Categories
Crime

delhi police getting alert: मिलते रहे अलर्ट फिर भी हाथ बांधे खड़ी रही पुलिस

delhi police getting alert:  खुफिया एजेंसियों ने उत्तर-पूर्वी दिल्ली में हिंसा शुरू होने से पहले दिल्ली पुलिस को कम से कम छह बार अलर्ट भेजा गया था। भाजपा नेता कपिल मिश्रा के भड़काऊ बयान के दौरान पुलिस को ये अलर्ट भेजे गए थे और इलाके में पुलिस बल की तैनाती बढ़ाने को कहा गया था। लेकिन पुलिस कार्रवाई में नाकाम रही और हिंसा पूरे इलाके में फैल गई।

हिंसा से पहले बढ़ा तनाव

शनिवार रात को जाफराबाद में लगभग 500 महिलाएं नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में सड़क पर धरने पर बैठ गईं थीं। विरोध में भाजपा नेता कपिल मिश्रा ने CAA समर्थकों से रविवार दोपहर तीन बजे मौजपुर चौक पर इकट्ठा होने को आह्वान किया।
मिश्रा तय समय पर चौक पर पहुंचे और समर्थकों की मौजूदगी में पुलिस को चेतावनी दी कि वो तीन दिन के अंदर सड़के खाली कराएं नहीं तो उन्हें खुद सड़कों पर उतरना पड़ेगा।

मिश्रा के जाने के बाद पत्थरबाजी

भाषण देने के बाद कपिल मिश्रा इलाके से चले गए। उनके जाने के बाद CAA समर्थकों और विरोधियों में पत्थरबाजी शुरू हो गई। पहले पत्थरबाजी किसने की, ये अभी तक साफ नहीं है। रविवार को देर शाम तक पत्थरबाजी की खबरें आती रहीं। अगले दिन सोमवार को हिंसा ने बड़ा रूप ले लिया और ये दंगे में बदल गया जो तीन दिन तक चलता रहा। दिल्ली पुलिस के हिंसा रोकने में नाकाम पर गंभीर सवाल उठे हैं।

इस समय भेजा गया पहला अलर्ट

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ की रिपोर्ट के अनुसार, स्पेशल ब्रांच और खुफिया इकाई ने वायरलेस रेडियो के जरिए उत्तर-पूर्व जिले के पुलिस अधिकारियों को कई अलर्ट भेजे।
पहला अलर्ट दोपहर 1:22 बजे के बाद भेजा गया जब मिश्रा ने ट्वीट कर लोगों को मौजपुर चौक पर जमा होने को कहा था। दोनों गुटों में टकराव की आशंका को देखते हुए खुफिया इकाई ने स्थानीय पुलिस को इलाके में सतर्कता बढ़ाने को कहा था।

पत्थरबाजी शुरु होने के बाद आए बाकी अलर्ट

जब इलाके में दोनों गुटों के बीच पत्थरबाजी हुई और भीड़ इकट्ठा होने लगी, तब भी स्पेशल पुलिस और खुफिया इकाई की तरफ से पुलिस को कई अलर्ट भेजे गए थे। हालांकि पुलिस ने इन अलर्ट पर किसी भी तरह की लापरवाही बरतने की बात से इनकार किया है।
एक पुलिस अधिकारी ने टाइम्स आॅफ इंडिया से कहा, अलर्ट मिलने के बाद सभी आवश्यक कदम उठाए गए। इसी कारण एक वरिष्ठ अधिकारी मिश्रा के साथ था और उसने ये सुनिश्चित किया कि वो जल्द से जल्द इलाके से बाहर जाएं। इन प्रयासों के बावजूद CAA विरोधियों ने मिश्रा के समूह पर पत्थरबाजी शुरू कर दी।

