Categories
National

भारत को वेंटिलेटर देगा अमेरिका : ट्रम्प

वाशिंगटन । अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) के खिलाफ लड़ाई में भारत-अमेरिका साझेदारी को महत्वपूर्ण करार देते हुए भारत को वेंटिलेटर देने की घोषणा की है।

ट्रम्प ने शुक्रवार को ट्वीट किया, “ मुझे यह घोषणा करते हुए गर्व हो रहा है कि अमेरिका अपने मित्र भारत को वेंटिलेटर देगा। इस महामारी के समय में हम भारत और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ खड़े हुए हैं। हम कोविड-19 का टीका विकसित करने की दिशा में भी सहयोग कर रहे हैं। हम साथ मिलकर इस अदृश्य शत्रु को हराएंगे।”

ट्रम्प ने कहा कि भारत और अमेरिका कोविड-19 का टीका विकसित करने की दिशा में एक-दूसरे के साथ सहयोग कर रहे हैं। हम साथ मिलकर इस अदृश्य शत्रु को हराएंगे।उल्लेखनीय है कि भारत ने अप्रैल में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका की मदद के तहत हाइड्रॉक्सोक्लोरोक्वीन दवा की बड़ी खेप भेजी थी। जिसके बाद  ट्रम्प ने मोदी के नेतृत्व को मजबूत करार देते हुए उनकी प्रशंसा की थी और भारत का धन्यवाद किया था।

गौरतलब है कि अमेरिका में यह महामारी विकराल रूप ले चुकी है और अब तक 14 लाख से अधिक लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। भारत में भी कोरोना संक्रमण के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं और संक्रमितों की संख्या चीन से अधिक हो गयी है।

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केन्द्र (सीएसएसई) की ओर से जारी किए गए ताजा आंकड़ों के मुताबिक अमेरिका में कोरोना से मरने वालों की संख्या 87 हजार को पार कर 87427 पहुंच गयी है जबकि संक्रमितों की संख्या 14 लाख का आंकड़ा पार कर 1441172 हो गयी है।

Categories
National

कोरोना काल में भी झूठी घोषणायें कर रही मोदी सरकार

रामगढ़।भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार को सभी मोर्चे पर विफल करार दिया और कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना के समय भी किसानों, मजदूरों एवं आम आदमी के लिए ठोस कदम उठाने की बजाए केन्द्र सरकार सिर्फ घोषणाएं कर रही हैं।

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव सह अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय महासचिव अतुल कुमार अंजान ने आज कहा कि नोवेल कोरोना वायरस की चपेट में पूरा देश है लेकिन संकट की घड़ी में जरूरतमंदों तक मदद पहुंचाने की बजाए मोदी सरकार सिर्फ घोषणाएं कर रही है।

करीब दो माह में केन्द्र ने 189 घोषणाएं की लेकिन धरातल पर कुछ दिखाई नहीं दे रहा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भरोसा दिया था कि कल कारखानों में कार्यरत मजदूरों को कारखाना मालिक बंदी की हालात में भी मजदूरी का भुगतान जरूर करेंगे।

जरूरतमंदों के लिए राशन की व्यवस्था करेंगे, जिसका कार्ड है उनका भी, नहीं है उसका भी, जो भी जरूरतमंद लोग हैं उनको राशन मिलेगा। लेकिन, सच्चाई कुछ और ही बयां कर रही है।

भाकपा के राष्ट्रीय सचिव ने कहा कि मुंबई, दिल्ली, गुजरात, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश समेत अन्य राज्यों में लॉकडाउन के बाद मजदूरी नहीं मिलने से मजबूर मजदूर हजारो किलोमीटर जान जोखिम में डालकर अपने गृह राज्य में जाने को मजबूर हैं।

