’ के ‘जाब पोर्टल’ पर विदेशों में नौकरी देने के लिए विज्ञापन निकालकर विदेशों में रहने वालों तथा भारत मे रहने वालों से ठगी कर उनसे विभिन्न बैंकों में खुले खातों में रकम जमा कर उनको निकाल लेना तथा धोखाधड़ी करने के उद्देश्य से फेसबुक पर फर्जी जाब पोर्टल बनाकर, उसके ‘बिटक्वाइन वालेट’ में एजेन्ट के माध्यम से बिटक्वाइन के रूप में पैसा भिजवाते हैं।

मिश्र ने बताया कि गिरोह को पकड़ने के लिए एसटीएफ की टीमों को लगाया गया था। इसी क्रम में पता चला कि इस तरह के अपराध करने वाले गिरोह के कुछ सदस्यों का आवागमन कुशीनगर से लखनऊ तक हो रहा है। उन्होंने बताया कि शनिवार को एसटीएफ ने सूचना मिलने पर लखनऊ के चिनहट इलाके में कमता तिराहा से ‘साइबर फ्राड’ करने वाले गिरोह के उपरोक्त् तीनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि पकड़े गये आरोपियों ने बताया कि वे लोग ठगी एवं साईबर अपराध करते हैं। ‘इंटरनेट’ और‘फेसबुक’ पर बहुत सारे विदेशों में नौकरी के लिए फर्जी ‘जाॅब पोर्टल’ भी रहते हैं। उस ‘पोर्टल’ पर जो मोबाइल नम्बर इंगित रहते हैं वह नम्बर विदेश में बैठे फर्जी जाॅब पोर्टल चलाने वाले व्यक्तियों के होते है, जिसे साइबर अपराध की भाषा में ‘स्कैमर’ के नाम से पुकारते हैं। विदेशों में नौकरी पाने के इच्छुक लोग जाॅब पोर्टल पर इंगित स्कैमर के नम्बरों पर ‘व्हाट्स-एप चेट’ के माध्यम से सम्पर्क में आ जाते हैं।

मिश्र ने बताया कि भारत में बैठा व्यक्ति, जिसे साइबर अपराध की भाषा में ‘पिकर’ के नाम से पुकारते हैं, भारत में विभिन्न बैंकों के खातों की व्यवस्था करता है, जिसमें नौकरी पाने के इच्छुक व्यक्तियों से बड़ी धनराशि जमा करायी जा सके। ‘पिकर’ के पास बहुत सारे बैंक एकाउन्ट होते है, जिनको वह विभिन्न व्यक्तियों से सम्पर्क कर अल्प धनराशि का भुगतान कर उनके नाम से खाते खुलवाता है।
उन्होंने बताया कि भारत में बैठा यह ‘पिकर’ लगातार विदेश में बैठे ‘स्कैमर’ से सम्पर्क में रहता है। खाता खुलवाने के बाद वह पासबुक व एटीएम अपने पास रख लेता है। ‘स्कैमर’ नौकरी तलाश रहे व्यक्तियों से ‘पिकर’ द्वारा उपलब्ध कराये जा रहे खातों में घोखाधड़ी करते हुए नौकरी पाने के इच्छुक व्यक्यिों से बड़ी धनराशि जमा करा देता है। ‘पिकर’, भारत में बैठे व्यक्ति के खाते में पैसा आने के बाद अपना कमीशन काट कर बाकी रकम ‘बिटक्वाइन वेण्डर’ को दे देता है। ‘बिटक्वाइन वेण्डर’ विदेश में बैठे व्यक्ति ‘स्कैमर’ के ‘बिटक्वाइन वालेट’ में ‘बिट क्वाइन’ के रूप में यह पैसा जमा कर देता है। पूछताछ पर मुरादाबाद का रहने वाला एक ‘बिटक्वाइन वेन्डर’ ज्ञात हुआ है, जो ‘पिकर’ द्वारा उपलब्ध करायी गयी धनराशि को अपना शुल्क काटने के बाद ‘बिटक्वाइन’ में कनवर्ट कर ‘स्कैमर’ को उपलब्ध करा देता है। यह भी बताया कि विभिन्न खाता धारक, जिनके खातों में देश-विदेशों से नौकरी लगाये जाने के एवज में घनराशि जमा करायी जाती है, को जमा करायी गयी धनराशि का 12 प्रतिशत दिया जाता है तथा 13 प्रतिशत उसके द्वारा ले लिया जाता है। जब पीडित व्यक्ति दोबारा सम्पर्क करना चाहता है तो तब ‘स्कैमर’ से उसका सम्पर्क नहीं हो पाता है। सामान्यतया ‘स्कैमर’ कैमरून, यूरोप, यूएसए आदि देशों के होते है। छानबीन पर पता चला कि ‘पिकर’ द्वारा उपलब्ध कराये गये विभिन्न खातों में भारत के विभिन्न प्रदेशों के अतिरिक्त आस्ट्रेलिया, युरोपीय देशों व दुबई आदि से पैसा नौकरी पाने के उद्देश्य से जमा किया गया है। गिरफ्तार राकेश के पास से खातों के विवरण एवं ‘‘बिटक्वाइन’ से धनराशि ‘‘स्कैमर’ को भेजने का विवरण प्राप्त हुआ है।