Categories
Crime

क्रिसमस समारोह के दौरान 13 लोगों की मौत

तेगुसिगाल्पा। (शिन्हुआ) मध्य अमेरिकी देश होंडुरास में क्रिसमस समारोह के दौरान कम से कम 13 लोगों की मौत हो गई। स्थानीय प्रशासन के मुताबिक अधिकतर मौतें सड़क दुर्घटनाओं के कारण हुईं।

होंडुरास के सड़क एवं परिवहन निदेशालय के उप निरीक्षक जोस कार्लोस लागोस ने बताया कि यह मौतें मंगलवार से बुधवार तक क्रिसमस समारोह के दौरान हुईं। आठ लोगों की मौत सड़क दुर्घटना के कारण हुई। यह सड़क दुर्घटनाएं कोमायागुआ, खाड़ी द्वीप और सांता बारबरा क्षेत्र में हुईं। प्रशासन के मुताबिक 24 दिसंबर की रात को आतिशबाजी के कारण आठ लोग घायल भी हुए।पुलिस की रिपोर्ट के मुताबिक इस अवधि के दौरान, कुल 275 लोगों को कथित रूप से विभिन्न अपराधों के लिए हिरासत में लिया गया और 40 वाहनों को जब्त किया गया।

Categories
Crime

एक करोड़ के नकली नोट छापकर भी कम नहीं हुआ लालच, पांच करोड़ छापने की थी तैयारी

गुजरात में सूरत शहर के डीसीबी क्षेत्र में अपराध शाखा की टीम ने रविवार को एक करोड अधिक के 2000 रुपये के नकली नोटों के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर कामरेज के लेक विलेज फार्म के पास रोड पर कामरेज निवासी प्रतीक डी. चोडवडिया (19) की तलाशी के दौरान उसके पास से चार लाख छह हजार के 2000 रुपये के 203 नोट जब्त किये। उसने पूछताछ में बताया कि कामरेज निवासी प्रवीणभाई जे. चोपरा, काणु पी. चोपरा, अंकलेश्वर निवासी मोहन एम. वाघुरडे और खेडा जिले के अंबाव के स्वामीनारयण मंदिर के राधारमण स्वामी ने मिलकर अंबाव में नए बन रहे स्वामीनारायण मंदिर के परिसर में यह नोट छापी हैं। इस पर अपराध शाखा की टीम ने वहां छापा मारकर राधारमण स्वामी के कमरे से 50 लाख के 2000 रुपये के 2500 नकली नोट तथा नोट छापने का सामान जब्त कर लिया।

अन्य तीन आरोपियों को सरथाणा श्यामधाम मंदिर रोड पर पकड़ा गया और प्रवीण जे. चोपरा से 19 लाख 20 हजार के 2000 रुपये के 960 नकली नोट, काणु पी. चोपरा से 15 लाख के 2000 के 750 नकली नोट तथा मोहन एम. वाघुरडे से 12 लाख के 2000 के 600 नकली नोट जब्त किये गए। इस तरह कुल एक करोड 26 हजार के 2000 रुपये के पांच हजार 13 नकली नोट जब्त किये गये हैं। पुलिस ने इस सिलसिले में मामला दर्ज करके आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है।

इधर गुजरात में ही अहमदाबाद शहर के वासणा क्षेत्र में 65 लाख रुपये के सोना लूट मामले में अपराध शाखा की टीम ने रविवार को तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

सहायक पुलिस आयुक्त बी. वी. गोहिल ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर अपराध शाखा की टीम ने दाणीलीमडा में काशीराम फैक्ट्री के निकट आज सुबह दुपहिया वाहन पर जा रहे नारोल निवासी घनश्याम के. श्रीमाणी, वटवा निवासी अेहमद उर्फ गोली आर. पठान और जुहापुरा निवासी इकबाल उर्फ शाहरुख जी. शेख को 63 लाख 22 हजार 724 रुपये मूल्य के 1841.280 ग्राम वजन के 21 नवंबर को लूटे हुए सोने के आभूषणों के साथ गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में घनश्याम ने बताया कि वह डेढ साल पहले होमगार्ड में नौकरी करता था। इन तीनों पर पहले भी अलग-अलग थाने में लूट मामले दर्ज हैं। उल्लेखनीय है कि वासणा इलाके में अंजली पुल पर गुरुवार को दुपहिया वाहन पर जा रहे नवीनभाई और रमशभाई को रोककर उनसे 65 लाख 92 हजार 486 मूल्य के 1912.530 ग्राम सोना आभूषणों को लूट कर ये लुटेरे फरार हो गए थे।