यदि कारखाना मालिकों ने उनके रहने एवं भोजन की व्यवस्था कर दी होती तो वह वापस लौटेने को मजबूर नहीं होते। पैदल चलने को मजबूर करीब 114 लोग सड़क हादसे में मर गये। अंजान ने कहा कि नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की तरह अचानक लॉक डाउन घोषित कर प्रधानमंत्री ने देश के करोड़ों असंगठित मजदूरों एवं किसानों को तबाह करने काम किया है।

जब सुई से लेकर हवाई जहाज तक के सारे कारखाने बंद पड़े थे तो, किसानों ने पूरे देश दुनिया को जिंदा रखा है, उन किसानों को भी यह सरकार लगातार छलती रही है। किसानों की आमदनी दोगुना करने की घोषणाएं सरकार करती रही, आज भी देश में हजारों किसान आत्महत्या के लिए मजबूर हो रहे हैं।उन्होंने केंद्र सरकार से घोषणाओं से दूर हट कर निर्णयों को अमलीजामा पहनाने के लिए युद्ध स्तर की मांग की है ताकि जरूरतों को इसका लाभ मिल सके।

Categories
National

आर्थिक पैकेज के ऐलान से शेयर बाजार में तूफानी तेजी

मुंबई । कोरोना वायरस से प्रभावित अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख रुपये के आर्थिक पैकेज के बल पर शेयर बाजार गिरावट से उबरते हुये तूफानी तेजी के साथ खुला।

बीएसई का सेंसेक्स 1470 अंकों की तेजी लेकर 32841.87 अंक पर खुला और शुरूआती कारोबार में ही यह लिवाली के बल पर 32845.48 अंक के उच्चतम स्तर तक गया। हालांकि अभी सेंसेक्स 723 अंकों की तेजी के साथ 32094 अंक पर कारोबार रहा है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज एनएसई) का निफ्टी 382 अंकों की तेजी लेकर 9584.20 अंक पर खुला और लिवाली के बल पर यह शुरूआती कारोबार में ही 9585.50 अंक के उच्चतम स्तर तक चढ़ा। हालांकि इसके बाद बिकवाली हुयी जिससे अभी यह 213 अंकों की तेजी लेकर 9409 अंक पर कारोबार रहा है।प्रधानमंत्री द्वारा किये गये आर्थिक पैकेज के ऐलान के संबंध में आज शाम चार बजे वित्त मंत्री निर्मला सीतामरण विस्तृत जानकारी देंगी।

Categories
international

India will become super power: ये हथियार मिलते ही एशिया में खत्म हो जाएगी चीन की दादागिरी, भारत बनेगा सुपर पॉवर

India will become super power: हिंद महासागर में चीन के बढ़ते दखल से निजात पाने के लिए भारत को जल्द ही वे हेलीकॉप्टर मिलने वाले हैं जो जमीन के साथ ही समुद्र में छोटी सी नाव से भी उड़ान भर सकते हैं। ये हेलीकॉप्टर पानी के नीचे छुपी पनडुब्बियों के लिए यमराज माने जाते हैं। इनके मिलते ही हिंद महासागर में घूम रही चीनी पनडुब्बियां दुम दबाकर भाग निकलेंगी। इन हेलीकॉप्टरों को प्राप्त करने के लिए भारत और अमेरिका के बीच तीन अरब डॉलर का रक्षा समझौता हुआ है। द्विपक्षीय बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किए।

 

रोमियो और अपाचे हेलीकॉप्टर खरीदेगा भारत

India will become super power:  जिस रक्षा समझौते पर हस्ताक्षर हुए हैं, उसके तहत भारत 2.6 अरब डॉलर में 24 MH60 रोमियो हेलीकॉप्टर खरीदेगा। इसके अलावा 80 करोड़ डॉलर में छह AH 64E अपाचे हेलिकॉप्टर भी खरीदे जाएंगे। भारत आए ट्रंप ने कहा कि तीन अरब डॉलर से ज्यादा के इस रक्षा समझौते से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे।

