Off Beat

क्या इंसानी शरीर के लिए जहर है नारियल तेल?

कौन सा तेल सेहत के लिए सबसे अच्छा है !

नई दिल्ली. खाने और सेहत को लेकर फ़िक्रमंद लोग अक्सर इस सवाल से दो चार होते हैं कि सरसों का तेल, कनोला ऑयल, नारियल का तेल, एवेकाडो ऑयल, मूंगफली का तेल, ऑलिव ऑयल, अलसी का तेल, पामोलीन ऑयल में से कौन सा तेल सेहत के लिए सबसे अच्छा है?
जानकार कहते हैं कि जिस तेल में सैचुरेटेड फैट की मात्रा कम हो उसे खाना बेहतर होता है और इसे भी कम मात्रा में ही खाना चाहिए। पॉलीअनसैचुरेटेड फैट और ओमेगा-3,6 फैट वाले तेल खाना बेहतर होता है। इससे ख़ून में कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है और शरीर को ज़रूरी फैटी एसिड और विटामिन मिल जाते हैं।पॉलीअनसैचुरेटेड और मोनोसैचुरेटेड फैट वाले फैटी एसिड कई तेलों में पाए जाते हैं। इनकी मात्रा पौधे और तेल निकालने की प्रक्रिया पर निर्भर करती है।

सीधे लीवर में जाकर ख़ून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ाते हैं फैटी एसिड 

तेल में सैचुरेटेड फैट, मोनोसैचुरेटेड फैट और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं। पहले नारियल के तेल को सेहत के लिहाज़ से सबसे अच्छा माना जाता था। इसे सुपरफूड घोषित कर दिया गया था, लेकिन हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च ने नारियल तेल को शुद्ध ज़हर क़रार दे दिया है।
रिसर्च में कहा गया कि इंसान का शरीर बहुत ज़्यादा फैट नहीं पचा सकता और अतिरिक्त फैट शरीर में जमा होकर दिल की बीमारियां और ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं पैदा करता है।
तेल में पाया जाने वाला फैट, फैटी एसिड के कणों से मिलकर बनता है। सिंगल बॉन्ड से जुड़े फैटी एसिड को सैचुरेटेड फैट कहते हैं। डबल बॉन्ड से जुड़े फैटी एसिड को अनसैचुरेटेड फैट कहते हैं। जो फैटी एसिड छोटी श्रृंखला में बंधे होते हैं, वो ख़ून में सीधे घुल जाते हैं और शरीर की एनर्जी की ज़रूरत पूरी करते हैं। लंबी श्रृंखला वाले फैटी एसिड सीधे लीवर में जाकर ख़ून में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ाते हैं।

ख़ून से खींच लेती है एलडीएल

रिसर्च के मुताबिक नारियल तेल से शरीर में लो डेन्सिटी लिपोप्रोटीन (एलडीएल) की मात्रा बढ़ जाती है। इसका सीधा संबंध दिल के दौरे से है। हालांकि नारियल के तेल से हाई डेन्सिटी लिपोप्रोटीन (एचडीएल) भी मिलती है, जो ख़ून से एलडीएल को खींच लेती है।
एचडीएल में लॉरिक एसिड नाम का केमिकल होता है, जिसे सी—12 फैटी एसिड कहा जाता है। ये लम्बी चेन वाला फैटी एसिड लीवर में जमा हो जाता है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Notifications    Ok No thanks