Categories
Crime

स्कूली बच्चों के लिए खाना बनाने के दौरान फटा सिलेंडर

मोतिहारी । बिहार में पूर्वी चंपारण जिले के सुगौली थाना क्षेत्र में आज सुबह खाना बनाने के दौरान रसोई गैस सिलेंडर के फटने से चार लोगों की मौत हो गयी तथा तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये।

पुलिस सूत्रों ने यहां बताया कि एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) द्वारा सुगौली रेलवे गुमटी के निकट स्कूली बच्चों के लिए मध्याह्न भोजन बनाया जा रहा था तभी अचानक रसोई गैस सिलेंडर में रिसाव के कारण आग लग गयी। इसके बाद सिलेंडर धमाके के साथ फट गया जिसमें चार लोगों की मौके पर ही मौत हो गयी तथा तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हो गये।

सूत्रों ने बताया कि धमाका इतना जोर का था कि मृतकों के शव क्षत-विक्षत हो गयें हैं। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को स्थानीय सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया है। मृतकों की तत्काल पहचान नहीं की जा सकी है। पुलिस राहत एवं बचाव कार्य में जुटी है।

Categories
Crime

दो लाख रुपए महीेने मिलता था वेतन फिर भी देश को धोखा दिया केन्द्र सरकार के इस पूर्व अफसर ने

आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत ने 1973 बैच के भारतीय राजस्व सेवा (आईआरएस) के अधिकारी एवं केंद्रीय उत्पाद के पूर्व आयुक्त सुरेंद्र पाल सिंह उर्फ ​​एस पी सिंह को दो वर्षाें के कठाेर कारावास की सजा सुनायी है तथा उन पर 20,000 रुपये का जुर्माना लगाया है। सीबीआई के अपर विशेष न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई के बाद विशाखापत्तनम के पोर्ट एरिया के तत्कालीन केंद्रीय उत्पाद आयुक्त को दोषी ठहराते हुए उन्हें यह सजा सुनाई।

सीबीआई प्रवक्ता ने बयान में कहा कि भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत सिंह, हैदराबाद स्थित निजी कंपनी के एक व्यक्ति, नयी दिल्ली के एक व्यापारी और अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ नौ मार्च 2001 को मामला दर्ज किया गया था। बयान में कहा गया कि वर्ष 2001 के दौरान सिंह ने व्यवसायी सहित तीन निजी व्यक्तियों के साथ एक आपराधिक साजिश की और आंध्र प्रदेश स्थित निजी कंपनियों (सभी अनुसांगिक इकाईयां) द्वारा 4.88 करोड़ रुपये का उत्पाद कर की चोरी मामले में अपनी आधिकारिक स्थिति का दुरुपयोग किया था।
प्रारंभ में, सिंह ने दिल्ली के एक व्यवसायी को नौ मार्च 2001 को हैदराबाद के निजी व्यक्ति से हैदराबाद में 25 लाख रुपये की राशि एकत्र करने को कहा। इसके बाद, पूर्व केंद्रीय उत्पाद शुल्क आयुक्त ने राशि को घटाकर 15 लाख रुपये कर दिया। उक्त आपराधिक साजिश के तहत नयी दिल्ली के व्यवसायी ने बदले में दो अन्य निजी लोगों को हैदराबाद आने और हैदराबाद स्थित कंपनी के व्यक्ति से सिंह के लिए 15 लाख रुपये की अवैध राशि हासिल करने का निर्देश दिया। दोनों व्यक्तियों ने नौ मार्च 2001 को हैदराबाद का दौरा किया और कथित तौर पर सिंह के लिए निजी व्यक्ति से 15 लाख रुपये का रिश्वत स्वीकार किया।
प्रवक्ता ने कहा कि इसके बाद सीबीआई ने एक जाल बिछाया और आरोपी व्यक्तियों को पकड़ लिया। सीबीआई ने आरोपी व्यक्तियों के परिसरों और विभिन्न ठिकानों की तलाशी ली और छापेमारी की जिसमें शेयरों से संबंधित दस्तावेजों की बरामदगी, एक लॉकर की चाबी, एक लाख 40 हजार की नकदी, 1019 अमेरिकी डॉलर, 95 सिंगापुर डॉलर, अचल और चल संपत्ति के दस्तावेज और अन्य आपराधिक दस्तावेज बरामद किये गये।
सीबीआई प्रवक्ता ने कहा कि गहन जाँच के बाद जांच एजेंसी ने 29 जुलाई 2004 को अपर विशेष न्यायाधीश की अदालत में सिंह और एक व्यवसायी सहित तीन निजी व्यक्तियों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया। प्रवक्ता ने कहा कि अदालत ने सिंह को दोषी पाया और उसे कठाेर कारावास की सजा सुनाई जबकि अन्य तीनों लोगों को बरी कर दिया।