आतंकवाद के खिलाफ कदम उठाए पाकिस्तान

India will become super power: बैठक में आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझेदारी को लेकर दोनों देशों में सहमति बनी। ट्रंप ने कहा कि पाकिस्तान अपनी धरती पर पनप रहे आतंकवाद को खत्म करने के लिए उपाय करे। प्रधानमंत्री मोदी और मैं अपने नागरिकों को कट्टर इस्लामी आतंकवाद से बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमेरिका पाकिस्तान की धरती से चल रहे आतंकवाद को रोकने के लिए कदम उठा रहा है।

India will become super power: ट्रंप ने अपने शानदार स्वागत के लिए भारत का शुक्रिया अदा किया। मेलानिया और मैं भारत की महिमा और भारतीय लोगों की असाधारण उदारता और आदर से विस्मित हैं। हम आपके (मोदी) गृह राज्य के नागरिकों द्वारा किए गए शानदार स्वागत को हमेशा याद रखेंगे। हम यहां से सुखद अनुभव साथ लेकर जाएंगे। अहमदाबाद के मोटेरा स्टेडियम में ट्रंप का स्वागत करने के लिए एक लाख से अधिक लोग आए थे।

India will become super power: इधर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका के संबंध 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण साझेदारियों में से एक है। भारत और अमेरिका के बीच बीच ड्रग तस्करी, आतंकवाद और संगठित अपराध जैसे गंभीर अपराधों के बारे में एक नया तंत्र बनाने पर सहमति बनी है।

Categories
Entertainment

अक्षय कुमार नहीं आना चाहते राजनीति में वे इस काम से ही बेहद खुश हैं

नयी दिल्ली। बॉलीवुड के खिलाड़ी कुमार अक्षय कुमार राजनीति में नहीं आना चाहते हैं।

Akshay Kumar

पिछले दिनों अक्षय कुमार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का गैर राजनीतिक इंटरव्यू लिया था। प्रधानमंत्री के साथ अक्षय की नजदीकियों को देखकर अक्सर उनके राजनीति एंट्री करने की चर्चा उठती है। अक्षय कुमार ने साफ किया कि वह फिल्मों में काम कर खुश हैं और राजनीति में आने का उनका दूर-दूर तक कोई इरादा नहीं है।

Akshay Kumar

अक्षय कुमार ने कहा, “मैं राजनीति में बिल्कुल नहीं आना चाहूंगा। मैं बस खुश रहना चाहता हूं। मैं पॉलिटिक्स के बारे में नहीं सोचता हूं। मैं फिल्मों में काम कर खुश हूं। मुझे इसमें ज्यादा मजा आ रहा है। हर इंसान किसी ना किसी एक जरिए से देश के लिए कुछ अच्छा करता है।

Akshay Kumar

ऐसे ही हम किसी भी एक काम के जरिए देश का अच्छा कर सकते हैं। मैं फिल्मों के द्वारा लोगों के जहन में कई बातें डाल सकता हूं। मेरा काम पॉलिटिक्स नहीं है।”

Categories
National

इस हिन्दू नेता ने नरेन्द्र मोदी को धमकाया, रामलला को नहीं मिला मंदिर तो फिर….

शिवसेना के प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि केन्द्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्ण बहुमत की सरकार अब अयोध्या में कानून बनाकर राम मंदिर का निर्माण करवाये, जिसका शिवसेना पूरा समर्थन करेगी। ठाकरे ने रविवार को अपने परिवार एवं शिवसेना के 18 सांसदों के साथ विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दर्शन किये जिसके बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि पिछले कई वर्षों से रामजन्मभूमि पर राम मंदिर का मामला उच्चतम न्यायालय में लम्बित है लेकिन अब देश में एक मजबूत सरकार आयी है जो मंदिर का निर्माण करायेगी।

उन्होंने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी में हिम्मत है कि संसद में कानून बनाकर राम मंदिर का रास्ता साफ करें। शिवसेना कदम से कदम मिलाकर सरकार के साथ है। शिवसेना ने हमेशा हिन्दुत्व की आवाज उठायी है और भाजपा भी हिन्दुत्व की बात करती है। जिसका परिणाम है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत दर्ज किया है।