Categories
Crime

शराबियों ने रुई की तरह की पुलिस की धुनाई, एक अधिकारी को अपनी नानी याद आई

एक जमाने में पुलिस को देखते ही अपराधी भागने लगते थे लेकिन अब वे पुलिस की ऐसी पिटाई करते हैं कि पुलिसकर्मी चौकड़ी भूल जाते हैं। मध्यप्रदेश में भी बीती रात शराबियों ने पुलिस पर ऐसा हमला बोला कि उन्हें नानी याद आ गई। शराब के नशे में धुत शराबियों ने एक पुलिस कांस्टेबल की लाठियों से ऐसी धुनाई की कि उसे अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

घटना मध्यप्रदेश के मुरैना जिले की है जिसके सुमावली थाना क्षेत्र में अवैध शराब पकड़ने गए पुलिस दल पर शराब तस्करों ने लाठी-डंडो से हमला कर दिया, जिसमें एक पुलिस आरक्षक गंभीर रूप से घायल हो गया है। घायल आरक्षक को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार कल देर रात पुलिस को सूचना मिली कि सुमावली में रुअर फाटक के समीप अवैध शराब बेची जा रही है। इस पर पुलिस दल जब वहां पहुंचा तो वहां मौजूद शराब तस्करों ने लाठी डंडो से हमला कर दिया। हमले में सुमावली थाने में पदस्थ एक आरक्षक संदीप गंभीर रूप से घायल हो गया। घायल को उपचार के लिये मुरैना के जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस के अनुसार घायल आरक्षक का एक अन्य साथी सुनील को भी मामूली चोट आई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शरू कर दी है।

 

इधर बिहार में जमुई जिले के बरहट थाना क्षेत्र में गुगलडीह गांव के निकट आज मोटरसाइकिल की चपेट में आने से एक महिला की मौत हो गयी। पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि गुगलडीह गांव के मुसहरी टोला निवासी जगदीश मांझी की पत्नी सुबिया देवी (55) सड़क पार कर रही थी तभी तेज रफ्तार मोटरसाइकिल ने उसे कुचलकर घायल कर दिया। दुर्घटना के बाद मोटरसाइकिल चालक वाहन लेकर फरार हो गया। सूत्रों ने बताया कि घायल महिला को जमुई सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां प्राथमिक इलाज के बाद उसे पटना ले जाया जा रहा था तभी रास्ते में उसकी मौत हो गयी। शव पोस्टमार्टम के लिये जमुई सदर अस्पताल भेज दिया गया है।