Categories
Crime

इस स्कूल के संचालकों ने अमेरिका के कई मिलियन डालर उड़ाए

गुजरात में अहमदाबाद शहर के पालडी क्षेत्र में एक स्कूल में चल रहे अवैध कॉल सेंटर का भंडाफोड़ करते हुए बुधवार को छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर साइबर अपराध शाखा ने अंकुर स्कूल पर सुबह छापा मारा। इस दौरान स्कूल के एक कमरे में चल रहे कॉल सेंटर से अमेरिकी नागरिकों को फोन करके वित्तीय लेन-देन के नाम पर ठगी करने वाले छह लोगों को पकड़ लिया गया। वहां से लेपटॉप, मोबाइल फोन तथा कम्प्यूटर सहित अन्य सामान जब्त कर लिया गया। पुलिस ने मामला दर्ज करके विस्तृत जांच शुरू कर दी है।

उधर झारखंड के गिरिडीह जिले में अहिल्यापुर थाना क्षेत्र के चिकसोरिया गांव से पुलिस ने चार साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि चिकसोरिया गांव में साइबर अपराधियों के देखे जाने की मिली सूचना के आधार पर कार्रवाई करने के लिए गठित पुलिस टीम ने छापेमारी की। पुलिस को देखते ही जंगल के नजदीक मोबाइल फोन पर बात कर रहे कुछ युवक भागने लगे। पुलिस ने खदेड़ कर चार युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

सूत्रों ने बताया कि पूछताछ में गिरफ्तार चारों की पहचान विश्वनाथ कुमार मंडल, राजेंद्र मंडल, कैलाश मंडल और संतोष कुमार मंडल के रूप में हुई है। गिरफ्तार युवकों के पास से कई मोबाइल फोन, सिम कार्ड, एटीएम कार्ड, दो मोटरसाइकिल और 25 हजार रुपये नकद बरामद किए गए हैं। पूछताछ में युवकों ने स्वीकार किया कि वे फोन कर लोगों को खुद की पहचान बैंक अधिकारी बताते हैं और उनसे ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) पूछकर उनके बैंक खाते से रुपये उड़ा लेते हैं।