ठाकरे ने कहा कि पिछले साल नवम्बर में हम अयोध्या में आये थे और रामलला से यह वादा किया था कि चुनाव के बाद हम आयेंगे और उस समय हमने कहा था कि पहले मंदिर फिर सरकार जो आज भी कायम है कि कानून बनाओ और राम मंदिर बनाओ। कल से लोकसभा का सत्र शुरू हो रहा है इसलिये शिवसेना के सांसद रामलला के दर्शन व आशीर्वाद लेकर लोकसभा सत्र में सच्चे रामभक्त के रूप में भाग लेंगे।
शिवसेना प्रमुख ने कहा कि हमें विश्वास है कि यहां जल्द से जल्द भव्य राम मंदिर बनेगा जिसमें शिवसेना बढ़-चढ़कर हिस्सा लेगी। अयोध्या ऐसा दिव्य स्थान है जहां कण-कण में राम बसे हैं। यहां बार-बार आने की इच्छा होती है। हमारा यह प्रयास रहेगा कि यहां बराबर आता रहूंगा और श्रीरामजी का आशीर्वाद मिलता रहेगा।

एक सवाल के जवाब में ठाकरे ने कहा कि शिवसेना एवं भाजपा का गठबंधन देश के दूसरे राज्यों में मिलकर चुनाव लड़ें इस पर दोनों दलों को विचार करना होगा। शिवसेना प्रमुख ठाकरे तय कार्यक्रम के तहत सुबह करीब नौ बजे अयोध्या एयरपोर्ट पहुंच गये थे और सुबह दस बजे उन्होंने अपने बेटे आदित्य ठाकरे और शिवसेना के सभी 18 सांसदों के साथ रामलला के दर्शन किए। इस अवसर पर शिवसेना के राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं राज्यसभा सदस्य संजय राउत, महाराष्ट्र शिवसेना के युवा नेता आदित्य ठाकरे एवं शिवसेना के सभी सांसद मौजूद थे।
गौरतलब है कि प्रदेश की योगी सरकार में उद्धव ठाकरे एवं सभी सांसदों को राज्य अतिथि का दर्जा दिया है। सांसदों का कहना है कि वे रामलला की धरती पर आकर खुद को धन्य मानते हैं। सुबह उठते ही रामजन्मभूमि का दर्शन करने की व्याकुलता थी जो पूरी हो गई। सांसद संजय यादव ने बताया कि पहले भी राम मंदिर आ चुके हैं। अयोध्या में भव्य राम मंदिर बने यह शिवसेना ही नहीं सम्पूर्ण भारत का हिन्दू समाज चाहता है।

Categories
Off Beat

इस बार खूब दमकेगी लोकसभा क्योंकि सांसद बनकर आ गई है ब्रहृमांड सुंदरी की पोती

भले ही उनके पास विश्व सुंदरी का खिताब नहीं था, लेकिन खूबसूरती का अध्ययन करने वाले तत्कालीन वैश्विक विशेषज्ञों का दावा था कि वे न सिर्फ ब्रह्मांड सुंदरी थी, बल्कि अपने जमाने में उनके साथ खड़ी होने वाली महिलाएं ऐसे लगती थी, जैसे कोहेनूर के बगल में टिमटिमाता दीपक रख दिया गया हो। बिल्कुल सही पहचाना आपने, यहां बात हो रही है पूर्व जयपुर रियासत की महारानी गायत्री देवी की।

बिहार की एक रियासत की ये राजकुमारी लंदन में पढ़ाई के दौरान जयपुर के महाराजा मानसिंह पर मोहित हो गई थीं और उन्होंने उनकी तीसरी पत्नी बनना स्वीकार किया था। वे जब मानसिंह के ब्याह कर जयपुर आई तो उस जमाने में रियासत की जनता विशेषकर महिलाएं उन्हें देखने के लिए जयपुर के सिटी पैलेस के सामने पंक्तिबद्ध खड़ी हो जाती थी।
उन्हीं गायत्री देवी की पोती पूर्व राजकुमारी दीया कुमारी भी अपनी दादी की तरह अब लोकसभा की शोभा बढाएंगी। दीया कुमारी ने राजनीतिक क्षेत्र में भी अपनी अच्छी पहचान बनाई और वह पहली बार में ही सांसद बनने में भी सफल रही।