इस  ने  के कई मिलियन

Categories
Crime

खेत में उगाता और वहीं पिलाता था गांजा, पुलिस की मार से हुआ अधमरा

गुजरात में भावनगर जिले के बगदाणा क्षेत्र में एक खेत से गांजे के पौधे जब्त करके एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने बताया कि मोणपर गांव के कादवाडी इलाके में एक खेत पर सोमवार मध्य रात्रि छापा मारा गया। इस दौरान खेत में उगा रखे गांजे के पौधे जब्त कर लिए गए। जब्त गांजे का वजन 377 किलोग्राम 140 ग्राम बताया जा रहा है और गांजे की कीमत करीब 15 लाख 85 हजार रुपये आंकी गयी है। पुलिस ने मामला दर्ज करके इस सिलसिले में इसी गांव निवासी खेत के मालिक संजय डी. पांडव (28) को पकड कर उससे पूछताछ शुरू कर दी है।

गुजरात में ही वडोदरा शहर के हरणी क्षेत्र में सोमवार को गांजे के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर अकोटा इलाके की विनायक सोसायटी में संजय जी. टांक (58) के घर पर आज तड़के छापा मारा गया। इस दौरान उसके घर से 1100 ग्राम गांजा जब्त कर लिया गया। जब्त गांजे की कीमत 11 हजार रुपये आंकी जा रही है। पुलिस ने मामला दर्ज करके विस्तृत जांच शुरू कर दी है।

गुजरात में सूरत जिले के ही कामरेज क्षेत्र में एक खेत से 96 लाख रुपये से अधिक मूल्य के गांजे के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि खुफिया सूचना के आधार पर कटोदरा गांव के निकट एसओजी और पुलिस की टीम ने एक खेत पर छापा मारा। इस दौरान आज तड़के इस खेत से 967 किलोग्राम गांजा बरामद किया गया।

जब्त गांजे की कीमत करीब 96 लाख 70 हजार रुपये आंकी जा रही है। इस सिलसिले में खेत में काम करने वाले पांच मजदूरों का पकड़ लिया गया और खेत मालिक की तलाश जारी है। पुलिस ने मामला दर्ज करके आवश्यक कार्रवाई शुरू कर दी है।

Categories
Crime

झूठी शादी रचाकर प्रेमिका को बेचने के लिए मुंबई ले गया प्रेमी लेकिन बच निकल भागी ये युवती!

राजस्थान के बीकानेर में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। एक युवती ने आरोप लगाया है कि खजोडा निवासी राजाराम ने उसे एक होटल में बुलाकर पहले जबरन बीयर पिलाई और फिर बलात्कार किया। बाद वह उसे देश के विभिन्न शहरों में ले जाकर बलात्कार करता रहा। करीब एक महीने से ज्यादा अवधि तक राजाराम के चंगुल में रही युवती ने पुलिस से कहा है कि राजाराम उसे गोवा से सीधे जोधपुर ले आया और कमला नेहरू आर्य समाज में जबरन शादी रचा ली।

पुलिस के अनुसार युवती के साथ बलात्कार और जान से मारने की धमकी देकर जोधपुर के आर्य समाज में शादी कर लेने का मामला दर्ज कराया गया है। बीकानेर लौटने पर युवती ने आरोपी के खिलाफ नयाशहर पुलिस थाने में मुकदमा दर्ज कराया। युवती की ओर से पुलिस को दी गई रिपोर्ट में बताया गया कि गत सोलह सितंबर को वह अपनी सहेली के साथ एमएस कॉलेज गई थी। वहां खजोडा निवासी राजाराम ने सहेली के मोबाइल पर फोन किया और शार्दुलसिंह सर्किल के पास स्थित होटल में बुलाया। होटल के कमरे में उसने जबरन बीयर पिलाई और उसे धमकाकर राजीव गांधी मार्ग ले गया जहां से अहमदाबाद वाली बस में बैठाया। बस के डबल स्लिपर में दुष्कर्म किया।

बाद में राजाराम उसे मुंबई, पूना, गोवा, लखनऊ, उदयपुर, चित्तौडगढ़़, बेंगलुरू, नेपाल, जयपुर ले गया और होटलों के कमरों में दुष्कर्म करता रहा। गोवा से जोधपुर लेकर आया और 26 सितंबर को न्यायालय में कागजों पर साइन कराए और फिर जबरन कमला नेहरू आर्य समाज में शादी कर ली। उसके बाद फिर से अलग-अलग शहरों और नेपाल ले जाकर दुष्कर्म किया।