दीया कुमारी का जन्म 30 जनवरी 1971 को जयपुर में हुआ। वह जयपुर के पूर्व महाराजा ब्रिगेडियर सवाई भवानी सिंह की पुत्री हैं। उन्होंने अपनी दादी पूर्व राजमाता गायत्री देवी एवं अपने पिता के कदमों पर चलते हुए 2013 में राजनीति में प्रवेश किया। उन्होंने 10 सितम्बर 2013 को जयपुर में एक रैली के दौरान, गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी, तत्कालीन भाजपाध्यक्ष राजनाथ सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे की उपस्थिति में औपचारिक रूप से भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।
उन्होंने 2013 के विधानसभा चुनाव में सवाई माधोपुर से भाजपा प्रत्याशी के रुप में चुनाव लड़ा और पहली बार विधायक चुनी गई। पार्टी ने इसके अगले विधानसभा चुनाव में उन्हें अपना प्रत्याशी नहीं बनाया और इस लोकसभा चुनाव के लिए राजसमंद सांसद हरिओम सिंह राठौड़ के चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान कर देने पर भाजपा ने दीया कुमारी को राजसमंद से प्रत्याशी के रुप में चुनाव मैदान में उतारा। उन्होंने शानदार प्रदर्शन करते हुए कांग्रेस उम्मीदवार देवकीनंदन को पांच लाख 51 हजार 916 के भारी मतों के अंतर से हराया। राज्य में उनकी यह दूसरी सबसे बड़ी जीत थी।

उन्होंने पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ा और पहली बार में ही उन्हें आठ लाख 63 हजार 39 मत मिले जबकि कांग्रेस प्रत्याशी को केवल तीन लाख 11 हजार 123 मत ही मिले। दीया कुमारी की प्रारम्भिक शिक्षा मॉडर्न स्कूल, नई दिल्ली और महारानी गायत्री देवी गर्ल्स पब्लिक स्कूल, जयपुर में हुई, बाद में सजावटी कला पाठ्यक्रम के लिए लंदन चली गयी। वह परिवार की विरासत सिटी पैलेस जयपुर जो उनका आंशिक निवास स्थान भी है, जयगढ़ दुर्ग, आमेर एवं दो ट्रस्ट: महाराजा सवाई सिंह द्वितीय संग्राहलय ट्रस्ट, जयपुर एवं जयगढ़ पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट सहित परिवार की अन्य विरासतों को संभालती हैं।
दीया कुमारी की दादी गायत्री देवी ने तीसरी लोकसभा के लिए 1962 में हुए लोकसभा चुनाव में स्वतंत्र पार्टी के उम्मीदवार के रुप में जयपुर से चुनाव लड़ा और 77़ 08 प्रतिशत मत लेकर चुनाव जीता था। इसके अगले दो लोकसभा चुनाव भी जयपुर लड़कर जीते। उनके पिता भवानी सिंह ने भी 1989 में कांग्रेस उम्मीदवार के रुप में जयपुर संसदीय क्षेत्र से लोकसभा का चुनाव लड़ा, लेकिन लगातार पिछले पांच चुनाव जीतते आ रहे भाजपा प्रत्याशी गिरधारी लाल भार्गव के सामने 84 हजार से अधिक मतों से चुनाव हार गये।

Categories
National

नरेन्द्र मोदी ने जताया अंदेशा, इस बार माफ नहीं करेगा देश!