चार नवंबर को वह फतेहपुर में अपनी बहिन के घर ले गया और पांच नंवबर को वह मौका पाकर बीकानेर आकर पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश हुई। थानाधिकारी ईश्वर प्रसाद जांगिड़ ने बताया कि आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है, जिसकी जांच सीओ सिटी सुभाष शर्मा करेंगे। युवती की मेडिकल जांच कराई गई है।

Categories
Crime

भौचक्के रह गए सीमा शुल्क अधिकारी, दो महिला यात्रियों को संडास पर बिठाया तो दोनों के पेट से निकला एक किलो सोना

चेन्नई.पूरे फिल्मी अंदाज में हवाई अड्डे पर तैनात सीमा शुल्क अधिकारी जब दो महिला विमान यात्रियों के पेट में छुपाये गये सोने को बरामद करने के लिए यहां एक अस्पताल में लाये तो उनका अपहरण कर लिया गया तथा उनसे सारा सोना बरामद करने के बाद अपहर्ता गिरोह ने उन्हें शहर में छोड़ दिया। दोनों महिला यात्री यहां अन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर अपना पासपोर्ट लेने आयीं तो सीमा शुल्क अधिकारियों ने दोनों से पूछताछ की तथा बाद में दाेनों को पल्लावरम थाने के हवाले कर दिया। सीमा शुल्क अधिकारियों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

हवाई अड्डा सूत्रों ने बताया कि सीमा शुल्क अधिकारियों ने संदेह होने पर दोनों महिला यात्रियों फातिमा और टेरेसा से पूछताछ की। दोनों महिला कल शाम कोलंबो से यहां पहुंची थी। पूछताछ के दौरान दोनों ने स्वीकार किया कि उन्होंने सोने से भरे टैबलेट खाये हुए हैं। इसके बाद सीमा शुल्क के दो अधिकारी अमृत त्रिपाठी और रेणु कुमारी दोनों महिला यात्री को निजी कार के जरिये निजी अस्पताल ले जाने लगे ताकि उन्हें एनिमा देकर उनके पेट से सभी सोना निकाल सकें।

उनकी कार जब अस्पताल के पास पहुंची तो उसी समय दूसरी कार से आये अज्ञात गिरोह ने उन पर हमला कर दिया। बदमाशों ने अमृत को घायल कर दिया तथा दोनों महिला यात्रियों का अपहरण कर लिया।

अपहर्ता गिरोह ने चेन्नई में ही एनिमा के जरिये दोनों महिलाओं के पेट से सोना निकालने के बाद बुधवार तड़के उन्हें छोड़ दिया। इसके बाद दोनोंं महिलायें अपना पासपोर्ट लेने सीमा शुल्क अधिकारियों के पास आयीं। पुलिस ने दोनों महिला यात्रियों के अपहरण के मामलों की जांच शुरू कर दी है और अपहर्ता गिरोह का पता लगाने के लिए व्यापक तलाश अभियान छेड़ दिया है।
इस बीच सीमा शुल्क विभाग ने भी सोना निकालने के लिए दोनों महिला यात्रियों को सरकारी अस्पताल ले जाने के बजाय निजी अस्पताल ले जाने पर दोनों अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी है।

Categories
Crime

सास, ससुर और पति के साथ पांच को सायनाइड देकर हत्या करने वाली जॉली की शक्ल देखने एकत्र हो जाता है पूरा केरल