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नये एवं पुराने सांसदों को आगाह किया कि वे बड़बोलेपन और मीडिया के माेह से बचें अन्यथा खुद उनके साथ सरकार को भी संकट पेश आ सकता है।

मोदी ने संसद के केन्द्रीय कक्ष में राजग संसदीय दल का नेता चुने जाने के बाद नवनिर्वाचित सांसदों और घटक दलों के नेताओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि कई साथी ‘छपास’ एवं ‘दिखास’ के रोग में फंस जाते हैं। पहले आकर्षण लगने वाली यह चीज़ यह एक प्रकार का नशा है और हम इसके शिकार हो जाते हैं।। इससे बच कर चलना है। उन्होंने कहा कि कभी कभी छोटी मोटी बातें बहुत बड़े कामों में व्यवधान डालतीं हैं। हमारा मोह हमें संकट में डालता है। इसलिए हमारे नए और पुराना साथी इन चीजों से बचें क्योंकि अब देश माफ नहीं करेगा। हमारी बहुत बड़ी जिम्मेदारियां है। हमें इन्हें निभाना है। वाणी से, बर्ताव से, आचार से, विचार से हमें अपने आपको बदलना होगा।

प्रधानमंत्री ने अपने नये मंत्रिमंडल के सदस्यों के नामों को लेकर मीडिया की रिपोर्टों एवं अटकलों से खुद को बचा कर रखने की भी सलाह दी और कहा कि उन्हें इसके अलावा भी तमाम बाहरी दलाल भी मंत्री बनाने का झांसा देने की कोशिश कर सकते हैं लेकिन वे किसी के बहकावे में नहीं आये। मंत्रिमंडल जिसको बनाना है, वही बनाएगा और अखबार के पन्नों से मंत्रिमंडल नहीं बना करते हैं। प्रधानमंत्री ने नये सांसदों को अपने स्टाफ के चयन में सतर्कता बरतने और दलालों के चंगुल से बचने की भी सलाह दी।

उन्होंने सांसदों से ज़मीनी और विनम्र व्यवहार की अपेक्षा करते हुए सत्ता-भाव न देश का मतदाता स्वीकार करता है, न पचा पाता है। हम चाहे भाजपा या राजग के प्रतिनिधि बनकर आए हों, जनता ने हमें स्वीकार किया है सेवाभाव के कारण। हमारे अंदर सेवा भाव बढ़ता जाएगा तो उसी के साथ सत्ता भाव कम होता जाएगा और हम देखेंगे कि सेवा भाव बढ़ने के साथ ही हमारे प्रति जनता जनार्दन का आशीर्वाद बढ़ता जाएगा। हमारे लिए और देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए सेवा भाव से बड़ा कोई मार्ग नहीं हो सकता है।
उन्होंने कहा, “युग बदल चुका है। वीआईपी संस्कृति से देश को बड़ी नफरत है। हम भी नागरिक हैं तो कतार में क्यों खड़े नहीं रह सकते। हमें जनता को ध्यान में रखकर खुद को बदलना चाहिए। लाल बत्ती हटाने से कोई आर्थिक फायदा नहीं हुआ, पर जनता के बीच अच्छा संदेश गया है।

Categories
Entertainment

अब बॉलीवुड भी पीछे नहीं चुनाव की बेला को इस तरह को भुनाने में

मुंबई| बॉलीवुड फिल्मकारों ने राजनीति और चुनाव को फिल्मों में खूब भुनाया है और इन विषयों पर कई फिल्में बनायी है जिनमें से कुछ हिट भी हुई हैं।लोकसभा चुनाव की सरगर्मियां पूरे देश में छायीं हैं तो ऐसे में फिल्म इंडस्ट्री पर भी इलेक्शन फीवर चढ़ना लाजमी है। चुनाव की बेला को भुनाने में बॉलीवुड पीछे नहीं है। चुनाव और फिल्मों का गहरा संबंध रहा है। काफी समय से चुनावों के दौरान राजनीति के इर्द-गिर्द कई फिल्में बनती रही हैं। फिल्मकार खासतौर से अपनी फिल्म की कहानी राजनीतिक मुद्दों पर रचते आए हैं। प्रधनमंत्री मंत्री नरेन्द्र मोदी के जीवन पर भी फिल्म पीएम नरेन्द्र मोदी बनायी गयी है।

ज्यादातर फिल्मों में राजनीतिज्ञों को अक्सर नकारात्मक किरदारों में ही दिखाया जाता है जबकि सच्चाई यह है कि देश में कई राजनेता ऐसे भी है जिनकी छवि पर कोई उंगली नहीं उठा सकता है। वर्ष 1975 में एक फिल्म प्रदर्शित हुयी थी ..आंधी.. गुलजार निर्देशित इस फिल्म में मुख्य भूमिकाएं निभायी थी, संजीव कुमार और सुचित्रा सेन ने। फिल्म की कहानी एक राजनीतिज्ञ के जीवन पर आधारित थी। फिल्म कुछ दिनों के लिये प्रतिबंधित भी कर दी गयी। बाद में फिल्म जब प्रदर्शित हुयी तो बॉक्स ऑफिस पर अच्छी सफलता अर्जित की। फिल्म आंधी के गीत उन दिनों काफी मशहूर हुये थे। इन गीतों में ..तेरे बिना जिंदगी से शिकवा तो नही .. तुम आ गये हो नूर आ गया है .. को श्रोता आज भी बड़ी शिद्दत के साथ सुनते हैं।

आपातकाल में सर्वाधिक चर्चित रही अमृत नाहटा की फिल्म ..किस्सा कुर्सी का .. राजनीतिज्ञों और राजनीति पर पैना प्रहार करने वाली फिल्म थी। सत्तासीनों की पोल खोलने वाली इस फिल्म पर सरकार ने प्रतिबंध लगा दिया था और अनेक विवादों के बाद जब यह फिल्म 1977 में प्रदर्शित हुयी तो फिल्म का पैनापन लगभग समाप्त हो चुका था ।

Categories
National

कांग्रेस के शासन में आतंकवाद कैंसर की तरह बढा, अब इसका इलाज होगा पक्का : मोदी

सोनगढ़| प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आतंकवाद की तुलना कैंसर से करते हुए आज कहा कि कांग्रेस के शासन के दौरान पैदा हुए और पले-बढ़े आतंकवाद का उनकी सरकार की ओर से शुरू किया गया कड़ा इलाज आगे भी इसलिए जारी रहना चाहिए क्योंकि उपचार के बीच रूकने पर कैंसर की तरह ही यह दोबारा तेजी से फैल जायेगा।मोदी ने कहा कि यह उपचार लगातार जारी रखने के लिए भी उन्हेें दोबारा मौका दिया जाना चाहिए।उन्होंने भ्रष्टाचार काे एक और कैंसर बताते हुए कांग्रेस को ही इसके लिए जिम्मेदार ठहराया।प्रधानमंत्री ने अपने गृह राज्य गुजरात के तापी व्यारा जिले और बारडोली लोकसभा क्षेत्र के सोनगढ़ मे एक चुनावी सभा में यह बातें कहीं।

मोदी ने कहा, ‘एक जमाना था जब देश में आतंकी हमले होते थे तो सरकार हाथ पर हाथ रख कर बैठी रहती थी। मैने गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर अपने शासन के दौरान राज्य में आतंकियों के सभी स्लीपर सेल का सफाया करवा दिया। अब गुजरात में सभी चैन, सद्भावना और भाईचारे के साथ रहते हैं। ऐसे ही पूरे देश में ऐसे माहौल के लिए आतंकवाद का सफाया होना चाहिए और येन केन प्रकारेण (जिस तरह से भी संभव हो) इसे जड़ से उखाड़ा जाना चाहिए। इसे खाद पानी पड़ोस से मिलता है इसलिए मैने जो जरूरी था वह (एयरियल स्ट्राइक) कराया। अब कांग्रेसियों और विपक्ष को इसमें भी आपत्ति है और वे सबूत मांग रहे हैं। अरे भाई पाकिस्तान रो रहा है आवाज सुनो तो समझ आये पर इन्हें भारत के सपूतों पर विश्वास नहीं, पाकिस्तान के लोगों पर भरोसा है। ऐसे लोगों को क्या देश सौंपा जा सकता है।’