पहले सास फिर ससुर, उसके बाद पति समेत परिवार के पांच जनों की हत्या के आरोप में गिरफ्तार सीरियल सायनाइड किलर जॉली अम्मा जोसफ केरल में इतनी प्रसिद्ध हो गई हैं कि जब उन्हें अदालत में पेश करने लाया जाता है तो कोझिकोड में भारी भीड़ एकत्र हो जाती है। तमाशबीन भीड़ देखना चाहती है कि पति समेत सास—ससुर की हत्या करने वाली औरत आखिर इतनी संगदिल कैसे हो गई। केरल के कूदाताई में कई हत्याओं की प्रमुख आरोपी और कथित सीरियल सायनाइड किलर जॉली अम्मा जोसफ की एक झलक पाने के लिए थामरास्सेरी के मजिस्ट्रेट कोर्ट में लोगों का हुजूम इकट्ठा हो गया।

अन्य दोनों आरोपियों ने उसे सायनाइड मुहैया कराया था। तीनों को जॉली के पहले पति रॉय थॉमस की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने फिलहाल जॉली के खिलाफ सिर्फ यही मामला दर्ज किया है। हालांकि पुलिस ने कोर्ट को बताया कि वह तीनों आरोपियों की 11 दिनों की हिरासत चाहती है क्योंकि वे जॉली के साथ पांच अन्य हत्याओं में भी संदिग्ध हैं क्योंकि जॉली का संबंध सभी हत्याओं से है। पुलिस ने कहा कि सभी मौतें विषाक्त पदार्थ के सेवन के कारण हुईं थीं और विस्तृत पूछताछ करने और कुछ स्थानों से सबूत इकट्ठे करने की जरूरत है। कोर्ट ने हालांकि सिर्फ छह दिन की हिरासत दी। कोर्ट परिसर में भारी भीड़ होने के कारण जॉली को कोर्ट लाने और वहां से ले जाने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। उसे भारी सुरक्षा के बीच कोर्ट ले जाया गया। जॉली अभी भी इसी बात पर कायम है कि वह एनआईटी कोझिकोड में एक प्रवक्ता थी और पुलिस ने भी अपने हलफनामें में इसका उल्लेख किया है।

परिवार में पहली मौत 2002 में थॉमस की मां और जॉली की सास सेवा निवृत्त शिक्षिका अन्नम्मा के रूप में हुई। उनके बाद जॉली के ससुर टॉम थॉमस की 2008 में मौत हुई। 2011 में जॉली के पति रॉय थॉमस की भी हत्या हो गई, जिसके बाद रॉय के मामा मैथ्यू की 2014 में हत्या हुई। इसके अगले साल एक रिश्तेदार सिली का दो वर्षीय बेटा मारा गया, वहीं सिली की मौत 2016 में हो गई। रॉय थॉमस के भाई रोजो द्वारा पुलिस अधीक्षक को लगातार हुईं संदिग्ध मौतों के संदर्भ में संदेह व्यक्त करने के बाद पुलिस हरकत में आई। रोजो अब अमेरिका में रहते हैं। केरल पुलिस प्रमुख लोकनाथ बेहरा ने तिरुवनंतपुरम में मीडिया को बताया कि उन्होंने देश और विदेश के वर्तमान और सेवानिवृत्त सबसे वरिष्ठ फॉरेंसिक विशेषज्ञों से बात की है।

बेहरा ने कहा, ‘फिलहाल मैंने इन विशेषज्ञों से राय मांगी है, एक बार हम कोर्ट में सैंपल सौंप देंगे, तो वे हमें दोबारा नहीं मिलेंगे। इस मामले में हम पूरी कोशिश कर रहे हैं। बेहरा ने जांच टीम में कर्मियों की संख्या भी बढ़ाकर 35 कर दी है, जिनमें फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स भी हैं। जांच के लिए छह टीमों का गठन किया गया है, प्रत्येक मौत के लिए एक टीम। इसी संबंध में लापता चल रहा इडुक्की जिला में कट्टापना का एक स्थानीय ज्योतिषी लौट आया है। जॉली यहीं की रहने वाली है। मीडिया से उसने कहा कि वह कहीं छिपा नहीं था और उसे याद नहीं कि वह जॉली और उसके पति से कब मिला था। पुलिस ने रोजो को जांच में सहायता करने के लिए भारत लौटने के लिए कहा है।