उन्होंने कहा कि आतंकवाद कैंसर जैसा है जो जन्मा, पला-बढ़ा कांग्रेस के जमाने में है। अगर इसके खिलाफ कार्रवाई बीच में बंद कर दो तो जैसे कैंसर की दवा बीच में बंद होने से बीमारी नहीं जाती वैसे ही कार्रवाई बीच में नहीं छोड़ी जा सकती है। और इसे उनके अलावा करेगा कौन। मोदी ने कहा, ‘देश में एक नाम बताओ जो अपना सिर लेकर आतंकवाद से मुकाबले के लिए निकलने को तैयार हो। एक बार यह आतंकवाद जाये तो सुख चैन की जिंदगी होगी। अभी तो मंदिर में जाओ तो भी पुलिस है और आतंकवाद के चलते प्रसाद की थैली तक की जांच करनी पड़ती है। आतंकवाद के कारण देश को सुरक्षा पर बड़ी रकम खर्च करनी पड़ती है। इस परिस्थित को बदलने की जरूरत है।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस देश का दूसरा कैंसर भ्रष्टाचार का है जिसे खत्म किया जाना चाहिए। गुजरात मेें उनके शासन काल में किसी ने उन पर एक ऊंगली नहीं उठायी। पूर्व मुख्यमंत्री तथा वरिष्ठ कांग्रेस नेता अमरसिंह चौधरी विधानसभा में कहते थे कि मोदी जादूगर है। पर अब कांग्रेस कहते है कि चौकीदार चोर है। पर तुगलक रोड चंदा घोटाले में पैसा कहां से निकल रहा है। यह कैसी जादूगरी है। अब मुझे पता चल रहा है कि क्यों कांग्रेसी नेता अपने भाषण में नोटबंदी पर बार-बार प्रहार क्यों करते थे। हाल में छापेमारी के दौरान पहले ही घंटे में 280 करोड़ रूपये बरामद हुए हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस गरीब बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए केंद्र सरकार की ओर से दिये गये पैसे से घोटाला करती है। ऐसे लोगों को जनता रूपी ईश्वर माफ नहीं करेगी। 15 साल तक मप्र में सत्ता से बाहर रहने के बाद वहां पैर रखने का मौका मिलते ही घोटाला करने वाली कांग्रेस को अगर पांच साल बाद केंद्र मेें सत्तावापसी का मौका मिला तो यह पांच मिनट भी नहीं लगायेगी। ऐसी लूट करने वालों को कभी भी दिल्ली की सत्ता में वापसी का मौका नहीं दिया जाना चाहिए।

उन्होंने यह भी दावा किया कि उनको हराने के लिए एक दूसरे के साथ हाथ मिला कर फोटो खिंचाने वाले विपक्षी दल अब आपस में ही लड़ रहे हैं। ऐसे लोगों जिनको न जनता की और न भविष्य की पड़ी है उन्हें देश देना नहीं चाहिए।मोदी ने कांग्रेस की घोषणा पत्र को ढकोलसा पत्र बताते हुए इस पर अपने आरोप दोहराये। उन्होंने पार्टी पर गुजरात विरोधी मानसिकता का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि देश को एक करने वाले सरदार पटेल आज अगर जीवित होते तो कश्मीर से सेना हटाने और देश को टुकड़े करने की बात कहने वालों के खिलाफ राजद्रोह की धारा नहीं लगाने की वकालत करने वाले इस घोषणा पत्र को एक मिनट के लिए स्वीकार नहीं करते।मोदी ने विश्वास जताया कि 23 मई को मतगणना के बाद दोबारा केंद्र मेें भाजपा की ही सरकार बनेगी।